Biography

Jitu Rai Shooter Biography In Hindi – जीतू राय का जीवन परिचय

Jitu Rai Shooter Biography In Hindi – जीतू राय का जीवन परिचय

Jitu Rai Shooter Biography In Hindi

जीतू राय एक भारतीय शूटर हैं, जिनका मूल नेपाल से है. जो 10 मीटर एयर पिस्टल और 50 मीटर पिस्टल स्पर्धाओं में भाग लेते हैं। भारत सरकार ने 2016 में उनके लिए खेल रत्न पुरस्कार की घोषणा की है। इन्होने जगह जगह पर भारत का नाम गर्भ से ऊंचा किया है.जीतू राय का जन्म 26 अगस्त सन 1987 को नेपाल के संखुवासभा जिले में हुआ. और इन्होंने अपनी शिक्षा नेपाल के स्थानीय स्कूल से हासिल कर रखी है. राय ने देवी अहिल्या विश्वविद्यालय, जो की इंदौर में है वहां से अपनी स्नातक तक की पढ़ाई कर रखी है.राय के परिवार में इनकी माता हैं जो की नेपाल में रहती हैं और वो एक किसान हैं. इनके पिता के नाम के बारे में जानकारी नहीं है लेकिन वो भारतीय सेना का हिस्सा थे और साल 2006 में उनकी मौत हो गई थी. राय के माता-पिता के कुल पांच बच्चें हैं जिनमें से ये चौथी संतान हैं.पिता जी की मृत्यु के बाद राय ने भारतीय सेना को ज्वाइन कर लिया था और इस वक्त ये भारतीय सेना के 11 गोरखा राइफल्स में एक नाइब सूबेदार के तौर पर कार्य कर रहे हैं. वहीं सेना में रहते हुए ही इन्होंने शूटिंग करने की ट्रेनिंग हासिल की है.

क्र.म. जीवन परिचय बिंदु जीवन परिचय
1. पूरा नाम जीतू राय
2. जन्म 26 अगस्त 1987
3. जन्म स्थान संखुवासभा जिला, नेपाल
4. राष्ट्रीयता नेपाली, भारतीय

खेतो में करते थे माँ की मदद 

उनकी माँ पढ़ी लिखी नहीं थी पर उनमे गजब का हौसला था | सुबह जल्दी उठती और खाना पकाकर बच्चो को स्कूल भेज देती | फिर खेतो में बुआई ,सिंचाई ,कटाई के कामो में लग जाती | हालाँकि स्कूल गाँव से बहुत दूर थे और पैदल आने जाने में गाँव के बच्चो को थकान हो जाती थी | फिर भी जीतू स्कूल से लौटने के बाद खेतो में माँ की मदद करते थे |

पढने का नहीं मिल पता था समय 

गाँव और स्कूल के बिच लम्बी दुरी और जंगली रास्ता होने के कारण जीतू को पढने के लिए बहुत कम समय मिला पता था |जीतू बताते है – मुझे बचपन में पढ़ने का समय नहीं मिलता था। किसी तरह दौड़ते-भागते स्कूल पहुंचता, वापस आता, तो मां कहतीं कि बकरी चराने जाओ। हम बासी भात खाकर गुजारा करते थे। वैसे यह कोई अजीब बात नहीं थी, बाकी गांव वाले भी ऐसी ही जिंदगी जीने को मजबूर थे।

पिता की मौत से परेशां हो गया परिवार 

पापा को देखकर जीतू के मन में भी सेना में भारती होने की लालसा जगी | लेकिन उसने यह बात घरवालो  को नहीं बतायी  | तभी अचानक 2016 में दुखद खबर आई की जीतू के पापा नहीं रहे | परिवार में कोहराम मच गया | तब जीतू  की उम्र 19 साल  की थी | जीतू ने तय किया की वो भी भारत जायेंगे और अपने पापा की तरह फ़ौज में भारती होंगे |यह बात सुनकर उनकी माँ परेशान हो उठी | वह अपने पति को गँवा चुकी थी और अब वो अपना बेटा  नहीं खोना चाहती थी | लेकिन जीतू माँ को समझाने में सफल रहे क्युकी परिवार की बेहतरी के लिए जीतू को सेना में जाना जरुरी था |

पढाई दोबारा की शुरू 

सेना में आने के बाद जीतू ने अपने फिटनेस पर ध्यान देना शुरू किया | जीतू ने दोबारा पढाई शुरू की और देवी अहिल्या विश्वविद्यालय (DAVV) इंदौर मध्यप्रदेश से स्नातक की  परीक्षा पास की |  गोरखा रेजिमेंट में बतौर सिपाही भर्ती हुए और अपनी योग्यता के बूते जीतू नायब सूबेदार बन गए।

जीतू राय का कैरियर (Jitu Rai Career) –

जीतू राय के पिछले कुछ साल बहुत ही जबरदस्त रहे, जबकि पिछले कुछ साल से ये कई तरह की चोटों से भी ग्रस्त हो गये थे. किन्तु इन्होने हार न मानते हुए, अपनी कमियों को दूर किया और दुनिया के सामने एक उदहारण प्रस्तुत किया.

