.

bseb class 12 history | किसान जमींदार और राज्य

bseb class 12 history | किसान जमींदार और राज्य

                                  कृषि समाज और मुगल साम्राज्य
                            (लगभग सोलहवीं और सत्रहवीं सदी तक)
  8.                PEASANTS, ZAMINDARS AND THE STATE
                      Agrarian Society and the Mughal Empire
                        (C. Sixteenth and Seventeenth Century)
                                       महत्वपूर्ण तथ्य एवं घटनायें
● आइन का मुख्य उद्देश्य : अकबर के साम्राज्य का ऐसा खाका पेश करना जहाँ एक
शक्तिशाली सत्ताधारी वर्ग सामाजिक मेल जीवन बनाकर रखता था ।
● मुगल इतिहास के स्रोत : आइन, गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान से मिलने वाले दस्तावेज,
ईस्ट इंडिया कंपनी के दस्तावेज आदि ।
● किसान : रैयत, मुजरियान, आसामी ।
● किसानों की किस्में:
(i) युद्ध काश्त (ii) पाहि काश्त ।
● खुद काश्त : वे किसान जो उन्हीं गाँवों में रहते थे जिनमें उनकी जमीन थी।
● पाहि काश्त : वे किसान जो दूसरे गाँवों से ठेके पर खेती करने आते थे ।
● बाबरनामा : बाबर की आत्मकथा ।
● शाह नहर : शाहजहाँ के काल की एक नहर ।
● जिन्स-ए-कामिल : सर्वोत्तम फसलें जैसे कपास और गन्ना ।
● ग्रामीणा समुदाय के घटक : खेतीहर किसान, पंचायत और गाँव का मुखिया ।
● मुकद्म या मंडल : यह गाँव का मुखिया होता था और गाँव के विभिन्न कार्यों में उसकी
महत्वपूर्ण भूमिका होती थी ।
● हलालखीरान : मुस्लिम समुदाय में ये नीच माने जाते थे और गाँव से बाहर रहते थे।
● ग्रामीण दस्तकार : कुम्हार, लोहार, बढ़ई, नाई, सुनार आदि।
● जजमानी : वह व्यवस्था जिसमें जमींदार दस्ताकारों को रोज का भत्ता और खाने के लिए
नकदी देते थे।
● सराफ : ये मुद्रा की फेर-बदल करते थे ।
● जंगली : वे लोग जिनकी नीतिला जंगल के उत्पादों से नलती थी।
● मवास : बदमाशों को शरण देने वाले अड्डों को मवास कहते हैं ।
● परगना : मुगल प्रांतों में एक प्रशासनिक प्रमंडल था ।
● पेशकश : मुगल राज्य के द्वारा ली जाने वाली एक प्रकार की भेंट थी।
● पायक: जो जमीन के बदले सैनिक सेवा देते थे ।
● अमील गुजार : राजस्व वसूल करते थे ।
● अमीन : एक मुलाजिम था जिसका उत्तरदायित्व यह निश्चित करना था कि प्रान्तों में राजकीय नियम कानूनों का पालन हो रहा है ।
                 (एन.सी.आर.टी. पाठ्यपुस्तक एवं कुछ अन्य परीक्षोपयोगी प्रश्नोत्तर
(NCERT Textbook & Some Other Important Questions for Examination)
                                            बहुविकल्पीय प्रश्न
                               (Multiple Choice Questions)
प्रश्न 1. आइन हमें बताती है कि फसलों की दोनों ऋतुओं (मौसमों) को मिलाकर
आगरा में जितने किस्सों की फसलें कुल उगाई जाती थी वह संख्या है :
(क) 39
(ख)49
(ग) 59
(घ)69                                               उत्तर-(क)
प्रश्न 2. आइन के अनुसार मुगलकाल में दोनों मौसमों की फसलों को मिलाकर दिल्ली
प्रान्त में जितने किस्मों की फसलें कुल उगाई जाती थीं, वह संख्या है:
(क) 33
(ख)43
(ग) 53
(घ) 63                                                उत्तर-(ख)
प्रश्न 3. भारत में सत्रहवीं सदी में जो भी फसल के रूप में अफ्रीका और स्पेन के रास्ते
आया था उसका नाम था:
(क) मक्का
(ख) गेहूँ
(ग) चावल
(घ) कपास                                              उत्तर-(क)
प्रश्न 4. सत्रहवीं सदी में जो नये फल तथा सब्जियाँ भारत में नयी दुनिया से लाई गई
उनमें शामिल थे।
(क) टमाटर, आलू, मिर्च, अनानास तथा पपीता
(ख) भिंडी, आलू, आम, जामुन तथा टमाटर
(ग) पपीता, नींबू, अनार, बादाम तथा मूली
(घ) उपर्युक्त में से कोई नहीं ।                        उत्तर-(क)
प्रश्न 5. मुगल काल में एक सामूहिक ग्रामीण समुदाय का हिस्सा हुआ करते थे :
(क) पत्रकार, पटवारी और पंचायत
(ख) खेतिहर किसान, पंचायत और गाँव का मुखिया (या मुकद्दम)
(ग) विधायक, डॉक्टर तथा साहूकार
(घ) किसान, अध्यापक तथा पण्डित ।         उत्तर-(ख)
6. निम्नलिखित में से कौन सा तत्व मुगल प्रशासन व्यवस्था में महत्वपूर्ण शक्ति नहीं
था?                                                                      [B.M.2009A]
(क) पर्शियन
(ख) अरबी
(ग) तुर्क
(घ) भारतीय                                उत्तर-(ग)
7. किस किले की इमारत मुगल काल में कला की दृष्टि से पराकाष्ठा पर पहुँची ?
[B.M.2009A,B.Exam.2012(A)]
(क) अटक किला
(ख) आगरा किला
(ग) लालकिला दिल्ली
(घ) इलाहाबाद                                उत्तर-(ग)
8. आलमगीर किस मुगल बादशाह की पदवी थी? [B.Exam/B.M. 2009A, B.Exam. 2014A)]
(क) औरंगजेब
(ख) शाहजहाँ
(ग) जहाँगीर
(घ) बहादुरशाह                              उत्तर-(क)
9. निम्न में से कौन मुगल शाहजादी थी जो कवियित्री थी ? [B.M.2009A)
(क) जहाँआरा
(ख) जेबुन्निसा
(ग) रूबिया
(घ) नूरजहाँ                                        उत्तर-(क)
10. अकबर द्वारा निर्मित इमारतों में अधिकांशतया किस वस्तु का प्रयोग
हुआ है-                                                          [B.M.2009A]
(क) चूना पत्थर
(ख) लाल पत्थर तथा संगमरमर
(ग) ग्रेनाइट पत्थर
(घ) चाल्सेडानी पत्थर                             उत्तर-(ख)
11. जहाँगीर के काल में चित्रकला के क्षेत्र में सर्वाधिक प्रगति किस क्षेत्र में हुई-
                                                                         [B.M.2009A]
(क) मिनिएचर पेंटिग
(ख) फ्रस्को पेंटिक
(ग) पोर्टरेट पेंटिंग
(घ) प्रकृति दृश्य                                       उत्तर-(ग)
12. सलीम किस बादशाह का उपनाम था ?                [B.M.2009A]
(क) बाबर का
(ख) हुमायूँ का
(ग) जहाँगीर का
(घ) औरंगजेब का                                    उत्तर-(ग)
13. नूरजहाँ का शासन काल था-                              [B.M.2009A]
(क) 1611-27
(ख) 1670-82
(ग) 1675-85
(घ) 1688-1700                                     उत्तर-(क)
14. औरंगजेब ने अपने जीवन के अंतिम क्षण बिताए-
                                       [B.Exam./B.M.2009A/B.Exam.2012(A)]
(क) पश्चिम भारत में
(ख) पूर्वी भारत में
(ग) उत्तरी भारत में
(घ) दक्षिणी भारत में                                       उत्तर-(घ)
15. ‘बाबरनामा’ की रचना किसने की थी?                    [B.M.2009A]
(क) अकबर
(ख) जहाँगीर
(ग) शाहजहाँ
(घ) बाबर                                                        उत्तर-(घ)
16. शेख सलीम चिश्ती की दरगाह कहाँ है ?                   [B.M.2009A]
(क) दिल्ली
(ख) ग्वालियर
(ग) आगरा
(घ) फतेहपुर                                                     उत्तर-(घ)
17. दिल्ली के जामा मस्जिद का निर्माण किसके काल में हुआ ? [B.M.2009A]
(क) अकबर
(ख) जहाँगीर
(ग) शाहजहाँ
(घ) औरंगजेब                                                 उत्तर-(ग)
18. अकबरनामा की रचना किसने की?                       [B.Exam.2010 (A)]
(क) अमीर खुसरो
(ख) अलबेरूनी
(ग) इब्नबतूला
(घ) अबुल फजल                                             उत्तर-(घ)
19. ताजमहल का निर्माण किसने किया ?                     [B.Exam.2010 (A)]
(क) अकबर
(ख) जहाँगीर
(ग) औरंगजेब
(घ) शाहजहाँ                                                   उत्तर-(घ)
20. दिल्ली सल्तनत की प्रथप और अंतिम महिला शासक कौन थी?                                                                        [B.Exam.2011(A)]
(क) चाँद बीबी
(ख) नूरजहाँ
(ग) रजिया सुल्तान
(घ) मुमताज महल                                उत्तर-(ग)
21. निम्नलिखित इतिहासकारों में कौन अकबर का समकालीन था ? [B.Exam.2011(A)]
