Biography

Manu Bhaker biography in hindi – मनु भाकर की जीवनी

Manu Bhaker biography in hindi – मनु भाकर की जीवनी

Manu Bhaker biography in hindi

मनु भाकर भारतीय महिला शूटर खिलाडी हैं मेक्सिको के ग्वाडलाजारा में अंतरराष्ट्रीय शूटिंग स्पोर्ट फ़ेडरेशन (आईएसएसएफ) विश्व कप में महिला 10 मीटर एयर पिस्टल स्वर्ण पदक जीतने वाली महिला मनु भाकर ने इतिहास पुस्तकों में अपना नाम स्वर्ण अक्षरों से लिख दिया। विश्व कप के स्वर्ण पदक जीतने के लिए वे भारत की सबसे कम उम्र की और शायद विश्व की तीसरी सबसे छोटी शूटर बन गई हैं |मनु भाकर का जन्म 18 फरवरी 2002 (उम्र 16 वर्ष; 2018 में), हरियाणा के झज्जर के एक गाँव गोरिया में हुआ था। उसने उसी शहर में स्थित यूनिवर्सल पब्लिक सीनियर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ाई की।जाट परिवार में जन्मे मनु भाकर के पिता राम किशन भाकर मर्चेंट नेवी में चीफ इंजीनियर हैं और मां सुमेधा स्कूल टीचर हैं। उसका एक भाई अखिल है।

पूरा नाम मनु भाकर
जन्म स्थान झज्जर हरियाणा, भारत
उम्र 16 साल
शिक्षा एवं प्रशिक्षण केंद्र यूनिवर्सल सीनियर सेकंडरी स्कूल
कोच अनिल जाखड़
खेल शूटिंग, बॉक्सिंग, तांगता, जुडो-कराटे (अंतर्राष्ट्रीय स्तर)
माता का नाम सुमेधा
पिता का नाम N/A
आईएसएसएफ वर्ल्ड चैम्पियनशिप (मैक्सिको गुआडलाजरा) गोल्ड मेडल  (10 मीटर एयर पिस्टल शूटिंग) 
एशियाई शूटिंग प्रतियोगिता सिल्वर पदक (पिस्टल शूटिंग)

मनु भाकर का करियर ( Manu bhaker Career)

मनु भाकर ने अपने शूटिंग कैरियर की शुरुआत महज़ दो साल पहले की थी और इन दो सालों में गोल्ड पदक जीतकर भारत और हम सबको गौरान्वित किया है | मनु बचपन से खेल की शौक़ीन थी | वे  सबसे पहले खेल जगत में कदम बॉक्सिंग से रखी , उस समय उनकी उम्र 6 साल की थी | बॉक्सिंग में आँख में चोट लगने की वजह से माँ ने बॉक्सिंग करने से मना कर दिया था जिस वजह से मनु को बॉक्सिंग छोड़ना पड़ा लेकिन खेल के प्रति जज्बा होने की वजह से खेल से नाता नही तोड़ा | और  फिर इसके बाद इन्होने क्रिकेट, कबड्डी,  स्केटिंग और कराटे  भी  खेला |  स्केटिंग के बाद उनका interest swimming में बढ़ा | फिर swimming के कुछ दिन बाद लॉन टेनिस खेलना शुरू किया |लेकिन एक दिन मनु अपने पिता के साथ shooting range में घूम रही थी तभी अचानक उनके पिता ने उनसे शूटिंग करने के लिए कहा और मनु भाकर ने पहली बार में ही बहुत अच्छा शूट किया | और तभी से मनु भाकर का शूटिंग में interest बढ़ा और स्कूल में ही shooting की ट्रेनिंग ली फिर उसके बाद national coach यशपाल राणा ने मनु भाकर को shooting की training दी |मनु भाकर ने 2016 में अपने स्कूल में शूटिंग की शुरुआत की | झज्जर के गोरिया गाँव के senior secondary school में ही केवल शूटिंग रेंज है और यह मनु भाकर के घर से 25 km दूर स्थित है जहां 5 घंटे daily ट्रेनिंग दी जाती है | अब आप अनुमान लगा सकते हैं कि मनु भाकर ने इतने कम समय में कितनी मेहनत  की है और आज national champion बन गई है |

