9TH SST

bihar board class 9 geography notes – स्थिति एवं विस्तार

स्थिति एवं विस्तार

image

bihar board class 9 geography notes

class – 9

subject – geography

lesson 1 – स्थिति एवं विस्तार

स्थिति एवं विस्तार

महत्त्वपूर्ण तथ्य-
हमारा देश भारत विश्व की प्राचीन सभ्यताओं में से एक है। सिंधु घाटी की प्राचीन सभ्यता भारत में ही विकसित हुई। विश्व में भारत ही एकमात्र ऐसा देश है जिसके नाम पर एक महासागर (हिन्द महासागर) का नाम है। भारत का मुख्य भू-भाग 8°4′ उत्तर से 37°6′ उत्तर अक्षांश तथा 68°7′ पूर्व से 97°25′ पर्व देशांतर तक फैला हुआ है। द्वीप समूहों को सम्मिलित करने पर दक्षिण में इसका विस्तार. 6°45′
उत्तर अक्षांश से शुरू होता है। भारत को 23°30′ उत्तरी अक्षांश (कर्क रेखा) बीचो-बीच से गुजरती हुई दो भागों में बाँटती है। भारत की स्थल सीमा-रेखा की कुल लंबाई 15,200 कि० मी० है। द्वीप समूहों को सम्मिलित करने पर यह 7516.6 कि. मी. है। यह मुख्यतः त्रिभुजाकार है।
इसका क्षेत्रफल 32.8 लाख वर्ग कि. मी. है जो विश्व के भौगोलिक क्षेत्रफल का 2.4% है। इसका अक्षांशीय एवं देशांतरीय विस्तार लगभग समान (30°) भारत की स्थल सीमा सात देशों को छूती है-पाकिस्तान, अफगानिस्तान, चीन, नेपाल, भूटान, बांग्लादेश तथा म्यांमार । दक्षिण एशिया में भारत का एक महत्त्वपूर्ण स्थान है तथा भारत सार्क (SAARC-साउथ एसोसियेशन फॉर रीजनल
को-ऑपरेशन) का सदस्य है। श्रीलंका एवं मालदीव हिंद महासागर में द्वीपीय पड़ोसी देश हैं। श्रीलंका भारत से मन्नार की खाड़ी तथा पाक जलसंधि द्वारा अलग होते हैं। भारत की मुख्य भूमि पर स्थित धनुषकोटि से श्रीलंका का तट मात्र 24 कि. मी. की दूरी पर है। इस रेखीय द्वीपों की
श्रृंखला को एडमस ब्रिज के नाम से जाना जाता है। उत्तर एवं उत्तर-पूर्व में स्थल भाग में भारत की सीमा-रेखा पर्वत श्रृंखला द्वारा निर्धारित होती है। जम्मू कश्मीर में एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ भारत, अफगानिस्तान और चीन की सीमाएँ मिलती हैं। इस क्षेत्र से कुछ ही दूरी पर पाकिस्तान, तजाकिस्तान की सीमाएँ मिलती हैं। इस तरह इतने
निकटस्थ पाँच देशों के होने से यह क्षेत्र सामरिक दृष्टि से अत्यंत संवेदनशील है। जम्मू-कश्मीर के उत्तर-पूर्व में तिब्बत का पठार है, जो अब चीन के अन्तर्गत है। यहाँ कैलाश-पर्वत और मानसरोवर झील स्थित हैं। इसके बाद उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने पर नेपाल देश हिमालय की गोद
में बसा हुआ है। नेपाल में हिमालय से निकलने वाली नदियाँ बिहार के मैदानी क्षेत्र से होकर गुजरती हैं। कोसी नदी जिसे ‘बिहार का शोक’ कहा जाता है, का उद्गम स्थान नेपाल में ही है। हाल ही में दोनों देशों में कोसी नदी पर एक संयुक्त परियोजना विकसित हुई है जिसके कारण पारस्परिक सहयोग की भावना को बल मिलता है। कोसी नदी के तटबंध के टूट जाने से 18 अगस्त, 2008 को उत्तरी बिहार में भयंकर बाढ़ आई थी जिसकी वजह से भारत के लिए नेपाल का राजनैतिक, आर्थिक एवं सांस्कृतिक दृष्टिकोण से बहुत महत्त्वपूर्ण है। नेपाल के पूरब में भूटान स्थित है जो भारत के साथ एक विशेष समझौते से जुड़ा है जिसके अन्तर्गत भूटान की सुरक्षा एवं विकास की जिम्मेदारी भारत की है। भूटान के पूरब में भारत एवं चीन की सीमा-रेखा हिमालय की श्रेणियों से होकर गुजरती है जिसे मैकमोहन की पहाड़ियाँ कहते हैं। अरुणाचल प्रदेश के उत्तर-पूरब में भारत, चीन तथा म्यांमार तीनों देशों की सीमाएँ एक बिंदु पर आकर मिलती हैं। इसके बाद पूर्वांचल की पहाड़ियाँ हैं जो म्यांमार को भारत से अलग करती हैं तथा दक्षिण में म्यांमार के आराकानयोमा पर्वत में मिल जाती हैं। आगे चलकर ये बंगाल की खाड़ी में डूब जाती हैं तथा पुनः अंडमान-निकोबार द्वीप समूह के रूप में प्रकट हो जाती हैं। इन पर्वतमालाओं के अत्यंत ही जटिल एवं उबड़-खाबड़ होने की वजह से आवागमन अत्यंत दुर्गम एवं जटिल है।अब यातायात साधनों के विकास होने की वजह से इस क्षेत्र में इण्डो-तिब्बत महामार्ग विकसित हुआ है। यह सड़क शिपकी दर से होकर गुजरती है। दूसरा पर्वतीय मार्ग कश्मीर-लेह मार्ग है जो उच्च पर्वत श्रेणियों से होकर गुजरता है। तीसरा प्रमुख मार्ग सिक्किम के एक दर्रे से
होकर गुजरता है। पश्चिम बंगाल के पूरब में हमारा एक अन्य पड़ोसी देश है-बंगलादेश। इस तरह पश्चिम में हमारा पड़ोसी देश पाकिस्तान स्थित है। भारत और पाकिस्तान के बीच स्थित सीमा-रेखा को रेड क्लिफ लाइन कहते हैं। अपनी प्रायद्वीपीय आकृति के कारण हिंद महासागर के शीर्ष पर स्थित है। पश्चिम तट से यूरोपीय देश दक्षिण-पश्चिम एशिया एवं अफ्रीका तथा पूर्वी तट से एशियाई देशों के साथ संपर्क स्थापित करने में भारत को सुविधा स्थापित होती है। अपनी भौगोलिक स्थिति की वजह से भारत विश्व में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है।

(वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर)
1. क्षेत्रफल की दृष्टि से भारत का विश्व में कौन-सा स्थान है ?
(क) 7वाँ
(ख) 9वाँ
(ग) 5वाँ
(घ) 8वाँ
उत्तर-(क)

2.भारत के अक्षांशीय एवं देशान्तरीय विस्तार में लगभग कितने डिग्री का अंतर है ?
(क) 45°
(ख) 40°
(ग) 30°
(घ) 35°
उत्तर-(ग)

3.भारत की मानक मध्याह्न रेखा का मान क्या है ?
(क) 83°30
(ख) 81°35′
(ग) 82°30
(घ) 80°30
उत्तर-(ग)

4.भारत की स्थलीय सीमा रेखा तटीय रेखा के लगभग कितनी बड़ी है ?
(क) आधी
(ख) दुगुनी
(ग) तिगुनी
(घ) चौगुनी
उत्तर-(ख)

5.भारत एवं चीन के बीच की सीमा-रेखा का नाम है-
(क) रेडक्लिफ लाइन
(ख) मैकमोहन लाइन
(ग) ग्रीनविच लाइन
(घ) इनमें से कोई नहीं
उत्तर-(ख)

रिक्त स्थानों की पूर्ति कीजिए
(i) भारत का क्षेत्रफल (अ)……….वर्ग कि. मी. है जो विश्व के कुल भौगोलिक क्षेत्रफल का (ब)……%है।

(ii) भारत का मुख्य भू-भाग (अ)……….उत्तर से(ब)……उत्तर अक्षांश तथा (स) …………..पूर्व देशांतर से (द) ……….पूर्व देशांतर तक है।

