8-science

class 8th science notes | धातु एवं अधातु

image

class 8th science notes | धातु एवं अधातु

अध्ययन सामग्री-वर्तमान में 114 तत्व ज्ञात है। इन तत्वों को धातु, अधातु एवं उपधातु
तत्वों में वर्गीकृत किया गया है। तत्वों को उनके गुणों के आधार पर वर्गीकरण करने की पहल
फ्रांसीसी रसायनज्ञ लेवोजियर ने की थी। उन्होंने तत्वों के कुछ विशेष अभिलक्षणों, जैसे-
आघातवर्ध्यता, तन्यता, तापीय एवं विद्युतीय चालकता, चमक आदि के आधार पर उन्हें धातुओं
एवं अधातुओं की श्रेणी में बाँटा । जिन तत्वों में उपर्युक्त गुण पाए गए उन्हें धातु तत्व तथा जिनमें
ये गुण नहीं पाए गए उन्हें अधातु तत्व कहा गया।
धातु―लोहा, जस्ता, ताँबा, एल्युमिनियम, सोना, चाँदी आदि ।
अधातु―ऑक्सीजन, सल्फर, फॉस्फोरस आदि ।
उपधातु―आर्सेनिक, एंटीमनी, जर्मेनियम, टेल्युरियम आदि तत्वों में धातुओं और अधातुओं,
दोनों के कुछ-कुछ गुण पाए जाते हैं। इन कारण इन तत्वों को उपधातु कहा जाता है।
धातुओं एवं अधातुओं के भौतिक गुण―
धातुओं एवं अधातुओं के रासायनिक गुण-
घातुओं के उपयोग―लोहा—मशीन, वस्तुएँ, कृषियंत्र इत्यादि ।
एल्युमिनियम–बर्तन बनाने, वायुयान, बिजली के तार, विद्युत संयंत्र इत्यादि ।
सोना-चांँदी―आभूषण, कम्प्यूटर परिपथ इत्यादि । टिन तथा लेड-फ्यूज तार ।
अधातुओं के उपयोग―
नाइट्रोजन, पोटैशियम, फॉस्फोरस ― उर्वरक के निर्माण।
फॉस्फोरस                                ― माचिस में।
आयोडीन                                 ― ऐन्टिसेप्टिक के रूप में।
सल्फर                                     ― पटाखों में।
ऑक्सीजन                               ― श्वसन में।
ग्रेफाइट                                    ― बैटरी तथा पेंसिल में।
                                           अभ्यास
1. सही विकल्प पर (√) सही का निशान लगाइए-
(i) निम्नलिखित में से किसको पिघलाकर नया रूप दिया जा सकता है ?
(क) लोहा
(ख) फॉस्फोरस
(ग) सल्फर
(घ) हाइड्रोजन
(ii) निम्नलिखित में से किसको पीटकर चादरों में परिवर्तित किया जा सकता है ?
(क) जिंक
(ख) फॉस्फोरस
(ग) ऑक्सीजन
(घ) सल्फर
(iii) निम्नलिखित में किसको पतले तार में परिवर्तित कर सकते हैं?
(क) सल्फर
(ख) सोना
(ग) फॉस्फोरस
(घ) कार्बन
(iv) निम्नलिखित में कौन-सी धातु मानव रक्त में पायी जाती है-
(क) लोहा
(ख) सोना
(ग) ताँबा
(घ) चाँदी
(v) निम्नलिखित में से किसको पिघलाकर नया रूप दिया जा सकता है ?
(क) लोहा
(ख) फॉस्फोरस
(ग) सल्फर
(घ) हाइड्रोजन
उत्तर-(i) (क), (ii) (क), (iii) (ख), (iv) (क), (v) (क)।
2. रिक्त स्थानों की पूर्ति करें-
(क) सबसे पुराना धातु ………है।
(ख) ………..की पतली पर्णिकाओं का उपयोग चॉकलेट के लपेटने में होता है।
(ग) सभी ………… तन्य होती है।
(घ)………….एक द्रव धातु है।
(च)…………एक अधातु है परन्तु विद्युत का सुचालक है।
उत्तर-(क) ताँबा, (ख) चाँदी/एल्युमिनियम, (ग) धातु, (घ) पारा, (च) ग्रेफाइट ।
3. यदि कथन सही है तो ‘T’ और यदि गलत है तो कोष्ठक में ‘F’ लिखिए।
(क) सामान्यतया अधातु अम्लों से अभिक्रिया करते हैं।                       (F)
(ख) सोडियम बहुत अभिक्रियाशील धातु है।                                     (T)
(ग) कॉपर, जिंक सल्फेट के विलयन से जिंक विस्थापित करता है।        (F)
(घ) लकड़ी ऊष्मा का सुचालक है।                                                   (F)
(च) कोयले को खींचकर तार प्राप्त किया जा सकता है।                       (F)
4. नीचे दी गई तालिका में गुणों की सूची दी गई है। इन गुणों के आधार पर धातुओं और
अधातुओं में अन्तर कीजिए।
उत्तर-
क्र. सं.                  गुण                     धातु                 अधातु
1.                     चमक                      √                       ×
2.                     तन्यता                     √                       ×
3.                 आघातवर्ध्यता               √                       ×
4.                 कठोरता                       √                       ×
