Health

Protein | प्रोटीन

प्रोटीन के कार्य, प्रकार, फायदे, स्रोत | प्रोटीन क्या है

image

Protein: सर्वप्रथम जे. बर्जेलियस ने “प्रोटीन (Protein)” शब्द का प्रयोग किया था. मानव शरीर में उर्जा का उत्पादन और मरम्मत जेसे कार्यो में वै उपयोगी होते है. प्रोटीन एक जटिल कार्बनिक कंपाउंड है, जो 20 प्रकार के अमीनों एसिड से बने होते है. प्रोटीन का गठन कार्बन, हाइड्रोजन, ऑक्सीजन एवं नाइट्रोजन तत्वों के अणुओं से मिलकर होता है. ह्यूमन बॉडी का लगभग 15% भाग प्रोटीन (Protein) से ही बना होता है.

मनुष्य शरीर के लिए जरुरी 20 प्रकार के प्रोटीन में से 10 प्रकार के प्रोटीन (Protein) शरीर खुद बनाता है. और बाकि के 10 प्रकार के प्रोटीन हमे भोजन के द्वारा प्राप्त होते है.

मनुष्य शरीर में प्रोटीन का कार्य (Protein Work in Human Body)

प्रोटीन हमारे शरीर और शरीर की कार्यप्रणाली के लिए अत्यंत आवश्यक होते है. वै हमारे शरीर के कोशिकाओ, त्वचा, रक्त, मांसपेशियों तथा हड्डियों की कोशिकाओं एवं जरुरी रसायनों को बनाने की प्रक्रिया में आवश्यक होते है. शारीरक वृध्दि के लिए भी वै एक आवश्यक घटक है. प्रोटीन जैविक उत्प्रेरक और जैविक नियंत्रक के रूप में भी कार्य करते है. वह संवहन, आनुवंशिक लक्षणों के विकास एवं जरुरत पड़ने पर शरीर को उर्जा प्रदान करने का कार्य करते है. इसकी की कमी से शारीरक विकास में धीमापन या रूकावट आ सकती है. बच्चो को यदि प्रोटीन की कमी हो जाए तों उन्हें कई तरह की खतरनाक बीमारियाँ भी हो सकती है.

प्रोटीन के प्रकार (Types of Proteins)

प्रोटीन को सरल प्रोटीन, संयुक्त (संयुग्मी) प्रोटीन तथा व्युत्पन्न प्रोटीन नामक तीन श्रेणियों में बांटा गया है. सरल प्रोटीन: इस प्रकार के प्रोटीन केवल एमिनो एसिड से बने होते है. संयुग्मी प्रोटीन: इस प्रकार के प्रोटीन एमिनो एसिड और अन्य अणु समूहों से बने होते है. व्युत्पन्न प्रोटीन: एक प्रकार के प्रोटीन हैं जो सरल या संयुक्त प्रोटीन के विघटन से प्राप्त होते हैं.

प्रोटीन के स्रोत (Sources of Protein in Hindi)

शाकाहारी और मांसाहारी दोनों प्रकार के खानें में प्रोटीन पाए जाते है. शाकाहार में आटा, चना, मटर, मूंग, कच्ची सब्जियां, मसूर, उड़द, दूध, सोयाबीन, राजमा, लोभिया, दही, गेहूँ, मक्का आदि प्रोटीन के प्रमुख स्रोत है. मांसाहार में अंडा, मांस, मछली आदि प्रोटीन के अच्छे स्रोत है

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!