(iii) भारत में कुल (अ)……….राज्य एवं (ब)………
केन्द्र शासित प्रदेश हैं।

(iv) श्रीलंका भारत से (अ) ……….एबं(ब)…….द्वारा अलग हुआहै।

(v) कोसी नदी को बिहार का (अ)………. कहते हैं जो हिमालय के (ब)…… पर्वत से निकलती है।

उत्तर-
(i) (अ) 32.8 (ब) 2.4
(ii) (अ) 8°4′ (ब) 37°6′ (स) 68°7 (द) 97°25
(iii) (अ) 27 (ब) 9
(iv) (अ) मन्नार की खाड़ी (ब) पाक जलसंधि (v)
(अ) शोक (ब)उत्तरी-पूर्वी।

कारण बताएँ-
प्रश्न 1. भारत का अक्षांशीय एवं देशांतर विस्तार लगभग समान है किन्तु भूमि पर दोनों की वास्तविक दूरी समान नहीं है, क्यों ?
उत्तर– भारत का अक्षांशीय एवं देशांतर विस्तार लगभग समान है। किन्तु भूमि पर दोनों की वास्तविक दूरी समान नहीं होती है क्योंकि पृथ्वी पर तो अक्षांशीय एवं देशांतर विस्तार लगभग समान 30° है लेकिन जैसे-जैसे हम ध्रुव की ओर जाते हैं यह दूरी बढ़ती जाती है।

प्रश्न 2. भारत के अरूणाचल प्रदेश के निवासी सौराष्ट्र के निवासियों की तुलना में सूर्योदय होने से 2 घंटा पहले ही उठ जाते हैं। क्यों ?
उत्तर-भारत के अरूणाचल प्रदेश के निवासी सौराष्ट्र के निवासियों की तुलना में सूर्योदय होने से 2 घंटा पहले ही उठ जाते हैं। ऐसा 30° देशांतरीय विस्तार के कारण होता है।
कारण-पृथ्वी 24 घंटे में 360° देशांतर घूम जाती है। 1° देशांतर घूमने में पृथ्वी को 4 मिनट का समय लगता है। सौराष्ट्र और अरूणाचल प्रदेश के बीच 30° देशांतर का अंतर है। अत: इसे पार करने में 30°x4 = 120 मिनट यानी 2 घंटे का समय लगता है।

प्रश्न 3. भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में जाड़े की ऋतु में जहाँ लोग गर्म कपड़े में लिपटे रहते हैं वही केरल के निवासी खुले बदन एवं लुंगी में रहते हैं। क्यों ?
उत्तर-भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य में जाड़े की ऋतु में जहाँ लोग गर्म कपड़े में लिपटे रहते हैं। वह केरल के निवासी खुले बदन एवं लुंगी में रहते हैं। ऐसा विषुवत रेखा से दूरी तथा नजदीकियाँ की वजह से होता है। भारत के जम्मू-कश्मीर राज्य की सीमा विषुवत रेखा से काफी
दूरी पर स्थित है अतः वहाँ सूर्य की किरणे अत्यंत तिरछी पड़ती हैं जिसकी वजह से वहाँ ठंड ज्यादा पड़ती है तथा निवासी गर्म कपड़ों में लिपटे रहते हैं। वहीं केरल राज्य विषुवत रेखा के काफी निकट है। अत: वहाँ सूर्य की किरणे अपेक्षाकृत लम्बी पड़ती हैं तथा वहाँ के निवासी खुले बदन
एवं लुंगी में रहते हैं।

प्रश्न 4. भारत की तटीय सीमा रेखा काफी लंबी है, क्यों ?
उत्तर-भारत के प्रायद्वीपीय आकार के कारण यह तीनों ओर समुद्र से घिरा हुआ है। अतः प्रायद्वीपीय आकार के कारण भारत की तटीय सीमा इतनी लंबी है।

(लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर)

प्रश्न 1. भौगोलिक क्षेत्रफल से भारत से बड़े सभी देशों के नाम क्रमवार से लिखें।
उत्तर-भौगोलिक क्षेत्रफल से भारत से बड़े सभी देशों के नाम-
1. रूस। 170.7 लाख वर्ग कि. मी.
2. कनाडा। 99.7 लाख वर्ग कि. मी.
3. सं० रा. अमेरिका। 98.0 लाख वर्ग कि. मी.
4. चीन। 95.9 लाख वर्ग कि. मी.
5. ब्राजील। 85.4 लाख वर्ग कि. मी.
6. आस्ट्रेलिया। 76.8 लाख वर्ग कि. मी.