(क) फरिस्ता
(ख) बदायुनी
(ग) मुल्ला दाउद
(घ) मुहम्मद खान                                 उत्तर-(घ)
22. कुतुबमीनार का निर्माण किसने शुरू किया ? [B.Exam. 2011, 2013 (A)]
(क) कुतुबुद्दीन ऐबक
(ख) इल्तुतमिश
(ग) रजिया
(घ) जलालुद्दीन खिलजी                          उत्तर-(क)
                                            अति लघु उत्तरीय प्रश्न
                              (Very Short Answer Type Questions)
प्रश्न 1. मुगल साम्राज्य के प्रमुख सम्राटों, 1526 से 1707 तक के कालांश (Period)
का क्रमानुसार संक्षिप्त रूप में उल्लेख कीजिए।
उत्तर-(i) पानीपत की प्रथम लड़ाई में इब्राहिम लोदी को पराजित कर सन् 1526 ई. में बाबर
ने मुगल साम्राज्य की नींव रखी। उसने सन् 1530 ई. तक राज्य किया।
(ii) बाबर के उपरान्त हुमायूँ मुगल सिंहासन पर आया। उसने शासन काल को दो चरणों
में विभाजित किया जाता है। प्रथम चरण 1530 से 1540 तक रहा। लगभग पन्द्रह वर्षों तक
शेरशाह सूरी तथा उसके अनेक उत्तराधिकारी हिन्दुस्तान के सम्राट रहे । हुमायूँ 1540 से 1555
तक ईरान के शाह के पास राजनीतिक शरणार्थी बना रहा। 1555 में उसने पुनः सिंहासन प्राप्त
किया और 1556 ई. में ही वह अपनी दूसरी पाली पूरी करके मृत्युलोक को प्राप्त हुआ।
(iii) अकबर ने सन् 1556 में पानीपत की दूसरी लड़ाई में आदिलशाह तथा हेमू को पराजित
कर सन् 1605 तक शासन किया ।
(iv) अकबर के बाद जहाँगीर सिंहासन पर 1603 से 1627 ई. तक रहा।
(v) जहाँगीर के बाद 1627 से 1658 तक शाहजहाँ ने मुगल सम्राट के रूप में सत्ता संभाले रखी।
(vi) 1658 से 1707 तक औरंगजेब सत्ता में रहा। औरंगजेब के बाद के मुगल सम्राट
परवर्ती सम्राट कहलाये। अन्तिम मुगल सम्राट को अंग्रेजों ने 1857 के विद्रोह के बाद कैद कर
रंगून (वर्मा) भेज दिया वहीं उसका निधन हुआ।
प्रश्न 2. मुगलकाल में कृषि की समृद्धि और आबादी की बढ़ोत्तरी का बहुत ही संक्षेप
में उल्लेख कीजिए।
उत्तर-मुगल काल में कृषि की समृद्धि और आबादी की बढ़ोत्तर-कृषि उत्पादन के ऐसे
विविध और लचीले तरीकों का एक बड़ा नतीजा यह निकला है कि आबादी धीरे-धीरे बढ़ने लगी।
आर्थिक इतिहासकारों की गणना के मुताबिक, समय-समय पर होने वाली भूखमरी और महामारी के बावजूद, 1600 से 1700 के बीच भारत की आबादी लगभग 5 करोड़ बढ़ गई। 200 वर्षों में यह करीब-करीब 33 फीसदी बढ़ोत्तरी थी।
प्रश्न 3. आइन-ए-अकबरी के अनुसार एक समान्तर सैनिक बल का संक्षेप में उल्लेख
कीजिए।
उत्तर-आइन के अनुसार मुगल भारत में जमींदारों की मिली-जुली सैनिक शक्ति इस प्रकार
थी : 384-558 घुड़सवार; 4,277,057 पैदल; 1863 हाथी; 4260 तोप और 4,500 नाव ।
प्रश्न 4. मनसबदारी पर अति लघु टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-मनसबदारी व्यवस्था (Mausabdari System)-मुगल प्रशासनिक व्यवस्था के
शीर्ष पर एक सैनिक-नौकरशाही तंत्र (मनसबदारी) था जिस पर राज्य के सैनिक व नागरिक
मामलों की जिम्मेदारी थी। कुछ मनसबदारों को नकदी भुगतान किया जाता था, जब कि उनम्
से ज्यादातर का साम्राज्य के अलग-अलग हिस्सों में राजस्व के आबंटन के जरिये भुगतान किया
जाता था। समय-समय पर उनका तबादला किया जाता था।
प्रश्न 5. औरंगजेब ने जमा या भूराजस्व से संबंधित अधिकारी को हुक्म जारी करते
समय सरकारी खजाने और किसानों दोनों का किस तरह ध्यान रखा ? उसके द्वारा जारी हुक्म
के एक अंश को स्रोत के रूप में संक्षेम में लिखिए।
उत्तर-जनसाधारण प्रायः औरंगजेब को एक कठोर शासक ही मानता है लेकिन यह पूर्णत:
हर मामले में सत्य नहीं है। जमा या भूराजस्व के मामले में उसने सरकारी हितों के साथ-साथ
किसानों की कठिनाइयों को भी ध्यान में रखा।
1665 ई. में अपने राजस्व अधिकारी को औरंगजेब के द्वारा दिये गए हुक्म का एक अंश :
वे परगनाओं के अमीनों को निर्देश दें कि वे हर गाँव, हर किसान (आसामीवार) के बावत
खंती के मौजूदा हालात (मौजूदात) पता करें, और बारीकी से उनकी जाँच करने के बाद सरकार
के वित्तीय हितों (किफायत) व किसानों के कल्याण को ध्यान में रखते हुए जमा निर्धारित करें।
प्रश्न 6.खान-ए-खाना बारे में आप क्या जानते है.?
उत्तर-खान-ए-खाना (Khan-a-khana)-खान-ए-खाना का शाब्दिक अर्थ है-खानों
(उपाधि खान, मलिक आदि) में सबसे महान। यह एक उपाधि थी जो अकबर ने बैरम को दी
थी। बैरम खाँ अकबर का संरक्षक एवं गुरु था। सन् 1556 से 1560 ई. तक बैरम खाँ ने अकबर
को अपने दिशा-निर्देश द्वारा राजकार्य चलवाया। सिंहासनारोहण के समय अकबर की आयु केवल 13 वर्ष एवं 4 माह थी। अत: मुगल साम्राज्य के स्थिरीकरण में बैरम खाँ का बड़ा हाथ था।
प्रश्न 7. कानूनगो कौन था?
उत्तर-कानूनगो (Kanoongo)-कानूनगो एक प्रकार के जींदार होते थे जिन्हें वास्तविक
उत्पादन, खेती की स्थिति, स्थानीय मूल्यों का ज्ञान होता था। कानूनगो सरकार को कृषि संबंधी
जानकारी देते थे। कृषि-कार्य में कानूनगो का विशेष स्थान था।
प्रश्न 8. करोड़ी कौन था?
उत्तर-करोड़ी (Karori)-करोड़ी भू-राजस्व संबंधी अधिकारी होता था, जिसे अकबर ने
लगान एकत्र करने के लिए नियुक्त किया था। इन्हें एक करोड़ दाम (सिक्के) लगान के रूप
में एकत्र करने होते थे। अत: इनको करोड़ी कहा जाता था। करोड़ी, कानूनगो द्वारा दी गई
सूचनाओं की भी जाँच-पड़ताल करते थे।
प्रश्न 9. बीघा शब्दावली का अर्थ स्पष्ट कीजिए।
उत्तर-बीघा (Bigha)-‘बीघा’ नाप की एक ऐसी इकाई है जिससे जमीन (भूमि) नापी
जाती है। प्रति बीघे के हिसाब से कृषि उपज में से सरकार का हिस्सा निकाला जाता था। प्रत्येक
लिसान के पास कितनी और कैसी (अधिक उपजाऊ अथवा कम उपजाऊ) भूमि है, इसका
हनुमान कृषि-उपज के आधार पर कर लिया जाता था ! इसी आधार पर भूमि का लगान वसूल
किया जाता था अर्थात् दीघों और कृषि-पैदावार के आधार पर भू राजस्व या लगान एकत्र किया जाता था।
प्रश्न 10. जब्ती क्या थी?
उत्तर-जब्ती (Jabti)-‘जब्ती’ कर-निर्धारण की वास्तविक प्रणाली थी। इस विधि द्वारा
कर निर्धारण अनुमान से नहीं, निश्चितता से होता था। ‘जब्ती’ विधि सर्वप्रथम शेरशाह ने लागू
की थी। बाद में कुछ सुधार करके अकबर ने इसे अपनाया।
प्रश्न 11. आप दहसाला शब्द के बारे में क्या जानते हैं।
उत्तर-दहसाला (Dehsala)-‘दहसाला’ कर की एक प्रणाली है जो दस वर्ष की औसत
उपज के आधार पर तय की जाती थी। अकबर ने अपने सिंहासना रोहणा के कुछ वर्षों बाद में
यह भू-राजस्व प्रणाली लागू की थी। यह पिछले दस साल की फसल और उसकी कीमत के
औसत पर आधारित होती थी।
प्रश्न 12. गल्ला प्रणाली का अर्थ स्पष्ट कीजिए।
उत्तर-गल्ला (Galla)-अकबर द्वारा लागू कर-निर्धारण की अनेक विधियाँ थीं, जिनमें
जब्ती, दहसाला तथा गल्ला प्रमुख थी। गल्ला (अनाज) किसानों एवं राज्य के बीच तय शर्तों
के अनुसार इस पद्धति में लगान नकद नहीं लिया जाता था।
प्रश्न 13. बटाई अवधारणा से आप क्या समझते हैं ?
उत्तर-बटाई (Batai)-कृषि भूमि में जो पैदावार होती थी, उसे एक निश्चित विधि (मात्रा)
के अनुसार सरकार तथा किसानों (रैयतों) के बीच बाँट दिया जाता था। इसे बटाई विधि कहते हैं।
प्रश्न 14. नसाक और ककूत का अर्थ स्पष्ट कीजिए।
उत्तर-नसाक और ककूत (Nasak and Kakoot)-अकबर ने जब्ती, दहसाला, गल्ला
प्रणाली आदि कई पू राजस्व एकत्र करने की प्रणालियाँ अपनायी थी। इसी प्रकार की नसाक
प्रणाली भी है। यह प्रणाली कृषकों द्वारा गत वर्षों के भुगतान के आधार पर थी। इस
कर-निर्धारण प्रणाली को ककूत प्रणाली भी कहा जाता था।
प्रश्न 15. पोलाज क्या था?
उत्तर-पोलाज (Polaj)-पोलाज उस कृषि-भूमि को कहा जाता था जिस पर प्रति वर्ष
फसल बोई जाती थी।
प्रश्न 16. परती शब्द का अर्थ लिखें।
उत्तर-परती (Pari)-परती भूमि पर प्रति वर्ष फसल नहीं बोई जाती थी। यह भूमि पैदावार
की दृष्टि से बिल्कुल बेकार भूमि होती है।
प्रश्न 17. चाचर किसे कहते थे?
