9th english

class 9 english | THE ACCIDENTAL TOURIST

THE ACCIDENTAL TOURIST

class 9 english

class – english

subject – english

lesson 6 – THE ACCIDENTAL TOURIST

THE ACCIDENTAL TOURIST
( दुर्घटनाग्रस्त   पर्यटक )

SabDekho.in

Of all the things…………………………a tennis- court. 

Words meaning :  very good at = किसी विषय में अच्छा होना । Probably= सम्भवतः। Outstanding = विशिष्ट। Constantly = लगातार। Evident=  स्पष्ट। Filled= भरा हुआ। Beyond=  के परे, के ऊपर। Lavatory= शौचालय। Alley= गलियारा। Instant= उदाहरण। Self- locking= स्वचालित। Particular= खास। Recently= हाल में ही। Trouble= मुश्किल। Jammed=  जाम पड़ जाना। Grunts= ( low angry sound ) गुर्राहट। Frowns= माथे की सिलवटें । Consternation = भय, व्याकुलता। Budge= सरकना, हिलाना। Abruptly= एकाएक , अचानक। Gave way = (opened) खुल गई। Excessive=  अत्यधिक। Ejected= बाहर निकल आते। Size= आकार।

वाक्यार्थ — उन तमाम चीजों में, विषयों में, मैं जिनमें अच्छा नहीं हूँ, हकीकत की दुनिया में रह पाना मेरे लिए सबसे मुश्किल है। मैं, हमेशा आश्चर्यचकित रहता हूँ यह देखकर कि दूसरे लोग कितनी ही चीजों को बिना किसी कठिनाई के कर लेते हैं, जो मेरे वश के बाहर की बात है। उदाहरण के लिए, मैं आपको गिनती नहीं बता सकता कि कितनी बार मैं एक सिनेमा हॉल में शौचालय की तालाश में गया होगा और हर बार स्वयं को एक गलियारे के अंत में स्वत: खुलने- बंद होने वाले दरवाजे के सामने गलत दिशा में खड़ा पाया। अब, मेरी सबसे खास विशेषता दिन में कम – से- कम दो – तीन बार होटल के रिसेप्शन डेस्क पर आकर यह पूछना है कि मेरे कमरे का नम्बर कितना है ? संक्षेप में, मैं आसानी से या जल्दी ही कन्फ्यूज्ड अथवा दिग्भ्रमित हो जाता हूँ ।
इस्टर का समय था और एक सप्ताह के लिए हमलोग इंग्लैंड की यात्रा पर थे। जब हमलोग बाॅसटन में ‘ लोगन हवाई अड्डे ‘ पर पहुँचें और जाँच करवा रहे थे। यह भी याद आया कि मुझे कि मेरा कार्ड मेरी गर्दन में टंगी बैग में है। और यहीं से मुसीबत शुरू हुई।
बैग की चेन जाम पड़ गयी थी । सो, भुनभुनाहट , माथे पर पड़े बल और व्याकुलता के साथ मैंने उसे झटके से खींचा । मैंने कुछ देर के लिए अपनी कोशिश जारी रखी लेकिन वह नहीं खुली , सो मैंने अधिक भुनभुनाहट के साथ अपनी कोशिश जारी रखी। आप अंदाज लगा सकते होंगे कि क्या हुआ होगा। झटके से जिप सरक गयी। बैग एक तरफ से खुल गया और उसमें से चीजें — समाचारपत्र की कतरनें और अन्य खुले कागज, एक 14 आछंस का तम्बाकू का डिब्बा, पत्रिकाएँ , पासपोर्ट, अंग्रेजी मुद्रा, फिल्म सभी टेनिस कोर्ट के आकार की दूरी में बुरी तरह से फैल गये।

I watched dumbstruck……………..get myself freed . 

