Biography

Meira Kumar Biography in Hindi – मीरा कुमार की जीवनी

Meira Kumar Biography Hindi – मीरा कुमार की जीवनी

image

Meira Kumar Biography in Hindi

आज बात करने जा रहे है उस महिला की जो दलित समुदाय से आती हैं| और पांच बार लोकसभा सदस्य चुनी जा चुकी है जी उनका नाम मीरा कुमार है |मीरा कुमारी का जन्म 31 मार्च 1945 में बिहार में हुआ। उनके पिता का नाम बाबू जगजीवन राम और उनकी माता का नाम इंद्राणी देवी था। मीरा कुमारी ने 1968 में बिहार की पहली महिला कैबिनेट मंत्री सुमित्रा देवी के पुत्र भारत के उच्चतम न्यायालय के अधिवक्ता श्री मंजुल कुमार से शादी की और उनके एक बेटा और दो बेटियाँ हैं। जिनका नाम इस प्रकार है- बेटा अंशुल और बेटी स्वाति और देवांगना। मीरा कुमारी के पिता स्वतंत्रता सेनानी, सामाजिक न्याय हेतु संघर्ष करता और उप प्रधानमंत्री थे और इनकी माता स्वतंत्रता सेनानी, सामाजिक कार्यकर्ता और अनेक पुस्तकों की लेखिका थी।मीरा कुमारी ने प्रारंभिक शिक्षा दिल्ली के महारानी गायत्री देवी स्कूल से पूरी की। मीरा कुमार ने दिल्ली के इंद्रप्रस्थ और मिरांडा हाउस कॉलेज में M.A. और एल एल बी की शिक्षा प्राप्त की। मीरा कुमार ने कला में स्नातक (मास्टर ऑफ़ आर्ट्स), विधि स्नातक और स्पैनिश में एडवांस्ड डिप्लोमा की डिग्रियाँ ली हैं।मीरा कुमारी अंग्रेजी, स्पेनिश, हिंदी, संस्कृत, भोजपुरी भाषाओं में काफी निपुण थी |श्रीमती मीरा कुमार भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के प्रमुख नेताओं में से एक हैं। वे पंद्रहवीं लोकसभा में बिहार के सासाराम लोकसभा क्षेत्र का प्रतिनिधित्व करते हैं। उन्हें 3 जून 2009 को लोकसभा की पहली महिला स्पीकर के रूप में बिना किसी विरोध के चुना गया था। उन्होंने 2017 के राष्ट्रपति चुनाव में रामनाथ कोविंद के खिलाफ यू पी ए के उम्मीदवार के रूप में चुनाव लड़ा और 34% वोटों से हार गए।

क्रमांक जीवन परिचय बिंदु  मीरा कुमार जीवन परिचय
1. पूरा नाम  मीरा कुमार
2. धर्म  हिन्दू
3. जन्म  31 मार्च 1945
4. जन्म स्थान  सासाराम, बंगाल
5. माता-पिता श्री जगजीवन राम, इंद्राणी देवी
6. विवाह श्री मंजुल कुमार
7. बच्चे 1. अंशुल2. स्‍‍वाति

3. देवांगना

8. राजनैतिक पार्टी कांग्रेस

राजनीतिक

मीरा कुमार अब तक पांच बार सांसद बन चुकी हैं. इन्होने राजनितिक जीवन की शुरुआत 70-80 के दशक से की| इनका चुनावी क्षेत्र संसाराम ही हैं| 1984 में राष्ट्रिय कांग्रेस की टिकट पर Meira Kumar ने लोकसभा चुनाव लड़ा और जीत गईं| इसके बाद Meira Kumar को कांग्रेस की राष्ट्रिय महासचिव बनाया गया| इसके बाद 1996 में ये दूसरी बार सांसद बनी| Meira Kumar के राजनितिक करियर का तीसरा पहर में 1998 में फिर से सांसद बनी| इसके बाद चौथी बार ये 2004 में लोकसभा का चुनाव लड़ी और जीत गईं|

वर्ष 2009 में इन्हे लोकसभा के अध्यक्ष पर के लिए चुना गया| वर्ष 2017 में मीरा कुमार को यूपीए द्वारा अपना राष्ट्रपति उम्मीदवार बनाया हैं,17 दलों के समर्थन के बाद क्या नतीजे आएगे| देखना बाकी हैं|

  • 2012 में पाक मिडिया को दिए गये भाषण में उनकी उर्दू जुबान सुनकर पूरा पाकिस्तान सन्न हो गया था|
  • मीरा कुमार भारतीय विदेश सेवा में नौकरी कर चुकी हैं|
  • Meira Kumar 2014 के लोकसभा में अपने गृह जिले से हार गयी थी|
  • यूपीए सरकार में सामाजिक न्याय मंत्री के पद पर काम कर चुकी हैं|
  • पहला लोकसभा चुनाव बिजनौर से 1985 में लड़ा|
  • ब्रिटेन में भारत के राजदूत के पद पर Meira Kumar रह चुकी हैं|

