Biography

Bill Gates biography in hindi | बिल गेट्स की जीवनी

Bill Gates biography in hindi | बिल गेट्स की जीवनी

Bill Gates biography in hindi

बिल गेट्स बचपन से ही सॉफ्टवेर के क्षेत्र में थे,बिल गेट्स की जीवनी और Bill Gates की कामयाबी की कहानी जो हमें काफी प्रेरित करती है| बिल गेट्स के बारे में जानना बहुत बड़ी बात है| हम सभी यह भली भांति जानते हैं कि दुनिया की सर्वश्रेष्ठ Software Company “Microsoft” की नींव भी बिल गेट्स के द्वारा ही रखी गयी है |बिल गेट्स 28 अक्टूबर, 1955 को अमेरिका के वाशिंगटन के सीटल में जन्में थे। उनके पिता विलियम एच गेट्स एक प्रसिद्ध वकील थे, जबिक उनकी मां मैरी मैक्सवेल ”यूनाइटेड वे” एवं ”फर्स्ट इंटरस्टेट बैंक सिस्टम”की बोर्ड्स ऑफ डायरेक्टर्स में से एक थी। बिल गेट्स के अलावा उनकी दो बहनें भी थे। बिल गेट्स को बचपन में ट्रे नाम से पुकारा जाता था।

बिल गेट्स बचपन से भी पढ़ने में काफी होशियार औ विलक्षण प्रतिभा के बालक थे। उनकी शुरु से ही पढ़ने में काफी दिलचस्पी थी, वे घंटों घर में अकेले ही पढ़ा करते थे। इसके बाद साल 1968 में बिल गेट्स के माता-पिता ने उनका एडमिशन एक प्राइवेट स्कूल लेकसाइट स्कूल में करवा दिया।

शुरुआत में बिल गेट्स सभी विषयों में अच्छे थे, लेकिन गणित और विज्ञान में उन्होंने महारथ हासिल की थी। इसके अलावा वे स्कूल के अन्य एक्टिविटी में भी भाग लेते थे। वहीं बिल गेट्स के स्कूल में बच्चों को जब कंप्यूटर चलाना सिखाया जा रहा था, तभी से उनकी दिलचस्पी कंप्यूटर की तरफ बढ़ने लगी और वे अपना ज्यादा से ज्यादा समय कंप्यूटर के साथ ही व्यतीत करने लगे।

इसके बाद बिल गेट्स ने महज 13 साल की छोटी सी उम्र में प्रोग्रामिंग पर अपनी कमांड तेज कर ली और एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम यानि कि प्रोग्रामिंग कंप्यूटर बना दिया, जो कि ”Tic-Tac-Tow” के नाम से जाना गया। इसके बाद लगातार बिल गेट्स अपने स्कूल के कंप्यूटर पर कुछ नया करने एवं प्रोग्रामिंग बनाने की जुगत में रहते थे। वहीं जब वे हाईस्कूल में पहुंचे तब उन्होंने स्कूल के पेरोल प्रणाली को कम्पूयटरीकृत कर दिया था।

वहीं इसके बाद स्कूल में ही बिल गेट्स की मुलाकात पॉल एलन (Paul Allen) से हुई, जो कि उनसे सीनियर थे, पॉल की कम्यूटर में दिलचस्पी की वजह से दोनों एक-दूसरे के अच्छे दोस्त बन गए और फिर दोनों ही स्कूल की लैब में साथ-साथ वक्त गुजारने लगे और अपने स्कूल के कम्यूटर कंपनी के सॉफ्टवेयर के साथ सीखने के मकसद से छेड़खानी करते रहते थे, जिसके बाद स्कूल में कम्यूटर कंपनी ने कुछ समय तक रोक लगा दी।

हालांकि, कुछ समय बाद बिल गेट्स और पॉल दोनों को फिर से स्कूल की लैब में जाने की परमिशन इस शर्त पर दी गई थी कि वे प्रोग्राम से सभी एरर को निकाल दे। इस दौरान बिल गेट्स ने अपने दोस्त के साथ मिलकर एक ”Traf-O-Data” प्रोग्राम बनाया जो कि यातायात पैटर्न पर काम करता था और उसे बेहतर करने की कोशिश करता था। वहीं बिल गेट्सको इस प्रोग्राम को बनाने के लिए $20,000 मिले थे, और यही उनकी पहली कमाई थी।

