Biography

Bal Thackeray biography in hindi – बाल ठाकरे की जीवनी

Bal Thackeray biography in hindi – बाल ठाकरे की जीवनी

image

Bal Thackeray biography in hindi

बाल केशव ठाकरे एक भारतीय राजनेता थे उनके सहयोगी उन्हें “बालासाहेब” के नाम से पुकारते हैं।

वे भले ही आज नहीं है लेकिन उनकी राजनीति के सिद्धांतो से हर कोई उन्हें आज भी याद करता है. बाल ठाकरे ने एक राष्ट्रवादी दल की स्थापना की जिसका नाम शिव सेना पड़ा. नेता के साथ-साथ ठाकरे एक कार्टूनिस्ट भी थे. श्री ठाकरे अच्छे चित्रकार भी रह चुके हैं.

मुंबई में खूंखार अंडरवर्ल्ड का सफाया करने में बाल ठाकरे का मुख्य योगदान रहा हैं. जब बाल ठाकरे जिन्दा थे, इनसे पूरा बॉलीवुड और मुंबई के अन्य संस्थान घबराते थें. इनका मुंबई में काफी राज और नाम रहा. बाल ठाकरे के एक इशारे से मुंबई थम सी जाती थीं. मुंबई के लोगो के अंदर बाल ठाकरे के प्रति ऐसा खौफ था.

बाल ठाकरे का जन्म और प्रारंभिक जीवन

बाल ठाकरे महाराष्ट्र के पुणे में 23 जनवरी 1927 में एक साधारण परिवार में जन्में थे, उनके पिता केशव चन्द्रसेनीय एक लेखक और सामाजिक कार्यकर्ता थे. जिन्होंने बाद में अपना नाम प्रबोधनकार  ठाकरे कर लिया था।उनके पिता एक हिन्दूवादी विचाराधारा वाले व्यक्ति थे, जिन्होंने मुंबई को महाराष्ट्र की राजधानी बनाने में अपनी अहम भूमिका निभाई थीं। वहीं बचपन में ही उनका परिवार मुंबई के भिवंडी में आकर बस गया। बाल ठाकरे के अलावा उनके परिवार में भाई और बहन भी थे।बाल ठाकरे ने मीना ठाकरे से विवाह किया था। शादी के बाद दोनों को बिंदुमाधव, जयदेव और उद्दव ठाकरे नाम के नाम बेटे हुए।हालांकि उनके बड़े बेटे बिंदुमाधव की साल 1996 में एक कार एक्सीडेंट में मौत हो गई थी, जबकि दूसरे बेटे जयदेव परिवारिक कलह की वजह से घऱ छोड़कर चले गए थे। वहीं उनके तीसरे बेटे उद्दव ठाकरे महाराष्ट्र के सीएम के रुप में राज्य की बागडोर संभाल रहे हैं।

पूरा नाम – बाला साहेब केशव ठाकरे
जन्म – 23 जनवरी 1926 पुणे, महाराष्ट्र
मृत्यु – 17 नवम्बर, 2012 मातोश्री, मुंबई
निवास – मातोश्री, मुंबई
राजनैतिक पार्टी – शिव सेना
विवाह – मीना ठाकरे
बच्चे – 3, बिन्धुमधाव ठाकरे, जयदेव ठाकरे और उद्दव ठाकरे
वर्तमान पार्टी प्रमुख – उद्दव ठाकरे
नाती – आदित्य उद्दव ठाकरे
भतीजा – राज ठाकरे, मनसे प्रमुख
स्वभाव – कड़क और हिंदूवादी विचारधारा वाले
पेशा – एक चित्रकार, शिव सेना प्रमुख और सामना अखबार के संपादक
कैरियर शुरू – एक कार्टूनिस्ट चित्रकार के रूप में
संपादक – सामना हिंदी और सामना मराठी भाषा में

बाल ठाकरे का करियर

ठाकरे ने अपने करियर की शुरुआत 1950 के दशक में मुंबई में एक कार्टूनिस्ट के रूप में की थी। उन्होंने फ्री प्रेस जर्नल के लिए काम किया और उनके कार्टून टाइम्स ऑफ इंडिया के संडे संस्करण में भी प्रकाशित हुए।

ठाकरे ने 1960 में अपने भाई श्रीकांत के साथ अपने कार्टून साप्ताहिक m मर्मिक cartoon का शुभारंभ किया।

उनके कार्टून न्यूयॉर्क टाइम्स और जापानी दैनिक समाचार पत्र, असाही शिंबुन के रविवार संस्करण में भी दिखाई दिए।

उन्हें अपने कार्टून साप्ताहिक ‘मर्मिक’ की सफलता से राजनीतिक पार्टी ‘शिवसेना’ की नींव रखने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

19 जून 1966 को उन्होंने शिवसेना की स्थापना की। शिवसेना का अर्थ एक महान मराठा योद्धा, शिवाजी की सेना है।