उत्तर-चाचर (Chachar)-इस भूमि पर प्रायः हर फसल बोई जाती थी और उपज भी
अच्छी होती थी। भू-राजस्व पूरी दर से लिया जाता था।
प्रश्न 18. बंजर का आशय समझाए।
उत्तर-बंजर (Banjar)-बंजर भूमि अधिक समय तक खाली रहती थी, अर्थात् पैदावार की
दृष्टि से अच्छी भूमि न होने के कारण बंजर भूमि कई साल तक खाली (बिना फसल बोए) रहती
थी। इस भूमि पर बुआई नाममात्र को होती थी।
प्रश्न 19. आप तकाबी शब्द के बारे में क्या जानते हैं?
उत्तर-तकाबी (Takabi)-तकाबी वह कृषि-संबंधी ऋण था जो किसानों को आवश्यकता
पड़ने पर बीज, खाद, कृषियंत्र तथा पशु खरीदने के लिए सम्राट अकबर द्वारा दिया जाता था।
यह ऋण (तकाबी) सरल मासिक किश्तों में सरकार को लौटा दिया जाता था।
प्रश्न 20. अकबर के काल में फौजदार एवं अमलगुजार कौन थे?
उत्तर-फौजदार एवं अमलगुजार (Faujdar and Amalguzar)-अकबर ने अपने राज्य
को कई सरकारों (जिलों) में बाँट रखा था। प्रत्येक सरकार के मुख्य अधिकारियों को ‘फौजदार’
और ‘अमलगुजार’ कहा जाता था। फौजदार का कार्य न्याय तथा कानून व्यवस्था बनाये रखना
था। ‘अमलगुजार’ का कार्य भू राजस्व एकत्र करना होता था।
प्रश्न 21. अकबर के काल में दीवान-ए-आला क्या करता था ?
उत्तर-दीवान-ए-आला (Diwan-a-Ala)-दीवान-ए-आला का अर्थ है-मुख्य दीवान जो
संपूर्ण राज्य की आय-व्यय का ब्यौरा रखता था। वह सरकारी या खालिस भूमि, जागीरदारों और
इनाम में दी जाने वाली भूमियों का ब्यौरा भी रखता था। प्रांतीय दीवान, दीवान-ए-आला के अधीन कार्य करते थे।
प्रश्न 22. मीर बख्शी कौन था?
उत्तर-मीर बख्शी (Meer Bakshi)-अकबर के शासन काल में सेना का मुख्य अधिकारी
‘मीर बख्शी’ कहलाता था। मनसब पदों पर नियुक्ति या पदोन्नति मीर बख्शी की सिफारिश पर
होती थी। मीर बख्शी खुफिया विभाग (C.I.D. Deptt.) अथवा जासूसी विभाग का प्रमुख भी
होता था। मीर बख्शी का पद, मुख्य दीवान के समकक्ष होता था। दोनों एक दूसरे के कार्यों
की निगरानी करते थे।
प्रश्न 23. बरीद तथा वाकियानवीस कौन थे?
उत्तर-बरीद तथा वाकियानवीस (Barid and Wakia Navis)-बरीद ‘मीर बख्शी’ के
अधीन गुप्तचर अधिकारी होता था। वाकिया नवीस या वाक्यानवीस संदेश लेखक को कहते थे।
इन दोनों के द्वारा दी गई सूचनाएँ मीर बख्शी बादशाह को देता था।
प्रश्न 24.काजी क्या करता था?
उत्तर-काजी (Qari)-न्याय विभाग प्रमुख रूप से काजी के पास होता था। वह धार्मिक
कार्यों और कल्याण संस्थाओं की देखभाल करता था। धार्मिक अनुष्ठान (कार्य) उसी के अधीन
होते थे। प्रजा और सम्राट दोनों के लिए काजी का पद महत्त्वपूर्ण था।
प्रश्न 25. जब्ती व्यवस्था की मुख्य विशेषताएँ क्या थी ?
उत्तर-जब्ती व्यवस्था (Zabti System)-शेरशाह द्वारा लाहौर से अवध तक लागू जब्ती
व्यवस्था को शुरुआत में अकबर ने भी अपनाया । प्रत्येक क्षेत्र में चल रहे मूल्यों के अनुसार अकबर ने उन दरों को मंजूरी दी जिनके द्वारा माल के रूप में कर को नकद पद (दस्तूर) में परिवर्तित किया जा सके। इस समय औसत उत्पाद पर आधारित फसल की केवल एक दर और लाहौर से लेकर अवध क्षेत्र तक मूल्य की एक सारणी थी। इसमें स्थानीय उत्पादन और मूल्यों में भारी विषमताओं को नजरअंदाज किया जाता था।
प्रश्न 26. जमा-ए-दहसाला क्या था?
उत्तर-मुगल काल में औसत उत्पाद को नकद दरों में परिवर्तित करने की समस्या बनी रही।
इस समस्याओं के रूप में शासन के चौबीसवें वर्ष (1579-80) में जमा-ए-दह-साला अर्थात
(दस वर्ष का जमा) संकलित किया गया। सबसे पहले औसत उत्पादक का अनुमान लगाने के
लिए पिछले 10 वर्षों की खेती की वर्तमान दर पिछले उत्पादन के आधार पर प्रत्येक इलाके के
लिए नई सूची तैयार की गई। पिछले दस वर्षों की नकद दर को भी तालिकाबद्ध किया गया तथा
औसत मूल्य के आधार पर अंतिम दस्तूर तैयार किए गए। अंतिम दस्तूर से वार्षिक राजकीय
हस्तक्षेप की आवश्यकता खत्म हो गई तथा वार्षिक राजस्व मांग उगाहने में अनिश्चितता भी काफी कम हो गई। जमा-ए-दह-साला की प्रमुख कमियों में यह था कि किसानों को खेती के सारे खतरे खुद उठाने पड़ते थे।
प्रश्न 27. हस्त-ओ-बद पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-हस्त-ओ-बद व्यवस्था में अधिकारी गाँव का निरीक्षण कर कुल उत्पाद का अनुमान
लगाने के लिए हलो (Ploughs) की संख्या भी गिन ली जाती थी।
प्रश्न 28. कानकुत पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखें।
उत्तर-कानकुत व्यवस्था में पहले भूमि को नापा जाता था तथा फिर प्रत्येक फसल की प्रति
उत्पाद इकाई (बीघा) का अनुमान लगाया जाता था। इसके बाद इसे खेती किए जाने वाले कुल
क्षेत्र पर लागू किया जाता था।
प्रश्न 29. खुद काश्त का क्या अर्थ है ?
उत्तर-ऐसे किसान जो अपनी भूमि पर स्वयं (खुद) खेती (काश्त) करते थे, उन्हें ‘खुद
काश्त’ के नाम से जाना जाता था। इनमें से कुछ किसानों के पास अपने हल कृषि उपकरण तथा
बैल होते थे। वे एक निश्चित दर पर लगान देते थे।
प्रश्न 30. गढ़ी का क्या अर्थ है? स्पष्ट करें।
उत्तर-गढ़ी का अर्थ है छोटा किला । मुगलकाल में जींदारों के पास अपनी-अपनी सेना
होती थी जिसे वे अपनी-अपनी गढ़ी में रखते थे। आवश्यकता पड़ने पर बादशाह की सहायता
के लिए ये जर्मीदार अपनी-अपनी सेना गाढ़ियों से भेजते थे।
प्रश्न 31. ‘मदद-ए-मआस’ का क्या अर्थ है ?
उत्तर-मुगल काल में प्रतिष्ठित विद्वानों और प्रतिभा सम्पन्न धार्मिक व्यक्तियों के भरण-पोषण
के लिए उन्हें भूमि दान में मिलती थी। इसी तरह के भूमि अनुदानों को मदद-ए-मआश कहा
जाता था जब कोई नया शासक आता था तो इन अनुदानों की फिर स्वीकृति लेना अनिवार्य था।
प्रश्न 32. ‘हुण्डी’ का क्या अर्थ है ? स्पष्ट करें।
उत्तर-पैसे के लेन-देन में मुगल काल के व्यापारी लिखित इकरारानामे देते थे जिन्हें हुण्डी
के नाम से जाना जाता था। जब पैसे के भुगतान का समय होता था तो थोड़ी कटौती कमीशन
के रूप में करके शेष भुगतान हो जाता था।
प्रश्न 33. ‘राहदारी’ का क्या अर्थ है ? स्पष्ट करें।
उत्तर-‘राहदारी’ का अर्थ है रोड टैक्स (Road Tax) । मुगलों ने व्यापार को प्रोत्साहित
करने के उद्देश्य से ‘सड़क कर’ समाप्त कर दिया था जिससे व्यापारिक वस्तुओं को एक स्थान
से दूसरे स्थान तक आसानी से लाया-ले जाया जा सकता था।
प्रश्न 34. ‘बन्जर’ का क्या अर्थ है? स्पष्ट करें।
उत्तर-‘बन्जर’ का अर्थ उस भूमि से है जिस पर कुछ भी पैदा नहीं होता है। ऐसी भूमि
पर भू-राजस्व नहीं लगाया जाता है। अगर कोई किसान इस भूमि पर खेती करना चाहता था
तो उसे ही भूमि का स्वामी बना दिया जाता था।
प्रश्न 35. ‘कस्बा’ का क्या अर्थ है ? स्पष्ट करें।
उत्तर-जो स्थान गाँव से बड़ा और शहर से छोटा हो उसे कस्बा कहा जाता है। दूसरे शब्दों
में ‘कस्बे’ की जनसंख्या और क्षेत्रफल गाँव से बड़ा और शहर से छोटा होता है। अक्सर मुख्य
मार्गों के आस-पास यात्री ठहरते थे, उनके खाने-पीने की वस्तुएँ बिकर्ती थीं, फिर दुकानदारों ने
आस-पास ही अपने घर बना लिए या अपने घरों में दुकानें बना लीं। इस तरह से कस्बों का जन्म हुआ।
प्रश्न 36. मुगल भारत में उत्पादित प्रमुख गैर-कृषि वस्तुएँ क्या थीं?
उत्तर-गैर कृषि वस्तुएँ (Non-agricultural goods)-1. सूती वस्त्र, 2. लोहे की वस्तुएँ,
उपकरण, हथियार, 3. चाँदी के सिक्के, चाँदी के बर्तन, चाँदी के आभूषण, 4. ताँबे के सिक्के बर्तन, आभूषण, 5. पीतल की सजावट की वस्तुएँ, पीतल के बर्तन ।
प्रश्न 37. हुंडियाँ क्या थीं ? उनसे आंतरिक व्यापार किस प्रकार सरल हुआ ?
