10th sanskrit

bihar board 10th class english book – THE LAST LEAF

THE  LAST  LEAF

image

bihar board 10th class english book

class – 10

subject – english

lesson 2 – THE  LAST  LEAF

THE  LAST  LEAF
Summary In English : The writer has started by drawing a picture through his writing of a place situated west of Washington Square. The writer says in this small district the street are crazy and run in a zig – zag way making strange angles and curves.
An artist once passed through these streets and his eyes discovered that these streets can made beautiful subject for an artist. At lest these can add to their imagination to drew some pictures and do some paintings.
Soon this place turned into an attractive destination for the artist and they started looking for suitable accommodation there to make their studio. They wanted to give their studies a look of eighteen country collectors gallery with some old artefacts. Slowly and silently the whole area turned into a colony. They hired a three story house and opened their studio. One was from Maine and the other was from California. They met in a hotel and found to their similarly of tastes in the field of art and thus the joint studio resulted. That was the month of xay.
It was cold of November, when a stranger was seen moving in the colony. He used to stared in the colony and used to touch the figures with his icy fingers. He loved walking in the zig – zig path of the narrow moss grown places slowly.
Sue get annoyed on this question and said : ” Is a man work for her ? No doctor, there is nothing of this kind. The doctor replied.” Well , it is the weakness, then ” I will try my best to cure her through medicine but the carative power of the medicine diminishes in such mental condition when the patient starts thinking that he is going to die Shortly.
After the doctor had gone , she want to her work to her work room with her drawing board. Johnsy’s face towards the window and there was misdirection to show that she had taken any turn on her bed because the bed clothes had no ripping. She thought Johnsy was asleep. She arranged her board and started doing the drawing in pen and ink. This was an illustration for a magazine story which she was supposed to hand over.
While she got herself busy, she heard feeble sound which was repeated serval times. She wants to the bed side of Johnsy. Johnsy’s eyes were open and she was looking out of windows and at the same time, counting. She uttered ‘twelve’ and a little later ‘ eleven’ and then ‘ ten ‘ and ‘ nine and followed with ‘ eight ‘ and seven.
She looked outside to find out if there was soul thing out of window. There was only a bare dreary yard to be seen. An old ivy vine which was climbing the brick house, almost twenty feet away from Sue’s wall.
Sue asked ” What is it dear ?” She said Johnsy. They are falling faster now. There days ago, there were almost a hundred. It was defficult to count them at that time. But now it is easy. There goes another. There are only five left now. What five, dear ? Tell your Susie.
” Leaves on the ivy vine. When the last one will fall. I will go too. Did the doctor not tell you, that ?
Oh, I never heard of such nonsense , said Sue what these ivy leaves are supposed to do
With your getting wall ? Ans you used to love that vine so much.
I want to see the last fall before it gets dark. Then I’ all go too.”
‘ Juhnsy dear said Sue bending over her, well you promise me to keep your eyes closed and not look out of the window untill. I have to hand over those drawings tomorrow. I need the light to work on it.
