Biography

Vijender singh biography in hindi – विजेंदर सिंह की जीवनी

Vijender singh biography in hindi – विजेंदर सिंह की जीवनी

Vijender singh biography in hindi

विजेंदर सिंह मुक्केबाजी में भारत का प्रतिनिधित्व करते है. विजेंदर सिंह का जन्म 29 अक्टूबर 1985 को हरियाणा के भिवानी जिले में हुआ था. उनके पिता महिपाल सिंह बेनीवाल हरियाणा में बस ड्राईवर है. माँ कृष्णा देवी बेनीवाल गृहणी है. विजेंदर एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते है.विजेंदर सिंह ने अपनी शुरूआती पढाई भिवानी से ही पूरी की. विजेंदर ने ग्रेजुएशन भी भिवानी जिले से किया. विजेंदर को कॉलेज के दिनों से ही मुक्केबाजी करने का शौक था. विजेंदर को मुक्केबाजी और कुश्ती देखने में बड़ा मज़ा आता था. वे कई बार अपने दोस्तों के साथ कुश्ती और मुक्केबाजी के मुकाबले देखने भी जाया करते थे. कुछ समय बाद विजेंदर ने भिवानी के ही बॉक्सिंग क्लब में प्रैक्टिस करना शुरू कर दिया. बॉक्सिंग क्लब में उस समय के नेशनल प्लेयर जगदीश सिंह ट्रेनिंग दिया करते थे. उन्होंने ही विजेंदर को ट्रेनिंग दी थी. विजेंदर के सफल करियर की शुरुआत स्टेट लेवल जीतने के साथ हुई थी. 2000 में उन्होंने राष्ट्रीय स्तर पर मैडल जीत कर सभी को चौका दिया था. विजेंदर सिंह 2003 में आल इंडिया यूथ बॉक्सिंग चैंपियन बने थे. उन्होने इंटरनेशनल लेवल के कई ट्रायल्स में हिस्सा भी लिया. पर वे सेलेक्ट होने में नाकामयाब रहे थे. वे अपने जीवन में माइक टाइसन और मोहम्मद अली से काफी प्रेरित हुए.

क्र.म.      जीवन परिचय बिंदु         जीवन परिचय
1. पूरा नाम विजेंदर सिंह बेनीवाल
2. जन्म 29 अक्टूबर सन 1985
3. जन्म स्थान कालूवास (Kaluwas) गाँव, रेवरी(Rewari) जिला, हरियाणा
4. राष्ट्रीयता भारतीय
5. पेशा मुक्केबाज
6. कद 6 फुट
7. वजन 75 kg
8. पिता महिपाल सिंह
9. माता कृष्णा देवी
10. पत्नी अर्चना सिंह
11. भाई मनोज (बड़ा भाई)

विजेंदर सिंह का कैरियर

उन्होंने 2004 एथेंस ओलंपिक खेलों में वेल्टरवेट डिवीजन में प्रतिस्पर्धा की, लेकिन एक पदक सुरक्षित नहीं कर सके और 20-25 के स्कोर से तुर्की के मुस्तफा कारागोलु से हार गए।

2006 के राष्ट्रमंडल खेलों में, उन्होंने सेमीफाइनल में इंग्लैंड के नील पर्किन्स को बाहर किया और दक्षिण अफ्रीका के बोंगानी मावेलसे से हारने से पहले एक रजत पदक जीतने में कामयाब रहे।

बाद में, उन्होंने मिडिलवेट डिवीजन में भाग लेने का फैसला किया। उन्होंने दोहा में 2006 के एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीता।

2008 के बीजिंग ओलंपिक खेलों में क्वार्टर फ़ाइनल में इक्वाडोर के कार्लोस गिंगोरा को हराने के बाद जब उन्होंने कांस्य पदक जीता तो वह प्रसिद्धि के लिए बढ़ गए।

2009 में, उन्हें देश के सर्वोच्च खेल सम्मान राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

जनवरी 2010 में, उन्हें भारतीय खेलों में योगदान के लिए पद्म श्री से सम्मानित किया गया।

2010 के राष्ट्रमंडल खेलों में, वह सेमीफाइनल में इंग्लैंड के एंथोनी ओगोगो से हार गए और खुद को कांस्य पदक के साथ सांत्वना दी।

उसी वर्ष, उन्होंने फाइनल में 7-0 के स्कोर के साथ उज्बेकिस्तान के अब्बोस एटोव को हराकर एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जीता।