साल 1973 में बिल ने अपनी स्कूल की पढ़ाई पूरी कर ली और फिर इसके बाद उन्होंने हॉवर्ड कॉलेज में एडमिशन लिया। अपने कॉलेज के दिनों में भी बिल गेट्स अपना ज्यादातर समय कंप्यूटर के साथ ही बिताते थे, फिर इसके बाद उन्होंने कॉलेज छोड़ अपने दोस्त एलन के साथ बिजनेस करने का फैसला लिया।

क्रमांक जीवन परिचय बिंदु बिल गेट्स जीवन परिचय
1. पूरा नाम विलियम हेनरी गेट्स 3
2. जन्म 28 अक्टूबर, 1955
3. जन्म स्थान सीटल, वाशिंगटन, अमेरिका
4. माता – पिता मैरी मैक्सवेल गेट्स – विलियम एच गेट्स
5. बहन लिब्बीगेट्स, क्रिस्टी गेट्स
6. पत्नी मेलिंडा गेट्स (1994)
7. बच्चे
  • जेनिफर कैथरीन गेट्स
  • फोवे अडले गेट्स
  • रोरी जॉन गेट्स
8. जाने जाते है माइक्रोसॉफ्ट के को-फाउंडर

बिल गेट्स करियर (Bill Gates Career Highlights) –

  • बिल गेट्स और उनके दोस्त एलन ने मिलकर 1975 में माइक्रोसॉफ्ट कंपनी का निर्माण किया, जिसे शुरू में माइक्रो – सॉफ्ट के नाम से जाना गया. इन लोगों ने ‘बेसिक’ (BASIC) नाम के प्रोग्राम से शुरुवात की, यह माइक्रोकंप्यूटर की प्रसिध्य प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है. यह प्रयोग सफल रहा, जिसके बाद इन्होने, दुसरे दुसरे सिस्टम के लिए प्रोग्रामिंग लैंग्वेज डेवलप करना शुरू कर दिया. थोड़े ही समय में बिल गेट्स की कंपनी माइक्रोसॉफ्ट सफलता की सीढ़ी चढ़ने लगी. 5 साल से कम समय में ही माइक्रोसॉफ्ट कंपनी लोगों की नजर में आने लगी थी.
  • 1980 में ‘इंटरनेशनल बिजनेस मशीन (IBM)’ द्वारा माइक्रोसॉफ्ट को एक डील ऑफर की गई. IBM ने माइक्रोसॉफ्ट से कहा कि वे उनके आने वाले पर्सनल कंप्यूटर के लिए ‘बेसिक इंटरप्रीटर’ लिखें. माइक्रोसॉफ्ट ने IBM के लिए PC DOS ओपरेटिंग सिस्टम बनाया, जिसके बदले में IBM ने एक समय की फीस 50 हजार डॉलर दी.
  • जल्द ही माइक्रोसॉफ्ट ओपरेटिंग सिस्टम पूरी दुनिया में फेमस होने लगे, जिसके बाद 20 नवम्बर 1985 को बिल गेट्स की कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने ‘विंडोज’ (Windows) नाम के एक ओपरेटिंग वातावरण को दुनिया के सामने प्रस्तुत किया. यह ‘माइक्रोसॉफ्ट डोस (DOS)’ के लिए ओपरेटिंग सिस्टम शेल की तरह काम करता था. इसके बाद कुछ सालों में ही विंडोस ने समस्त दुनिया के पर्सनल कंप्यूटर मार्किट में पूरी तरह कब्ज़ा कर लिया था. पर्सनल कंप्यूटर के 90% शेयर विंडोज के नाम थे. माइक्रोसॉफ्ट कंपनी ने अभूतपूर्व वित्तीय सफलता प्राप्त कर ली थी. माइक्रोसॉफ्ट कंपनी के सबसे बड़े शेयर होल्डर बिल गेट्स थे, तो कंपनी के सफल होने का पूरा फायदा बिल गेट्स को मिलता गया. बिल गेट्स ने इस कंपनी से एक बड़ी राशी अपने नाम कर ली थी, जिस वजह से 1987 में पहली बार वे दुनिया के सबसे अमीर आदमियों की लिस्ट में भी शामिल हो गए थे. महज 11 साल के करियर में इतनी बड़ी उपलब्धि बिल गेट्स ने अपने नाम की.
  • 1989 में माइक्रोसॉफ्ट ने ‘माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस’ की शुरुवात की. यह माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस एक पैकेज की तरह था, जिसमें बहुत सारी एप्लीकेशन जैसे माइक्रोसॉफ्ट वर्ड एवं एक्सेल एक साथ एक ही सिस्टम में चल सकती थी. साथ ही किसी भी माइक्रोसॉफ्ट प्रोडक्ट में चल सकती थी. माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस ने एक बहुत बड़ी सफलता प्राप्त की, जिसके बाद पर्सनल कंप्यूटर की दुनिया में माइक्रोसॉफ्ट के ओपरेटिंग सिस्टम का एकाधिकार हो गया था.
  • 1990 के दशक में जब इन्टरनेट पूरी दुनिया में एक मकड़ी के जाले की तरफ फ़ैल रहा था, तब बिल गेट्स माइक्रोसॉफ्ट में ध्यान दे रहे थे, और उसके विकास के लिए तेजी से कार्य कर रहे थे, ताकि वे अपने उपभोक्ता को इन्टरनेट के द्वारा सॉफ्टवेयर का समाधान दे सकें. ‘विंडोस CE ओपरेटिंग सिस्टम प्लेटफार्म’ एवं ‘दी माइक्रोसॉफ्ट नेटवर्क’ उस समय के महान डेवलपमेंट में से एक थे.
  • सन 2000 में बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में सीईओ पद से इस्तीफा दे दिया, लेकिन वे चेयरमैन के रूप में अभी भी पदस्थ थे. उन्होंने अपने लिए माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में एक नया पद ‘चीफ सॉफ्टवेयर आर्किटेक्ट’ बना दिया.
  • अगले कुछ सालों में बिल गेट्स ने माइक्रोसॉफ्ट में अपने काम दूसरों को देने लगे, और खुद वे परोपकारी कार्यों में अधिक समय बिताने लगे.
  • फ़रवरी 2014 में बिल ने चेयरमैन पद से भी इस्तीफा दे दिया, और अब वे माइक्रोसॉफ्ट के सीईओ ‘सत्या नादेला’ के टेक्नोलॉजी एडवाइजर के रूप में कार्यरत है.