प्रारंभ में, थाकेरी ने कहा कि यह एक राजनीतिक पार्टी नहीं थी, इसके बजाय, यह शिवाजी की सेना थी, जो मराठा मंसूबों (मराठी लोग) के लिए काम कर रही थी।

उनकी पार्टी अगले दशक में राज्य की प्रमुख पार्टियों में से एक बनकर उभरी और राज्य में दो मुख्यमंत्री दिए।

1989 में, ठाकरे ने पार्टी का समाचार पत्र, साम्ना लॉन्च किया। हालाँकि, 21 वीं सदी के शुरुआती वर्षों में, पार्टी की प्रतिष्ठा उसके आक्रामक और हिंसक स्वभाव के कारण घट गई।

बाल ठाकरे की मृत्यु :

जीवन के अंतिम दिनों में श्री ठाकरे के स्वास्थ्य में गिरावट आती रही जिस कारण 25 जुलाई 2012 को मुंबई के लीलावती अस्पताल में उन्हें भर्ती कराया गया था. 14 नवम्बर 2012 को अस्पताल में श्री ठाकरे ने खाना-पीना त्याग दिया था. फिर उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया और समाचार बुलेटिन में इस खबर को ब्रेकिंग न्यूज़ बना दिया था. बाद में उनका इलाज घर पर हुआ और उन्हें प्राणवायु आक्सीजन के सहारे जिन्दा रखा गया.

उनके चाहने वालो की मुंबई के मातोश्री घर के अंदर व बाहर सैकड़ो लोगो की लम्बी लाइने लगी होती थी. सब सुविधाएँ होने के बावजूद भी उनको बचाया नहीं जा सका और 17 नवम्बर 2012 को मुंबई मातोश्री में उन्होंने अंतिम साँस ली. देश ही नहीं विदेशो में इस खबर से शोक सन्देश आने शुरू हो गए थे. बाल ठाकरे का अंतिम संस्कार मुंबई के शिवाजी पार्क (दादर) में किया गया.

इस यात्रा में लाखों की संख्या में लोग मातोश्री उनके घर से लेकर शिवाजी पार्क तक पैदल चले थे. शिवाजी पार्क में पुरे राजकीय सम्मान के साथ तिरंगे में लिपटे श्री ठाकरे को अंतिम विदाई दी गई. इस अंतिम क्रिया को देश की मीडिया ने लाइव टेलीकास्ट किया था. करोड़ो लोगो ने इस अंतिम दर्शन को अपने टेलीविजन की मदद से और सोशल नेट्वर्किंग की मदद से देखा.

इस अंतिम दर्शन में राजनीति से, बॉलीवुड से और अन्य व्यवसाय के लोग शिवाजी पार्क दादर में मौजूद थें. इस अवसर पर दिल्ली से मुंबई गये आडवानी, सुषमा स्वराज, जेटली, गडकरी, मेनका गाँधी, शरद पवार और खुद मुंबई से अमिताभ बच्चन आदि लोगो ने उनको अपनी नम आखों से विदाई दीं.

बाल ठाकरे के विवाद

अपने पूरे जीवन में, बाल ठाकरे विवादों का केंद्र रहे। कुछ प्रमुख विवाद इस प्रकार हैं-

1 – 1966 में पहली बार उन्होंने दक्षिण भारतीय लोगों के खिलाफ अभियान चलाकर मीडिया का ध्यान खींचा, जो मराठी लोगों से मुंबई में नौकरी छीन रहे थे।

2 – 1969 में महाराष्ट्र-कर्नाटक सीमा विवाद के दौरान, उन्हें गिरफ्तार किया गया और महाराष्ट्र के पुणे में यरवदा सेंट्रल जेल भेज दिया गया।

3 – वे पाकिस्तान के कड़े आलोचक थे। 1998 में, मुंबई में प्रसिद्ध पाकिस्तानी गायक गुलाम अली के संगीत कार्यक्रम के दौरान, सैकड़ों बाल सैनिकों ने बाल ठाकरे के इशारे पर संगीत कार्यक्रम को बाधित किया।

4 – उन्होंने 1975 में इंदिरा गांधी के राष्ट्रीय आपातकाल का समर्थन करके राजनीतिक चक्र को झटका दिया।

5 – 1984 में महाराष्ट्र के भिवंडी में हुए सांप्रदायिक दंगों के दौरान जनता को भड़काने के लिए उन पर कई आरोप लगाए गए थे। उस दंगे में 17 लोग मारे गए थे और 100 से अधिक घायल हुए थे।

6 – दिसंबर 1992 में बाबरी मस्जिद विध्वंस के दौरान, उन्होंने अन्य कट्टरपंथियों के साथ दुर्व्यवहार का आरोप लगाया था।

7 – 1993 में बॉम्बे ब्लास्ट के ठीक बाद, बाल ठाकरे उनमें से एक थे, जिन्होंने सांप्रदायिक हिंसा भड़काई थी। श्रीकृष्ण आयोग की रिपोर्ट ने दंगे भड़काने के लिए ठाकरे और शिवसेना को दोषी ठहराया।

