Biography

Kajal Aggarwal Biography in Hindi – काजल अग्रवाल की जीवनी

Kajal Aggarwal Biography in Hindi – काजल अग्रवाल की जीवनी

Kajal Aggarwal Biography in Hindi

काजल अग्रवाल एक भारतीय फ़िल्म अभिनेत्री है, जों अधिकतर तेलगू फ़िल्मों में कार्य कर चुकी है। वे तमिल और हिन्दी सिनेमा में भी अपना जलवा बिखेर चुकी हैं। हालाँकि इन्होंने अपने अभिनय की शुरुआत एक हिन्दी फिल्म क्यों! हो गया ना… से ही शुरू की। जिसमें इन्होंने अमिताभ बच्चनऐश्वर्या राय और विवेक ओबेरॉय के साथ अभिनय किया था। इसके बाद ही यह तेलुगू फिल्मों में भी काम करने लगीं।काजल अग्रवाल  का जन्म 19 जून 1985 को मुम्‍बई में हुआ था । इनके पिता का नाम का नाम विनय अग्रवाल  और माता का नाम सुमन अग्रवाल है । इनके पिता टेक्‍सटाइल बिज़नेस में इंटरप्रेनर का काम करते हैं। और इनकी माता सुमन अग्रवाल  काजल की ही बिज़नेस मैनेज‍़र हैं।काजल की एक छोटी बहन है जिसका नाम निशा अग्रवाल हैं । काजल ने अपनी शुरुआती पढ़ाई सेंट ऐंस हाई स्‍कूल (St. Anns High School) से की इसके बाद उन्‍होंने मास्स मीडिया स्पेशलाइजेशन इन एडवरटाइजिंग और मार्केटिंग’ में पोस्ट ग्रेजुएशन की पढाई पूरी की थी ।

Biography
नाम काजल अग्रवाल, Kajal Aggarwal
उपनाम Kaju, काजू
व्यवसाय अभिनेत्री
जन्म तिथि 19 जून 1985
आयु (2018 में) 33 साल
जन्म स्थान मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
स्कूल / कॉलेज / विश्वविद्यालय 1. जय हिंद कॉलेज, मुंबई
2. के.सी. कॉलेज, मुम्बई
वैवाहिक स्थिति अविवाहित
बॉयफ्रैंड्स / अफेयर्स प्रभास (अभिनेता)
पहली फिल्म क्यूं! हो गया ना (2004)
काजल अग्रवाल प्रेमी प्रवासी (अभिनेता)
काजल अग्रवाल का प्रेमी प्रवासी, जो दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग के टॉप के अभिनेता हैं।

अभिनय की शुरुआत – Kajal Aggarwal Career

काजल ने पहली बार अभिनय वर्ष 2004 में क्यों! हो गया ना… नामक एक हिन्दी फिल्म में दीया की बहन के रूप में एक छोटा सा किरदार निभाकर किया था। इस फिल्म में इनके साथ अमिताभ बच्चन, ऐश्वर्या राय और विवेक ओबेरॉय भी थे। उसके बाद तमिल फिल्म निर्देशक भरतराजा के बोम्मलत्तम में अर्जुन सरजा के साथ अभिनय किया था। यह फिल्म तय समय से काफी देर में 2008 में सिनेमाघरों में प्रदर्शित हुई थी।

काजल ने पहली बार तेलुगू फिल्म में अभिनय 2007 में तेजा की फिल्म लक्ष्मी कल्याणम में कल्याण राम के साथ मुख्य किरदार के रूप में कार्य किया था। लेकिन यह फिल्म कमाई करने में असमर्थ रही। इसके अगले वर्ष में कृष्णा वाम्सि के द्वारा निर्देशित फिल्म चन्दामामा में यह दिखाई दी। यह फिल्म अच्छे समीक्षा के साथ ही इनका पहला सफल फिल्म बना। वर्ष 2008 में इनका पहला तमिल फिल्म भी प्रदर्शित हुआ था। जिसमें यह सह-कलाकार भरत के साथ दिखाई दी।