अन्य काम (Bill Gates other work) –

  • सन 1999 में बिल गेट्स ने MIT कॉलेज को कंप्यूटर लैब बनाने के लिए 20 मिलियन डॉलर दान में दिए. कॉलेज वालों ने इसका नाम बिल गेट्स के सम्मान में ‘विलियम एच गेट्स बिल्डिंग’ रखा.
  • अपनी पत्नी के साथ मिलकर बिल ने सन 2000 में ‘बिल एंड मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन’ का निर्माण करवाया. यह दुनिया की सबसे बड़ी प्राइवेट फाउंडेशन में से एक है, जिसका उद्देश्य समाज में लोगों के स्वास्थ्य में वृद्धि और दुनिया भर में अत्यधिक गरीबी को कम करना है.
  • सन 2010 में बिल गेट्स ने एक बड़े इन्वेस्टर ‘वारेन बुफ्फेट’ और फेसबुक के फाउंडर और सीईओ मार्क जुकरबर्ग के साथ मिल कर, एक अग्रीमेंट साइन किया, जिसके तहत वे अपनी कमाई का आधा हिस्सा दान में दिया करेंगें.

द बिल एंड मेलिंडा फाउंडेशन की स्थापना एवं समाजिक काम – Bill & Melinda Gates Foundation

बिल गेट्स एवं उनकी पत्नी मेलिंडा गेट्स ने मिलकर साल 2000 में गरीब, असहाय और जरूरतमंद लोगों की मद्द के लिए बिल गेट्स एवं मेलिंडा फाउंडेशन की स्थापना की। उनका यह फाउंडेशन आज विश्व के सबसे बड़ी चैरिटी संस्थानों में से एक है।

इसके अलावा बिल गेट्स ने साल 2010 में विश्व के सबसे बड़े  निवेशक वॉरेन बफेट और फेसबुक के फाउंडर एवं सीईए मार्क जुकरबर्ग के साथ मिलकर एक अग्रीमेंट साइन किया, जिसके तहत वे अपनी कमाई का आधा हिस्सा दान में दिया करेंगे। इसके अलावा वे हर साल भारत में आकर देश के गरीब बच्चों की सहायता करते हैं एवं उनकी जरूरत के मुताबिक उन्हें उचित सुविधाएं उपलब्ध करवाते हैं।