Johnsy told her to go to another room to finish her work. I would like to be here only said Sue and besides I do not want you looking out of the window all the time. I do not want you to keep looking at those silly ivy leaves.
‘ Johnsy abided by the dictates of Sue. She closed her eyes and lay on the bed as a still fallen statur. But you tell me as soon as you have finished the work because I want to see the last one leaf fall. I am tired of waiting now and I am tired too of thinking. I want to go just like those poor tired leaves.
Try to sleep, said Sue. Now I must call Berman up. You should not move till I come.
Old Behrman was also a painted who lived on the ground floor beneath them. He was past Sixty and had a Michel Angelo like curly beard on his face. Behrman could never make a name in the field of art. Those artistes were unable to pay the price of a professional model. He used to drink Gin excessively and then would talk about his coming ‘ Master piece’ work.
Sue found Behrman smalling strongly. His room was dimly lighted and in one corner there was a blank convass on an easel which has not received a single brush of painting of his would be would be master piece work. She told Behrman the mental condition of Johnsy and the fear in her heart that she would die with the drop of the last leaf on the vine belly.
Sue told Behrman that she is very ill and weak and perhaps the fever has left her mind with morbid thoughts.
Johnsy was sleeping when they went upstairs. She pulled the shade down to the window and took Behrman into the other room. They peered out of the window fearfully at the ivy vine. Then looked at each other for a moment without speaking a word.
The writer is silent at this point but further situation gives an indication that as night had fallen and cold rain mingled with snow was lashing at the window panes, sue went for sleep.
‘ Dear, dear’ said sue leaving on her worn face down to the fellow. ,” Think of me, if you won’t think of yourself. What would I do ? ” Johnsy did not give any answer. The inner most thing in the worlds your soul and when it is making ready to go to its mysterious journey, the fies that bound the friendship are loosened.
The day passed away and even in the lone ivy leaf was seen clinging to the stem against the wall . Then again at night wind with rain tossed the windows and patterned down the low Dutch leaves.
When it was light enough, Johnsy commanded that the shale be raised. The Ivy leaf was still there. And then she called she who was stirring her children broth in the Kitchen.
An hour later she said. Some day, I hope to paint the Day in Neples.
The doctor came in the evening. ‘ The chances are now even with good nursing. You will win ” And now I have to go to see mother case down stairs. Behrman is his name. He is some kind of artist. I believe the doctor said. He is an old weakman and has an attack of Pneumonia.
There is no hope for him. We have to sand him to Hospital for more care.
The next day the doctor declared Johnsy out of danger. That afternoo , Sue came to her bed and found her kinffing shoulder scarf from unless wool.
Sue told Johnsy. I want to tell you something. Mr. Behrman died of Pneumonic today in hospital. He was ill only for two days. The caretaker found him in the morning with his shoes on. They could not imagine were he had been o. That dereadful night.
They found a lantern and eldder that has been dragged out from its place, some bruches and a palette with green and yellow point mixed. Don’t you wonder dear why it never fluttered or moved even  when the wind flew? A masterpiece he painted it there on the wall the night the last leaf fell.

