Biography

Mithun Chakraborty biography in Hindi – मिथुन चक्रवर्ती जीवनी

Mithun Chakraborty biography in Hindi- मिथुन चक्रवर्ती जीवनी

Mithun Chakraborty biography in Hindi

मिथुन मार्शल आर्ट्स में ब्लैक बेल्ट हैं। वहीं मिथुन को अभी तक चार नेशनल अवाॅर्ड्स से नवाजा जा चुका है। इनमें से तीन तो मिथुन को बेस्ट एक्टर के लिए दिए गए थे। जिन 3 फिल्मों के लिए मिथुन को नेशन अवाॅर्ड मिला वो 1976 में रिलीज हुई ‘मृगया’, 1990 में आई ‘अग्नीपथ’ और 1992 में आई बंगाली फिल्म ‘टाहदार कथा’ है। वहीं चौथा नेशनल अवाॅर्ड उन्हें 1998 में फिल्म ‘स्वामी विवेकानंद’ के सपोर्टिंग रोल के लिए मिला था।मिथुन चक्रवर्ती भारतीय सिनेमा के जाने-माने कलाकार हैं. एक अभिनेता के साथ-साथ मिथुन सामाजिक कार्यकर्ता, उधमी और एक राजनेता भी हैं. 1980 के दशक के अपने सुनहरे दौर में वे एक डांसिंग स्टार के रूप में जाने जाते थे. उन्होंने भारत के सबसे लोकप्रिय प्रमुख अभिनेता के रूप में अपने आप को स्थापित किया था. साल 1982 में उन्होंने बहुत बड़ी हिट फिल्म ” डिस्को डांसर में स्ट्रीट डांसर जिमी की भूमिका निभायी जिसने उन्हें सुपरस्टार बना दिया था. यही वह समय था जब मिथुन ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा.मिथुन चक्रवर्ती ने अपने सिनेमा के कैरियर में 400 से भी अधिक फिल्मों में अभिनय किया हैं. हिंदी के साथ-साथ मिथुन ने क्षेत्रीय सिनेमा में भी कार्य किया हैं. मिथुन ने उड़िया, बांग्ला और भोजपुरी आदि भाषाओं में भी अभिनय किया. मिथुन ” मोनार्क ग्रुप ” के मालिक भी हैं जो चिकित्सा के क्षेत्र में कार्यरत हैं. मिथुन चक्रवर्ती ने कोलकाता के विख्यात स्काटिश की डिग्री हासिल की हैं उसके बाद वें भारतीय फिल्म और टेलीविजन संस्थान पुणे से जुड़े और वहीँ से स्नातक भी किया हैं.

पूरा नाम – मिथुन गौरांग चक्रवर्ती
जन्म – 16 जून 1950, कोलकाता
अन्य नाम – मिथुन दा और बॉलीवुड का डिस्को डांसर
शिक्षा – कोलकाता विश्वविद्यालय एंड इंडियन फिल्म टेलीविजन संस्थान
पेशा – अभिनेता, राजनेता और सामाजिक कार्यकर्ता
शादी – योगिता बाली

मुश्किल से ही जुटा पाते थे दो वक्त का खाना:-

मिथुन ‘स्टूडियो सेटिंग एंड मजदूर यूनियन’ के चेयरपर्सन हैं जो सिनेमा जगत के लोगों के लिए काम करती है। वहीं उनके स्ट्रगल के दिनों की बात की जाए तो वो बतौर असिस्टेंट डांसर फिल्मों में काम करते थे। उस वक्त वो दो वक्त खाना भी बड़ी मुश्किल में जुटा पाते थे।

जब एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर में आया नाम:-

मिड डे की एक रिपोर्ट के मुताबिक 80 के दशक में मिथुन के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर को लेकर काफी बार छप चुका था। जिनके साथ उनका नाम जुड़ा था वो कोई और नहीं बल्कि दिवंगत अभिनेत्री श्रीदेवी हैं। लोग तो यहां तक कहने लगे थे कि दोनों ने चुपके से शादी भी कर ली है। हालांकि उन बातों को आज तक किसी ने भी कनफर्म नहीं किया, वो सिर्फ अफवाहें ही थीं।

कुल 300 से फिल्मों में दिख चुके:-

मिथुन अब तक कुल 300 फिल्मों में दिख चुके हैं। इन फिल्मों की लिस्ट में हिंदी, बंगाली, उड़िया और भोजपुरी भाषाओं की मूवीज भी शामिल हैं। इन्होंने 38 पेट डाॅग पाले हैं। वहीं साल 2009 में उन्होंने अपने बेटे महाअक्षय को वेट लूज करने के लिए एक लक्जरी कार गिफ्ट की थी।