बिल गेट्स की शादी एवं निजी जीवन – Bill Gates Life Story And Marriage

साल 1989 में बिल गेट्स की मुलाकात मेलिंडा फ्रेंच से हुई थी, जो कि उनकी माइक्रोसॉफ्ट कंपनी में ही काम करती थी। बिल गेट्स ने जब मेलिंडा को पहली बार देखा तभी उन्हें पसंद कर लिया और फिर वे दोनों एक-दूसरे के करीब आ गए एवं दोनों का प्यार परवान चढ़ा। हालांकि मेलिंडा उनसे उम्र में काफी छोटी थी।

इसके बाद साल 1994 में दोनों शादी के बंधन में बंध गए। शादी के बाद दोनों को जेनिफर कैथरीन गेट्स, फोवे अडले गेट्स, रोरी जॉन गेट्स नाम के तीन बच्चे भी पैदा हुए।

बिल गेट्स द्धारा लिखी गई किताबें – Bill Gates Books

  • द रोड अहेड (The Road Ahead)
  • बिजनेस @ द स्पीड ऑफ थॉट (Business @ The Speed Of Thought)

दुनिया के सबसे अमीर शख्सियत बिल गेट्स की प्रेरणादायक जीवन को लेकर कई फिल्म, वीडियो क्लिप्स एवं डॉक्यूमेंटरी भी बनाई जा चुकी हैं। इसके अलावा बिल गेट्स पर कई किताबें भी लिखी जा चुकी हैं।

बिल गेट्स की महत्वपूर्ण बातें | बिल गेट्स के बारे में अंजानी बातें

  1. मात्र 13 वर्ष कि उम्र में ही अपना पहला कंप्यूटर प्रोग्राम टिक-टैक-टो बनाया|
  2. बिल गेट्स का बचपन का प्यारा नाम “ट्रे” था|
  3. बिल गेटस बचपन में ही अपने मित्रों आदि से कहा करते थे की वो अपनी 30 की उम्र तक मिलेनियर हो जायेंगे और जो की सच हुई वे 31 साल की उम्र में मिलेनियर बन चुके थे|
  4. सन् 1977 में न्यू मैक्सिको में लाइसेंस के बिना ही गाड़ी चलाने पर पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर लिया था|
  5. सन् 1994 में लियोनाद्रो द विंसी द्वारा लिखित पेजों का कलेक्शन “कोडेक्स लेस्टर” को बिल गेट्स ने 30.8 मिलियन डॉलर में, एक नीलामी में खरीदा था|
  6. बिल गेट्स को इस बात का दुःख था की उन्हें किसी अन्य देश की भाषा नहीं आती|
  7. फेसबुक के को-फाउन्डर मार्क से मिलने के बाद, पहली बार बिल गेट्स ने फेसबुक पर अपना अकाउंट बनाया था इससे पहले वे सोशल मिडिया पर नहीं थे.
  8. यदि माइक्रोसॉफ्ट कम्पनी असफल होती तो बिल गेट्स आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस में एक खोजकर्ता होते.
  9. बिल गेट्स ने अपने बच्चो को केवल 10 मिलियन डॉलर ही दिए हैं बस उसके बाद बची हुई संपत्ति नहीं दी जाएगी|
  10. बिल गेट्स की पसंदीदा किताब “बिजनेस एडवेंचर” है|
  11. सन् 2007 में HARVARD UNIVERSITY द्वारा बिल गेट्स को हौनर की डिग्री से सम्मानित किया गया| HARVARD UNIVERSITY को 32 साल पहले बिल गेट्स ने अपनी पढाई के बिच में ही छोड़ दिया था|
  12. बिल गेट्स हर साल भारत आ कर भारत के गरीबों के लिए महत्वपूर्ण कार्य करते हैं.

विद्यालय में शिक्षा ग्रहण करते हुए ही उन्होंने कंप्यूटर प्रोग्राम बनाकर 4,200 डॉलर कमा लिए|

फोर्ब्स की विश्व की सबसे अमीर लोगों की श्रेणी में गेट्स का नाम लगातार 11 वर्षों तक पहले नंबर पर आता रहा|

Leave a Comment

error: Content is protected !!