10TH SST

bihar board class 10th geography notes -परिवहन संचार व्यापार

परिवहन , संचार एवं व्यापार

bihar board class 10th geography notes

class – 10

subject – geography

lesson 4 – परिवहन , संचार एवं व्यापार

परिवहन , संचार एवं व्यापार

महत्वपूर्ण तथ्य — एक स्थान से दूसरे स्थान तक सामानों , चिट्ठियों एवं संदेशों को पहुँचाने का काम परिवहन एवं संचार के साधन करते हैं । किसी भी देश के समुचित विकास में परिवहन एवं संचार के साधन आधार का काम करते हैं । इसलिए इन्हें राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था की जीवन – रेखा कहा जाता है ।
परिवहन एवं संचार के साधन सामाजिक – आर्थिक व्यवस्था की धमनियाँ मानी जाती हैं । परिवहन के लिए भारत में रेलमार्ग , सड़क मार्ग , पाइपलाइन मार्ग , जलमार्ग एवं वायुमार्ग की सुविधाएँ उपलब्ध हैं ।
भारत में सड़क मार्ग की कुल लंबाई ( 2006-07 में ) 33 लाख किमी है जो स्वतंत्रता के समय लगभग 4 लाख किमी थी । ग्रैंड ट्रंक रोड देश की सबसे पुरानी सड़क है जिसे शेरशाह ने कोलकाता से पेशावर तक बनवाया था । इस मार्ग का अमृतसर से दिल्ली तक का हिस्सा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -1 तथा दिल्ली से कोलकाता तक का हिस्सा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -2 कहलाता है । वर्तमान समय में देश में सड़कों के विकास के लिए राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना , राष्ट्रीय समविकास योजना , प्रधानमंत्री ग्राम स्वराज्य योजना , प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना कार्यरत है ।
पक्की शहरों की लंबाई की दृष्टि से महाराष्ट्र का देश में पहला स्थान है , इसके बाद उत्तर प्रदेश एवं उडीसा का स्थान आता है । सबसे कम पक्की सड़कों की लंबाई लक्षद्वीप में मात्र 01 किलोमीटर है । जबकि घनत्व की दृष्टि से केरल , गोआ एवं उड़ीसा का क्रमशः पहला , दूसरा एवं तीसरा स्थान आता है ।
नागपुर योजना के तहत पहली बार देश में सड़कों को चार प्रकारों में वर्गीकृत किया गया था जिनमें राष्ट्रीय राजमार्ग , राज्य राजमार्ग , जिला सड़क एवं ग्रामीण सड़क शामिल हैं ।
देश में कुल 227 राष्ट्रीय राजमार्ग हैं जिनमें राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 07 सबसे लंबा है । यह मार्ग वाराणसी से कन्या कुमारी तक ( 2369 किमी . ) जाती है । राष्ट्रीय राजमार्गों की देखभला केन्द्र सरकार करती है ।
देश में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने व्यापक राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना शुरू की है । जिसमें शामिल है
( i ) स्वर्णिम चतुर्भुज राजमार्ग – देश के चार प्रमुख महानगरों को जोड़नेवाली 6 लेनवाली 5846 किमी लंबी सड़क का निर्माण कार्य जारी है ।
( ii ) उत्तर – दक्षिण एवं पूरब – पश्चिम गलियारा उत्तर में श्रीनगर तथा दक्षिण में कन्याकुमारी , पूरब में सिलचर तथा पश्चिम में पोरबंदर को जोड़नेवाली 7675 किमी लंबी सड़क का निर्माण कार्य जारी है । ( iii ) एक्सप्रेस – वे — अत्याधुनिक सड़क जो अल्प समय में गंतव्य तक पहुँचाने के उद्देश्य से बनाई जा रही है ।

