Biography

Lata Mangeshkar biography in hindi – लता मंगेशकर की जीवनी

Lata Mangeshkar biography hindi – लता मंगेशकर की जीवनी

image

Lata Mangeshkar biography in hindi

पूरी दुनिया की सबसे मशहूर और अनमोल गायिका लता मंगेशकर हैं  उन्हें स्वर कोकिला लता मंगेशकर के भी नाम से जाना जाता है |

लता मंगेशकर ने भारतीय हिंदी और अन्य भाषाओ में 30000 से भी अधिक गानों में अपनी आवाज दी हैं. लता जी की पहचान भारत में एक पार्श्वगायिका के रूप में रही हैं. लता जी की एक बहिन भी है जिनका नाम हैं आशा भोसलें ये भी गायिका हैं. लता जी का जन्म एक मराठा परिवार में हुआ.

लता जी के पिता उस समय रंगमंच के कलाकार थे, लता जब 7 साल की थीं तब उनका परिवार मुंबई आ गया और मुंबई में बस गए. लता जी चार भाई-बहिन हैं जिसमे तीन बहिन और एक भाई हैं. बहनें उषा मंगेशकर, मीना मंगेशकर, आशा भोसलें तथा एक भाई ह्रदयनाथ मंगेशकर हैं. लता और उनके बहिनों ने सिंगिंग को अपनी आजीवका समझा और इसी पर ध्यान दिया.

जन्म और परिवार (Birth and Family)

इनका जन्म मध्य प्रदेश में हुआ था लेकिन वो मुलत: महाराष्ट्रीयन ब्राह्मण परिवार से थी. वास्तव में उनके पिता दीनानाथ का संबंध गोआ के मंगेश नाम के स्थान से था इसलिए उन्होंने अपना आखिरी नाम अपने गृह नगर (होम टाउन) के नाम पर हरिदकर से हटाकर मंगेशकर कर लिया था. दीनानाथ भी क्लासिकल सिंगर और स्टेज एक्टर थे.

जन्मदिन (Birth date) 28 सितम्बर 1929
जन्मस्थान (Birth place) इंदौर,मध्य प्रदेश
पिता (Father) दीनानाथ मंगेशकर
माता (Mother) शेवंती मंगेशकर
बहिन (Sister) आशा भोंसले,उषा मंगेशकर,मीना मंगेशकर
भाई (Brother) हृदयनाथ मंगेशकर

लता मंगेशकर का करियर

मंगेशकर ने 1942 में अपना पहला गीत, “नाचू ये गाडे, खेलू सारी मणि हौस भारी” मराठी फिल्म, “कितनी हसाल” के लिए गाया।

हालांकि, गाने को फाइनल कट से हटा दिया गया था। उन्होंने नवयुग चित्रपट की मराठी फिल्म पीली मंगला-गौर में एक छोटी भूमिका निभाई, जिसमें उन्होंने “नटली चैत्राची नवालाई” के साथ गायन की शुरुआत की।

1943 में, उन्होंने अपना पहला हिंदी गीत “माता एक सपूत की दुइया बादल दे तू” मराठी फिल्म गजाभाऊ के लिए गाया।

वह 1945 में मुंबई चली गईं और उन्होंने उस्ताद अमानत अली खान से शास्त्रीय संगीत की शिक्षा लेनी शुरू कर दी।

लता, अपनी बहन आशा के साथ विनायक की पहली हिंदी फिल्म बादी माँ (1945) में छोटी भूमिकाएँ निभाईं। बादी माँ में, उन्होंने एक भजन भी गाया, “माता तेरे चरण में।”

अपने शुरुआती दिनों में, उन्होंने कई अस्वीकृति का सामना किया क्योंकि संगीतकार ने उनकी आवाज़ को “बहुत पतली” पाया, जिस पर गुलाम हैदर ने जवाब दिया, “आने वाले वर्षों में निर्माता और निर्देशक” लता के चरणों में गिरेंगे “और” उनसे भीख माँगेंगे “अपनी फिल्मों में गाने के लिए। । ”

बाद में यह ग़ुलाम हैदर के मार्गदर्शन में हुआ कि मंगेशकर को उनकी सफलता under दिल मेरा तोड़ा, मुझसे कुछ ना छोरा ’फ़िल्म मज़बूर (1948) से मिली। उस क्षण उसने हैदर को अपना गॉडफादर घोषित कर दिया।

फिल्म आंचल में अभिनेत्री मधुबाला द्वारा प्रस्तुत An आयेंगे अनवाला ’गाने के बाद मंगेशकर को बहुत लोकप्रियता मिली।

Lata Mangeshkar biography hindi

यह उनके जीवन का महत्वपूर्ण मोड़ था क्योंकि उन्हें उस समय के सभी प्रमुख संगीत निर्देशकों से काम मिलना शुरू हुआ।

उन्होंने एस। डी। बर्मन, सलिल चौधरी, नौशाद, शंकर जयकिशन, मदन मोहन, कल्याणकी-आनंदजी, खय्याम और पंडित अमरनाथ हुस्नलाल भगत राम जैसे निर्देशकों के लिए पार्श्व गायन किया।

1950 के दशक के दौरान, लता ने मदर इंडिया, देवदास, और चोरी चोरी जैसी सफल फिल्मों के लिए गाया और फिल्म मधुशाला से ‘आजा रे परदेसी’ गीत के लिए सर्वश्रेष्ठ महिला पार्श्व गायिका का पहला फिल्मफेयर भी जीता।

