Biography

Chetan Bhagat Biography In Hindi – चेतन भगत की जीवनी

Chetan Bhagat Biography In Hindi – चेतन भगत की जीवनी

image

Chetan Bhagat Biography In Hindi

लोगो की नजर में वे बहोत बुद्धिमानी है. चेतन भगत यूथ, करियर डेवलपमेंट और करंट अफेयर्स पर कॉलम भी लिखते है. और साथ ही टाइम्स ऑफ़ इंडिया (अंग्रेजी में) और दैनिक भास्कर (हिंदी में) के लिये भी लेख लिखते है.चेतन भगत के उपन्यासों की तक़रीबन 7 मिलियन प्रतिया बिक चुकी है. 2008 में न्यू यॉर्क टाइम्स ने भगत को “भारतीय इतिहास का सर्वाधिक बिकने वाला अंग्रजी भाषा का उपन्यासकार बताया”.भगत की स्क्रीनराइटिंग में फिल्म काई पो चे! (2013) और 2 स्टेट्स (2014) और एक्शन-सुपर हीरो मूवी किक (2015) शामिल है. उन्होंने जनवरी 2014 में 59 वे फिल्मफेयर अवार्ड्स में बेस्ट स्क्रीनप्ले काई पो चे! के लिये फिल्मफेयर अवार्ड जीते है. | चेतन भगत का जन्म दिल्ली के एक पंजाबी परिवार में हुआ था. उनके पिता एक आर्मी ऑफिसर और उनकी माता कृषि विभाग की एक सरकारी कर्मचारी थी. | उनकी अपनी प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के धुला कुआँ की द आर्मी पब्लिक स्कूल से पूरी की. उन्होंने 1995 में दिल्ली के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी से मैकेनिकल इंजीनियरिंग में अंडरग्रेजुएट की डिग्री प्राप्त की और 1997 में अहमदाबाद के इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ मैनेजमेंट से MBA की डिग्री हासिल की.तक़रीबन एक दशक तक उन्होंने होन्ग कोंग के गोल्डमन सचस में इन्वेस्टमेंट बैंकर के पद पर काम किया और होन्ग कोंग में भी वे कुछ-न-कुछ लिखते रहते थे, बाद में मुंबई आने से पहले ही वे अपना पूरा ध्यान राइटिंग करियर में लगा रहे थे. |1998 में उन्होंने तमिलनाडु में रहने वाली और आईआईएम अहमदाबाद में उनकी क्लासमेट रह चुकी अनुषा सूर्यनारायण से शादी कर ली |चेतन भगत का जन्म 22 अप्रैल 1974 को दिल्ली के एक पंजाबी परिवार में हुआ था। उनके पिता एक आर्मी ऑफिसर और उनकी माता कृषि विभाग की एक सरकारी कर्मचारी थी। इनकी प्रारंभिक शिक्षा धौलाकुआं, नई दिल्ली के सेना पब्लिक स्कूल (1978-1991) में हुई। इसके बाद इंजीनियरिंग की डिग्री आई.आई.टी. (1991-1995) से पूरी करने के बाद भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद से पोस्ट-ग्रेजुएट की डिग्री प्राप्त की।

करियर :-

चेतन भगत सर्वाधिक बिकने वाले उपन्यासों के लेखक है, जिनमे फाइव पॉइंट समवन (2004), वन नाईट @ द कॉल सेंटर (2005), द 3 मिस्टेक्स ऑफ़ माय लाइफ (2008), 2 स्टेट्स (2009), रेवोलुशन 2020 (2011), व्हाट यंग इंडिया वांट्स (2012), हाफ गर्लफ्रेंड (2014) और मेकिंग इंडिया ऑसम (2015) शामिल है. ये सभी किताबे बाजार में आते ही प्रसिद्धि के सातवे आसमान पर पहोच गयी थी. उनकी किताबो में से 4 पर तो बॉलीवुड फिल्म भी बनाई गयी है, उन फिल्मो के नाम अमीर खान की ३ इडीयट्स, काई पो चे!, 2 स्टेट्स और हेल्लो       2008 में न्यू यॉर्क टाइम्स ने भगत को “भारतीय इतिहास का सर्वाधिक बिकने वाला अंग्रजी भाषा का उपन्यासकार बताया”. टाइम्स पत्रिका ने चेतन भगत को दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगो में से एक बताया. 2009 में ही राइटिंग में ज्यादा से ज्यादा ध्यान देने के लिये उन्होंने इन्वेस्टमेंट बैंकिंग को छोड़ दिया. 2014 सलमान खान की फिल्म किक से उन्होंने अपने स्क्रीनप्ले करियर की शुरुवात की थी.
द टाइम्स ऑफ़ इंडिया और हिंदुस्तान टाइम्स में चेतन भगत का कॉलम भी है. वे वौइस् ऑफ़ इंडिया (Voice Of India) स्टार एंकर हंट के निर्णायक भी थे. चेतन भगत ने ABP न्यूज़ पर 7 RCR को भी होस्ट किया था जिसे 11 जनवरी 2014 को दिखाया गया था. उनके इस कार्यक्रम में भारत के प्राइम मिनिस्टर कैंडिडेट की जीवनियो की बताया जाता था.इनका पहला उपन्यास “फाइव पॉइंट समवन – व्हाट नॉट टू डू एट आईआईटी ” (२००४), तीन विद्यार्थियों पर आधारित है जो संस्थान के भारी कार्यभार का सामना कर उससे उभरने की कोशिश करते हैं। यह किताब इंडिया टुडे बेस्टसेलर के लिस्ट में सबसे ज्यादा दिनों तक रही (१९० सप्ताह, जनवरी २००८) | इस किताब ने २००४ में सोसाइटी यंग अचीवर अवार्ड और २००५ में पब्लिशर रेकोग्निशन अवार्ड जीते। जाने माने हिन्दी फिल्म निर्माता, निर्देशक राजकुमार हिरानी इस किताब पर ३ इडीयट्स फिल्म बनाइ हैं जिसमें आमिर खान मुख्य भूमिका में हैं |इनकी दूसरी किताब “वन नाइट एट द कॉल सेण्टर” अक्टूबर २००५ में प्रकाशित हुई और जनवरी २००८ तक बेस्टसेलर बनी रही। यह किताब एक कॉल सेण्टर में काम करने वाले ६ लोगों पर आधारित एक रात की कहानी है। इस किताब पर पहले ही २००७ में एक हिन्दी फिल्म “हेलो ” बन चुकी है, जिसमें सलमान खान, कैटरिना कैफ, शर्मन जोशी, गुल पनाग जैसे कलाकार काम कर चुके हैं।इनकी अगली किताब “द थ्री मिसटेक्स ऑफ़ माय लाइफ”, वर्ष २००८ में प्रकाशित हुई। इस किताब की कहानी सन् २००० के आसपास अहमदाबाद के एक जवान लड़के गोविन्द पटेल की कहानी है जो व्यापार करने का सपना देखता है। इनकी अगली किताब ‘रिवाल्यूशन 2020’ वर्ष २०11 में प्रकाशित हुई। इसका हिन्दी अनुवाद श्री सुशोभित सक्तावत के नाम से रूपा प्रकाशन ने इसी वर्ष 2013 में प्रकाशित किया है