2. राज्य राजमार्ग – राज्य की राजधानियों को विभिन्न जिला मुख्यालयों से जोड़नेवाली ऐसी सड़कों की लंबाई कुल सड़कों का मात्र 4 % है ।
3. जिला सड़कें विभिन्न जिला मुख्यालयों को मिलानेवाली ऐसी सड़कों का हिस्सा देश में 14 % है । 4. ग्रामीण सड़कें देश की कुल सड़कों का 80 % भाग ग्रामीण सड़कों के रूप में है ।
5. सीमांत सड़कें सीमा सड़क संगठन द्वारा ऐसी सड़कों का निर्माण सीमाओं पर किया जाता है ।
रेलमार्ग का विकास भारत में 1853 से माना जाता है । वर्तमान समय में देश में रेलमार्गों की कुल लंबाई 63327 किलोमीटर है । प्रशासनिक सुविधा के लिए भारतीय रेलवे 16 जोन में विभक्त है । सबसे बड़ा रेलवे जोन उत्तर रेलवे तथा सबसे छोटा उत्तर – पूर्वी सीमांत रेलवे है । इस भारतीय रेल की कई विशेषताएँ हैं । कोलकाता एवं दिल्ली में मेट्रो रेल सेवा भी दी जा रही है ।
पाइप लाइन मार्ग की कुल लंबाई देश में लगभग 19000 किलोमीटर है । जिसमें हजीरा – विजयपुर जगदीशपुर गैस पाइप लाइन ( 1730 किलोमीटर ) सबसे लंबा है । देश में पाइप लाइन की लंबाई क्रमशः बढ़ती जा रही है । पेट्रोलियम उत्पादों , कच्चा तेल , परिवहन , गैस परिवहन एवं ठोस पदार्थों के परिवहन के लिए भी पाइपलाइन का भारत में उपयोग हो रहा है ।
वायुमार्ग का विकास या प्रारंभ देश में 1911 में इलाहाबाद एवं नैनी के बीच की उड़ान से माना जाता है । स्वतंत्रता प्राप्ति तब देश में 21 विमान कंपनियाँ कार्यरत थीं । 1953 ई . में वायु परिवहन का राष्ट्रीयकरण किया गया तथा घरेलू वायु परिवहन इंडियन एयरलाइंस लथा विदेशी या अंतर्राष्ट्रीय वायु परिवहन का भार एयर इंडिया को सौंपा गया । सन् 2005 में इंडियन एयर लाइंस सिर्फ ‘ इंडियन ‘ के नाम से जाना जाता है । देश में सभी प्रकार के हवाई अड्डों को नियंत्रण , विकास एवं प्रबंधन 1955 से ‘ एयरपोर्ट ऑथरिटी ऑफ इंडिया ‘ के जिम्मे है । इस समय देश में 450 हवाई अड्डों में 12 अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे हैं ।
भारत का 103 देशों के साथ द्विपक्षीय विमान सेवा समझौता है । आज कई निजी एवं सार्वजनिक विमान कंपनियाँ भारत में कार्य कर रही हैं ।
जलमार्ग परिवहन का एक प्राचीन माध्यम है । भारत के पास 14500 किमी लंबा नौसंचालन मार्ग है । देश में पहली बार 1806 में बकिंघम नहर बनाया गया था । 1952 में ‘ गंगा – ब्रह्मपुत्रभारत  जल परिवहन बोर्ड ‘ बनाया गया । कालांतर में 1986 में ” भारतीय अंतरदेशीय जलमार्ग प्राधिकरण ” की स्थापना की गई ।
भारत के 5 आंतरिक जलमार्गों को राष्ट्रीय जलमार्ग घोषित किया गया है
( i ) : -इलाहाबाद से हल्दिया के बीच 1620 किमी ० जलमार्ग ।
( ii ) 2 – सदिया से घुबरी तक 891 किमी . लम्बा जलमार्ग ।
( iii ) 3 – कोल से कोट्टापुरम तक 205 किमी लंबा जलमार्ग ।
( iv ) 4 – गोदावरी – कृष्ण नदियों में 1095 किमी लंबा जलमार्ग ।
( v ) 5 – उड़ीसा में 623 किमी लंबा जलमार्ग ।
भारत के पास 7517 किमी लंबा समुद्री तट अंतर्राष्ट्रीय जलमार्ग के लिए उपलब्ध है । जिसके सहारे 12 बड़े एवं 200 छोटे पत्तन विकसित हैं । व्यापारिक जहाजरानी बेड़े की दृष्टि से भारत का विश्व में 20 वां स्थान है ।
संचार के प्रमुख साधनों में डाक सेवा , टेलीग्राम , टेलीफोन , फैक्स , रेडियो , सिनेमा , . समाचार – पत्र , पत्रिकाएँ , इंटरनेट एवं ई – मेल शामिल हैं । भारत में संचार के ये सभी साधन उपलब्ध हैं । पहली बार 1837 में देश में डाक सेवा प्रारंभ हुई फिर 1854 में भारतीय डाक विभाग की स्थापना हुई जो उत्तरोत्तर अपनी सेवा में प्रगति कर रहा है । पूरे देश को 8 डाक क्षेत्रों में बाँटा गया है । पिनकोड 6 अंकों का होता है । बिहार और झारखंड के पिनकोड संख्या 8 से शुरू होते हैं ।
डाक वितरण में तेजी लाने के लिए डाक विभाग पर 6 डाक चैनल , राजधानी चैनल , मेट्रो चैनल , ग्रीन चैनल , दस्तावेज चैनल , भारी चैनल एवं व्यापार चैनल की सुविधा प्रदान कर रही है । देश में औसतन 21.16 वर्ग किमी क्षेत्र तथा 6623 लोगों पर एक डाक घर की सेवा उपलब्ध है ।
डाक सेवा के बाद देश में 26 करोड़ वायरलेस फोन उपभोक्ता है । इसी तरह 1936 से ऑल इंडिया रेडियो , 1957 में ‘ आकाशवाणी ‘ नाम से रेडियो प्रसारण किया जा रहा है जबकि 1959 से देश में टेलीविजन की सेवा आरंभ हुई ।1976 में इसे दूरदर्शन नाम दिया गया तथा 1982 से रंगीन प्रसारण की शुरुआत हुई ।
देश में 65 हजार पत्र – पत्रिकाएँ छपती हैं जिसमें सर्वाधिक हिन्दी भाषा में 25000 समाचार पत्र एवं पत्रिकाएँ छपती है ।
भारत का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार लगातार बढ़ता जा रहा है । 1951 में 1214 करोड़ रु . का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार हुआ था जो 2008 में 1605022 करोड़ रु . का हो गया । इसी दौरान व्यापार घाटे में भी वृद्धि आई है जो देश के प्रतिकूल व्यापार संतुलन का द्योतक है । भारत एशिया का पहला देश है जिसने निर्यात संवर्द्धन के लिए कांडला में पहला निर्यात संवर्द्धन क्षेत्र स्थापित किया । इसके बाद 7 और ऐसे क्षेत्र स्थापित किए गए । कालांतर में सभी 8 निर्यात संवर्द्धन क्षेत्रों को विशेष आर्थिक क्षेत्र में बदल दिया गया है ।