इसी वर्ष इनके दो और तमिल फिल्म भी प्रदर्शित हुए थे। यह फिल्म वेंकट प्रभु के हास्य और रोमांच वाले थे, जिसमें सरोजा और बोम्मलत्तम है। यह दोनों ही फिल्म सफल रहे, लेकिन काजल के अभिनय के सफर को और आगे पहुँचाने में असफल रहे, क्योंकि दोनों ही फिल्मों में उनका किरदार बहुत ही थोड़े समय के लिए था। इसके बाद प्रदर्शित हुए तेलुगू फिल्म ने बहुत अच्छी कमाई की लेकिन समीक्षा में सकारात्मक प्रतिक्रिया नहीं मिला।

काजल जी के चार फिल्म 2009 में प्रदर्शित हुए थे। काजल जी ने इस वर्ष पहले तमिल भाषा के मोधि विलयडू नामक फिल्म में विनय राय के साथ किया, लेकिन यह फिल्म कमाई करने में बुरी तरह से विफल हो गया। उसके बाद इन्होंने एक बहुत बड़े लागत में बने तेलुगू भाषा के ऐतिहासिक नाट्य फिल्म मगधीरा में राम चरण तेजा के साथ काम किया।

तेलुगू फिल्मों में सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री के श्रेणी में फिल्मफेयर पुरस्कार के लिए इन्हें नामित किया गया था। मगधीरा अधिक कमाई करने में पूरी तरह से सफल हुआ। इसने कई फिल्मों को पीछे छोड़ दिया। यह तेलुगू भाषा का अब तक का सबसे अधिक कमाई करने वाले फिल्मों में सबसे ऊपर आ गया। इस फिल्म की सफलता ने काजल को तेलुगू सिनेमा के मुख्य कलाकारों के स्थान पर पहुँचा दिया। यह फिल्म तमिल भाषा में मावीरन नाम से 2011 में प्रदर्शित हुआ और यह भी कमाई करने में सफल रहा। इसे भी काफी सकारात्मक प्रतिक्रिया ही मिला।

2013 में काजल ने राम चरण तेजा के साथ और फिल्म में काम करना शुरू किया। इसके प्रदर्शन के बाद इसे काफी अच्छे प्रतिक्रिया मिले और ये कमाई करने में भी सफल रहा। इसके बाद काजल ने एक हिन्दी फिल्म स्पेशल 26 में काम करना शुरू किया। इसका निर्देशन नीरज पांडे ने किया है। ये फिल्म भी कमाई करने में सफल रहा। इसके बाद काजल ने श्रीणु वैट्ला के फिल्म “बादशाह” में काम किया। ये फिल्म में कमाई करने में सफल रहा। यह 2013 में एक और फिल्म में काम किया लेकिन यह फिल्म को बहुत लोगों ने नापसंद किया।

2016 में इन्होंने एक और बॉलीवुड फिल्म की जिसमे रणदीप हुड्डा के साथ नजर आयी। फिल्म का नाम था दो लफ्ज़ की कहानी। ये फिल्म कुछ खास कमाल नहीं कर पायी। इसी साल उन्होंने कन्नड़ फिल्म “चक्रव्यूह (2016)” के यनेथु के साथ अपनी गायन की शुरुआत की। 2018 में पारिस पारिस, 2019 में इट्स माय लाइफ और 2020 में इन्होने Indian 2 फिल्म में काम किया।

काजल अग्रवाल कई कंपनी की ब्रांड अम्बेस्डर रही हैं, जिसमे लक्स, सैमसंग मोबाइल, पैनासोनिक, ग्रीन ट्रेंड्स आदि शामिल हैं।

काजल अग्रवाल की कुछ सफल फिल्मे (Some Successful Films of Kajal Aggarwal) :-

*. क्यूँ! हो गया ना,

*. चन्दामामा,

*. लक्ष्मी कल्याणम्,

*. पौरुडु,

*. पझनी,

*. साइज़ जीरो,

*. मारी,

*. सरदार गब्बर सिंह,

*. आटादिस्ता,

*. सरोजा,

*. बोम्मलत्तम,

*. मगधीरा,

*. मोधी विलयडु,

*. गणेश जस्ट गणेश,

*. आर्या 2,

*. ओम शान्ति,

*. डार्लिंग,

*. नान महान अल्ला,

*. ब्रिन्दावनम,

*. मिस्टर परफेक्ट,

*. वीरा ,

*. सिंघम,

*. ढाबा,

*. स्पेशल 26,

*. बादशाह,

*. नायक,

*. आल इन आल अझगु राजा,

*. जिल्ला,

*. सरोचारु,

*. गोविंदुडु अंदरीवाडेले,

*. मात्तरान,

*. थुप्पाक्की,

*. बिजनेसमैन,

काजल अग्रवाल को मिले पुरुस्कार और सम्मान (Kajal Aggarwal Received the Award and Honor) :-