उत्तर-हुंडी एक व्यापारी द्वारा दूसरे स्थान पर भुगतान करने का वायदा था। इससे आंतरिक
व्यापार को बढ़ावा मिला। पैसे का लेने-देन आसान व सुरक्षित हुआ।
प्रश्न 38. यूरोपीय व्यापारिक कंपनियों द्वारा भारत से किन वस्तुओं का निर्यात किया
गया ?
उत्तर-यूरोपीय व्यापारिक कंपनियों द्वारा भारत से निम्न वस्तुओं का निर्यात हुआ:
1. गरम मसाला, 2. इलायची, 3. सूती वस्त्र, 4. दाल चीनी, 5. मलमल, 6. ऊनी वस्त्र, 7.
काली मिर्च, 8.रेशमी वस्त्र ।
प्रश्न 39. मुगल भारत में कितनी जनसंख्या थी?
उत्तर-आधुनिक इतिहासकारों के मुगल भारत में जनसंख्या के आकार पर विभिन्न विचार
हैं। शुरुआत में एक हजार लाख की संख्या पर सभी सहमत थे लेकिन आंकड़ों के पुनः निरीक्षण
से इस संख्या में अधिक बढ़ोत्तरी हुई। अब यह अनुमान लगाया गया है कि भारत की जनसंख्या
कुल मिलाकर 14000 लाख से 15000 लाख थी जिसमें से 107000 लाख से 11500 लाख
अकबर के शासन काल में मुगल क्षेत्र में ही थी।
वर्ष 1600 में कुल जनसंख्या का लगभग 85 प्रतिशत ग्रामीण था और बाकी 15 प्रतिशत
यानी 160 से 170 लाख शहरी।
प्रश्न 40. खुदकाश्त पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-वह छोटे किसान जो अपनी भूमि पर स्वयं खेती करते थे, खुदकाश्त कहलाते थे।
प्रश्न 41. पहीकाश्त पर संक्षिप्त टिप्पणी कीजिए।
उत्तर-वे भूमिहीन किसान जो जमींदारों, जागीरदारों की भूमि पर काश्त करते थे और बदले
में उत्पादन का एक हिस्सा प्राप्त करते थे, पहीकाश्त कहलाते थे।
प्रश्न 42. जागीर पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-जागीर (Jagir)-वेतन के बदले में दिया गया भू-राजस्व आबंटन ।
प्रश्न 43. खालिसा पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-खालिसा (Khalisa)-केंद्रीय खजाने में सीधा जमा होने वाला भू-राजस्व ।
                                       लघु उत्तरीय प्रश्न
                     (Short Answer Type Questions)
प्रश्न 1. मुगल काल में भारतीय किसानों तथा कृषि उत्पादन विषय पर पारस्परिक
सम्बन्धों एवं स्थिति आदि का उल्लेख कर एक टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-भारतीय किसान तथा कृषि उत्पादन (Indian farmers and Agricultural
Products)-(i) खेतिहर समाज की बुनियादी इकाई गाँव थी जिसमें किसान रहते थे। किसान
साल भर अलग-अलग मौसम में वो तमाम काम करते थे जिससे फसल की पैदावार होती थी-जैसे कि जमीन की जुताई, बीज बोना और फसल पकने पर उसकी कटाई।
(ii) इसके अलावा वे उन वस्तुओं के उत्पादन में भी किसान शरीक होते थे जो
कृषि-आधारित थीं जैसे कि शक्कर, तेल इत्यादि ।
(iii) लेकिन सिर्फ मैदानी इलाकों में बसे किसानों की खेती ही ग्रामीण भारत की खासियत
नहीं थी। कई ऐसे क्षेत्र भी थे-जैसे कि सूखी जमीन के विशाल हिस्सों से पहाड़ियों वाले
इलाके-जहाँ उस तरह की खेती नहीं हो सकती थी जैसी कि ज्यादा उपजाऊ जमीनों पर।
(iv) इसके अलावा, भूखंड का एक बहुत बड़ा हिस्सा जंगलों से घिरा था। जब हम कृषि
समाज की बात करते हैं तब हमें इन भौगोलिक विविधताओं का ख्याल रखना चाहिए।
प्रश्न 2. कृषि इतिहास लिखने के लिए आइन को स्रोत के रूप में इस्तेमाल करने में कौन
सी समस्याएँ हैं ? इतिहासकार इन समस्याओं से कैसे निपटते हैं ? [N.C E.R.T. T.B.Q. 1]
What are the problems in using the Ain as a source for reconstructing
Tagrarian history ? How do historians deal with this situations?
उत्तर-(i) मुगलकालीन कृषि इतिहास लिखने के लिए आइन-ए-अकबरी को प्रमुख
ऐतिहासिक स्रोत के रूप में प्रयोग करने में चाहे विद्वानों को अनेक समस्याएँ आती हैं तो भी वे
इसे एक महत्त्वपूर्ण स्रोत मानते हैं। उनके द्वारा उल्लेखित विवरण अनुसार सबसे महत्त्वपूर्ण
ऐतिहासिक ग्रंथों में एक था आइन-ए-अकबरी (संक्षेप में आइन) जिसे अकबर के दरबारी
इतिहासकार अबुल फजल ने लिखा था। खेतों की नियमित जुताई की तसल्ली करने के लिए, राज्य के नुमाइंदों द्वारा करों की उगाही के लिए और राज्य व ग्रामीण सत्तापोशों यानी कि जमींदारों के बीच के रिश्तों के नियमन के लिए जो इंतजाम राज्य ने किए थे, उसका लेखा-जोखा इस ग्रंथ में बड़ी सावधानी से पेश किया गया है।
(ii) आइन का मुख्य उद्देश्य अकबर के सम्राज्य का एक ऐसा खाका पेश करना था जहाँ
एक मजबूत सत्ताधारी वर्ग सामाजिक मेल-जोल बना कर रखता था। आइन के लेखक के
मुताबिक, मुगल राज्य के खिलाफ कोई बगावत या किसी भी किस्म की स्वायत्त सत्ता की दावेदारी का असफल होना पहले ही तय था। दूसरे शब्दों में, किसानों के बारे में जो कुछ हमें आइन से पता चलता है वह सत्ता के ऊँचे गलियारों का नजरिया है।
इतिहासकारों द्वारा आइन की समस्याओं को निपटाने के लिए अन्य स्रोतों का प्रयोग
(Use of other resources by the historians to solve the probles of Ain-i-Akbari)-
खुशकिस्मती से आइन की जानकारी के साथ-साथ हम उन स्रोतों का भी इस्तेमाल कर सकते
हैं जो मुगलों की राजधानी से दूर के इलाकों में लिखे गए थे। इनमें सत्रहवीं व अठारहवीं सदियों
के गुजरात, महाराष्ट्र और राजस्थान से मिलने वाले वे दस्तावेज शामिल हैं जो सरकार की आमदनी की विस्तृत जानकारी देते हैं। इसके अलावा, ईस्ट इंडिया कंपनी के बहुत सारे दस्तावेज भी हैं। जो पूर्वी भारत में कृषि-संबंधों का उपयोगी खाका पेश करते हैं। ये सभी स्रोत किसानों, जमींदारों और राज्य के बीच तने झगड़ों को दर्ज करते हैं। लगे हाथ, ये स्रोत यह समझने में हमारी मदर करते हैं कि किसान राज्य को किस नजरिये से देखते थे और राज्य से उन्हें कैसे न्याय की उम्मीद थी।
प्रश्न 3. सोलहवीं-सत्रहवीं सदी में कृषि उत्पादन को किस हद तक महज गुजारे के लिए
खेती कह सकते हैं ? अपने उत्तर के कारण स्पष्ट कीजिए। [N.C.E.R.T. T.B.Q.2]
To what extent is it possible to characterise agricultural production in
the sixteenth-seventeenth centuries as subsistence agriculture ? Give reasons for your answer.
उत्तर-यद्यपि दैनिक आहार की खेती पर ज्यादा जोर दिया जाता था मगर इसका मतलब
यह नहीं था कि मध्यकालीन भारत में खेती सिर्फ गुजारा करने के लिए की जाती थी। स्रोतों में हमें अकसर जिन्स-ए-कामिल (सर्वोत्तम फसलें) जैसे लफ्ज मिलते हैं।
(i) मुगल राज्य भी किसानों को ऐसी फसलों की खेती करने के लिए बढ़ावा देता था क्योंकि
इनसे राज्य को ज्यादा कर मिलता था । कपास और गन्ने जैसी फसलें बेहतरीन जिन्स-र-कामिल थीं।
(ii) मध्य भारत और दक्कनी पठार में फैले हुए जमीन के बड़े-बड़े टुकड़ों पर कपास उगाई
जाती थी, जबकि बंगाल अपनी चीनी के लिए मशहूर था। तिलहन (जैसे सरसों) और दहलन
भी नकदी फसलों में आती थीं। इससे पता चलता है कि एक औसत किसाना की जमीन पर किस तरह पेट भरने के लिए होने वाले उत्पादन और व्यापार के लिए किए जाने वाले उत्पादन एक दूसरे से जुड़े हुए थे।
(iii) मौसम के दो मुख्य चक्रों के दौरान खेती की जाती थी : एक खरीफ (पतझड़ में)
और दूसरी रबी (वसंत में)। यानी सूखे इलाकों और बंजर जमीन को छोड़ दें तो ज्यादातार जगहों
पर साल में कम से कम दो फसलें होती थीं।
(iv) जहाँ बारिश या सिंचाई के अन्य साधन हर वक्त मौजूद थे वहाँ तो साल में तीन फसलें
भी उगाई जाती थीं। इस वजह से पैदावार में भारी विविधता पाई जाती थी। उदाहरण के तौर
पर, आइन हमें बताती है कि दोनों मौसम मिलाकर, मुगल प्रात आगरा में 39 किस्म की फसलें
उगाई जाती थीं जबकि दिल्ली प्रांत में 43 फसलों की पैदावार होती थी। बंगाल में सिर्फ चावल
की 50 किस्में पैदा होती थीं।
(v) सत्रहवीं सदी में दुनिया के अलग-अलग हिस्सों से कई नयी फसलें भारतीय उपमहाद्वीप
पहुँचीं। मसलन, मक्का भारत में अफ्रीका और स्पेन के रास्ते आया और सत्रहवीं सदी तक इसकी गिनती पश्चिम भारत की मुख्य फसलों में होने लगी। टमाटर, आलू और मिर्च जैसी सब्जियाँ नयी दुनिया से लाई गईं। इसी तरह अनानास और पपीता जैसे फल वहीं से आए।
प्रश्न 4. कृषि उत्पादन में महिलाओं की भूमिका का विवरण दीजिए।
Describe the role play by women in agricultural production.
