Biography

Hema Malini Biography in Hindi – हेमा मालिनी जीवन

Hema Malini Biography in Hindi – हेमा मालिनी जीवन

Hema Malini Biography in Hindi

चल धन्नो आज बसंती की इज्जत का सवाल है ,जी हा आज बात करने जा रहे है ड्रीम गर्ल हेमा मालिनी की |इनके जीवन पर ले कर हाल में ही एक किताब भी लिखी गई है जिसका नाम  ‘बियोंड द ड्रीम गर्ल’ है (Beyond The Dream Girl). है |हेमा का जन्म 16 अक्टूबर 1948 को तमिल इयेंगेर परिवार में हुआ था. उनका जन्म अम्मनकुंडी, तिरुचिरापल्ली तमिलनाडू में हुआ था.हेमा ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा  आंध्रा महिला सभा, दिल्ली तमिल एजुकेशन एसोसिएशन सीनियर सेकेंडरी स्कूल,नयी दिल्ली से पूरी की.

नाम (Name) हेमा मालिनी
निक नेम (Nick name) हेमा
पेशा (Occupation) अभिनेत्री, राजनेता
जन्मदिन (Birth date) 16 अक्टूबर 1948
जन्म स्थान (Birth place) अम्मंकुडी, तिरुचिरापल्ली तमिलनाडू
राशि (Zodiac) कन्या
नागरिकता (Citizenship) भारतीय
गृह नगर (Home Town) तिरुचिरापलेई, तमिलनाडू
स्कूल (School) आंध्रा महिला सभा,दिल्ली तमिल एजुकेशन एसोसिएशन सीनियर सेकेंडरी स्कूल, नयी दिल्ली
कॉलेज/यूनिवर्सिटी (College/University) 12वी के बाद पढाई नहीं की
धर्म (Religion) हिन्दू लेकिन शादी के लिए मुस्लिम धर्म अपनाया,और अभी हिन्दू धर्म का ही पालन करती हैं.
भाषा (language) तमिल, हिंदी
खास दोस्त (Best Freinds) अभिनेत्री रेखा
ट्विटर पेज (Twitter Page) twitter.com/dreamgirlhema
इन्स्टाग्राम अकाउंट(Instagram Account) instagram.com/dreamgirlhema
पिता (Father) वीएसआर चक्रवर्ती
माता (Mother) जया लक्ष्मी चक्रवर्ती
भाई(Brother) आर के चक्रवर्ती और आर जे चक्रवर्ती
पति(Husband) धर्मेंद्र
सौतेले पुत्र (Step Son) सनी देओल और बॉबी देओल
पुत्री (Daughter) ईशा देओल और आहना देओल

हेमा मालिनी फिल्म करियर (Hema Malini film career) :

1963 में आयी फिल्म इधु साथियम में बतौर सह-अभिनेत्री उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुवात की थी और इसके बाद उन्होंने वनवासम (1965) फिल्म भी की थी। इसके बाद मालिनी 1968 में सपनो के सौदागर में राज कपूर के साथ मुख्य भूमिका में दिखी। और उनकी इसी फिल्म में उन्हें बॉलीवुड में “ड्रीम गर्ल” के रूप में पहचान दिलवाई। Hema Malini Biography In Hindi

1970 में उन्होंने जॉनी मेरा नाम जैसी सफल फिल्मे की और इस समय में उन्होंने बहुत से चुनौतीपूर्ण रोल भी किये, जिनमे मुख्य रूप से अंदाज़ (1971) में एक विधवा और लाल पत्थर (1971) में एक गरीब महिला का रोल शामिल है। 1972 में मालिनी ने सीता और गीता में धर्मेन्द्र और संजीव कपूर के साथ काम किया। इस फिल्म के लिए मालिनी को फिल्मफेयर का बेस्ट एक्ट्रेस का अवार्ड भी मिला था। डेब्यू करने के चार साल बाद ही, मालिनी को खुद को बॉलीवुड की सबसे सफल और मुख्य अभिनेत्रियों में शामिल किया। 1970 में आयी मालिनी की फिल्मो में सन्यासी (1975), धर्मात्मा, प्रतिज्ञा (1975) शामिल है। फिल्म शोले (1975) में उन्होंने बसंती नाम की लड़की का रोल किया था, जो काफी प्रसिद्ध हुआ। इस समय में की गयी उनकी दूसरी फिल्मो में त्रिशूल, जोशीला, ख़ुशबू (1975), किनारा (1977) और मीरा (1979) शामिल है।