जीतू राय ने पहली बार सन 2010 – 11 में सेना की शूटिंग टीम में जगह बनाई, लेकिन उम्मीदों पर खरा ना उतर सके और बाद में उनकी यूनिट को वापस भेज दिया गया, और वे महू  में AMU में अपने प्रशिक्षण के लिए चले गए. उसके बाद इन्होंने महू में सेना की निशानेबाजी यूनिट में अपनी जगह बनाने के लिए 2 बार प्रयत्न किया. सन 2011 में उत्तरप्रदेश के प्रतिनिधित्व में हुए “राष्ट्रीय खेल” में इन्होंने भाग लिया और इन्हें प्रमाण पत्र दिया गया.

11 GRCC – जीतू राय के सैन्य दल के आधार पर, लखनऊ के कमांडेंट, अमूल अस्थाना ने कहा  कि – “नागरिकता अधिनियम 1955 (citizenship ACT 1955) के अनुसार जीतू एक भारतीय नागरिक है, और  इनके पास भारतीय मान्यता वाला पासपोर्ट है”. वर्तमान में विश्व में इनका स्थान 50m पिस्टल स्पर्धा में दूसरा और 10m एयर पिस्टल स्पर्धा में तीसरा है.

जीतू राय की उपलब्धियां (Jitu Rai Achievements) –

जीतू राय पिछले कुछ सालों में बहुत से मेडलों के हकदार बने. इनमें से कुछ इस प्रकार है-

क्र.म.    वर्ग       प्रतियोगिता का नाम      पदक
1. 50m पिस्टल 51st ISSF वर्ल्ड चैंपियनशिप 2014 ग्रानाडा (Granada)  रजत
2. 10m एयर पिस्टल ISSF वर्ल्ड कप 2014 मारीबोर (maribor) स्वर्ण
3. 10m एयर पिस्टल ISSF वर्ल्ड कप 2014 म्युनिक (munich) रजत
4. 50m पिस्टल ISSF वर्ल्ड कप 2014 मारीबोर (maribor) रजत
5. 10m एयर पिस्टल ISSF वर्ल्ड कप 2014 चंग्वों (changwon) कांस्य
6. 50m पिस्टल कॉमनवेल्थ गेम्स 2014 ग्लासगो (Glasgo) स्वर्ण
7. 50m पिस्टल एशियाई गेम्स 2014 इन्चेओन (Incheon) स्वर्ण 
8. 10m एयर पिस्टल टीम एशियाई गेम्स 2014 इन्चेओन (Incheon) कांस्य

जीतू राय का 2016 ग्रीष्मकालीन ओलंपिक में प्रदर्शन (Jitu Rai Rio Olympics) –

जीतू राय का सन 2016 में हुए ग्रीष्मकालीन रियो ओलंपिक में प्रदर्शन इस प्रकार रहा.

क्र.म. साल स्पर्धा       रैंक
1. 2016 10 m एयर राइफल50 m पिस्तौल        8      12

भारतीय सेना का हैं हिस्सा (Career)

पिता जी की मृत्यु के बाद राय ने भारतीय सेना को ज्वाइन कर लिया था और इस वक्त ये भारतीय सेना के 11 गोरखा राइफल्स में एक नाइब सूबेदार के तौर पर कार्य कर रहे हैं. वहीं सेना में रहते हुए ही इन्होंने शूटिंग करने की ट्रेनिंग हासिल की है.

जीतू राय को शूटिंग में मिले मेडल्स की जानकारी (Medals)

  • जीतू राय ने बतौर एक शूटर भारत की और से कई मुकाबलों में भाग लिया है. इन्होंने साल 2014 में विश्व चैंपियनशिप में 50 मीटर शूटिंग में हिस्सा लिया था और अपना पहला पदक जीता था. ये दूसरे स्थान पर रहे थे और इन्हें रजत पदक यानी सिल्वर मेडल मिला था.
  • शूटिंग के विश्व कप में राय अभी तक कुल पांच मेडल जीत चुके हैं, जिनमें से दो गोल्ड, दो सिल्वर और एक ब्रोंज मेडल है. इन्होंने ये मेडल 10 मीटर एयर पिस्तौल और 50 मीटर पिस्तौल की श्रेणी में जीते है.
  • कॉमनवेल्थ चम्पिओन्शिप्स में राय ने अभी तक कुल दो ब्रोंज जीते हुए हैं. वहीं एशियाई खेलों में भी इन्होंने दो मेडल जीत रखे हैं जिनमें से एक गोल्ड और एक ब्रोंज है. ये दोनों मेडल इन्होंने साल 2014 में जीत हैं.
  • कॉमनवेल्थ गेम्स में इन्होंने कुल दो मेडल जीते हैं और ये दोनों मेडल गोल्ड हैं. इन्होंने अपना पहला मेडल साल 2014 में जीता था और दूसरा मेडल इसी साल यानी 2018 में जीत है.

भारत सरकार से भी मिला का अवार्ड (Awards and Achievements)

जिस तरह से जीतू राय ने भारत के लिए प्रदर्शन करते हुए मेडल जीते हैं. उनको देखते हुए इन्हें हमारे देश की सरकार ने खेल रत्न अवार्ड दिया था. इन्हें ये अवार्ड साल 2016 में दिया गया था.

Leave a Comment

error: Content is protected !!