पाठ  का  सारांश
‘ द लाॅस्ट लीफ ‘ या ‘ अंतिम पत्ता ‘ किसी विदेशी भाषा में से ली गयी है एक मार्मिक कहानी है ।इस कहानी के मुख्य चार पात्र हैं—’ सू ‘ और ‘जॉन्सी’ नाम की दो महिला मित्र । दोनों चित्रकार हैं और पेंटिंग इनकी आजीविका का साधन भी है । ये दोनों अचानक एक होटल में मिले थे और यह मुलाकात मित्रता में बदल गयी थी ।
वाशिंगटन  के पश्चिमी भाग में एक आकर्षक छोटी सी जगह है जो प्राकृतिक सुषमा के कारण चित्रकारों एवं पेंटरों को अपनी और आकर्षित करती रही है ।उसके टेढ़े-मेढ़े रास्ते, थोड़ा आगे चलकर एक -दूसरे को काटते हैं और उससे बने कोण त्रिकोण, चित्रकारों को अपनी पेंटिंग के लिए पृष्ठभूमि का निर्माण करते हैं ।
‘ सूँ ‘और जॉन्सी ने इसी कॉलोनी के एक तिमंजिले मकान को किराये पर लिया और उसके एक भाग में अपने स्टूडियो की स्थापना की ।यह मई का महीना था । धीरे-धीरे दिन बिता और नवंबर के आते ही तेज ,ठंडी हवा चलने लगी। पैडों के पत्ते झड़ने लगे। उन झड़ते पत्तों को देखकर ‘जाॅन्सी’  का कलेजा काँपने लगा। उसके मन में एक भय का वातावरण निर्मित हो गया ।उसे लगता कि इस इन गिरते पत्तों की तरह ही उसका जीवन समाप्त हो जाएगा।
जाॅन्सी अपने बेड पर लेटी खिड़की के बाहर एकटक निहारती रहती वह सामने की अट्टालिका के खाली भाग की ओर देखती। वह अपने बिस्तर से तनिक भी नहीं डिगती और उसकी निगाहें खिड़की के पार केंद्रित रहती। उसके इस प्रकार देखने के रहस्य पर से पर्दा कुछ दिनों के बाद अचानक उठा। इस बीच जॉनसी कि इस मानसिक अवस्था को देखकर सूँ ने  डॉक्टर को बुलाया बुलावा भेजा। डॉक्टर ने अच्छी तरह जाॅन्सी की जांच की और थर्मामीटर के पारे को झाड़ते हुए कहा कि मामला गंभीर है। जाॅन्सी  का रंग भयंकर है। ऐसे रोगी ,दस में मात्र एक बचाये जा सकते हैं। डॉक्टर ने कहा कि इसके मन को कोई आघात पहुँचा है जो इसके मस्तिष्क को प्रभावित कर रहा है । सू  ने बताया कि जितना वह जानती है जॉन्सी द  बे आॅफ नेपल्स को पेंट करने की आकांक्षा रहती है ।डॉक्टर ने पूछा वह क्या किसी से प्यार करती है जो उसकी कल्पना से मैं आता रहता है।
इस प्रश्न को सुनकर सू नाराज हो जाती है और कहती है कि क्या कोई व्यक्ति उसके लायक है?’  नहीं ऐसा कोई व्यक्ति नहीं है। इसका अर्थ यह हुआ कि यह उसकी दिमागी कमजोरी है। डॉक्टर ने कहा ।मैं तो दवा शुरू कर दूंगा जिस जोगी के मस्तिष्क में इस तरह की बातें बैठ जाती है उस पर दवा का असर भी कम ही होता है ।इसके बाद डाॅक्टर चला गया। इसके बाद सू  कमरे में जाती है और अपनी अपनी सामग्री लेकर पुनः जाॅन्सी के कमरे में वापस आती है ।
जॉन्सी अपने बिस्तर पर मूर्ति बनी थी और उसका चेहरा ने अपना काम शुरू कर दिया और अपनी पेंटिंग बनाने में व्यस्त हो गयु। इस बीच उसने जॉन्सी के मुख से आती एक धीमी आवाज सुनी ।अपने शब्दों में दोहरा रही थी। जाॅन्सी की आँखें खुली थी। वह सदा की तरह बाहर निहार रही थी और धीरे-धीरे का रहे थी। बाहर ग्यारह, दस नौ और फिर आठ और सात ।सू ने बाहर  झाँक कि क्या वहाँ बाहर में कोई ऐसी चीज है जो जोशी के आकर्षण का कारण बनी है। बाहर में मात्र अंगूर का एक सूरग बेल अगले मकान की छत से लटक रहा था।