प्रश्न 2. बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में स्थित भारत के द्वीप समूहों के नाम लिखें।
उत्तर-बंगाल की खाड़ी में अंडमान और निकोबार द्वीप समूह स्थित है और अरब सागर में भारत के लक्षद्वीप तथा मालदीव द्वीप समूह स्थित हैं।

प्रश्न 3. भारत की स्थलीय सीमा-रेखा को छूने वाली सभी पड़ोसी देशों के नाम लिखें।
उत्तर-भारत की स्थलीय सीमा-रेखा को छूने वाले पड़ोसी देशों के नाम हैं- पाकिस्तान, अफगानिस्तान, चीन, नेपाल, भूटान, बंगलादेश तथा म्यांमार।

प्रश्न 4. भारत के कौन से राज्य अंतर्राष्ट्रीय सीमा तथा समुद्र तट को स्पर्श नहीं करते हैं ?
उत्तर-भारत के राज्यों में मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़, झारखंड, हरियाणा, दिल्ली, असम आदि अंतर्राष्ट्रीय सीमा तथा समुद्र तट को स्पर्श नहीं करते।

प्रश्न 5. जलसंधि किसे कहते हैं ?
उत्तर-समुद्रीय क्षेत्र में अपनी-अपनी सीमा रेखाओं को लेकर निर्धारित की गई अंतर्राष्ट्रीय सीमा-रेखा को जलसंधि कहते हैं। यह समुद्रीय क्षेत्र में किसी देश की सीमा का निर्धारण करती है। जैसे श्रीलंका भारत से भन्नार की खाड़ी तथा पाक जलसंधि द्वारा अलग होता है।

(दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर)
प्रश्न 1. भारत के अक्षांशीय एवं देशान्तरीय विस्तार का इसके समय पर क्या प्रभाव पड़ता है ? स्पष्ट करें।
उत्तर-भारत का अक्षांशीय एवं देशान्तरीय विस्तार लगभग समान अर्थात् 30° है लेकिन वास्तविक रूप में भूमि पर दोनों की दूरी समान नहीं होती है। क्योंकि पृथ्वी पर तो अंतर-अंक्षाशीय दूरी समान रहती है। किन्तु जैसे-जैसे हम ध्रुव की ओर बढ़ते हैं, अंतर-अक्षांशीय दूरी कम होती जाती है। उदाहरण के लिए भारत में अरुणाचल प्रदेश तथा कच्छ के स्थानीय समय के बीच 2 घंटे का अंतर होता है अर्थात् जब अरुणाचल प्रदेश में सूर्योदय होता है उस समय कच्छ में अंधेरा रहता है और वहाँ 2 घंटे बाद सूर्योदय होता है। यह 30° देशांतरीय विस्तार के प्रभाव की वजह से होता है।
क्योंकि पृथ्वी 24 घंटे में 360° देशांतर घूम जाती है। 1° देशांतर को पार करने में पृथ्वी को 4 मि० का समय लगता है। सौराष्ट्र (कच्छ) और अरुणाचल प्रदेश के बीच 30° देशांतर है। अतः इसे पार करने में 30°x4 = 120 मिनट यानी 2 घंटे का समय लगता है।
अक्षांशीय विस्तार की दूरी का भारतीय ऋतुओं पर भी असर पड़ता है। उदाहरण के लिए भारत का उत्तरी किनारा जम्मू-कश्मीर राज्य में है तथा 37°6′ अक्षांश रेखा इसके उत्तरी किनारे से गुजरती है जो विषुवत रेखा से काफी दूरी पर है है। अतः यहाँ सूर्य की किरणे अत्यंत तिरछी पड़ती हैं जिसकी वजह से यहाँ जाड़े की ऋतु में अत्यधिक ठंडक पड़ती है। इसके विपरीत भारत का
दक्षिणी भाग जैसे-केरल और तमिलनाडु राज्य विषुवत रेखा के काफी निकट है। अतः यहाँ अधिक गर्मी पड़ती है। अधिक अक्षांशीय विस्तार का प्रभाव दिन और रात की अवधि पर भी पड़ता है। केरल में सबसे छोटे एवं बड़े दिन की अवधि में 45 मि० का अन्तर है। जबकि लेह जो लद्दाख की राजधानी है, में यह अंतर 5 घंटे का पाया जाता है।

1 Comment

Leave a Comment

error: Content is protected !!