I. वस्तुनिष्ठ प्रश्नोत्तर :
1. स्वतंत्रता प्राप्ति के समय देश में सड़कों की कुल लंबाई कितनी थी ?
( क ) 2.42 लाख किमी . ( ख ) 1.46 लाख किमी . ( ग ) 3.88 लाख किमी . ( घ ) -5.78 लाख किमी ० उत्तर — ( ग )
2. पक्की सड़कों की लंबाई की दृष्टि से कौन राज्य प्रथम स्थान पर है ?
( क ) महाराष्ट्र ( ख ) बिहार ( ग ) तमिलनाडु ( घ ) केरल
उत्तर- ( क )
3. निम्नलिखित में कौन भारत में सड़कों का एक वर्ग नहीं है ?
( क ) पूरब – पश्चिम गलियारा ( ख ) एक्सप्रेस – वे ( ग ) सीमांत सड़क ( घ ) स्वर्णिम – त्रिभुज राजमार्ग . उत्तर- ( घ )
4. भारत के किन शहरों में मेट्रो रेल सेवा उपलब्ध है ? ( क ) दिल्ली एवं बेंगलुरू ( ख ) दिल्ली एवं कोलकाता ( ग ) दिल्ली एवं मुंबई ( घ ) कोलकाता एवं चेन्नई
उत्तर- ( ख )
5. किस वर्ष इंडियन एयरलाइंस को ‘ इंडियन ‘ नाम दिया गया ?
( क ) 2006 ( ख ) 2003 ( ग ) 2008 ( घ ) 2005 उत्तर- ( घ )
6. भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण का गठन कब किया गया ?
( क ) 1986 ( ख ) 1988 ( 71 ) 1985 ( घ ) 1989 उत्तर- ( क )
7. एनौर पतन किस राज्य में है ?
( क ) गुजरात( ख ) गोवा ( ग ) तमिलनाडु ( घ ) कर्नाटक
उत्तर — ( ग )
8.भारत को कुल कितने डाक क्षेत्रों में बांटा गया है ? ( क ) 7 ( ख ) 5 ( ग ) 6 ( घ ) 8
उत्तर- ( घ )
9. देश में कितने विशेष आर्थिक क्षेत्र विकसित हैं ? ( क ) 8 ( ख ) 10 ( ग ) 15 ( घ ) 5
उत्तर- ( क )