मीरा कुमार से जुड़े कुछ प्रमुख बिन्दु :-

  • बिजनौर, उत्तर प्रदेश से आठवीं लोक सभा में संसद सदस्‍य (कांग्रेस)
  • करोल बाग, दिल्ली से ग्यारहवीं लोक सभा में संसद सदस्‍य (कांग्रेस)। दिल्ली से जीतने वाले दो कांग्रेस उम्मीदवारों में से एक।
  • करोल बाग, दिल्ली से बारहवीं लोक सभा में संसद सदस्‍य (कांग्रेस)। दिल्ली से जीतने वाली एकमात्र कांग्रेस उम्मीदवार।
  • सासाराम, बिहार से चौदहवीं लोक सभा में संसद सदस्‍य (कांग्रेस)। बाबू जगजीवन राम इस संसदीय क्षेत्र से 50 वर्षों से अधिक समय तक संसद सदस्‍य रहे। बिहार में सर्वाधिक अंतर से जीत दर्ज की।
  • सासाराम, बिहार से पंद्रहवीं लोक सभा में संसद सदस्‍य (कांग्रेस) ।
  • तीन अलग-अलग राज्यों से जीतने वाले गिने-चुने सदस्यों में एक।
  • सदस्‍य, भारतीय संसदीय ग्रुप।
  • सदस्‍य, अंतर-संसदीय संघ।
  • सामाजिक एवं आर्थिक समानता, कमज़ोर वर्गों का सशक्तीकरण सुनिश्‍चित कराने के प्रति वचनबद्ध। सामाजिक क्षेत्र सुधार, मानव अधिकार और लोकतंत्र से संबंधित आंदोलनों में विशेष रूप से सक्रिय।
  • भूतपूर्व अध्यक्ष, अखिल भारतीय समता आंदोलन।
  • भूतपूर्व अध्यक्ष, रविदास स्मारक सोसाइटी, वाराणसी, (2000 – 2006)
  • भूतपूर्व सभापति, मीरा कला मंदिर, उदयपुर।
  • सभापति, जगजीवन राम सेनेटोरियम, देहरी-ऑन-सोन, (2000 – 2006)
  • भूतपूर्व अध्यक्ष, जगजीवन सेवा आश्रम, सासाराम।
  • भूतपूर्व सभापति, राजेन्द्र भवन ट्रस्‍ट।
  • सदस्‍य, उच्‍चतम न्यायालय बार ऐसोसिएशन, 1986 से।
  • प्रबंधन न्‍यासी, जगजीवन आश्रम न्‍यास, दिल्ली, 1985-2004
  • अध्यक्ष, आरवीएकेवी सोसाइटी दिल्ली (नेत्रहीन बालिका संस्था), (1992 – 1998)
  • सदस्‍य, सीनेट पंजाब विश्‍‍वविद्यालय, 1987-91
  • सदस्‍य, सीनेट पंजाब विश्वविद्यालय, 1969-71
  • सदस्‍य, शासी निकाय, भारतीय सांस्कृतिक संबंध परिषद् (आईसीसीआर), (1987 – 1992)
  • हिंदी में कविताएँ लिखना, जिनमें से बहुत सी प्रकाशित हुई हैं।
  • अध्‍ययन (समसामयिक इतिहास, कहानियाँ) ।
  • भारतीय शास्त्रीय संगीत तथा नृत्य।
  • राइफल शूटिंग।
  • अश्वारोहण।
  • सांस्कतिक विरासत, प्राचीन स्मारकों, भारतीय शिल्पकला, परिधानों का संरक्षण।

विशेष रुचि

हिंदी में कविताएं लिखना जिनमें से उन से प्रकाशित हो चुकी है

  • हिंदी में कविताएँ लिखना, जिनमें से बहुत सी प्रकाशित हुई हैं।
  • राइफल शूटिंग
  • भारतीय शास्त्रीय संगीत तथा नृत्य।
  • अश्वारोहण।
  • अध्‍ययन (समसामयिक इतिहास, कहानियाँ)
  • सांस्कतिक विरासत, प्राचीन स्मारकों, भारतीय शिल्पकला, परिधानों का संरक्षण।

जब मैं स्कूल की छात्रा थी, तब कई बार दर्शक दीर्घा से मैंने लोकसभा की कार्यवाही को देखा। उस समय स्वतंत्रता संग्राम के पुरोधा इस सदन में बैठकर देश के लोगों के हित में फैसले लेते थे। खासकर दलितों, वंचितों और कमजोर तथा हाशिए पर खड़े हुए लोगों के लिए वह बड़ी मशक्कत करते थे। मीरा कुमार कहती है कि मैं हमेशा कुछ ना कुछ पढ़ती रहती हूं और मेरी प्रिय पुस्तक महाकवि कालिदास का अभिज्ञान शाकुंतलम् है।

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!