उन्होंने कई संगीत निर्देशकों के लिए विभिन्न शैलियों के गीत गाए। अज़ीब दास्तान हैं ये रघु से लेकर मोहे भूल गाये सांवरिया और अल्लाह तेरो नाम जैसे भजन जैसे पश्चिमी गानों से लेकर उन्होंने सभी के साथ न्याय किया।

1960 के दशक में, लता उस समय की सबसे ग्लैमरस अभिनेत्रियों के पीछे आवाज थी।

27 जनवरी 1963 को, मंगेशकर ने भारत के तत्कालीन प्रधान मंत्री, जवाहरलाल नेहरू जैसे गणमान्य व्यक्तियों को देश-भक्ति के गीत, ‘ऐ मेरे वतन के लोगन’ के गायन के साथ आँसू बहाए।

लता ने विभिन्न गीतों के लिए किशोर कुमार, हेमंत कुमार, मुकेश, महेंद्र कपूर, मन्ना डे और मोहम्मद रफी जैसे प्रमुख पुरुष पार्श्व गायकों के साथ सहयोग किया।

Lata Mangeshkar biography hindi

किशोर कुमार के साथ कोरा कागज़, तेरे बिन ज़िंदगी से ’, और आप की आखों में’ जैसे युगल गीतों ने कुछ अविस्मरणीय संगीतमय जादू बिखेरा।

गायन के अलावा, उन्होंने मराठी फिल्मों, राम राम पावने, मराठा टीटूका मेलवाना, मोहतांची मंजुला, सधी मनासे और ताम्बड़ी माटी के लिए भी संगीत तैयार किया।

लता ने झाँझर (1953), कंचन (1955), लेकिन (1990), और वाडल (1953) नामक एक मराठी फिल्म भी तीन हिंदी फिल्मों का निर्माण किया है।

1990 के दशक में, उन्होंने धीरे-धीरे स्वास्थ्य के मुद्दों के कारण अपने काम की मात्रा को कम कर दिया और केवल चुनिंदा गाने गाए।

लता मंगेशकर पुरस्कार  – Lata Mangeshkar Awards

लता मंगेशकर ने न केवल कई गीतकारो एवं संगीतकारों को सफल बनाया है, बल्कि उनके सुरीले गायन कारण ही कई फिल्में लोकप्रिय सिद्ध हुई है। लता मंगेशकर जी को अपने करियर में कई बहुत से बड़े औऱ राष्ट्रीय सम्मान भी प्राप्त कर चुकी हैं, जिनमें भारत के सर्वोच्च पुरस्कारों में शामिल पद्मश्री और भारत रत्न भी शुमार है।

इसके अलावा लता जी को गायन के लिए 1958, 1960, 1965,एवं 1969 में फिल्म फेयर अवॉर्ड भी प्राप्त हुए हैं। ‘गिनीज बुक ऑफ़ वर्ल्ड रिकार्ड्स’ की तरफ से भी उनका विशेष सम्मान किया जा चुका है। मध्यप्रदेश शासन की तरफ से उनके नाम हर साल 1 लाख रूपये का पारितोषिक दिया जाता है। 1989 में लताजी को ‘दादा साहब फालके पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

लता जी को मिले पुरस्कार इस प्रकार हैं –

  • फिल्म फेयर अवॉर्ड – पुरस्कार (1958, 1962, 1965, 1969, 1993 and 1994)
  • नेशनल फिल्म अवॉर्ड (1972, 1974 और 1990)
  • महाराष्ट्र सरकार पुरस्कार (1966 और1967)
  • 1969 – पद्म भूषण
  • 1974 – दुनिया मे सबसे अधिक गीत गाने का गिनीज़ बुक रिकॉर्ड
  • 1989 – दादा साहब फाल्के पुरस्कार
  • 1993 – फिल्म फेयर का लाइफ टाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 1996 – स्क्रीन का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 1997 – राजीव गांधी पुरस्कार
  • 1999 – एन.टी.आर. पुरस्कार
  • 1999 – पद्म विभूषण
  • 1999 – ज़ी सिने का का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2000 – आई. आई. ए. एफ. का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2001 – स्टारडस्ट का लाइफटाइम अचीवमेंट पुरस्कार
  • 2001 – भारत का सर्वोच्च नागरिक सम्मान “भारत रत्न”
  • 2001 – नूरजहाँ पुरस्कार
  • 2001 – महाराष्ट्र भूषण
  • 2008 _ लता जी को भारत के 60वें स्वतंत्रता दिवस के मौके पर ”वन टाइम अवॉर्ड फॉर लाइफटाइम अचीवमेंट” से भी नवाजा गया था।

लता मंगेशकर के 1960 के दौर के सुपरहिट गानें :

फिल्म का नाम — गाने के बोल
मुगले ए आजम — प्यार किया तो डरना क्या
दिल अपना प्रीत पराई — अजीब दस्ता है ये
गाइड — गाता रहे मेरा दिल
ज्वेल थीप — होठों पे बात

लता मंगेशकर के 1990 के समय हिंदी फिल्मों के लिये गानें :

Lata Mangeshkar 1990 Hit Songs – लेकिन ,दिल वाले दुल्हनिया ले जायेगें, दिल तो पागल हैं, हम आप के है कौन, मोहबतें , वीर जारा, लम्हे, डर

Leave a Comment

error: Content is protected !!