2012 के लंदन ओलंपिक में, वह क्वार्टर फाइनल में उज्बेकिस्तान के अब्बोस एतोव से 13-17 के स्कोर के साथ हार गया।

2014 के राष्ट्रमंडल खेलों में, उन्होंने फाइनल में इंग्लैंड के एंटनी फाउलर से हारने के बाद रजत पदक जीता।

2015 में, उन्होंने विजेंदर को पेशेवर बना दिया और IOS स्पोर्ट्स और एंटरटेनमेंट के माध्यम से फ्रैंक वारेन के क्वींसबेरी प्रमोशन के साथ एक बहु-वर्षीय अनुबंध पर हस्ताक्षर किए।

10 अक्टूबर 2015 को, उन्होंने अपना पहला पेशेवर मुकाबला लड़ा और TKO द्वारा सन्नी व्हिटिंग को हराया।

ड्रग विवाद –

6 मार्च 2012 को चंडीगढ़ के पास के NRI रेसीडेंस में पड़ी रेड (Raid) के दौरान पंजाब पुलिस ने 26 किलोग्राम हेरोइन और दुसरे ड्रग जप्त किए, जिसकी कीमत तक़रीबन 1.3 बिलियन (US$ 19 मिलियन) थी। वहाँ से उन्होंने एक कार भी जप्त की जो विजेंदर की पत्नी के नाम से रजिस्टर थी, यह कार उन्हें ड्रग डीलर अनूप सिंह के घर के बाहर खड़ी मिली। बाद में मार्च महीने में पंजाब पुलिस का स्टेटमेंट आया, “छानबीन के अनुसार विजेंदर सिंह ने 12 बार ड्रग्स का सेवन और राम सिंह ने तक़रीबन 5 बार ड्रग्स का सेवन किया है।“ लेकिन सिंह ने इसे बिल्कुल गलत बताया और टेस्टिंग (जाँच) के लिए उन्होंने अपना खून और बाल भी दिए। NADA (नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी) ने भी विजेंदर की जाँच करने से इंकार कर दिया क्योकि उनके अनुसार वे प्रतियोगिता से बाहर हुए खिलाडियों की जाँच नही करते। इसके बाद 3 अप्रैल को स्पोर्ट मिनिस्ट्री ऑफ़ इंडिया ने NADA के डायरेक्शन में एक टेस्ट लिया और जाँच के बाद बताया की इस अशांति और झूटे आरोपों का असर देश के दुसरे खिलाडियों पर भी पड़ सकता है।
मई 2013 में इस ओलंपिक्स ब्रोंज मेडल विजेता को नेशनल एंटी डोपिंग एजेंसी ने “ऑल क्लीन” का सर्टिफिकेट भी दी दिया।

विजेंदर सिंह का प्रोफेशनल कैरियर

सन 2015 में विजेंदर सिंह ने IOS खेल और मनोरंजन के द्वारा एक “क्वीन्सबेरी प्रोमोशन्स (Queensberry promotions)” के साथ बहु – वर्षीय अग्रीमेंट पर हस्ताक्षर कर दिया, जिससे उनके कैरियर में एक नया मोड़ आ गया. इनके प्रोफेशनल कैरियर के बारे में निम्लिखित सारणी में बताया गया है. जिसमे उन्होंने सफलता हासिल की.

क्र.म. रिकॉर्ड      खिलाफ प्रकार चरण तारीख       स्थान
1. 1-0 ब्रिटिश के सोन्नी व्हाइटिंग(Sonny whiting) TKO 3(4) 10 अक्टूबर 2015 मेनचेस्टर (Manchester), UK
2. 2-0 ब्रिटिश के डीन गिल्लेन(Dean gille) KO 1(4) 7 नवम्बर 2015 डबलिन(Dublin), आयरलैंड
3. 3-0 बल्गेरियाई(Bulgarian)  समेट ह्युसेइनोव(Samet hyuseinov) TKO 2(4) 19 दिसम्बर 2015 मेनचेस्टर (Manchester), UK
4. 4-0 हंगरी(Hungary) के अलेक्सेंडर होर्वाथ(Alexendar horvath) KO 3(6) 12 मार्च 2016 लिवरपूल (Liverpool), UK
5. 5-0 फ्रेंच(French) मतिऔज़े रोयेर(Matiouze royer) TKO 5(6) 30 अप्रैल 2016 लन्दन, UK
6. 6-0 पॉलिश(Polish) एन्द्र्जेज सोल्द्र(Andrzej soldra) TKO 3(8) 13 मई 2016 बोल्टन(Bolten), UK
7. 7-0 ऑस्ट्रेलियन केरी होप(Kerry hope) UD 10 16 जुलाई 2016 दिल्ली, भारत

विजेंदर सिंह की उपलब्धियां (Vijender Singh Achievements) –

विजेंदर सिंह ने अपने कैरियर में कुछ उपलब्धियां भी हासिल की है जिनके बारे में नीचे तालिका में दर्शाया गया है.