10. फाल्टा विशेष आर्थिक क्षेत्र कहाँ स्थित है ?
( क ) बिहार ( ख ) प . बंगाल ( ग ) केरल ( घ ) उड़ीसा
उत्तर- ( ख )

II .लघु उत्तरीय प्रश्नोत्तर
1. भारत में सड़कों के प्रादेशिक वितरण का वर्णन कीजिए ।
उत्तर – प्रादेशिक वितरण की दृष्टि से पक्की सड़कों की लंबाई में महाराष्ट्र प्रथम स्थान पर आता है । इसके बाद उत्तर प्रदेश एवं उड़ीसा का स्थान क्रम से है । पक्की सड़कों की सबसे कम लंबाई लक्षद्वीप में मात्र 01 किलोमीटर है । जबकि सड़कों के घनत्व की दृष्टि से केरल प्रथम स्थान पर है । यहाँ प्रति 100 वर्ग किमी क्षेत्र पर 387 किमी लंबी सड़क है । उत्तर भारत में सड़कों का सर्वाधिक घनत्व पंजाब में 122 किमी तथा उत्तर – पूर्वी राज्यों में त्रिपुरा का 134 किमी ० है । जबकि केन्द्र शासित प्रदेशों में चंडीगढ़ में 1176 किमी . तथा पूरे देश में सर्वाधिक सड़क घनत्व दिल्ली में 17381 किमी . प्रति 100 वर्ग किमी है ।

2. भारतीय रेल परिवहन की प्रमुख विशेषताओं को लिखिए ।
उत्तर — भारतीय रेल परिवहन को प्रमुख विशेषताएँ हैं ( i ) रेल मंत्रालय रेल यात्री बीमा योजना चला रही हैं । ( ii ) माल ढुलाई के लिए निजी कंटेनर एवं वैगन का प्रयोग मालगाड़ियों में किया जा रहा है ।
( iii ) ट्रेनों को दुर्घटनाओं को रोकने के लिए इंजनों में ए.सी.डी. की व्यवस्था की गई है ।
( iv ) कोलकाता एवं दिल्ली में मेट्रो रेल के तहत भूमिगत रेल सेवा दी जा रही है ।
( v ) पर्वतीय भागों में स्पेशल गेज वाली रेल चलाई जा रही हैं ।
( vi ) बड़े शहरों में दैनिक यात्रियों के आवागमन के लिए डो.एम.यू. , ई.एम.यू. एवं मेमू गाड़ियाँ चलाई जा रही हैं ।
( vii ) कुछ विशेष रेलगाड़ियाँ छुट्टियों के दिनों में चलाई जाती है ।
( viii ) भारतीय रेल प्रणाली एशिया की सबसे बड़ी तथा विश्व की तीसरी बड़ी रेल प्रणाली है ।
3. भारत के विभिन्न डाक चैनल का संक्षिप्त विवरण दीजिए ।
उत्तर – डाक विभाग द्वारा सेवा में तीव्रता लाने रही है । ये चैनल हैं लिए कई डाक चैनल का उपयोग कर रही है यह चैनल हैं-
( i ) राजधानी चैनल डाक घर में पीले रंग की लगी पत्र – पेटियों में डाले गये पत्र अथवा लिफाफा सीधे नई दिल्ली पहुंचायी जाती है फिर उसका वितरण होता है|
( ii ) मैट्रो चैनल मैट्रो शहरों तक चिट्ठियाँ अथवा लिफाफे पहुंचाने के लिए नीले रंग की पत्र – पेटियाँ उपयोग में है ।
( iii ) ग्रीन – चैनल स्थानीय पिनकोड अकित डाक पत्रों को हरे रंग वाली पत्र – पेटी में डाला जाता है । ( iv ) दस्तावेज चैनल समाचार पत्रों एवं विभिन्न पत्रिकाओं को भेजने के लिए इसका उपयोग किया जाता है ।
( v ) अन्य चैनल – बड़े व्यावसायिक संगठनों के डाक पत्रों के लिए भारी चैनल एवं छोटे संगठनों के लिए व्यापार चैनल का उपयोग किया जाता है ।
4 . भारत की आयात – निर्यात वाली वस्तुओं का उल्लेख कीजिए ।
उत्तर – भारत से निर्यात की जानेवाली वस्तुओं में इंजीनियरी सामान , पेट्रोलियम उत्पाद , रल और आभूषण , रसायन एवं संबद्ध उत्पाद , वस्त्र , कृषि एवं संबंधित उपकरण एवं उत्पाद , अयस्क एवं खनिज शामिल है । जबकि आयात की जानेवाली वस्तुओं में पेट्रोलियम एवं संबंधित उत्पाद , मशीनरी , इलेक्ट्रॉनिक सामान , सोना , चाँदी , उर्वरक , रसायन , अलौह धातुएँ एवं अन्य सामान शामिल हैं ।
5. भारत के प्रमुख राष्ट्रीय जलमार्गों के बारे में लिखिएl
उत्तर – देश में 5 आंतरिक राष्ट्रीय जलमार्ग विकसित है । ये हैं ।
1. राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या -1 यह इलाहाबाद से हल्दिया के बीच गंगा नदी में 1620 किमी ० लंबा है । 2. राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या -2 यह सदिया से धुबरी तक ब्रह्मपुत्र नदी में 891 किमी लंबा है ।
3. राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या -3 कोलम से कोट्टापुरम तक पश्चिम तट नहर में 205 किमी लंबा है ।
4. राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या -4 पुडुचेरी – काकीनाडा नहर के सहारे गोदावरी – कृष्ण नदियों में 1095 किमी लंबा है ।
5. राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या -5 यह उड़ीसा में ईस्ट – कोस्ट कनाल , मताई नदी , ब्राह्मणी नदी तथा महानदी डेल्टा के सहारे 623 किमी लंबा है ।

