Biography

Pratibha Patil Biography in Hindi | प्रतिभा पाटिल जीवन परिचय

Pratibha Patil Biography in Hindi | प्रतिभा पाटिल जीवन परिचय

image

Pratibha Patil Biography in Hindi

आज हम बात करने जा रहे है श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल भारत की बारहवीं राष्ट्रपति  कि | वे  भारत की सर्वोच्च संवैधानिक कार्यालय में नियुक्त होने वाली पहली महिला है |उनका जन्म 19 दिसंबर, 1934 को महाराष्ट्र के जलगांव जिले के बोडवाडतालुका गांव नदगांव में हुआ था। उनके पिता नारायण राव एक स्थानीय राजनीतिज्ञ थे। उन्होंने आरएआर विद्यालय, जलगाँव से अपनी प्राथमिक शिक्षा पूरी की और सरकारी कानून कॉलेज, मुंबई से कानून में अपनी बैचलर की डिग्री प्राप्त की। उन्होंने मूलजी जेठा कॉलेज, जलगाँव से राजनीति विज्ञान और अर्थशास्त्र में अपने मास्टर किया।अपने कॉलेज के दिनों में, उन्होंने सक्रिय रूप से खेल में भाग लिया और टेबल टेनिस बहुत अच्छी तरह खेला। 1962 में, वह एम।जे। कॉलेज में ‘कॉलेज क्वीन’ थी। 7 जुलाई 1965 को, उन्होंने डॉ। देवसिंह रामसिंघ शेखावत से शादी की और इस जोड़े के दो बच्चे हैं, बेटे का नाम राजेंद्र सिंह और बेटी का नाम ज्योति राठौड़ था।
क्रमांक जीवन परिचय बिंदु  प्रतिभा पाटिल जीवन परिचय
1. पूरा नाम श्रीमती प्रतिभा देवीसिंह पाटिल
2. जन्म 19 दिसम्बर 1934
3. जन्म स्थान नदगांव, महाराष्ट्र
4. पिता नारायण राव पाटिल
5. पति देवसिंह रनसिंह शेखावत
6. बच्चे 1 बेटा – राजेन्द्र सिंह  1 बेटी – ज्योति राठोड़
7. राजनैतिक पार्टी कांग्रेस
राजनीतिक यात्रा 1962: में, उन्हें महाराष्ट्र के जलगांव निर्वाचन क्षेत्र से विधानसभा के सदस्य के रूप में चुना गया था।
1967-1985: में, मुक्ताईनगर (पूर्व में एलाबाद) के निर्वाचन क्षेत्र से लगातार चार वर्षों तक जीत दर्ज़ की।
1985-1990: में, वह राज्यसभा की संसद सदस्य बनीं।
1991: में, वह अमरावती निर्वाचन क्षेत्र से संसद सदस्य बनीं।
2004: में, उन्हें राजस्थान के 24 वें राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया था।