                                                                     [N.C.ER.T. T.B.Q.3]
उत्तर-कृषि उत्पादन में महिलाओं की भूमिका (The role ofwomen in agriculture
production) :
(i) समाजों में आपने गौर किया होगा, उत्पादन की प्रक्रिया में मर्द और महिलाएं खास किस्म
की भूमिकाएँ अदा करते हैं। जिस संदर्भ में हम बात कर रहे हैं, वहाँ महिलाएँ और मर्द कंधे
से कंधा मिलाकर खेतों में काम करते थे।
(ii) मर्द खेत जोतते थे व हल चलाते थे और महिलाएँ बुआई, निराई और कटाई के
साथ-साथ पकी हुई फसल का दाना निकालने का काम करती थीं। जब छोटी-छोटी ग्रामीण
इकाइयों का और किसान की व्यक्तिगत खेती का विकास हुआ-जो कि मध्यकालीन भारतीय कृषि की खासियत थी-तब घर-परिवार के संसाधन और श्रम, उत्पादन की बुनियाद बने ।
(iii) स्वाभाविक तौर पर, ऐसे में लिंग बोध के आधार पर आमतौर पर किया जाने वाला
फर्क (घर के लिए महिलाएँ और बाहर के लिए मर्द) मुमकिन नहीं था। फिर भी महिलाओं की
जैव वैज्ञानिक क्रियाओं को लेकर लोगों के मन में पूर्वाग्रह बने रहे। मसलन पश्चिमी भारत में,
रजस्वला, महिलाओं को हल या कुम्हार का चाक छूने की इजाजत नहीं थी; इसी तरह बंगाल में
अपने मासिक-धर्म के समय महिलाएँ पान के बगान में नहीं घुस सकती थीं।
(iv) सूत कातने, बरतन बनाने के लिए मिट्टी को साफ करने और गूंँधने, और कपड़ों पर
कढ़ाई जैसे दस्तकारी के काम उत्पादन के ऐसे पहलू थे जो महिलाओं के श्रम पर निर्भर थे।
(v) किसी वस्तु का जितना वाणिज्यीकरण होता था, उसके उत्पादन के लिए महिलाओं के
श्रम की उतनी ही माँग होती थी। दरअसल, किसान और दस्तकार महिलाएँ जरूरत पड़ने पर न
सिर्फ खेतों में काम करती थीं बल्कि नियोक्ताओं के घरों पर भी जाती थीं और बाजारों में भी।
(vi) भूमिहर भद्रजनों में महिलाओं को पुश्तैनी संपत्ति का हक मिला हुआ था। पंजाब से
ऐसे उदाहरण मिलते हैं जहाँ महिलाएँ (विधवा महिलाएँ भी) पुश्तैनी संपत्ति के विक्रेता के रूप
में ग्रामीण जमीन के बाजार में सक्रिय हिस्सेदारी रखती थीं।
(vii) हिंदू और मुसलमान महिलाओं को जमींदारी उत्तराधिकार में मिलती थी जिसे बेचने
अथवा गिरवी रखने के लिए वे स्वतंत्र थीं। बंगाल में भी महिला जमींदार पाई जाती थीं। उठारहवीं
सदी की सबसे बड़ी और मशहूर जमींदारियों में से एक थी राजशाही की जमींदारी जिसकी
कर्ता-धर्ता एक स्त्री थी।
प्रश्न 5. अकबर के शासनकाल में भूमि के वर्गीकरण का संक्षेप में उल्लेख कीजिए।
उत्तर-अकबर के शासनकाल में भूमि का वर्गीकरण (Classification of land
during the Akbar reigion)-आइन में वर्गीकरण के मापदंड की निम्नलिखित सूची दी
गई है:
अकबर बादशाह ने अपनी गहरी दूरदर्शिता के साथ ज़मीनों का वर्गीकरण किया और हरेक
(वर्ग की ज़मीन) के लिए अलग-अलग राजस्व निर्धारित किया।
(i) पोलज-वह जमीन है जिसमें एक के बाद एक हर फसल की सालाना खेती होती है
और जिसे कभी खाली नहीं छोड़ा जाता है।
(ii) परौती-वह जमीन है जिस पर कुछ दिनों के लिए खेती रोक दी जाती है ताकि वह
अपनी खोयी ताकत वापस पा सके।
(iii) चचर-वह जमीन है जो तीन या चार वर्षों तक खाली रहती है।
(iv) बंजर-वह जमीन है जिस पर पाँच या उससे ज्यादा वर्षों से खेती नहीं की गई हो।
पहले दो प्रकार की ज़मीन की तीन किस्में हैं, अच्छी, मध्यम और खराब । वे हर किस्म की ज़मीन के उत्पाद को जोड़ देते हैं, और इसका तीसरा हिस्सा मध्यम उत्पाद माना जाता है, जिसका एक-तिहाई हिस्सा शाही शुल्क माना जाता है।
प्रश्न 6. मुगलकाल में भारत में तंबाकू का प्रसार किस प्रकार हुआ? इस बुराई को
तत्कालीन सरकार ने किस प्रकार देखा? संक्षेप में उल्लेख कीजिए।
उत्तर-मुगल काल में तम्बाकू का प्रसार (Spread of Tabacco in Mughal period)-
यह पौधा सबसे पहले दक्कन पहुँचा और वहाँ से सत्रहवीं सदी के शुरुआती वर्षों में इसे उत्तर
भारत लाया गया । आइन उत्तर भारत की फसलों की सूची में तम्बाकू का ज़िक्र नहीं करती है।
अकबर और उसके अभिजातों ने 1604 ई. में पहली बार तम्बाकू देखा । ऐसा लगता है कि इसी
समय तम्बाकू का धूम्रपान (हुक्के या चिलम में) करने की लत ने ज़ोर पकड़ा। जहाँगीर इस
बुरी आदत के फैलने से इतना चिंतित हुआ कि उसने इस पर पाबंदी लगा दी। यह पाबंदी पूरी
तरह से बेअसर साबित हुई क्योंकि हम जानते हैं कि सत्रहवीं सदी के अंत तक, तम्बाकू पूरे भारत में खेती, व्यापार और उपयोग की मुख्य वस्तुओं में से एक था।
प्रश्न 7. इतिहासकार अबुल फजल के उल्लेख सहित बताइए कि अकबर की मृत्यु से
पूर्व लगभग (10 वर्ष पूर्व) या लगभग 1595 में भारत के पर्वतीय कबीले और मैदानी लोगों के मध्य व्यापार होता था।
उत्तर-(i) मुगल काल में विदेशी व्यापार के साथ-साथ आंतरिक व्यापार भी खूब पनपा हुआ
था यहाँ तक कि पर्वतीय कबीलों, मैदानी लोगों के मध्य अकबर के देहांत से लगभग 10 वर्ष
पूर्व भी खूब व्यापार होता था। इसका साक्ष्य मुगल दरबारी सर्वाधिक प्रसिद्ध अकबरनामा के
लेखक अबुल फजल ने दिया है।
(ii) अवध सूबे (आज के उत्तर प्रदेश का हिस्सा) के मैदानी इलाकों और पहाड़ी कबीलों
के बीच होने वाले लेन-देन के बारे में अबुल फजल ने कुछ इस तरह लिखा है :
(iii) उत्तर के पहाड़ों से इंसानों, मोटे-मोटे घोड़ों और बकरों की पीठ पर लादकर बेशुमार
सामान ले जाए जाते हैं, जैसे कि टीना, ताँबा, शीशा, कस्तूरी सुरागाय (याक) की पूँछ, शहद,
(संतरे के रस और नींबू के रस को साथ उबालकर बनाया जाने वाला एक अम्ल), अनार दाना,
अदरख, लंबी मिर्च, जीठ (जिससे लाल रंग बनाया जाता है) की जड़ें, सुहागा, दवार (हल्दी
जैसी एक जड़), मोम, ऊनी कपड़े, लकड़ी के समान, चील, बाज, मर्लिन (बाज पक्षी की ही
एक किस्म), और अन्य वस्तुएँ । इसके बदले, वे सफेद और रंगीन पड़े, कहरुवा (एक पीला-भूरा
धातु जिससे गहने बनाए जाते थे), नमक, हींग, गहने और शीशे व मिट्टी के बरतन वापिस ले
जाते हैं।
प्रश्न 8. मुगलकाल में महिलाओं की स्थिति पर प्रकाश डालें। [B.M.2009]
उत्तर-मुगलकाल में आम महिलाओं में पर्दा-प्रथा का रिवाज था। शिक्षा और संपत्ति के
उनके अधिकार भी सीमित थे। बहु-पत्नी प्रथा सती प्रथा भी समाज में प्रचलित थी। मुगल राज
परिवार की महिलाएँ प्रभावी भी थीं। जहाँआरा व्यापार, निर्माण कार्य में रुचि लेती थी तो हुमायूँ
की जहन गुलबदन बेगम ने हुमायूँनामा की रचना की। नूरजहाँ का मुगल दरबार में प्रभाव तो
जगजाहिर ही था।
प्रश्न 9. मुगलकालीन भारत में कृषि विस्तार सिंचाई तथा कृषि उपयोगी तकनीक का
संक्षेप में उल्लेख कीजिए।
उत्तर-मुगल काल में कृषि विस्तार तथा सिचाई और कृषि उपयोगी तकनीक (Agriculture
extension, irrigation and technology useful for agriculture during the mughal period)-
(i) जमीन की बहुतायत, मजदूरों की मौजूदगी और किसानों की गतिशीलता की वजह से कृषि