मैच विवरण

  1. 4 मार्च को मैक्सिको गुआडलाजरा में होने वाली प्रतियोगिता में मनु ने काफी अच्छा प्रदर्शन किया है, अलेजैन्ड्रा जवाला नाम की खिलाड़ी को शूटिंग की प्रतियोगिता में हराया, जो लगातार दो साल से पिस्टल शूटिंग की प्रतियोगिता जीतती आ रही थी और अलेजैन्ड्रा जवाला मैक्सिको की रहने वाली हैं.
  1. अपने मैच के अंतिम राउंड में मनु ने 8 का स्कोर किया, जो कि शूटिंग प्रतियोगिता का 24 वां राउंड था. अंत में मनु ने जवाला को सिर्फ 0.4 की बढ़त से हराया, जिसमें मनु का स्कोर 237.5 था,वहीं जवाला ने अंत तक सिर्फ 237.1 पॉइंट हासिल किए थे.
  1. इस काटें की टक्कर के बीच जवाला ने दूसरा स्थान हासिल किया एवं सिल्वर मैडल अपने नाम किया. वहीँ 217 पॉइंट के साथ फ्रांस की केलिने तीसरे नंबर पर रहीं और ब्रॉन्ज़ मैडल या कांस्य पदक अपने नाम किया. यश्विनी देसवाल ने 1 पॉइंट हासिल किए और चौथे स्थान पर रही, लेकिन कोई पदक हासिल नहीं कर सकीं.

माता-पिता का समर्थन ( Parent Support)

बच्चों की कामयाबी में सबसे बड़ा हाथ उनके माता-पिता का होता है | मनु भाकर के पिता का कहना है कि मनु वही करती है जो वो चाहती है उसकी चाहत, उसकी मेहनत और लगन ही उसे कामयाब करने में मदद करती है | मनु भाकर को कभी भी पढाई के लिए force नही किया जाता था क्योंकि वो खुद अपने स्कूल का काम समय पूरा कर लेती थी | समय की कीमत को मनु भाकर बहुत अच्छे से समझती थी इसलिए वो इतने कम उम्र में कामयाब हो गई | और आगे भी अपनी लगन और मेहनत से कामयाब होंगी |
मनु भाकर India की हर एक girl और women के लिए inspiration बनकर उभरी है कि कैसे कम समय में भी आप कामयाब हो सकती है बस आपके अंदर कुछ करने के लिए लगन , चाहत, मेहनत और जज्बा होना चाहिए |

मनु भाकर के विवाद

हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज ने यूथ ओलंपिक में स्वर्ण जीतने वाले पहले भारतीय निशानेबाज बनने के बाद ट्वीट किया था कि हरियाणा सरकार मनु भाकर को prize 2 करोड़ का नकद पुरस्कार देगी।

पिस्टल शूटर अब विज के ट्वीट के स्क्रीनशॉट को पोस्ट करने के लिए चर्चा में है जिसमें उन्होंने उसे नकद पुरस्कार देने का वादा किया है और पूछा है कि क्या यह वास्तव में एक वादा था या सिर्फ कुछ वाक्यांश। इसने एक विवाद शुरू किया और खेल मंत्री को धुएं में छोड़ दिया।

मनु भाकर के बारे में तथ्य

1- मनु भाकर का जन्म हरियाणा के झज्जर के एक छोटे से गांव गोरिया में एक मर्चेंट नेवी चीफ इंजीनियर के घर हुआ था।

2 – मनु भाकर के माता-पिता उन्हें बहुत साहसी और साहसी लड़की मानते हैं।

3 – उसके शौक में सुईवर्क, बंजी-जंपिंग और आइस-स्केटिंग शामिल हैं।

4 – शूटिंग को करियर के रूप में चुनने से पहले, मनु भाकर ने जूडो, किक-बॉक्सिंग, था-थग से लेकर क्रिकेट तक कई अन्य खेलों में कदम रखा।

5 – मनु के पिता को अभी भी संदेह है कि क्या वह भविष्य में शूटिंग में अपना करियर जारी रखेंगे या नहीं।

6 – केरेला में आयोजित 2017 के राष्ट्रीय खेलों में, उसने 9 स्वर्ण पदक जीते और हीना सिद्धू को हराया, जबकि हीना सिद्धू के 240.8 अंक के रिकॉर्ड को तोड़ते हुए, 242.3 स्कोर किया।

7 – ग्वाडलाजारा, मैक्सिको में आयोजित 2018 इंटरनेशनल शूटिंग स्पोर्ट्स फेडरेशन वर्ल्ड कप में, मनु भाकर ने मैक्सिको के एलेजांद्रा ज़वाला (दो बार की चैंपियन) को हराया और महिलाओं की 10 मीटर एयर पिस्टल में स्वर्ण पदक जीता। वह विश्व कप में स्वर्ण पदक जीतने वाली सबसे कम उम्र की भारतीय भी बनीं।

8 – मनु भाकर ने 2018 गोल्ड कोस्ट कॉमनवेल्थ गेम्स में 240.9 अंक का एक नया राष्ट्रमंडल खेल रिकॉर्ड बनाया।

9 – जनवरी 2019 में, वह ट्विटर पर हरियाणा के खेल मंत्री अनिल विज के साथ शब्दों की लड़ाई में शामिल हो गई; हरियाणा सरकार की ओर से उसे on 2 करोड़ का नकद पुरस्कार देने के अपने वादे के बारे में।

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!