III . दीर्घ उत्तरीय प्रश्नोत्तर

1. भारत के अंतर्राष्ट्रीय व्यापार की विशेषताओं का वर्णन कीजिए ।
उत्तर – एक विकासशील देश होने के कारण भारत का विश्व के सभी भौगोलिक प्रदेशों एवं व्यापारिक खंडों के साथ व्यापारिक संबंध है । स्वतंत्रता – प्राप्ति के बाद और विशेषकर 1990 91 के उदारीकरण , निजीकरण एवं वैश्वीकरण की नीति अपनाए जाने के बाद देश में औद्योगिक एवं सामाजिक – आर्थिक विकास तेजी से हुआ है । 1950-51 में भारत का अंतर्राष्ट्रीय व्यापार 1214 करोड़ रु . का हुआ था जो 1990-91 में 75751 करोड़ रु . का तथा 2007-08 में बढ़कर 160.5022 करोड़ रु . का हो गया ।
कुल व्यापार में वृद्धि उल्लेखनीय है परंतु इस अवधि में देश का आयात , निर्यात की अपेक्षा काफी बढ़ा है , जो प्रतिकूल व्यापार संतुलन का द्योतक है ।
2006-07 और 2007-08 के दौरान देश में कुल गर्यात का सर्वाधिक 51.54 % निर्यात एशिया – ओशियाना को हुआ , साथ ही सर्वाधिक आयात 65.52 % भी इसी क्षेत्र से हुआ है ।
भारत में आयात की जानेवाली वस्तुओं में पेट्रोलियम एवं संबंधित उत्पाद , मशीनरी , इलेक्ट्रॉनिक सामान , सोना , चाँदी , उर्वरक , रसायन इत्यादि प्रमुख हैं जबकि यहाँ से निर्यात की उत्पाद , खनिज इत्यादि शामिल हैं । जानेवाली वस्तुओं में इंजीनियरी सामान , पेट्रोलियम उत्पाद , रत्न और आभूषण , रसायन , वस्त्र , कृषि उत्पाद खनिज आदि शामिल है|
भारत सरकार ने निर्यात संवर्धन के लिए 2004 में विदेश व्यापार नीति की भी घोषणा की है जिसका लक्ष्य अगले 5 वर्षों में विश्व व्यापार में भारत का हिस्सा दुगुणा करना है । निर्यात संवर्द्धन के लिए विशेष आर्थिक क्षेत्र नियम 2006 से प्रभावी है तथा 8 निर्यात संवर्द्धन क्षेत्रों को विशेष आर्थिक क्षेत्र में बदल दिया गया है ।

