Biography

Abiy Ahmed Biography in Hindi – अबी अहमद की जीवनी

Abiy Ahmed Biography in Hindi – शांति नोबेल विजेता अबी अहमद की जीवनी

Abiy Ahmed Biography in Hindi

अबिये अहमद अप्रैल 2018 में इथियोपिया के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ लिए थे।भारत मे बहुुुत कम लोगो को इनका नाम भी पता होगा।शांति के लिए नोबेल पुरस्कार वर्ष 2019 में अबिये अहमद को दिया गया है। अबिये अहमद को यह नोबेल इरिट्रिया के साथ शांतिपूर्ण सम्बन्ध बनाये रखने के लिए मिला है।अफ्रीका के दूसरे सबसे घनी आबादी वाले देश के PM हैं अबिये अहमद।

जन्म 15 अगस्त 1976 (बेशाशा, इथियोपिया)
राजनीतिक पार्टी ओरोमो डेमोक्रेटिक पार्टी
स्पाउस ज़िनाश तयाचेव
बच्चे 3 पुत्रियां और एक गोद लिया हुआ बेटा
शिक्षा BA, MA, MBA, PHD
पुरस्कार शांति के लिए नोबेल (2019)

अबी अहमद का जन्म इथोपिया के कफ्फा प्रान्त के बाशशा शहर में 15 अगस्त 1976 को हुवा था। इनके पिता का नाम अहमद अली था। तथा माता का नाम तेजिता वोल्डे था। इनके पिता ने चार शादियां की थी। ये अपने पिता की तेरहवी संतान तथा अपनी माता की छठवी सन्तान थी। इनके बचपन का नाम अबियोट था जिसका अंग्रेजी में अर्थ क्रांति होता है। अबी अमहद बचपन से पढ़ने में काफी होशियार थे। तथा इनका पढ़ाई में काफी मन लगता था।अबी अहमद ने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा स्थानीय स्कूल में पढ़ी इसके बाद इन्होंने माध्यमिक की पढ़ाई आगटो शहर की थी।अबी अहमद ने 2001 में अदीस अबाबा के मिक्रोलिंक सूचना प्रौद्योगिकी कॉलेज से कंप्यूटर इंजीनियरिंग में स्नातक की डिग्री प्राप्त की थी।अबी अहमद ने में इंटरनेशनल लीडरशिप इंस्टीट्यूट, अदीस अबाबा के सहयोग से लंदन के ग्रीनविच विश्वविद्यालय में बिजनेस स्कूल से मास्टर ऑफ आर्ट्स की उपाधि प्राप्त की है। इन्होंने पीएचडी की पढ़ाई भी पूरी कर रखी है।

अबी अहमद का कैरियर – Abiy Ahmed Life History in Hindi

उन्होंने अपने राजनीतिक जीवन की शुरुआत ODP (ओरोमो डेमोक्रेटिक पार्टी) के सदस्य के रूप में की थी। ODP 1991 के बाद से ओरोमिया क्षेत्र में सत्तारूढ़ पार्टी है और इथियोपिया, EPRDF (इथियोपिया पीपुल्स रिवोल्यूशनरी डेमोक्रेटिक फ्रंट) में सत्तारूढ़ गठबंधन के चार गठबंधन दलों में से एक है। वह ODP की केंद्रीय समिति के सदस्य बने।

अक्टूबर 2015 में, अबी इथियोपियाई विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्री (MoST) बने, उन्होंने यह पद केवल 12 महीनों के बाद छोड़ दिया। अक्टूबर 2016 से, अबी ने ओरोमिया क्षेत्र के उप राष्ट्रपति के रूप में सेवा की, जो इथियोपिया फेडरल हाउस ऑफ पीपुल्स रिप्रेजेंटेटिव के एक सदस्य के रूप में रहते हुए ओरोमिया क्षेत्र के राष्ट्रपति लेम्मा मीर्सा की टीम के हिस्से के रूप में कार्य किया। अबी ओरोमिया अर्बन डेवलपमेंट एंड प्लानिंग ऑफिस के प्रमुख भी बने।

इस भूमिका में, अबियो से ओरोमिया आर्थिक क्रांति, ओरोमिया भूमि और निवेश सुधार, युवा रोजगार के साथ-साथ ओरोमिया क्षेत्र में व्यापक भूमि कब्जाने के प्रतिरोध के पीछे प्रमुख प्रेरक शक्ति होने की उम्मीद थी। कार्यालय में अपने कर्तव्यों को पूरा करते हुवे, उन्होंने सोमाली क्षेत्र के 2017 की अशांति से विस्थापित एक मिलियन ओरोमो लोगों की देखभाल की। ​​

अक्टूबर 2017 से ODP सचिवालय के प्रमुख के रूप में, Abiy ने धार्मिक और जातीय विभाजन को पार कर लिया, जिससे ओरोमो और अम्हारग्रुप के बीच एक नए गठबंधन के गठन की सुविधा मिली, दोनों ने 100 मिलियन इथियोपियाई आबादी के दो तिहाई भाग बनाए।

तीन साल के विरोध और अशांति के बाद, 15 फरवरी 2018 को इथियोपिया के प्रधान मंत्री, हलीमारीम देसालेगन ने अपने इस्तीफे की घोषणा की – जिसका अर्थ है कि उन्होंने ईपीआरडीएफ अध्यक्ष के पद से भी इस्तीफा दे दिया। इथियोपिया की राजनीति में एक अलिखित नियम के रूप में, आने वाले ईपीआरडीएफ अध्यक्ष को ही अगला प्रधान मंत्री होना चाहिए। दूसरी ओर EPRDF अध्यक्ष उन चार दलों में से एक है जो सत्तारूढ़ गठबंधन बनाते हैं।

उनकी जगह लेने के लिए ईपीआरडीएफ गठबंधन के सदस्यों के बीच पहली बार लड़े गए नेतृत्व चुनाव के कारण हैलीमारियम का इस्तीफा शुरू हो गया। बहुत सारे राजनीतिक पर्यवेक्षकों ने लेम्मा मेर्सा (ओडीपी अध्यक्ष) और अबी अहमद को सत्तारूढ़ गठबंधन का नेता और अंततः इथियोपिया का प्रधानमंत्री बना दिया। 2 अप्रैल 2018 को, अबी को प्रतिनिधि सभा द्वारा इथियोपिया के प्रधान मंत्री के रूप में चुना गया और शपथ दिलाई गई।

अबी अहमद अली के पुरुस्कार

(1) Most Excellent Order of the Pearl of Africa: Grand Master पुरुस्कार Uganda के द्वारा 9 June 2018 को अबी अहमद को प्रदान किया गया था।

(2) Order of the Zayed Medal पुरुस्कार UAE Crown Prince के द्वारा 24 July 2018 को प्रदान किया गया।

(3) High Rank Peace Award पुरुस्कार Ethiopian Orthodox Church के द्वारा 9 September 2018 को प्रदान किया गया।

(4) अबी अहमद अली को 2019 में नोबेल का शांति पुरस्कार मिला है।

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!