Words meaning : watched = देखा, ध्यान दिया। Dumbstruck=  मौन । Sorted = छांटे हुए। Fluttery= काँपते हुए। cascade= छोटा झरना। Coins= सिक्के। Variety= विभिन्नता। Oblivious= भूल जाना । Contents= चीजें, पदार्थ । Horror= भय, खौफ। To pay = कीमत चुकाना। Discovered= पाया। Shedding blood= खून बहाते हुए। Lavish= अति खर्चीले। Hysterics= मूर्छित होने की अवस्था। Panic= भय। Mode= रीति, प्रकार । Expression = भाव। Wonder = आश्चर्य । Living = जीविकोपार्जन। Leaned= आगे की ओर झुका। Tie= बाँधना। Recline= झुकना। Pinned= जड़ा हुआ। Helplessly=  असहाय की तरह। Clawing= पंजे की तरह पकड़ना। Managed= उपाय किया। Freed= स्वतंत्र होने की स्थिति ।

वाक्यार्थ — एक गूँगे व्यक्ति की तरह मैं सावधानी से चुनकर छाँटे दस्तावेजों की खुले प्रांगण में झरने की तरह फड़फड़ाकर बरसते देख रहा था, खनखनाते हुए सिक्के शोर करते गिर रहे थे और ढ़क्कनहीन तम्बाकू के टिन का डिब्बा हवाई अड्डे के प्रांगण में अपने अंदर का सारा पदार्थ गिराते हुए लुढ़कना चला जा रहा था ।
” मेरा तम्बाकू ! ” मैं कांप उठा और भय से चीखा कि अब इंग्लैंड में उतने तम्बाकू के लिए मुझे कितना खर्च करना पड़ेगा और अब नया बजट बनाना पड़ेगा और तभी मेरी चीख बदल गयी, ” मेरी ऊँगली।” और मैंने पाया  कि चेन से मैंने अपनी ऊँगली काट ली थी और उससे काफी खून बह रहा था। भ्रमित और स्वयं की मदद कर पाने में असहाय , से मेरे रोंगटे खड़े हो गये।
बिल्कुल इसी समय मेरी पत्नी ने मुझे देखा — उसके चेहरे  पर क्रोध या गुस्से का भाव नहीं था, सिर्फ सामान्य आश्चर्य – और उसने कहा , मैं विश्वास नहीं कर पा रही कि तुम अपने जीविकोपार्जन के लिए यह सब करते हो ।”
लेकिन मुझे भय है कि मेरे साथ तो ऐसा ही है। एक बार हवाई जहाज पर मैं अपने जूते के फीते बाँधने के लिए झुका था कि तभी सामने
वाली सीट पर के किसी यात्री ने पूरा आराम पाने के लिए अपनी सीट बिल्कुल पीछे को झुका दी और मैंने अपने को बिल्कुल चँपाए हुए की- सी स्थिति में पाया। किसी प्रकार से सामने बैठे व्यक्ति के पंजों को पकड़कर मैंने स्वयं को मुक्त करने में सफलता पाई।

On another occasion……………that long without eating

Words meaning : occasion =  अवसर।  Knocked = गिरा दिया। Attendant= सेविका । Instantly=एकदम से। Violently= प्रबलता। Prop= आधार, सहारा। Expect= आशा। Drenched = भींगो देना। Uttered = धीरे से कहा। Oath= कसम। Certainly= निश्चय ही। Nun= भिक्षुणी। Worst=  सबसे खराब ।
Experience = अनुभव। Sucking=  चूसना । Thoughtfully = सावधानी से। Scattering=  बिखेरते हुए। Stricking= विचित्र। Several =  बहुत। Trust= विश्वास करना। Delivered = परोसा जाता है। Lids= ढ़क्कन। Causing =  कारण बनता है। Mischief= सूचित करता है। Entitled=  अधिकार होना। Venerable=  आदरणीय। Relationship= सम्बन्ध। Really=  वास्तव में। That long = उतरा दूर ।