क्र.म.        खेल   साल   स्थान    वर्ग  पदक
1. ओलंपिक 2008 बेइजिंग मिडिलवेट कांस्य
2. विश्व चैंपियनशिप 2009 मिलन मिडिलवेट कांस्य
3. कॉमनवेल्थ गेम्स 20062010

2014

मेलबोर्नदिल्ली

ग्लासगो

वेल्टरवेटमिडिलवेट

मिडिलवेट

कांस्यकांस्य

रजत

4. एशियाई गेम्स 20062010 दोहागुंद्ज्हो(Guangzhou) मिडिलवेटमिडिलवेट कांस्यस्वर्ण
5. एशियाई चैंपियनशिप 2007 

2009

        – 

मिडिलवेट 

मिडिलवेट

रजत 

कांस्य

मनपसंद चीजें

1 – भोजन (ओं): ग्रील्ड मेम्ने, कड़ाही चिकन

2 – अभिनेता: अक्षय कुमार

3 – बॉक्सर (एस): राज कुमार सांगवान, माइक टायसन, मुहम्मद अली

4 – क्रिकेटर: सचिन तेंदुलकर, वीरेंद्र सहवाग

विजेंदर सिंह के बारे में तथ्य

1 – उन्हें भारतीय सेना में एक सैनिक बनने की इच्छा थी लेकिन बाद में, उन्होंने मुक्केबाजी के क्षेत्र को चुना।

2 – 2011 में, उन्हें एक बॉलीवुड फिल्म के लिए साइन किया गया था, लेकिन उनकी शादी के कारण, निर्माता ने उन्हें यह मानते हुए गिरा दिया कि वह महिलाओं के बीच लोकप्रिय नहीं थीं।

3 – विजेंदर ने अमेरिकी अभिनेता, सिल्वेस्टर स्टेलोन के चरित्र, रॉकी बाल्बोआ को रॉकी फिल्म श्रृंखला में अपने शुरुआती प्रभावों के रूप में उद्धृत किया। उनकी मुक्केबाजी शैली; रॉकी बाल्बोआ (काल्पनिक चरित्र) के साथ हुक और अपरकेस की तुलना अक्सर की जाती है।

4 – विजेंद्र सलमान खान की “दस का दम” गेम शो में अभिनेत्री मल्लिका शेरावत के साथ दिखाई दिए।

5 – एक बार, उनकी नौकरी पुणे में एक रैली के दौरान भीड़ से बचाने के लिए अभिनेत्री प्रियंका चोपड़ा का अंगरक्षक बनना था।

6 – उनका गृहनगर, हरियाणा में भिवानी को कई विश्व स्तरीय मुक्केबाज देने के लिए “लिटिल क्यूबा” के रूप में जाना जाता है।

7 – मैरी कॉम के अलावा, वह राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार प्राप्त करने वाली एकमात्र मुक्केबाज हैं।

8 – 2009 में, संक्षिप्त समय के लिए, उन्हें इंटरनेशनल बॉक्सिंग एसोसिएशन द्वारा मिडिलवेट (75 किलोग्राम) डिवीजन में दुनिया में नंबर 1 स्थान दिया गया था।

9 – विजेंदर सिंह और अभिनेता अक्षय कुमार अच्छे दोस्त हैं।

10 – उन्होंने स्पोर्ट्स कोटा के तहत हरियाणा पुलिस में डीएसपी के रूप में भी काम किया है।

Vijender singh biography hindi

11 – 2013 में, उन्होंने पहलवान संग्राम सिंह से मिलने के लिए बिग बॉस 7 के घर में प्रवेश किया।

12 – 2014 में, विजेंदर ने फिल्म “फुगली” से बॉलीवुड में पदार्पण किया।

13 – उनके शौक संगीत, वर्कआउट इत्यादि को सुनना है।

14 – 2019 में, वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस (INC) के सदस्य बन गए और उन्हें दक्षिण दिल्ली निर्वाचन क्षेत्र से 2019 लोकसभा का चुनाव लड़ने के लिए टिकट दिया गया।

Leave a Comment

error: Content is protected !!