सू ने  जाॅन्सी से पूछा कि यह तुम क्या कह रही हो ? जॉन्सी उत्तर दिया— अब मैं ज्यादा तेजी से गिर रहे हैं। तीन  दिन पहले तक इस डाल पर सैकड़ों पत्र थे उ।न्हें गिनना संभव नहीं था ।अब तो यह काम एकदम आसान हो गया है । फिर एक पत्ता गिर गया अब तो पाँच पत्ते ही बचे हैं। सू ने प्यार से पूछा — यह पाँच क्या है मेरी प्यारी सू! उस अंगूर के बेल पर बचे  पाँच पत्ते जब अंतिम पत्ता गिर जाएगा मेरा जीवन समाप्त हो जाएगा । सू ने  नाराज होकर कहा—  ऐसा होता है क्या ? तुम्हारे स्वस्थ  होने से उन पत्तों का क्या संबंध है ? और फिर तुम तो उन दिनों को बहुत प्यार करती हो ।
जॉन्सी की आंखें उन पत्तों की और एकटक देखती रहती है और वह उठती है और वह एक और डाल से पत्ता बिछड़ गया और मैं इसके आखिरी पति को गिरने गिरता देखना चाहती हूं कहीं अंधेरा ना हो जाए और मैं देख ना पाऊं? सू ने जाॅन्सी से प्यार से कहा— तुम आंखें मूँदे पड़ी रहो और खिड़की के बाहर मत देखो। मुझे यह ड्राइंग कल की अखबार वालों को दे देना है। जॉन्सी ने उसे दूसरे कमरे में जाकर काम करने की सलाह दी। सू ने कहा मैं यही रहूँगी और इसी कमरे में काम करूँगी ताकि तुम बार-बार खिड़की के बाहर ना झांको। तुम अपनी आंखें बंद कर पड़ी रहो ।जाॅन्सी  ने कहा ठीक है पर जैसे ही तुम्हारा काम समाप्त हो मुझे बता देना ताकि मैं उस आखिरी पत्ते को गिरता देख सकूँ। मैं भी उस पत्ते को ही तरह जाना चाहती हूँ।
सू ने हार मानकर कहा कि तुम सो जाओ और अभी मैं नीचे से मि. बहरमान को बुलाकर लाती हूँ। बहरमान भी एक पेंटर है और उस मकान के निचले तले में रहते हैं ।उनकी उम्र साठ से ज्यादा होगी और उनके चेहरे पर माइकल एंजेलो की तरह घुंघराले दाढ़ी थी। बाहरमन पेंटिंग की दुनिया में ख्याति नहीं पा सके ।युग पेंटरों के लिए वे मॉडल का काम करते थे जिससे उन्हें कुछ आमदनी हो जाती थी। वे युवा कलाकार व्यवसायिक मॉडेल का सेवा लेने में असमर्थ थे क्योंकि ऐसा मॉडल के लिए उन्हें ऊंचे दाम देने पड़ते। बहरमन को जीन पीने का शौक था और वे लोगों से अपनी आने वाली मास्टर कीर्ति की चर्चा अवश्य करते थे । सू जब उनके कमरे में गई तो वहाँ शराब की दुर्गंध वातावरण में फैली थी । कमरे में अत्यंत रोशनी थी। एक किनारे में इजेल पर एक कनवाॅस टँगा था जो अब तक कोहरा था और जिस पर कलाकार की मास्टर पीस किटी का होने का इंतजार था ।
सू ने अपनी महिला मित्र की मानसिक अवस्था का बयान किया और कहा कि अंगूर की बेल के अंतिम पत्ते के गिरने के साथ ही कहीं जॉन सी की जीवन लीला समाप्त हो जाए?  बहरमन ने अपनी सुर्ख लाल आँखों को फैलाते हुए कहा — ऐसी बातें तो कभी सुनी नहीं गयीं। यह तो मात्र मूर्खता है। तूने कहा वह बहुत बीमार है ।कमजोर हो गई है और शायद इसी कारण उसकी मानसिक अवस्था ठीक नहीं है ।उसके मन में अप्रिय विचार आते रहते हैं ।
जब ये दोनों ऊपर पहुँचे जाॅन्सी  सो रही थी। सू ने खिड़की का पर्दा [आवरण ] गिरा दिया और बहरमन को दूसरे कमरे में ले गयी। इन दोनों ने डरते – डरते बाहर अंगूर के बेल की और देखा। दोनों ने आपस में कोई बात नहीं की। बहरमन अपने मकान में चला गया ।अगले दिन सू सुबह जग गयी जॉन्सी ने सू से कहा कि खिड़की पर लगा अआवयण हटा दें। वह बाहर देखना चाहती है। सु ने ऐसा ही किया ।पर वह आश्चर्यचकित रह गई कि कल रात की आँधी और वर्षा के बावजूद उस अंगूर की बेल का एक पत्ता यथावत अपनी जगह पर था ।जॉन्सी ने कहा यह आखिरी पत्ता हैं और आज रात को या अवश्य गिर जायेगा और वह मेरी जीवन का अंतिम क्षण होगा।