मिथुन चक्रवर्ती का फिल्मी कैरियर :-

मिथुन चक्रवर्ती ने अपने कैरियर की शुरुआत साल 1976 में मृराल सेन द्वारा निर्देशित फिल्म मृगया से अपने फिल्मी कैरियर की शुरुआत की थीं जिसमे उनको बेस्ट अभिनेता के लिये राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार भी मिला था. उसके बाद मिथुन ने दो अनजाने साल 1976 और फूल खिले हैं गुलशन-गुलशन 1977 में सह भूमिका निभाई थीं लेकिन इसमें उन्हें कोई सम्मान नहीं मिला था. साल 1980 के दशक में कुछ हिट फिल्में दी हैं जैसे – हम पांच और वारदात जो कि सुरक्षा की अगली कड़ी थीं. इन फिल्मों में उन्होंने अहम भूमिका निभाई थीं.1980 के समय में ही मिथुन ने कई रोमांटिक और ड्रामा वाली फिल्मो में भी काम किया था जिसमे मुझे इंसाफ चाहिए, प्यार झुकता नहीं, स्वर्ग से सुन्दर और प्यार का मंदिर प्रमुख फिल्मे थीं. ये फिल्में काफी हिट साबित हुई थी और इन्होने बॉक्स ऑफिस पर अच्छा बिजनेस किया था. उसके बाद मिथुन ने एक्शन वाली फिल्मो में भी कार्य किया था जिसमे वांटेड, बॉक्सर, जागीर, जाल, वतन के रखवाले, कमांडो, वक्त की आवाज और दुश्मन आदि फिल्मे शामिल है. 1980 के समय में उनकी तुलना अमिताभ बच्चन से होने लगी थीं.मिथुन चक्रवर्ती ने अपने जमाने की बड़ी एक्ट्रेस के साथ बॉलीवुड में काम किया जैसे – जीनत अमान, पद्द्मानी कोल्हापुरे, रति अग्निहोत्री, रेखा, श्रीदेवी, माधुरी दीक्षित शामिल है. साल 1990 के समय मिथुन उटी चले गये थें वहां उन्होने होटल का बिजनेस शुरू कर दिया था .उस समय तक वे 12 साल में 80 फिल्मो में काम कर चुके थें. मिथुन की फिल्मे बंगाल में काफी मनोरंजन एवं लोकप्रिय रही हैं. साल 2008 में राहुल बोस और समीर रेड्डी के साथ दासगुप्ता की फिल्म ” कालपुरुष ” में उन्होंने काम किया था. इस फिल्म को समीक्षा करने वालो ने प्रशंसा की थीं.

मिथुन दा को प्राप्त पुरस्कार और सम्मान :

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार
* साल 1977 बेस्ट अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (मृगया के लिये)
* साल 1993 बेस्ट अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (ताहादेर कथा के लिये)
* साल 1996 बेस्ट सहायक अभिनेता का राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार (स्वामी विवेकानंद के लिये)

* साल 1990 बेस्ट सहायक अभिनेता का फिल्मफेयर अवार्ड (अग्निपथ के लिये)
* साल 1995 बेस्ट खलनायक का फिल्मफेयर अवार्ड (जल्लाद के लिये)

फिल्में :

मृगया (1976), दो अनजाने (1976), सुरक्षा (1979), तराना (1979), आखरी इन्साफ (1980), टैक्सी चोर (1980), हम पांच (1980), हम से बढ़कर कौन (1981), धुंआ (1981), आमने सामने (1982), स्वामी दादा (1982), डिस्को डांसर (1982), मुझे इन्साफ चाहिए (1983), वांटेड: डेड और अलाइव (1984), बॉक्सर (1984), घर एक मंदिर (1984), जाग उठा इंसान (1984), कसम पैदा करने वाले की (1984), प्यार झुकता नहीं (1985), गुलामी (1985), प्यारी बहना (1985), माँ कसम (1985), बादल (1985), दिलवाला (1986), जाल (1986), स्वर्ग से सुन्दर (1986), करमदाता (1986), ऐसा प्यार कहाँ (1986),

मैं बलवान (1986), डांस डांस (1987), परिवार (1987), हवालात (1987), हिरासत (1987), वतन के रखवाले (1987), प्यार का मंदिर (1988), चरणों की सौगंध (1988), वक्त की आवाज (1988), जीते हैं शान से (1988), गंगा जमुना सरस्वती (1988), गुरु (1989), इलाका (1989), अग्निपथ (1990), रोटी की कीमत (1990), प्यार का देवता (1991), प्यार हुआ चोरी चोरी (1991), ताहादेर दादा (1992), फूल और अंगार (1993), मेहरबान (1993), आदमी (1993), दलाल (1993), चीता (1994), जनता की अदालत (1994), रावन राज: अ ट्रू स्टोरी (1995), जख्मी सिपाही (1995), जल्लाद (1995),

भीष्मा (1996), जंग (1996), शपथ (1997), लोहा (1997), कालिया (1997), सूरज (1997), स्वामी विवेकानंद (1998), मिलिट्री राज (1998), चंडाल (1998), मर्द (1998), यमराज (1998), सन्यासी मेरा नाम (1999), शेरा (1999), सुल्तान (2000), बिल्ला नंबर 786 (2000), बंगाल टाइगर (2001), मेरी अदालत (2001), मार्शल (2002), बंगाली बाबु (2002), गौतम गोविंदा (2002), कुली (2004), एलान (2005), दादा (2005), लकी : नो टाइम फॉर लव (2005), हंगामा (2006), गुरु (2007), कालपुरुष (2008), चांदनी चौक टू चाइना (2009),

लक (2009), वीर (2010), गोलमाल 3 (2010), फालतू (2011), हाउसफुल 2 (2012), ओएमजी: ओह माय गॉड! (2012), खिलाड़ी 786 (2012), रॉकी (2013), एनेमी (2013), बॉस (2013), कांची: द अनब्रेकेबल (2014), किक (2014), एंटरटेनमेंट (2014), गोपाला गोपाला (2015), नक्सल (2015).

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!