का लगातार विस्तार हुआ। चूँकि खेती का प्राथमिक उद्देश्य लोगों का पेट भरना था, इसलिए
रोजमर्रा के खाने की जरूरतें जैसे चावल, गेहूँ, ज्वार इत्यादि फसलें सबसे ज्यादा उगाई जाती थीं। जिन इलाकों में प्रति वर्ष 40 इंच या उससे ज्यादा बारिश होती थी, वहाँ कमोबेश चावल की खेती होती थी।
(ii) कम और कमतर बारिश वाले इलाकों में क्रमश: गेहूँ व ज्वार-बाजरे की खेती ज्यादा
प्रचलित थी ।
(iii) मानसून भारतीय कृषि की रीढ़ था, जैसा कि आज भी है। लेकिन कुछ ऐसी फसलें ।
भी थीं जिनके लिए अतिरिक्त पानी की ज़रूरत थी। इनके लिए सिंचाई के कृत्रिम उपाय बनाने
पड़े।
(iv) सिंचाई कार्यों को राज्य की मदद भी मिलती थी। मसलन, उत्तर भारत में राज्य ने कई
नयी नहरें व नाले खुदवाए और कई पुरानी नहरों की मरम्मत करवाई, जैसे कि शाहजहाँ के
शासनकाल के दौरान पंजाब में शाह नहर ।
(V) वैसे तो खेती मेहनतकशी का काम था लेकिन किसान ऐसी तकनीकों का इस्तेमाल भी
करते थे जो अक्सर पशुबल पर आधारित होती थीं। ऐसा एक उदाहरण लकड़ी के उस हलके
हल का दिया जा सकता है जिसको एक छोर पर लोहे की नुकीली धार या फाल लगाकर आसानी से बनाया जा सकता था। ऐसे हल मिट्टी को बहुत गहरे नहीं खोदते थे जिसके कारण तेज़ गर्मी के महीनों में नमी बची रहती थी।
(vi) बैलों के जोड़े के सहारे खींचे जाने वाले वरमे का इस्तेमाल बीज बोने के लिए किया
जाता था। लेकिन बीजों को हाथ से छिड़क कर बोने का रिवाज ज्यादा प्रचलित था। मिट्टी की
गुड़ाई और साथ-साथ निराई के लिए लकड़ी के मूठ वाले लोहे के पतले धार काम में लाए जाते थे।
प्रश्न 10. मुगलकाल के प्रारंभ में भारतीय किसान बस्तियों के बसने तथा उजड़ने का
विवरण ऐतिहासिक स्रोत के रूप में तुल्क-ए-बाबरी (बाबरनामा) के उल्लेखों के माध्यम
का सहारा लेकर कीजिए।
उत्तर-मुगल काल के प्रारंभ में भारतीय किसान बस्तियों का बसना-उजड़ना तथा बाबर
afil faut quia (In the beginning era of mughal period the setting and desetling of the settlements of farmers and Babur’s description)-
 बाबर ने 1526 ई. में भारत में मुगल साम्राज्य की नींव डाली थी। उसने सन् 1550 तक
राज्य किया। इस दौरान उसने अपने संस्मरण तुज्क-ए-बाबरी के रूप में लिखे। उसका अध्ययन
करने के उपरान्त पता चलता है कि उस समय भारतीय किसानों की बस्तियाँ प्रायः बसती तथा
उजड़ती रहती थी। इस संबंध में वातावारण में उल्लेख मिलता है कि यह हिंदुस्तानी कृषि समाज
की एक विशेषता थी और इस विशेषता ने मुगल शासक बाबर की तेज़ निगाहों को इतना चौंकाया कि उसने इसे अपने संस्मरण बाबरनामा में नोट किया :
(i) हिंदुस्तान में बस्तियाँ और गाँव, दरअसल शहर के शहर, एक लमहे में ही वीरान भी
हो जाते हैं और बस भी जाते हैं। वर्षों से आबाद किसी बड़े शहर के बाशिंदे उसे छोड़कर चले
जाते हैं, तो वे ये काम कुछ इस तरह करते हैं कि डेढ़ दिनों के अंदर उनका हर नामोनिशान (वहाँ
से) मिट जाता है।
(ii) दूसरी ओर, अगर वे किसी जगह पर बसना चाहते हैं तो उन्हें पानी के रास्ते खोदने की
जरूरत नहीं होती क्योंकि उनकी सारी फसलें बारिश के पानी में उगती हैं, और चूँकि हिंदुस्तान
की आबादी बेशुमार है, लोग उमड़ते चले आते हैं।
(iii) वे एक सरोवर या कुआँ बना लेते हैं; उन्हें घर बनाने या दीवार खड़ी करने की भी
जरूरत नहीं होती-खस की घास बहुतायात में पाई जाती हैं, जंगल अपार हैं, झोंपड़ियाँ बनाई जाती हैं, और यकायक एक गाँव या शहर खड़ा हो जाता है।
प्रश्न 11. अकबर के शासन काल में सामंत वर्ग का संयोजन कैसा था?
उत्तर-अकबर के शासन काल के दौरान केवल इक्कीस हिंदुओं को उच्च सामंत वर्ग में
नियुक्त किया गया। इसमें भी अधिकांश (सत्रह) राजपूत थे। इस प्रतिष्ठित वर्ग में शामिल अन्य
चार लोग थे : बीरबल, टोडरमल, उसका बेटा और एक अन्य खत्री।
सामंतों के निम्न वर्ग में सैंतीस हिंदू थे जिसमें तीस राजपूत थे । इस राजकीय नीति के मुख्यत:
दो कारण हो सकते हैं। राजपूत हिंदू समाज के तलवारधारी वर्ग थे। उन्हें जीतकर अकबर न
केवल उनके सैन्य संसाधनों तक पहुँच पाया बल्कि विदेशी मुस्लिम सामंतों के मुकावले उसने
अपनी स्थिति को और मजबूत कर लिया। इस व्यवस्था में अकबर चाहता था कि सामंत स्वयं
को मुगल के कर्मचारियों के रूप में देखें।
प्रश्न: 12. मुगल काल में सिंचाई के मुख्य तरीके क्या थे और कुओं से किस प्रकार पानी
खींचा जाता था?
उत्तर-वर्षा के पानी के अतिरिक्त खेतिहर कृत्रिम सिंचाई का सहारा लेते थे विशेषकर कुओं
और तालाबों का। कुओं से पानी विभिन्न तरह से खींचा जाता था जैसे-धेकली, चमड़े की बाल्टी
और कभी-कभी रहट । मध्य भारत में दक्कन और दक्षिण में तालाब और हौज सिंचाई के प्रमुख
नहरें निकाली गई।
प्रश्न 13. निम्नलिखित पर टिप्पणी लिखिए :
मुगलकालीन ग्राम्य जीवन की रहन-सहन पद्धति ।
उत्तर-(i) गाँवों में किसानों, मजदूरों, दस्तकारों आदि का जीवन सरल और सादगीपूर्ण था।
वे किसी प्रकार के बाहरी दिखावे में नहीं पड़ते थे । कपड़े के नाम पर पुरुष के पास लंगोटी तथा
स्त्रियाँ साड़ी पहनती थीं। विदेशी यात्री राल्फ फिच और फिच इसकी पुष्टि करते हैं। लोग जूतों
का कम प्रयोग करते थे क्योंकि चमड़ा महंगा था।
(ii) लोग कच्चे घरों में रहते थे। चंद मिट्टी के बर्तन, बाँस की चटाइयाँ और चारपाई होती
थी। मिट्टी के बर्तनों से घरेलू काम चलता था । ताँबे और अन्य धातुओं के बर्तन महंगे होते थे
इसलिए साधारण व्यक्ति इनका इस्तेमाल नहीं कर पाता था।
(iii) लोग दाल, चावल, गेहूँ तथा मोटे अनाज को खाने के रूप में प्रयोग करते थे। चीनी
और नमक महंगे होते थे। दूध तथा दूध से बने पदार्थ मिलते थे परंतु गरीब लोग उनका कम
प्रयोग करते थे।
(iv) लोगों का जीवन स्तर आय और वेतन पर निर्भर था। गाँव में मुद्रा का आदान-प्रदान
बहुत कम होता था। आंकड़ों के आधार पर कहा जा सकता है कि ऐसे किसान जिनके पास हल
और बैल थे, वे बड़े जमींदारों की भूमि पर खेती करते थे।
(v) भूमिहीन किसान और कृषि मजदूर वे थे जिन्हें ‘अछूत’ या ‘कमीन’ समझा जाता था।
ऐसे लोगों को अकाल या अति वृष्टि के कारण अन्न की कमी के दिनों में बहुत कष्ट भोगना
पड़ता था। ग्रामीण जीवन में बहुत सी असमानताएँ थीं।
प्रश्न 14. सोलहवीं शताब्दी में भारत में कौन-सी नई फसलें लाई गईं और उन्हें किन
क्षेत्रों में उगाया गया?
उत्तर-सोलहवीं शताब्दी में तंबाकू, आलू और मक्के जैसी कुछ अन्य नई फसलें भारत में
नई दुनिया से लाई गई। सत्रहवीं शताब्दी के प्रारंभ में पश्चिमी तट पर तंबाकू की खेती शुरू की
गई, लेकिन पचास वर्षों के अंदर यह मुगल साम्राज्य के अन्य हिस्सों में फैल गई। पंद्रहवीं शताब्दी
से पहले अपरिचित इसका सत्रहवीं शताब्दी तक इतनी तेजी से विस्तार हुआ कि बंगाल एक प्रमुख रेशम उत्पादक क्षेत्र बन गया ।
प्रश्न 15. क्या मुगल भारत में खेती में कुल मिलाकर कोई विशेष वृद्धि हुई ? यदि
नहीं तो क्यों?