*. फिल्म बृन्दावनाम के लिए काजल को बेस्ट एक्ट्रेस तेलुगु अवार्ड से नवाज़ा गया ।

*. फिल्म थुप्पक्की के लिए फेवरेट हीरोइन का अवार्ड मिला था।

*. फिल्म थुप्पक्की के लिए बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड मिला था।

*. ‘फेमिना पेन शक्ति का अवार्ड मिला था।

*. साउथ इंडियन इंटरनेशनल मूवी अवार्ड्स द्वारा Youth icon of South Indian cinema का अवार्ड मिला ।

*. द गौर्जियस बेले ऑफ़ द ईयर का अवार्ड मिला था।

*. फैशन आइकॉन ऑफ़ द ईयर और मोस्ट पॉपुलर सेलेब्रटी ऑन सोशल मीडिया का अवार्ड मिला था।

*. फेमिना पावर लिस्ट साउथ का अवार्ड मिला था।

*. ज़ी तेलुगु गोल्डन अवार्ड्स द्वारा बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड मिला था।

काजल अग्रवाल का विवाद

एक बार एफएचएम पत्रिका ने काजल अग्रवाल की टॉपलेस तस्वीर प्रकाशित की थी। अभिनेत्री ने कहा कि यह उनकी बदली हुई तस्वीर थी।

मनपसंद चीजें

काजल अग्रवाल हैदराबादी बिरयानी खाना पसंद करती हैं। जूनियर एनटीआर और विजय उनके पसंदीदा अभिनेता हैं और ऐश्वर्या राय बच्चन उनकी पसंदीदा अभिनेत्री हैं।

काजल दिलवाले दुल्हनिया ले जायेंगे देखना पसंद करती हैं। वह निर्देशकों, पुरी जगन्नाध, एस.एस. राजामौली और तेजा की प्रशंसा करती हैं।

सफेद, लाल और नीला उसका पसंदीदा रंग है। काजल अग्रवाल को अमीश त्रिपाठी द्वारा द शिवा ट्रिलॉजी पढ़ना पसंद है और रॉबर्ट जेम्स वाल्ले द्वारा मैडिसन काउंटी का पुल। वह गोवा और केरल में छुट्टियां बिताना पसंद करता है।

काजल अग्रवाल के बारे में कुछ तथ्य

वह नृत्य, पढ़ने और योग में बहुत रुचि लेती है।

दक्षिण भारतीय फिल्म उद्योग में, वह अपने मिलनसार स्वभाव के कारण मिस कंजेनिटी के रूप में जानी जाती हैं। वह सिंथोफोबिया (कुत्तों का डर) से पीड़ित है।

2017 में, उसने प्रशंसकों के साथ जुड़ने के लिए अपना खुद का ऐप काजल अग्रवाल आधिकारिक ऐप लॉन्च किया।

वह सर्कस में जानवरों द्वारा सामना की जाने वाली यातना को रोकने के लिए PET एनिमल सर्कस की PETA की पहल का समर्थन करती है।

वह अभिनेत्री तमन्नाह भाटिया और अभिनेता राम चरण की एक अच्छी दोस्त हैं। काजल अग्रवाल स्माइका बक्शी, बिजनेस यूनिट हेड लैंकोम और किहल और लोरियल से बहुत प्रभावित थीं, और उन्होंने खुलासा किया कि वह उनकी आकांक्षा हैं।

उसके पिता उसके रोल-मॉडल हैं। एक साक्षात्कार में, काजल अग्रवाल ने खुलासा किया कि उनके पिता एक आधिकारिक और रूढ़िवादी व्यक्ति होने के बावजूद, जिन्होंने उन्हें फिल्मों में अपना करियर बनाने के लिए राजी किया।

काजल अग्रवाल अपनी मां के सबसे करीब हैं। जब भी उन्हें विदेश में शूटिंग करनी होती है तो वह अक्सर अपनी मां के साथ होती हैं।

Leave a Comment

error: Content is protected !!