शादी के बाद मालिनी ने बहुत सी फिल्मे की जिनमे मुख्य रूप से क्रांति, नसीब (1981), सत्ते पे सत्ता, राजपूत और एक नयी पहेली (1984)। इसके बाद उन्होंने राजेश खन्ना के साथ बहुत सी फिल्मे की, जिसके चलते टाइम्स ऑफ़ इंडिया ने उन्हें टॉप फिल्म कपल का दर्जा दिया। इस समय में किये गये उनके कार्यो में आंधी तूफ़ान, दुर्गा (1985), रामकली (1985), सीतापुर की गीता (1987), एक चादर मैली सी (1986), रिहाई और जमाई राजा (1985) शामिल है।

इस समय में, मालिनी ने धर्मेन्द्र के साथ अलीबाबा और 40 चोर, बग़ावत, सम्राट, रज़िया सुल्तान, अँधा कानून (1983), बग़ावत और राज तिलक (1984) जैसी फिल्मे की थी।

इसके बाद उन्हें दिव्या भारती और शाहरुख़ खान के साथ मिलकर दिल आशना है फिल्म को डायरेक्ट भी किया था। इसके बाद मालिनी डांस और टेलीविज़न कार्यो पर ज्यादा ध्यान देने लगी थी। Hema Malini Biography In Hindi

कयी सालो से फिल्मो से दूर रहने के बाद, Hema Malini ने फिल्म बागबान (2003) से फिल्मो में वापसी की थी। इसके लिए उनका फिल्मफेयर के बेस्ट एक्ट्रेस अवार्ड के लिए नामनिर्देशन भी किया गया था। इसके बाद उन्होंने 2004 में आयी फिल्म वीर-झारा में एक छोटा किरदार भी निभाया था। इसके बाद 2011 में उन्होंने अपनी दूसरी फिल्म टेल मी ओह खुदा डायरेक्ट की, जिसमे उनके पति धर्मेन्द्र और बेटी ईशा देओल ने काम किया था।

हेमा मालिनी राजनीतिक करियर:-

1999 में हेमा मालिनी भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) से जुडी। लेकिन अधिकारिक रूप से 2003 से 2009 तक वह भारतीय जनता पार्टी की नियुक्त उम्मेदवार थी, इसके बाद भारत के राष्ट्रपति डॉ. ए.पी.जे अब्दुल कलाम ने भी उनका नामनिर्देशन किया था। इसके बाद मार्च 2010 में मालिनी बीजेपी की जनरल सेक्रेटरी बनी और फिर फरवरी 2011 में अनंत कुमार ने उन्हें पार्टी की जनरल सेक्रेटरी भी घोषित किया था। 2014 में लोकसभा के साधारण चुनाव में, मालिनी ने मथुरा से जयंत चौधरी को 3,30,743 वोटो से पराजीत किया था। और इसी के साथ उनकी नियुक्ती लोक सभा के सदस्य के रूप में की गयी थी।

हेमा मालिनी आज भी लाखो दिलो पर राज करती हैं। बढ़ती उम्र से भी उनकी सुंदरता और चाहतो में कोई कमी नहीं आयी। उनका जीवन महिला वो के लिए भी प्रेरणादायक हैं। हम उन्हें नारी शक्ति का उदाहरण कहे तो भी कोई अतिशयोक्ति नहीं हों