वाक्यार्थ — एक दूसरे अवसर पर, अपने पास बैठी एक प्यारी छोटी महिला पर मैंने अपना पेय पदार्थ गिरा दिया। मैं आज तक नहीं जान पाया कि मैंने ऐसा कैसे किया। मुझे सिर्फ इतना याद है कि 1950 के दशक में बनी ‘ द अनडेड लिम्ब ‘ फिल्म के ‘ हाथ’ की तरह मेरे हाथ में भी डिरिंक आती थी और किसी प्रबल शक्ति के वश में आकर मेरे बाजू भी डिंक को उस महिला की गोद में गिरा देता था और मैं असहाय – सा देखता रह जाता था।
वह औरत हतप्रभ होकर मुझे देखती रही और यही तो आप आशा कर सकते हैं जब आप किसी को बार-बार भिंगो रहे हों, वह साथ ही ” ओह ” से शुरू करके ” के लिए ” पर खत्म होने वाली ऐसी कसम खा रही थी और उसने बीच में ऐसे- ऐसे शब्द उच्चरित किए जो आम तौर पर सरेआम , लोगों के सामने , मैंने कभी किसी नन …… ईसाई के मुख से नहीं सुना था।
किंतु, यह किसी वायुयान- यात्रा का मेरा सबसे बुरा अनुभव नहीं था। मेरा सबसे खराब अनुभव था जब जबकि मैं अपनी नोटबुक में विचारपूर्ण बातें लिख रहा था — ( ‘ मोजे खरीदो’, को सावधानी से पकड़ में रखो’ आदि) विचारपूर्ण मुद्रा में कलम का आखिरी सिरा चूसता जा रहा था , जैसा कभी- कभी आप भी करतें हैं और साथ – साथ मैं अगली सीट पर बैठी एक आकर्षक युवा स्त्री के साथ बातें भी करता था रहा था। 20 मिनट तक मैं उसे शिष्ट चुटकुले सुनाता रहा, उसका मनोरंजन करता रहा, तब शौचालय गया जहाँ मैंने पाया कि मेरी कलम ने लींक करके मेरा मुँह ठुड्डी , जीभ और मसूड़ों को रगड़ने से भी मिट न पाने वाले वाले नेवी ब्लू रंग में रंग दिया है जो कई दिनों तक वैसे ही बने रहे।
शांत – विनीत होने के लिए मैं कितना पीड़ा सहता हूँ, मुझे विश्वास है कि आप समझ सकते होंगे । मैं पसंद करूँगा , सिर्फ एक बार अपने जीवन में, कि मैं खाने की मेज से जब उठूँ तो कोई भूकंप ने आए, कार में बैठूंँ तो दरवाजा बंद करते हुए अपने कोट के कम – से-कम 14 इंच के हिस्से को बाहर न फँसा छोड़ दूँ, जब हल्के रंग के पैंट तो दिन के अंत होने पर यह न पाऊँ । पर ऐसा कभी होना नहीं था।
अब , हवाई जहाज पर जहाज पर जब खाना परोसा जाता है, तो मेरी पत्नी कहती है” डैडी की खातिर खाने का ढक्कन हटा दो” डैडी अब मांस कांटेंगे निश्चत और पर यह तभी होता है जब मैं अपने परिवार के साथ हवाई यात्रा पर होता हूँ।  मैं बहुत- बहुत शांत बैठता हूँ, कभी – कभी तो अपने हाथों पर ताकि वे अचानक से उड़े नहीं और कोई तरल- सी शरारत नहीं करें । यह आनंददायक तो नहीं होता, पर इससे धुलाई का बिल जरूर छोटा हो जाता है।
लंबी दूरी की सफर में मिलने वाली रियायत का मैं कभी उपभोग नहीं कर पाया । कार्ड ही मुझे समय पर नहीं मिलता। यह मेरे लिए एक सत्य में निराशा- हताशा वाली बात है। मुझे कभी भी कोई छूट नहीं मिली । मुझे 100,000 मील प्रति साल के हिसाब से हवाई यात्रा करनी चाहिए, लेकिन मैं मात्र 212 मील ही हवाई यात्रा कर पाता हूँ वह भी 23 एयरलाइंस में अलग – अलग ।
ऐसा इसलिए क्योंकि या तो मैं चेक – इन करवाते समय हवाई दूरी पूछना भछल जाता हूँ, या मैं पूछता हूँ तो, तब उनके पास सही रिकॉर्ड नहीं होता , या फिर जाँच करने वाला क्लर्क मुझे सूचित करता कि ऐसी सुविधा का मैं अधिकारी नहीं हूँ। जिसमें मुझे जिलियन मील की हवाई यात्रा मिलनी थी – क्लर्क ने अपना सिर हिला दिया जब मैंने उसे अपना कार्ड दिया और उसने मुझसे कहा कि इस सुविधा के लिए मैं अधिकारी नहीं था ।
” क्यों ? मैंने सवाल किया।
” टिकट वी. ब्राययसन के नाम से है जबकि कार्ड डब्ल्यू. ब्रायसन के नाम से है। ”
मैंने उसे बिल और विलयन के बीच का नजदीकी और आदरणीय सम्बन्ध समझाया लेकिन वह नहीं मानी । इसलिए मुझे रियायत का कुछ भी हवाई मील नहीं मिला और मैं तुरंत अभी वाली यात्रा के लिए फस्ट क्लास में हवाई यात्रा नहीं कर पाऊँगा।  संभवतः ऐसा होना ठीक भी है। मैं कभी भी उतनी दूरी बिना कुछ खाए हुए नहीं बिता सकता ।