सू ने घबराकर जाॅन्सी को अपने चेहरे से ढँक लिया और कहा— तुम क्या कभी मेरे बारे में सोचती हो? मेरा क्या होगा ?जॉन्सी ने कोई उत्तर नहीं दिया ।लेखक कहता है— संसार में आदमी की सबसे आत्मीय चीज उसकी आत्मा होती है और जब वह आत्मा शरीर छोड़ने को तैयार होता है और एक सांस में यात्रा पर चलने को तैयार होता है तो संसार से जोड़ने वाले संबंध ढीले पड़ जाते हैं  ।
आया – गया दिन बीत गया और संध्या गिरने को आ गयी। संध्या के उस धुँधलके प्रकाश में भी वह अकेला वहाँ दीवाल के सहारे लटका दिखायी दिया । रात को पुनः जोर की हवा और खिड़की के शीशों पर वर्षा की बूँदे थपेड़ा।
सुबह हुयी और जॉन्सी ने खिड़की पर से पर्दा हटा देने का आदेश सू को दिया ।बेल पर आट का पत्ता जैसा था वैसा ही वहाँ लटका दिखाई दिया ।जॉन्सी की आँखें लगातार उसे  निहारती रहीं और फिर उसने सू को किचन से बुलाया । उसने प्रसन्न होकर कहा सूडी आज में  थोड़ा बियर लूँगा।  किसी आश्चर्यजनक घटना से प्रभावित हुआ वहाँ जैसा का तैसा वहाँ लटका रहा है ।मैं कितना पापी हूँ मरने की बात करना कितना बड़ा पाप है ।अब तुम मुझे गोरबा दे सकती हैं। मुझे दूध भी चाहिए और वह लाल शराब भी।
एक घंटे के बाद जॉनसी ने कहा कि —वह अति शीघ्र अपनी पेंटिंग पूरा कर लेगी ‘ द बे निपल्स ।’
शाम को डॉक्टर आया और उसने उसे देख कर कहा कि उसकी अब जीने के आसार अच्छे हैं । तुम्हारी सेवा काम आयेगी, सु और देखो मुझे नीचे भी एक मरीज को देखने जाना है । उसका नाम बहरमन है वह भी एक कलाकार है । वह कमजोर व्यक्ति है और उस पर निमोनिया का आक्रमण हुआ है। हमलोगों को उससे अच्छी देखभाल के लिए अस्पताल भेजना होगा । दूसरे दिन डॉक्टर ने जाॅन्सी को देख कर कहा— बहुत अच्छा अब वह खतरे से बिल्कुल बाहर है  । सू ने जाॅन्सी से कहा— मैं तुमको एक बात बताना चाहती हूँ  वह बूढा बहरमान आज अस्पताल में निमोनिया के आघात से मर मर गया। वह केवल दो  दिनों तक बीमार रहा ।उस दिन सुबह ‘केयर’ टेकर ने उसे जूता पहने पाया था  ।यह पता नहीं कि उस वर्षा की रात हुआ रात ,भर कहाँ था उसके घर में एक लालटेन तथा एक सीढ़ी  मिली जो अपनी जगह पर नहीं थी। उसे खींचकर कहीं ने जाया गया था ।एक प्लेट में कुछ पेंटिंग वाले रंग भी मिले हरे और पीले ।पेंटिंग वाले कुछ बरश भी पास में थे ।
जॉन्सी तुमने वह बेल का आखिरी पत्ता तो देखा । इतने झंझावतों  में भी वह अपनी जगह पर स्थित रहा । हवा के झोंकों से भी वह नहीं गिरा । ओ प्यारी !वह बहरमान की दुर्लभ कृति थी । उसकी सर्वश्रेष्ठ रचना। वह उस झंझावात वाली रात को पूरी रात उस दीवार पर पेंट करता रहा, जिस रात उस अंगूर की बेल का अंतिम पत्थर गिर गया था और वर्षा में भींगकर उसने निमोनिया को आमंत्रित किया और फिर अस्पताल में उसकी मृत्यु हो गयी।

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!