2 . भारत में पाए जाने वाले विभिन्न प्रकार की सड़कों का विस्तृत विवरण दीजिए ।
उत्तर – सड़क मार्ग परिवहन का सबसे सुलभ साइन है । देश में सड़कों की कुल लंबाई लगभग 33 लाख किमी है । परंतु सभी सड़कें एक प्रकार की नहीं हैं । नागपुर सड़क योजना के अनुसार देश में चार प्रकार की सड़कें हैं-
( i ) राष्ट्रीय राजमार्ग यह राजमार्ग देश के विभिन्न राज्यों को आपस में जोड़ने का काम करते हैं । ऐसी सड़कों की कुल लंबाई 66590 किमी है जो देश की कुल सड़क लंबाई का मात्र राष्ट्रीय राजमार्ग सभी 2 % है । इस पर देश को कुल यातायात का 40 % भाग ढोया जाता पक्की सड़के हैं । देश का सबसे लंबा राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या -07 है जो 2369 किमी लंबा है । यह वाराणसी से कन्या कुमारी तक जाती है|
देश में आर्थिक विकास को बढ़ावा देने के लिए सरकार ने व्यापक राष्ट्रीय राजमार्ग विकास परियोजना शुरू की है जिसके तहत चरण -1 एवं चरण -1 के अंतर्गत स्वर्णिम चतुर्भुज राजमार्ग , पूरब – पश्चिम तथा उत्तर – दक्षिण गलियारा , एक्सप्रेस – वे जैसी सड़कें विकसित की जा रही है ।
( ii ) राज्य राजमार्ग – इस प्रकार की सड़कों की कुल लंबाई देश की कुल सड़कों का 4 % है । ऐसी सड़कें राज्यों की राजधानी को विभिन्न जिला मुख्यालयों से जोड़ती हैं । इन सड़कों के निर्माण एवं देख – रेख राज्य सरकार करती है ।
( iii ) जिला सड़कें ये सड़क राज्य के विभिन्न जिला मुख्यालयों को जोड़ने का काम करती है । देश के कुल सड़कों में इनका हिस्सा 14 % है । क्षेत्रीय विकास की दृष्टि से ये सड़क महत्वपूर्ण हैं ।
( iv ) ग्रामीण सड़कें ये सड़के विभिन्न गाँवों को एक – दूसरे से जोड़ने का काम करती है । इसके अंतर्गत देश की कुल सड़कों का 80 % भाग शामिल है । प्रधानमंत्री सड़क योजना के तहत इन सड़कों का निर्माण किया जा रहा है ।
( v ) सीमांत सड़कें सामरिक दृष्टि से महत्वपूर्ण सीमावर्ती इलाकों में इन सड़कों का निर्माण एवं रख – रखाव सीमा सड़क संगठन करता है ।