5.                उष्मा-चालकता               √                       ×
6.                विद्युत चालकता              √                       ×
5. निम्नलिखित के लिए कारण दीजिए-
(क) कॉपर, जिंक के उसके लवण के विलयन से विस्थापित नहीं कर सकता।
उत्तर-कॉपर, जिंक को उसके लवण यानि जिंक सल्फेट के विलयन से विस्थापित नहीं कर
सकता क्योंकि जिंक, कॉपर से अधिक अभिक्रियाशील है। एक अधिक अभिक्रियाशील धातु, कम अभिक्रियाशील धातु को विस्थापित कर सकता है। परन्तु कम अभिक्रियाशील धातु, अधिक
अभिक्रियाशील धातु को प्रतिस्थापित नहीं कर सकता है।
(ख) फॉस्फोरस को पानी में रखते हैं, जबकि सोडियम और पोटैशियम को मिट्टी
के तेल में रखा जाता है।
उत्तर-फॉस्फोरस को पानी में रखते हैं जिससे यह हवा से अभिक्रिया नहीं कर पाए क्योंकि
यह हवा से अभिक्रिया करता है और आग पकड़ लेता है। जबकि सोडियम और पोटैशियम जल
के साथ आसानी से अभिक्रिया करते हैं। यही कारण है कि इसे मिट्टी के तेल रखा जाता
है। यह मिट्टी के तेल से अभिक्रिया नहीं कर पाते हैं।
(ग) नींबू के आचार को एल्युमिनियम पात्रों में नहीं रखते हैं।
उत्तर-नींबू के आचार में अम्ल होता है उसको धातु के बने पात्र यानि एल्युमिनियम पात्र
में नहीं रखा जाता है क्योंकि ये धातु उन अम्लों से अभिक्रिया कर हानिकारक पदार्थ लवण और
हाइड्रोजन गैस बनाते हैं। इस प्रकार खाद्य पदार्थ खाने लायक नहीं रह जाते हैं।
6. नीचे दिए गए कॉलमों का मिलान कीजिए-
क्र. सं.                    कॉलम-I                कॉलम-II
1.                          सोना                     थर्मामीटर
2.                          आयरन                  बिजली के तार
3.                          एल्युमिनियम         खाद्य सामग्री लपेटना
4.                           कार्बन                  आभूषण
5.                            ताँबा                    मशीनें
6.                              पारा                     ईंधन
उत्तर-
कॉलम-1                         कॉलम-11
सोना                 ―             आभूषण
आयरन              ―             मशीनें
एल्युमिनियम       ―             खाद्य सामग्री लपेटना
कार्बन                 ―             इंधन
तांँबा                   ―             बिजली के तार
पारा                    ―             थर्मामीटर
7. क्या होता है जब…………..
(क) मैग्नेशियम रिबन के दहन के फलस्वरूप प्राप्त राख को जल में घोला जाता
है और इसमें लाल लिटमस पत्र काला हो जाता है।
उत्तर-मैग्नीशियम रिबन के दहन के फलस्वरूप प्राप्त राख को जल में घोला जाता है और
इसमें लाल लिटमस पत्र काला-नीला हो जाता है जो कि क्षारीय होने का सूचक है। यानि उसके
राख को पानी में मिलाने के बाद घोल क्षारीय गुण के हो जाते हैं। क्षार का गुण है कि लाल
लिटमस पत्र को काला या नीला कर देता है।
मैग्नेशियम + ऑक्सीजन – मैग्नेशियम ऑक्साइड (उजला पाउडर)
मैग्नीशियम ऑक्साइड + जल ― मैग्नेशियम हाइड्रोक्साइड (विलयन)
(ख) बंद शीशी में जलते चारकोल को डालकर पानी डाला जाए और नीला लिटमस
पत्र डाला जाता है। (शब्द समीकरण लिखिए)।
उत्तर-चारकोल + ऑक्सीजन → कार्बन डाइऑक्साइड (हवा से)
कार्बन डाइऑक्साइड + जल→ कार्बोनिक अम्ल ।
नीला लिटमस को लाल कर हो जाता है। क्योंकि अधातु के ऑक्साइड अम्लीय होते हैं।
8. गोलू ने एक बोतल में सोडियम हाइड्रॉक्साइड का विलयन बनाया और इसमें लोहे की
कुछ पीन डाली। एक जलती हुई माचिस की तीली शीशी के मुंह पर रखा तो पॉप
ध्वनि के साथ माचिस की तीली भभककर जलने लगी। बताइए, कौन सी गैस निकली?
उत्तर-सोडियम हाइड्रॉक्साइड के विलयन में लोहे का पिन डाला गया। फिर माचिस की
तीली शीशी के मुंँह पर रखा तो पॉप ध्वनि के साथ माचिस की तीली भभककर जलने लगी।
पॉप ध्वनि हाइड्रोजन गैस की उपस्थिति को दर्शाता है।
                                                ◆◆◆

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!