सम्मान और पुरूस्कार:-

2008 में न्यू यॉर्क टाइम्स ने भगत को “भारतीय इतिहास का सर्वाधिक बिकने वाला अंग्रजी भाषा का उपन्यासकार बताया”। टाइम्स पत्रिका ने चेतन भगत को दुनिया के 100 सबसे प्रभावशाली लोगो में से एक बताया। द टाइम्स ऑफ़ इंडिया और हिंदुस्तान टाइम्स में चेतन भगत का कॉलम भी है। भारतीय प्रबंधन संस्थान, अहमदाबाद ने इन्हें सर्वश्रेष्ठ निवर्तमान छात्र पुरस्कार का पदक प्रदान किया।2004 में इन्हे सोसाइटी यंग अचीवर्स अवार्ड और 2005 में पब्लिशर्स रिकग्निशन अवार्ड से सम्मानित किया गया। फिल्म काई पो चे! के लिये 2014 में बेस्ट स्क्रीनप्ले के लिये फिल्मफेयर अवार्ड मिला। मनोरंजन के क्षेत्र में अतुल्य योगदान के लिये 2014 में CNN-IBN अवार्ड दिया गया।

चेतन भगत की प्रमुख कृतियाँ:-

  1. फ़ाइव पोइंट समवन
  2. वन नाइट एट कॉल सेंटर
  3. द 3 मिसटेक्स ऑफ़ माय लाइफ़
  4. 2 स्टेट्स
  5. रिवाल्यूशन 2020
  6. हाफ़ गर्लफ़्रेड

चेतन भगत के अनमोल विचार:-

1). अब मैं यह कोशिश कर रहा हूँ की पाठकों के लिए प्रत्येक पेज को सम्मोहक बनाऊँ जिससे वे पुस्तक में लीन हो जाये।

2). मुझे यह लगता है की मैं मूल आवाजों से मिल पाया। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात है की मुझे तुम्हें बताने के लिए एक कहानी तो चाहिए ही।

3). जब एक महिला आपके जीवन में आती है तो चीजें अपने आप सन्तुलित होने लगती है।

4). एक बुद्धिमान व्यक्ति प्यार में मूर्ख हो सकता है।

5). दुनिया के सबसे समझदार व्यक्ति और सबसे बेवकूफ व्यक्ति दोनों हमारे भीतर है। सबसे बड़ी बात तो यह है की तुम ये नहीं बता सकते की तुम कौन हो।

6). भविष्य “शब्द” और महिलाओं का एक खतरनाक संयोजन है।

7). मैं दिल से एक पूंजीवादी हूँ और मुझे इस तरह के व्यावसायीकरण से कोई समस्या नहीं है, मैं विश्वास करता हूँ की जब शिक्षा एक लाभदायक व्यवसाय बन जाता है, तो यह ठीक है, लेकिन जब यह भ्रष्ट हो जाता है तो यह ठीक नहीं है।

8). वास्तविक मध्यम वर्ग का भारत एक ऐसी आवाज की तलाश कर रहा है जो उनके बारे में हो। मैं इस बारे में लिखता हूँ क्योंकि मैं भी इसी से संबंधित हूँ।

9). ईर्ष्या एक सुखद अहसास है जब आप इसे कही पर होते हुए देखते हो।

10). हमारी शिक्षा प्रणाली में, हमें आकड़ो को रटने और जीवन भर के लिए उन्हें याद करने के लिए सिखाया जाता है। लेकिन यह मदद करता है क्या? हम यह नहीं सीखा रहे है की कैसे निर्णय लिया जाये।

Leave a Comment

error: Content is protected !!