कैरियर:-

उन्होंने जलगांव जिला न्यायालय में एक वकील के रूप में अपना कैरियर शुरू किया। 27 साल की उम्र में, वह जलगांव विधानसभा क्षेत्र से महाराष्ट्र राज्य विधानसभा के लिए चुने गयीं। लगातार चार वर्षों के लिए, उन्हें एदलाबाद (मुक्ताई नगर) निर्वाचन क्षेत्र से विधायक के रूप में चुना गया। उन्होंने सरकार और साथ ही महाराष्ट्र विधान सभा में विभिन्न पदों पर काम किया।1967 से 1972 तक, उन्होंने शिक्षा के उप मंत्री के रूप में सेवा की और उन्होंने सार्वजनिक स्वास्थ्य से पर्यटन तक और कई संसदीय कार्यों के लिए कई अन्य मंत्रालयीय विभागों का आयोजन किया। श्रीमती प्रतिभा पाटिल ने महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता के रूप में काम किया। इसके अलावा, उन्होंने विशेषाधिकार समिति के अध्यक्ष और व्यापार सलाहकार समिति के सदस्य, राज्यसभा के सदस्य रूप में सेवा की।श्रीमती प्रतिभा पाटिल 8 नवम्बर 2004 को राजस्थान की राज्यपाल बनी। और जून 2007 तक स्थिति में बनी रहीं। 25 जुलाई 2007 को, उन्हें भारत के 12 वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ दिलाई गई। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी भैरों सिंह शेखावत को 300,000 मतों से हराकर राष्ट्रपति चुनाव जीता।राजनीति में उनकी उपलब्धियों के अलावा भी वह विभिन्न संगठनों से जुड़ी रहीं और 1982 से 1985 तक महाराष्ट्र राज्य जल प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की अध्यक्ष रहीं। 1988 से 1990 तक, उन्होंने महाराष्ट्र प्रदेश कांग्रेस समिति (पीसीसी) के अध्यक्ष के रूप में कार्य किया। शहरी सहकारी बैंकों और क्रेडिट सोसाइटी के राष्ट्रीय महासंघ के निर्देशक और उपाध्यक्ष होने के अलावा, श्रीमती प्रतिभा पाटिल भारत के राष्ट्रीय सहकारी संघ के शासी परिषद के सदस्य और 20-बिंदु कार्यक्रम कार्यान्वयन समिति, महाराष्ट्र सरकार के अध्यक्ष के रूप में भी काम किया।इसके अलावा, वह नैरोबी और प्यूर्टो रिको में सामाजिक कल्याण सम्मेलनों पर अंतर्राष्ट्रीय परिषद में भी शामिल हुईं। । 1985 में, श्रीमती पाटिल को एआईसीसी (I) के सदस्य के रूप में बुल्गारिया के प्रतिनिधिमंडल के रूप में नियुक्त किया गया था और 1988 में वह लंदन में राष्ट्रमंडल प्रेसिडिंग ऑफिसर्स कांफ्रेंस की सदस्य बनीं। उन्होंने भारतीय प्रतिनिधिमंडल में ‘महिला की स्थिति’ पर आयोजित सम्मेलन का नेतृत्व किया, जिसे ऑस्ट्रिया में आयोजित किया गया था और सितंबर 1995 में, उन्हें विश्व महिला सम्मेलन, बीजिंग, चीन में प्रतिनिधि के रूप में चुना गया था।

प्रतिभा पाटिल सामाजिक कार्य:-

राजनीती के अलावा श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी हमेशा सामाजिक कार्यो से भी जुड़ी रही. महिलाओं के कल्‍याण एवं ग्रामीण अर्थव्‍यवस्‍था के विकास के लिए श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी ने बहुत से कार्य किये. जलगांव जिले में महिला होम गार्ड की स्थापना की. निर्धन और जरूरतमंद महिलाओं के लिए सिलाई, संगीत एवं कंप्यूटर की कक्षायें भी खुलवाई. पिछड़े वर्गों, गरीब और अन्‍य पिछड़े वर्गों के बच्‍चों के लिए नर्सरी स्‍कूल की स्थापना भी श्रीमती  प्रतिभा पाटिल जी ने की. अमरावती में दृष्टिहीनों के लिए एक औद्योगिक प्रशिक्षण विद्यालय एवं किसानों को अच्छी फसल उगाने की वैज्ञानिक तकनीकें सिखाने के लिए ‘कृषि विज्ञान केंद्र’ की स्थापना की . मुंबई एवं दिल्ली  में घर से दूर रहने वाली कामकाजी लडकियों एवं महिलाओं के लिए हॉस्टल  खुलवाए.राष्ट्रपति बनने के बाद प्रतिभा जी ने महिला विकास के ओर विशेष ध्यान दिया, महिला व बाल विकास के लिए कई नियमों का उल्लेखन प्रतिभा जी ने करवाया. प्रतिभा जी राष्ट्रपति पद पर कार्यरत रहते हुए एक अच्छी सामाजिक कार्यकर्त्ता भी थी. वे समय समय पर बच्चों व महिलाओं से मिलकर उनकी समस्या सुनती थी, और उसके निदान के लिए तुरंत कदम उठती थी.एक महिला होते हुए भी श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी राष्ट्रपति पद तक पहुची और सफलतापूर्वक कार्य संभाला. उन्होंने इस बात को गलत साबित कर दिया की ओरतें सिर्फ घर संभाल सकती, मौका मिले तो वे देश भी बखूबी चला सकती है. प्रतिभा जी के राष्ट्रपति बनने के बाद देश की हर महिला उनसे विशेष उम्मीद लगाये बैठी थी, सबको उम्मीद थी कि प्रतिभा जी महिलाओं के लिए अच्छे कार्य करेंगी, इस बात को उन्होंने सच कर दिखाया और आज देश की हर महिला को प्रतिभा जी पर गर्व है. सभी के लिए श्रीमती प्रतिभा पाटिल जी एक प्रेरणा है.