उत्तर-विद्वानों के अनुसार मुगल भारत में कृषि उत्पादन को लगातार सूखे और जागीरदारों
द्वारा किसानों के शोषण के कारण बार-बार रुकावटें झेलनी पड़ी। इसके फलस्वरूप वे
निश्चयपूर्वक कहते हैं कि खेती में कोई विशेष वृद्धि नहीं हुई। हालांकि पूर्वी बंगाल और तराई
क्षेत्र में बंजर और वन भूमि के विशाल भागों पर खेती शुरू की गई लेकिन साथ ही साथ राज्यों
के अत्याचारों के कारण अन्य क्षेत्रों को छोड़कर लोग जाने लगे। विद्वानों के अनुसार जनसंख्या
भी वर्ष 1600-1800 के बीच 0.14 प्रतिशत की निम्न औसत वार्षिक दर पर बढ़ी।
प्रश्न 16. ग्राम समुदाय की मुख्य विशेषताओं का विवरण दीजिए।
उत्तर-ग्राम समुदाय की एक मुख्य विशेषता थी किसानों द्वारा व्यक्तिगत खेती। गाँव की
जमीन के संयुक्त स्वामित्व का कोई प्रमाण नहीं है। प्रत्येक किसान को अपनी जमीन और फसल
के अनुसार व्यक्तिगत रूप से कर देना होता था। हालांकि गाँव के लोगों को उत्पादन शहरों से
नहीं के बराबर प्राप्त होता था लेकिन उनकी उपज का एक बड़ा हिस्सा शहरी बाजार में पहुँचता
था इस प्रकार गाँव बाजारी शक्तियों के प्रभाव में आ सकता था। समान हित वाले मामलों में
गाँव के लोग एक समूह के रूप में कार्य करते थे। जैसा कि विद्वान कहते हैं वे राज्य को भू-राजस्व देने में सामूहिक रूप से निष्ठावान या निष्ठाहीन थे।
उनका समान वित्तीय कोष भी था जिससे वे गाँव के खर्च का भार उठाते थे। उदाहरण
के लिए, गाँव के लेखों का रख-रखाव करने के लिए वे मिलकर पटवारी को रखते, नहरें बनाने
और गाँव के लोगों को धार्मिक लाभ और मनोरंजन प्रदान कराने के लिए मिलकर कार्य करते थे।
प्रश्न 17. मुगल भारत में जमींदारों की विभिन्न श्रेणियों का वर्णन कीजिए।
उत्तर-विद्वानों ने मुगल साम्राज्य में जमींदारों को तीन विस्तृत श्रेणियों में विभाजित किया है।
1. स्वतंत्र मुखिया, 2. मध्यस्थ जमींदार और 3. मुख्य जमींदार । ये श्रेणियाँ विशिष्ट न होकर
परस्पर थीं। जमींदार राज्य के हर हिस्से में थे और शायद ही ऐसा कोई क्षेत्र था जिसमें किसी
प्रकार के जमींदार न हों।
विद्वानों का अनुमान है कि उत्तर भारत में जमींदार का राजस्व हिस्सा पंद्रह से बीस प्रतिशत
से कम नहीं था जबकि गुजरात में यही हिस्सा तीस से पैंतीय प्रतिशत था। जमींदार, हथियारों
से लैस, अपने क्षेत्र में मुगलों का सामना करने के लिए तैयार रहते थे । केवल अकबर के शासन
काल में ही जमींदारी विद्रोह के एक सौ चौवालीस (144) मामले दर्ज किए गए हैं। मध्यकालीन
दस्तावेजों में जमींदारा-ए-जोर-तलब का उल्लेख है, वे जमींदार जो केतल तभी राजस्व अदा करते थे जब उनसे जबरदस्ती मांगा जाता था।
प्रश्न 18. जमींदारों की सैन्य शक्ति का संक्षिप्त वर्णन कीजिए।
उत्तर-आईन-ए-अकबरी के अनुसार जमींदार की कर रक्षक टुकड़ियों की संख्या चौवालीस
लाख से अधिक थी। उनकी सैन्य शक्ति का विभाजन इस प्रकार था : 3,84,588 घुड़सवार,
42,77,057 पैदल सेना, 1,864 हाथी, 4260 बंदूकें और 4,500 नौकाएं। जमींदार गढ़ी में रहते
थे जो कि न केवल उनके पद का सूचक थे बल्कि आवश्यकता पड़ने पर प्रतिरोधी केंद्रों के रूप
में भी काम करते थे।
सेना जमींदारों की स्थिति को और मजबूत बनाती थी। जमीन में उनकी गहरी जड़ें थीं जो
कई पीढ़ियों से उनके परिवार के कब्जे में थीं। एक क्षेत्र के जमींदारों और उनके अधिकार-क्षेत्र
में रहने वाले किसानों के बीच जातिगत संबंध थे। विद्वानों का कहना है कि जमींदारी सेनाओं
में अधिकांश पैदल सैनिक होते थे जो कि उनके द्वारा अपने क्षेत्र के बचाव और दूर के क्षेत्रों में
कार्य करने के प्रति उनकी अरुचि का सूचक है। औसतन, जमींदारों के पास मुश्किल से दस पैदल सैनिकों के लिए एक घुड़सवार था जबकि शाहजहाँ के शासन काल में शाही सेना में प्रत्येक पैदल सैनिक के लिए एक घुड़सवार था।
प्रश्न 19. “बहुत से परिवर्तनों के बावजूद मध्यकालीन भारतीय समाज बुनियादी तौर
पर सामंतीय ही बना रहा।” विवेचना कीजिए।
उत्तर-1. मध्यकाल में भूमिकर अभी भी राज्य की आय का मुख्य साधन था जिसे राजा
के सामंत या जमींदार कृषकों से एकत्र करके अपना भाग बचाकर शेष राजा के हवाले कर देते थे।
2. इस कार्य के करने के कारण राज्य द्वारा इन जमींदारों के अधिकारों तथा विशेषाधिकारों
को संरक्षण प्रदान किया जाता था।
इसी कारण कुछ इतिहासकार मध्यकालीन भारत के राज्य को बुनियादी तौर पर सामंतवादी
कहते हैं।
प्रश्न 20. फतेहपुर सीकरी के शाही शहर का विवरण दीजिए। [B.M.2009A]
उत्तर-फतेहपुर सीकरी की विशेषता विशाल जामा मस्जिद थी जो तब मुगल भारत में सबसे
विशाल मस्जिद थी। जब शेख सलीम की मृत्यु हुई तो उन्हें यहाँ दफनाया गया। सफेद संगमरमर
बना उनका मकबरा अपनी बारीक जालियों और नक्काशीदार दीवारगीरों के लिए प्रसिद्ध है जो
विशेष रूप से गुजरात में प्रशिक्षित कारीगरों का कार्य है।
अकबर का महल परिसर मस्जिद के दक्षिण पूर्व में स्थित था। इस परिसर की प्रमुख इमारतों
में जनता दर्शन के लिए कक्ष, अनूप तलाओं, गहरी नक्काशीदार तुर्की, सुल्तान का घर, ख्वाबगाह या अकवर के शयनकक्ष, दफ्तर खाना या रिकॉर्ड कार्यालय और दीवान-ए-खास या निजी दर्शन कक्ष शामिल थे।
पाँच-मंजिला पंच महल, जोधाबाई का महल और राजा बीरबल का महल जो संभवतः
प्रशासनिक अथवा औपचारिक इमारतों में मानी जाती हैं।
प्रश्न 21. अकबर के शासन काल में भू-राजस्व व्यवस्था का वर्णन कीजिए। [B.M.2009A]
उत्तर-1. अकबर के भू-राजस्व संबंधी सुधार (Akbar’s Revenue Reforms)-एक
कुशल प्रशासनिक होने के नाते अकबर समझता था कि जब तक भू-राजस्व व्यवस्था में सुधार
नहीं होगा, राजकीय कोष रिक्त ही रहेगा क्योंकि भू-राजस्व ही राजकीय आय का सबसे बड़ा
स्रोत था। इसलिए उसने राजा टोडरमल से इस संबंध में सहायता ली। अकबर जानता था कि
शेरशाह के काल में भी टोडरमल ने अभूतपूर्व भू-सुधार किए थे।
2. टोडरमल का जब्ती प्रबंध (Jabti system of Todar Mal)-1581 ई. में अकबर ने
टोडरमल की भू-व्यवस्था जब्ती प्रणाली लागू कर दी। इस व्यवस्था के अधीन आने वाले प्रदेश
थे-अवध, आगरा, इलाहाबाद, दिल्ली, मालवा, अजमेर, लाहौर, मुल्तान आदि ।
3. भूमि की पैमाइश (Measurement of Land)-समस्त कृषि योग्य भूमि की नाप करवाई
गई। उसने रस्सी के गजों के स्थान पर 41 अंगुल वाले बाँस के गज का प्रयोग किया। बाँस
के सिरों पर पहले छल्ले लगे हुए थे। समस्त कृषि योग्य भूमि को 182 भागों में बाँटकर, प्रत्येक
भाग को अमलगुजार नामक अधिकारी के अधीन कर दिया गया।
4. भूमि का वर्गीकरण (Classification of Land)-उत्पादक क्षमता के आधार पर भूमि
का वर्गीकरण किया गया :
(i) पोलज (Polege)-जिस भूमि पर हर साल बुआई होती थीं।
(ii) परती (Parti)-जिस भूमि पर कुछ वर्षों बुआई न हुई हो।
(iii) चाचर (Chachar)-दो या तीन साल के बाद कोई गई भूमि ।
(iv) बंजर (Banjar)-अधिक समय तक खाली पड़ी भूमि को बंजर कहा जाता था।
5. औसत उपज के 1/3 भू भाग पर राज्य का अधिकार होता था किंतु इस मात्रा में भूमि
की उत्पादकता तथा कर निर्धारण की पद्धति के अनुसार अंतर भी होता रहता था।
6. दहसाला प्रणाली में दस सालों के लिए एक ही दर से कर निर्धारित नहीं किए जाते थे।
यह स्थिर भी नहीं होती थी। इसी तरह से जब्ती प्रणाली को भी टोडरमल की सहायता से लागू
किया गया था।
प्रश्न 22. कृषक वर्ग के सन्दर्भ में मुगलों विशेषकर अकबर की भूराजस्व नीति की
समीक्षा कीजिए।
उत्तर-कृषक वर्ग या कृषि की स्थिति (Position of Peasantary class or condition
of agriculture)-कृषि लोगों का मुख्य व्यवसाय था। अकबर ने अपने राजस्व-प्रबन्ध अथवा