1) राजनीति में कैसे आई : हेमा मालिनी की आत्मकथा में दोनों बेटियों ईशा देओल और आहना देओल का काफी जिक्र है. दोनों बेटियों के बचपन, उनके करियर, शादी से जुड़े तमाम पहलू का जिक्र किया गया है. आत्मकथा में बताया गया है कि उन्होंने कैसे राजनीति में प्रवेश किया. आत्मकथा के लेखक रामकमल ने बताया, “18 साल पहले 1999 में गुरदासपुर लोकसभा चुनाव में बीजेपी उम्मीदवार विनोद खन्ना के प्रचार के बाद हेमा कैसे राजनीति में आई इसका विस्तार से जिक्र किया गया है. इसमें उनके पार्टी ज्वाइन करने और राज्यसभा-लोकसभा सांसद बनने तक की कहानी है. आत्मकथा में 2015 में हुए हेमा मालिनी के कार एक्सीडेंट का भी प्रमुखता से जिक्र किया गया है.

2) कैसे एक्टिंग की शुरुआत हुई : पहली बार आत्मकथा के जरिए हेमा मालिनी के आध्यात्मिक जीवन का भी खुलासा होगा. किताब में इस बात का जिक्र है कि हेमा मालिनी और जयललिता एक साथ तमिल फिल्म से डेब्यू करना चाहती थीं, लेकिन ऐसा नहीं हो सका. फिल्म साइन करने के बावजूद वो प्रोजेक्ट आगे नहीं बढ़ पाया. बाद में 16 साल की उम्र में राजकपूर के ओपोजिट ‘सपनों का सौदागर’ के जरिए वो हिंदी फिल्मों में हीरोइन के तौर पर नजर आईं. एक साउथ इंडियन लड़की के हिंदी फिल्मों की सफल अदाकारा बनने की कहानी किताब में दर्ज है.

3) हेमा के फैसलों पर मां का कितना असर रहा : फिल्मों के लिए प्रोड्यूसर्स, डायरेक्टर्स हेमा से नहीं बल्कि उनकी मां जया लक्ष्मी चक्रवर्ती से बात करते थे. उनकी मां को यदि फिल्म में कोई सीन आपत्तिजनक लगता था, तो वो उसे हटाने को कहती थीं. हेमा मालिनी एक स्टाइलिश हीरोइन के तौर पर जानी जाती थीं. पोल्का डॉट्स, ओवरसाइज्ड सलग्लासेज, प्लेटफॉर्म हील्स का ट्रेंड उन्होंने ही शुरू किया था, लेकिन फिल्मों में वो कभी वल्गर कपड़ें पहनी नहीं नजर आई. वो खुद इन सब चीजों में कंफर्टेबल नहीं होती थीं.

4) क्यों टूटी जितेंद्र से सगाई : हेमा मालिनी फिल्मों में अपना करियर नहीं बनाना चाहती थीं, लेकिन वो क्या वजह थी जिसकी वजह से उन्होंने फिल्म को अपना प्रोफेशन चुना, वो दक्षिण भारतीय होते हुए भी वहां की इंडस्ट्री में क्यों नहीं गईं- इस बारे में भी आपको यह किताब पढ़कर ही पता चलेगा. आपको बता दें कि किताब पढ़कर आपको पता चलेगा कि जीतेंद्र संग उनका अफेयर नहीं था, लेकिन दोनों की शादी जरूर तय हुई थी, लेकिन दोनों का रिश्ता किन्हीं वजहों से टूट गया था. बता दें कि हेमा इस वक्त मथुरा से भाजपा की लोकसभा सांसद हैं.