विवाद • उनके भाई, जी एन पाटिल को वर्ष 2005 में विश्राम पाटिल की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। जिसके चलते विश्राम पाटिल की पत्नी ने कहा कि “प्रतिभा पाटिल आपराधिक जांच को प्रभावित कर रही हैं और जी.एन. पाटिल का बचाव करते हुए उसका समर्थन कर रहीं हैं, क्योंकि जी. एन पाटिल ने मेरे पति विश्राम पाटिल की हत्या की थी, जिन्होंने जलगांव जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चुनाव में जी.एन पाटिल को पराजित किया था”।
• वह विवादों में तब आईं, जब उन्होंने तथाकथित तौर पर पुणे में 260000 वर्ग फुट (24000 एम 2) सैन्य जमीन पर सेवानिवृत्ति हवेली का निर्माण करने के लिए सरकार के खर्च का इस्तेमाल किया था। वास्तव में, नियमों के अनुसार, पूर्व राष्ट्रपति दिल्ली में सरकारी आवास में एक घर ले सकते हैं या अपने घर जन्मस्थान पर वापस जा सकते हैं। उनके इस कार्य की घोर निंदा की गई।
• कार्यकर्ता सुभाष चंद्र अग्रवाल द्वारा सूचना के अधिकार (RTI) के अंतर्गत दायर याचिका से यह पता चला कि प्रतिभा पाटिल को 150 से ज्यादा उपरहार भेंट स्वरूप मिलें हैं। जिसे विदेशी गणमान्य व्यक्तियों द्वारा दिया गया है। प्रतिभा पाटिल उन उपहारों को अपने शर अमरावती ले गईं, जहां उनके परिवार द्वारा चलाए गए संग्रहारलय विद्या भारती शैक्षणिक मंडल में प्रदर्शित करना चाहती थीं। लेकिन नियमों के अनुसार उन उपहारों को राष्ट्रपति के आधिकारिक राजकोष में जमा किया जाना था, जो राष्ट्रपति को मिलें उपहारों एवं अन्य की सूची बनाए रखता है। अंत में जांच पड़ताल के दौरान, जून 2015 में राष्ट्रपति सचिवालय द्वारा विद्या भारती शैक्षणिक मंडल को सभी उपहार वापस किए जाने के लिए समन भेजा गया।
• सूत्रों के मुताबिक, प्रतिभा पाटिल ने इंदिरा गांधी को खाना पकाने के कौशल से काफी प्रभावित किया। जिसके चलते इंदिरा गांधी ने प्रतिभा पाटिल को अमरावती में चिट-फंड खोलने का लाइसेंस दे दिया था। जहां उनके परिवार द्वारा गरीब किसानों से सामाजिक सुरक्षा के नाम पर लाखों रुपयों का गबन किया गया था।

मुख्य कार्य:-

उन्होंने भारत की महिलाओं और बच्चों के कल्याण और समाज के उपेक्षित वर्गों के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उन्होंने उनकी प्रगति के लिए विभिन्न संस्थानों की स्थापना की।

उन्होंने मुंबई और दिल्ली में काम करने वाली महिलाओं के लिए हॉस्टल की स्थापना की, ग्रामीण युवाओं के लिए जलगांव में एक इंजीनियरिंग कॉलेज की स्थापना की। श्रम साधना ट्रस्ट जो कि महिलाओं की उन्नति के लिए कई कल्याणकारी गतिविधियों में शामिल है।

उन्होंने नेत्रहीन विकलांगों बच्चों के लिए जलगांव में एक औद्योगिक प्रशिक्षण स्कूल भी स्थापित किया है। विमुक्ता जातियों (नॉमैडीक जनजाति) और पिछड़े वर्ग के बच्चों के लिए स्कूल स्थापित किया। इसके अलावा, उन्होंने महाराष्ट्र अमरावती में एक कृषि विज्ञान केंद्र (किसान प्रशिक्षण केंद्र) खोल दिया है।

उन्होंने महिला विकास महामंडल की नींव में एक क्रांतिकारी भूमिका निभाई जिसमें महाराष्ट्र राज्य सरकार ने महिलाओं के विकास के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। उन्होंने अमरावती, महाराष्ट्र में गरीब और जरूरतमंद महिलाओं के लिए संगीत, कंप्यूटर और सिलाई कक्षाएं आयोजित करने में भी विशेष योगदान दिया।

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!