Bal Thackeray biography hindi

8 – 1995 में, उन्होंने बॉलीवुड फिल्म “बॉम्बे” की रिलीज़ पर आपत्ति जताई जो 1993 के बॉम्बे बम-विस्फोट पर आधारित थी।

9 – एक बार जब उन्होंने अपनी पार्टी के समाचार पत्र, सौमना, “एक बिहारी, साव बिमारी के माध्यम से बिहारियों पर टिप्पणी की। क्या बिहारी लडाई क्या तियारी, किशोर बिहारी ट्रेन हमरी, और पंछी बिहारी सरकार सरकार को ”(मतलब – एक बिहारी सौ बीमारियों के बराबर है, दो बिहारवासी लड़ाई की तैयारी कर रहे हैं, तीन बिहारवासी, यह ट्रेन हाईजैक है, और पांच बिहारवासी सत्तारूढ़ सरकार बनाने की कोशिश)। इस बयान से देश में भारी हंगामा हुआ। बिहार के तत्कालीन मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने उनके और उत्तर भारत में शिवसेना के चीफ के खिलाफ लिखित शिकायत दर्ज कराई, जय भगवान गोयल ने पार्टी कार्यकर्ता के रूप में इस्तीफा दे दिया और शिव सेना की तुलना खालिस्तान और उग्रवादी संगठन से की।

10 – वह एक बार भारत के तत्कालीन राष्ट्रपति एपीजे अब्दुल कलाम से अफज़ल गुरु को मौत की सज़ा न सुनाने पर भड़क गया था।

11 – 2007 में, एक अखबार में नाजी तानाशाह, एडॉल्फ हिटलर की प्रशंसा के लिए उनकी आलोचना की गई थी। उसी वर्ष, उन्होंने शिवसेना की रैली के दौरान मुसलमानों को हरे रंग के जहर के रूप में संदर्भित किया।

12 – तमिल मिलिटेंट ऑर्गनाइजेशन- LTTE को सपोर्ट करने के लिए ठाकरे ने फ्लक बनाया।

13 – सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे और बाल ठाकरे के भाई रमेश ठाकरे ने उन पर अनुचित संपत्ति का आरोप लगाया और सीबीआई जांच के लिए कहा।

बाला साहेब ठाकरे से जुड़े रोचक और अनसुने तथ्य – Facts about Balasaheb Thackeray

  • हिन्दू ह्र्दय सम्राट के नाम से प्रसिद्ध बाल ठाकरे चांदी के सिंहासन पर बैठने के बेहद शौकीन थे, उनका प्रभाव पूरे महाराष्ट्र में था।
  • बाल ठाकरे अपने बेबाक भाषणों के लिए भी जाने जाते थे। उनके दरबार में विरोधी भी हाजरी लगाते थे, एवं ठाकरे अपने दुश्मनों को खुलेआम धमकी देते थे।
  • बाल ठाकरे को अपनी जिंदगी में जेल भी जाना पड़ा था। एक बार बाल ठाकरे ने मुस्लिमों पर बयान देते हुए था कि यह कैंसर की तरह फैल रहे हैं और देश को इनसे बचाया जाना चाहिए।
  • बाल ठाकरे को सिगार और व्हाइट वाइन बेहद पसंद थी। वहीं उके हर फोटो और इंटरव्यू में हाथ में सिगार या पाइप जरूर होती थी।
  • बाल ठाकरे न तो सीएम थे और न ही सांसद लेकिन इसके बाबजूद भी उनका प्रभाव महाराष्ट्र में इतना था कि उनके मरने के बाद उन्हें एक राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री की तरह 21 तोपों की सलामी दी गई।वहीं उनके निधन पर लोगों ने अपनी मर्जी से पूरे मुंबई को बंद रखा था।
  • बाल ठाकरे अक्सर हिटलर औऱ श्रीलंका के आंतकी संगठन लिट्टे की जमकर तारीफ करते थे।

महाराष्ट्र में लोग उन्हें “टाइगर ऑफ़ मराठा” के नाम से जानते थे। वे पहले व्यक्ति थे जिनकी मृत्यु पर लोगो ने बिना किसी नोटिस के स्वयम अपनी मर्ज़ी से पूरी मुंबई बंद रखी थी।

बाल ठाकरे की मनपसंद चीजें

  • नेता: महात्मा गांधी
  • स्टेट्समैन: एडॉल्फ हिटलर
  • राजनीतिज्ञ: अटल बिहारी वाजपेयी
  • गायक (गायक): किशोर कुमार, लता मंगेशकर
  • अभिनेता (ओं): अमिताभ बच्चन, नाना पाटेकर
  • खेल: क्रिकेट
  • क्रिकेटर (ओं): सचिन तेंदुलकर, सुनील गावस्कर
  • कार्टूनिस्ट: डेविड लो

 

 

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!