हेमा मालिनी की टॉप 20 फिल्म

फिल्म का नाम(Movie name) रिलीज डेट (Release date) निर्माता (Producer) सह-कलाकार (Supporting actors)
शोले 15 अगस्त 1975 जी.पी.सिप्पी धर्मेंद्र ,अमिताभ बच्चन,संजीव कुमार
बागबान 3 अक्टूबर 2003 बी.आर.चोपड़ा अमिताभ बच्चन
सीता और गीता 17 नवम्बर 1972 जी.पी.सिप्पी धर्मेंद्र ,संजीव कुमार
नसीब 1 मई1981 विनय कुमार सिन्हा अमिताभ बच्चन,शत्रुघ्न सिन्हा
जॉनी मेरा नाम 11 नंवबर 1970 गुलशन राय देवानानद,प्राण,जीवन
सत्ते पे सत्ता 22 जनवरी 1982 रोमू.एन.सिप्पी अमिताभ बच्चन,अमजद खान
त्रिशूल 5 मई 1978 गुलशन राय अमिताभ बच्चन,संजीव कुमार,शशि कपूर
क्रांति 6 फरवरी 1981 मनोज कुमार दिलीप कुमार
मीरा 18 मई 1979 प्रेमजी, जे.एन.मनचंदा विनोद खन्ना,शम्मी कपूर
खुशबू 8 मई 1975 तिरुपति पिक्चर्स जीतेंद्र,दुर्गा खोते,फरीदा जलाल
प्रेम नगर 24 मई 1974 सुरेश प्रोडक्शन राजेश खन्ना,प्रेम चोपड़ा,असरानी
किनारा 21 मार्च1977 मेघना मूवीज जीतेंद्र,धर्मेंद्र
रिहाई 31 अगस्त 1988 अरुण राजे विनोद खन्ना,नसीरूद्धीन शाह
प्रतिज्ञा 2 जून 1975 बिक्रम सिंह देओल धर्मेंद्र ,नासिर हुसैन
तेरे मेरे सपने 13 मई 1971 देव आनंद देव आनंद,मुमताज़
ड्रीम गर्ल 14 जनवरी 1977 जया चक्रवर्ती,गुलशन राय,जेके बहल धर्मेंद्र
दिल्लगी 1978 बिक्रम सिंह देहल,कँवर अजित सिंह धर्मेंद्र
राजपूत 16 अप्रैल 1982 मुशीर आलम,मोहम्मद रिआज़ राजेश खन्ना
किनारा 21 मार्च 1977 गुलज़ार धर्मेंद्र  और जीतेंद्र
बंदिश 7नवम्बर 1980 डी.रामनाईडू राजेश खन्ना

हेमा मालिनी और अवार्ड्स 

हेमा मालिनी के अभिनय करियर और उनके अनुभव को देखकर ये सोचना स्वाभाविक हैं कि उन्हें मिले अवार्ड्स की लिस्ट बहुत लम्बी होगी,लेकिन हकीकत ये नहीं हैं. हेमा को मिले पुरुस्कारों की संख्या उनके फिल्म इंडस्ट्री को दिए गये योगदान की तुलना में बहुत कम हैं. इसका एक कारण ये भी हैं कि हेमा उस जमाने की अभिनेत्री हैं जब फिल्मों में अवार्ड और पुरुस्कारों की श्रेणियों में इतनी विविधता नहीं होती थी.

हेमा को भारतीय सिनेमा (जिसमें सिर्फ बॉलीवुड नहीं बल्कि तमिल सिनेमा भी शामिल हैं) में दिए गए योगदान के लिए 1999 में पद्म-भूषण से सम्मानित किया गया था.

फिल्म का नाम Film Name अवार्ड का नामAward name वर्ष Year श्रेणी Category
सीता और गीता फिल्मफेयर अवार्ड 1973 बेस्ट एक्ट्रेस
सभी फिल्मों के लिए फिल्म फेयर 2000 लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
बागबान स्क्रीन अवार्ड 2003 जोड़ी नंबर1
2003 तक की सभी फिल्मों के लिए बॉलीवुड मूवी अवार्ड 2003 लाइफटाइम अचीवमेंट अवार्ड
सभी फिल्मों के लिए जी सिने अवार्ड 2003 लाइफ’टाइमअचीवमेंट अवार्ड
बागबान बॉलीवुडमूवी अवार्ड 2004 मोस्ट सेन्सेशन अवार्ड
2011 तक की काम की गयी सभी फिल्मों के लिए एएनआर नेशनल अवार्ड 2011 एएनआर नेशनल अवार्ड
2015 तक की सभी फिल्मों के लिए स्क्रीन अवार्ड 2015 लाइफ टाइम अचीवमेंट अवार्ड

Leave a Comment

error: Content is protected !!