EXERCISES
A. Let’s Answer :
Q.1. Have you ever travelled by a train or plane? Do you remember any interesting incident that occurred during your journey ?
Ans. I haven’t yet travelled by a plane. But by a train I have travelled several times. I do remember an interesting incident in a train journey. There was tremendous rush in the compartment. I was going to the toilet. Very soon I cursed a person’s toe. I asked pardon and with a feeling of shame and in utmost hurry I want on moving onwards. And my goodness! The much I cered, the more I wobbled and I don’t know have many legs I had crushed. I was so much confused that got nearly blind, only gasping my way to the toilet. I can never forget that incident in my life.
Q.2. Why does the writer say that he is easily confused ? Give evidence in support of your answer.
Ans. At many times the writer say that hard to do things in a cool manner and so in a hurry creates nuisance. So he says that he is easily confused. Some evidences in support of my answer are—
(i) The writer says in the beginning— ” I can’t tell you the number of times that I have gone looking for the lavotory in a cinema, for instance, and ended up standing in an alley on the wrong side of a self looking door.
(ii) The writer Futher says — ” My particular speciality now is returning to hotel desk two or three times a day and asking what my room rumber is.
Q.3. Describe the incident that exasperated the narrator at the Logan Airport in Boston.
Ans. At the Logan Airport in Boston, when the narrator was checking in, he suddenly remembered that he had put the card in the carry- on – bag that was hanging around his neck. Here he got exasperated.The zip on the bag was jammed, so he pulled it forcely and the zip suddenly opened. And with it the Side of the bad flew open and everything in it— spreaded down over an area  about the size of a tennis court.



B. Let’s  Discuss
Q. Travel light is a golden rule to make your journey pleasurable.
Ans . Yes, I do agree with the statement. In journey we should always carry light load. If too much things are carried along with then it spoils the light and pleasurableood which ought to be gained by the journey. Our most of the attention gets concerned with the heavy load. How to carry it? How to protect it ? And other problems also get on coming in the way. Too much things covers too much place too. Ultimately worrying ourselves so well as worrying others nearby. So, to travel light is a golden rule to make owr journeys pleasurable.
C. Let’s Do
a. Do a project work on the modes of transportation.
( Hint: It is a project work. )

Leave a Comment

error: Content is protected !!