3. भारतीय अर्थव्यवस्था में परिवहन एवं संचार साधनों की महत्ता को स्पष्ट कीजिए ।
उत्तर – भारत में परिवहन के सभी साधन उपलब्ध हैं । जिसमें सड़क परिवहन का सर्वसुलभ एवं सबसे सस्ता साधन है । सड़कों के बिना विकास की कल्पना अधूरी है । वस्तुओं एवं सेवाओं का आवागमन एवं स्थानांतरण सड़क मार्ग के द्वारा ही होता है । यह ऐसा परिवहन साधन है जो लोगों की आवश्यकता के अनुसार कहीं भी बनाया जा सकता है । यह सभी दूसरे परिवहन साधनों के पूरक के रूप में भी काम करता है । यह परिवहन घर – घर सेवाएँ उपलब्ध कराने वाला एकमात्र साधन है । 2003-04 में कुल यातायात में सड़कों के जरिए माल ढुलाई 600 अरब टन किमी . हुआ जबकि यात्रियों की आवाजाही 3135 अरब किमी हुआ ।
रेल दूसरा प्रमुख परिवहन साधन है । प्रतिदिन लगभग 1.24 करोड़ यात्रियों को यातायात की सुविधा यह देता है । 2006-07 में इस परिवहन साधन द्वारा लगभग 6 अरब 21 करोड़ 90 लाख यात्रियों ने यात्रा की । इसी अवधि में 773.2 मिलियन टन राजस्व अर्जक माल की ढुलाई हुई । इससे देश की अर्थव्यवस्था में रेलवे का महत्व स्पष्ट है ।
वायु परिवहन , परिवहन का तीव्रतम किंतु महँगा साधन है । लंबी दूरी की यात्रा इससे काफी कम समय में तय की जाती है । भारतीय विमानपतन प्राधिकरण द्वारा 2007-08 के दौरान 13.08 लाख हवाई उड़ानों , 116.81 मिलियन यात्री तथा 17.14 लाख मैट्रिक टन सामान के आवाजाही का प्रबंधन किया गया । इससे वायु परिवहन की महत्ता अर्थव्यवस्था में स्पष्ट है ।
भारत केन्द्र विदेशी एवं घरेलू व्यापार में जलमार्ग का महत्वपूर्ण स्थान है । पाँच राष्ट्रीय जलमार्ग एवं 12 बड़े बंदरगाहों की सहायता से ही भारत का व्यापार हो रहा है जिससे भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत होती जा रही है ।
संचार साधनों में देश में डाक सेवा , टेलीग्राम , टेलीफोन , फैक्स , रेडियो , सिनेमा , समाचार पत्र पत्रिकाएँ , इंटरनेट एवं ई – मेल सभी उपलब्ध है । इनके बिना संदेशों का आदान – प्रदान संभव नहीं है ।
इस प्रकार उपर्युक्त वर्णन से देश की अर्थव्यवस्था में परिवहन एवं संचार के साधनों का महत्व स्पष्ट है ।

4. भारत में पाइपालाइन परिवहन का वर्णन कीजिए ।    
उत्तर – पाइपलाइन परिवहन का एक प्रमुख साधन है । शहरों में घर – घर तक पानी पहुंचाने के लिए इसी का इस्तेमाल किया जाता है परंतु आज इसके उपयोग में वृद्धि आई है । पाइपलाइन के जरिए पेट्रोलियम , प्राकृतिक गैस एवं ठोस पदार्थों का भी परिवहन किया जाने लगा है । भारत में पेट्रोलियम उत्पादन क्षेत्रों में वृद्धि तथा आयात में वृद्धि क कारण इस मार्ग का विस्तार होता जा रहा है । 2004 ई . में देश में पाइपलाइनों की कुल लंबाई 18546 किमी हो गया हैl
पेट्रोलियम उत्पादों के वितरण की दृष्टि से कुछ प्रमुख पाइपलाइन हैं –
( i ) गुवाहाटी – सिलिगुड़ी पाइपलाइन । ( ii ) बरौनी – कानपुर – लखनऊ पाइपलाइन । ( iii ) मंगलौर – हासन – बेंगलुरु पाइपलाइन । ( iv ) चन्नई – त्रिची पाइपलाइन । ( v ) मुंबई – मनमाड – इंदौर एवं मुंबई – पुणे पाइपलाइन ।
देश का सबसे बड़ा उत्पाद पाइपलाइन जाल नहरकटिया – गुवाहाटी – सिलीगुड़ी – बरौनी – कानपुर राजबंद – मौनग्राम – हल्दिया पाइपलाइन है ।
ठोस पदार्थों के परिवहन के लिए कुद्रेमुख – मंगलौर पाइपलाइन प्रसिद्ध है । जबकि कच्चा तेल परिवहन के लिए डिगबोई – बरौनी – हल्दिया पाइपलाइन मुख्य है । इसी तरह पश्चिम में कांडला – अजमेर – पानीपत जमनगर – चाकसू – मथुरा पाइपलाइन महत्वपूर्ण है । दक्षिण भारत में विशाखापत्तनम – विजयवाड़ा – हैदराबाद पाइपलाइन मुख्य है । इसी पाइपलाइन के समानांतर एल.पी. जी . पाइपलाइन भी है । गुजरात में हजीरा से लेकर उत्तर प्रदेश तक 1730 किमी . लंबा हजीरा – विजयपुर – जगदीशपुर गैस पाइपलाइन ( एच . बी . जे . ) भारत का सबसे लंबा गैस पाइपलाइन है ।
इस प्रकार स्पष्ट है कि देश में पाइपलाइन परिवहन का महत्व दिन प्रतिदिन बढ़ता जा रहा है ।

Leave a Comment

error: Content is protected !!