भूमि प्रबन्ध (Land-Revenue System) से किसानों की दशा सुधारने का काफी प्रयत्न किया। उसने किसानों की भलाई के लिये भूमि की पैमाइश करवाई, उपज के अनुसार भूमि को चार भागों में बाँटा, सरकारी भाग को निश्चित किया तथा अनेक योग्य अधिकारी नियुक्त किये ताकि कोई भी किसानों को ठग न सके। स्थानीय परिस्थितियों को देखते हुए उसने किसानों को सुविधा के लिए जब्ती, बटाई और नसक आदि अनेक लगान पद्धतियाँ प्रारम्भ की। इसके अतिरिक्त उसने किसानों के लाभ के लिए सिंचाई को ठीक करने के लिए नहरें और तालाब बनवाये तथा नदियों पर बाँध बनाये गये। निसन्देह अकबर के इन प्रयत्नों से किसानों की दशा कुछ अवश्य सुधरी, परन्तु इसके बाद उनकी स्थिति फिर शुरू हो गई और किसान का जीवन गरीबी के दायरे में सीमित होकर रह गया । लगातार युद्धों तथा फौजों के इधर-उधर आने-जाने से उनकी फसलों को काफी हानि होती थी। बहुत रोक लगाने पर भी सरकारी अधिकारी प्रायः उन्हें तंग ही करते रहते थे। कृषि का दारोमदार वर्षा पर ही था । जब कभी वर्षा नहीं होती थी तो देश में अकाल (Famines) पड़ जाते थे और कृषकों की अवस्था और भी बुरी हो जाती थी। मुगल सम्राट् लोगों की सहायता करने का अवश्य प्रयत्न करते थे, परन्तु एक तो यातायात के साधन इतने ठीक न होने के कारण और दूसरे सहायता के कम होने के कारण, बहुत से लोग भूख से मर जाते थे। ऐसी अवस्था में किसान बेचारे कैसे ऊपर उठ सकते थे। इसलिए उनकी गणना प्रायः समाज के निम्न वर्गों में ही की जाती थी।
प्रश्न 23. अब्दुल फजल की ‘आइने अकबरी’ के आधार पर कृषि उत्पाद एवं कृषक
वर्ग का संक्षिप्त वर्णन कीजिए।
उत्तर-मुगलकाल में आर्थिक जीवन पर अबुल फजल की ‘आइने-अकबरी’ और विभिन्न
विदेशी यात्रियों के विवरणों से विस्तृत प्रकाश पड़ता है।
कृषि उत्पाद एवं कृषक वर्ग (Agricultural production and peasantan class)-
‘आइने अकबरी’ में रबी (बसन्त) की 16 फसलों तथा खरीफ (शरद ऋतु) की 25
फसलों का उल्लेख है। मुख्य खाद्य पदार्थ गेहूँ, चावल, दालें थीं। बयाना (आगरा के निकट),
सरखेज (गुजरात) में सर्वोत्तम प्रकार की नील का उत्पाद किया जाता था; भारत में तम्बाकू और
आलू (1605) ई. में पुर्तगालियों द्वारा लाई गई थी; मक्का भी इसी समय अमरीका से भारत लाया गया था। शाहजहाँ ने अकाल से निपटने के लिए नहरों की व्यवस्था सिंचाई हेतु की थी; उसने नहर-ए-फैज (रावी नहर 150 किमी लम्बी लाहौर तक) का निर्माण किराया था। शाहजहाँ द्वारा निर्मित दूसरी नहर ‘नहर-ए-साहिब’ थी। मुगल काल की तिजारती (नकदी) फसलें गन्ना, कपास, नील, रेशम आदि थीं। मुगलकालीन कृषक वर्ग प्रमुखतः तीन श्रेणियों में विभक्त था-
(i) खुदकाश्त-वे खेतिहर जो उसी गाँव की भूमि पर खेती करते थे जहाँ के वे निवासी
होते थे, इन्हें अपनी भूमि पर स्थायी एवं वंशानुगत स्वामित्व प्राप्त होता था।
(ii) पाहीकाश्त-वे किसान जो दूसरे गाँवों में अस्थायी रूप से जाकर बंटाईदार के रूप में खेती करते थे।
(iii) मुजारियान-वे खुदकाश्त की जमीन को किराये (बंटाई) पर लेकर खेती करते थे।
प्रश्न 24. जमींदार के प्रशासनिक कार्य-कलाप बताइए।
उत्तर-(i) जमींदार कृषक संपत्ति को छोड़कर अपनी शेष जमीनों को काश्तकारों को
वंशानुगत पदों पर दे देते थे। पद दिए जाने के फलस्वरूप उनका काश्तकारों पर अधिकार सुरक्षित रहता था।
(ii) वे कोशिश करते थे कि किसानों में राजस्व इकट्ठा किया जाए।
(iii) लगान के अपने-हिस्से-के-साथ-साथ के कई तरह के उप कर (sub-taxes) =
cesses वसूल करते थे।
(iv) वे राजस्व व उपकरों से होने वाली आय का एक हिस्सा पाशा को देते थे।
(v) जमींदारों को विपत्ति के समय कई बड़े हाकिमों के हुक्म पर फौज की टुकड़ियाँ बादशाह
को देनी पड़ती थी।
(vi) जमींदार अपने क्षेत्र में कानून व्यवस्था बनाए रखते थे जिसके लिए उन्हें कमीशन,
कटौती, लगानमुक्त, भूमि आदि मिलते थे।
(vii) जमींदार अपने अधिकारों को बढ़ाने, अच्छी भूमि प्राप्त करने, जमींदार क्षेत्र की वृद्धि
के लिए प्रायः संघर्ष किया करते थे।
प्रश्न 25. अकबर और उत्तराधिकारियों के काल में जमींदारों के समय कार्य कलाप का
वर्णन कीजिए।
उत्तर-अकबर और उसके उत्तराधिकारी हमेशा यह चाहते थे कि राजा लोग बादशाह के
अधिक राजस्व को मान्यता दे, उन्हें नजराने भेंट करते रहें और जब आवश्यकता हो, तब उन्हें
सैनिक सहायता भी उपलब्ध कराएँ । मुगल जमीदारों और राजाओं के बीच समरस संबंध कभी
नहीं रहे।
जमींदारों “खालिसा” में आ जाने पर कुछ सरदार जमींदारों को या सरकारी अफसरों को
वार्षिक “जमा” और “पेशकश” दोनों ही अदा करते थे। अदायगी में हुई चुक गद्दारी मानी जाती
थी, जिसके लिए उन पर सैनिक चढ़ाई कर उन्हें अपने पद से हटाया जा सकता था या उनके
स्थान पर किसी और की नियुक्ति भी की जा सकती थी। कुल मिलाकर सरदारों या राजाओं को
आंतरिक स्वायत्तता प्राप्त थी और वे अपने इलाकों का शासन मुगल सम्राट मदद के बिना ही चलाते थे। कभी-कभी कुछ राजपूत राजाओं ने अपनी मनमानी से मुगल राज की कुछ विशेषताओं को थोड़े बहुत परिवर्तनों के साथ स्वयं ही अपना लिए, जैसे जोधपुर और मेवाड़ ने जागीरदार प्रथा को, आमेर और जोधपुर ने “जब्ती” को। बड़े राजाओं की तुलना में छोटे सरदारों या राजाओं पर केन्द्रीय नियंत्रण अधिक कड़ा था।
प्रश्न 26. जमींदार के जीवन की प्रमुख विशेषताएँ बताइए।
उत्तर-(i) सामाजिक दृष्टि से मुगलकालीन भारत में जमींदारों का एक विषय जातीय वर्ग
था। कुछ जमींदार बहुत छोटे होते थे और कुछ बहुत बड़े। अलग-अलग स्थानों पर इनके
अधिकार और उत्तदायित्व अलग-अलग थे। कुछ क्षेत्रों में वे भू-राजस्व के मुख्य साधन थे जबकि
अन्य क्षेत्रों में वे मुगल सम्राट को नजराने देने वाले थे।
(ii) जमींदारों को कई मदों पर खर्चा करना पड़ता था और कई साधनों में उनकी आमदनी
होती थी। भूमि कर के अतिरिक्त उन्हें उत्पादन में हिस्सा (जो महसूल कहलाता था)
हुक्कू-ए-जमींदारी के रूप में भी आमदनी मिलती थी और हक-ए-मिल्कियत से भी उन्हें आय
मिलती थी। वह अपनी आमदनी से अपने और अपने परिवार का खर्च चलाते थे। सेना रखते
थे, घोड़ों और सैनिक समान पर खर्च करते थे।
(iii) जमींदार खुद काश्तकारों से भू-राजस्व वसूल करते थे और पहले से ही तय की गई
रकम अधिकारी को देते थे। प्रायः जमींदार अधिकारियों को अपनी आय का 1/10 भाग देते थे ।
4. जमींदारों के जीवन-स्तर के बारे में राय प्रकट करना कठिन कार्य है। इतिहासकार
सतीशचंद्र के अनुसार जागीरदारों की तुलना में जमींदारों की आय सीमित थी।
(v) चाहे छोटे जमींदार कमोबेश काश्तकारों की तरह ही जीवन-यापन करते हों, किंतु बड़े
जमींदारों का जीवन-स्तर तो निश्चित रूप से जागीरदारों के जीवन-स्तर से होड़ करता था, क्योंकि उनके व्यय का अधिकांश हिस्सा स्पष्ट उपभोग के काम आता था। अधिकांश प्रत्यक्षः ग्रामीण क्षेत्र में रहते थे और सतीश चंद्र के शब्दों में, उनका जीवन “ढुलमुल स्थानीय कुलीन वर्ग” का सा था।
(vi) रैयती गाँव में मुगल प्रशासन किसानों से सीधे ही लेन-देन करता था। जमींदार अपने
अधिकार क्षेत्र में आने वाली भूमि के लिए राजस्व देता था। इस तरह जमींदारों को पुश्तैनी आधार
पर अधिकारियों के लिए की गई ऐसी सेवा माना जाता था जिसके एवज में उन्हें नियुक्त किया
जाता था।
प्रश्न 27. जमींदारों के अधिकारों की प्रकृति पर एक टिप्पणी लिखें।
उत्तर-(i) अपनी जमींदारी के प्रभाव क्षेत्र में आने वाली जमीन के काश्तकार जो अतिरिक्त
उत्पाद पाते थे, उसमें जमींदार का हिस्सा, उसी जमीन पर शाही अधिकारियों द्वारा निर्धारित
मालगुजरी की रकम की तुलना में निश्चय कम होता
(ii) जमींदार अपनी इच्छा से अपने हिस्से को बढ़ा नहीं सकता था । जहाँ कहीं उसका हिस्सा
मालगुजारी में से छूट जाता था, वह छूट एक तरह से नियत और स्थाई होती थी अर्थात् या तो
10% होती थी या चौथाई।
(iii) इरफान हबीब ने सही कहा है कि जमींन के उत्पाद में एक हिस्से के रूप में जमींदार
को यद्यपि “मालिक” माना जाता था, फिर भी वह उपनिवेशी काल (Colonial period) की
तरह जमीन का वैसा मालिक नहीं था जो भू-कर तो देता था, पर अपने किराएदारों से अपनी
इच्छा के अनुसार किराया वसूल करता था ।
(iv) इरफान हबीब स्पष्ट करते हैं कि जमींदार का आशय भूमि पर स्वत्वाधिकार होना नहीं
है। भूमि के उत्पादन से संबंधित अन्य अधिकारों और हकों के साथ इसका सहअस्तित्व था।
साथ ही यह भी जान लेना महत्वपूर्ण है कि जमींदारी में खुद-ब-खुद (न कि जमींदारी के अधीन
आने वाली भूमि) निजी संपत्ति के अंतर्नियमों के भी अभिलक्षण मौजूद थे। वह उत्तराधिकार में
मिल सकती थी और उसे बिना किसी रुकावट के खरीदा और बेचा जा सकता था।
मुगल साम्राज्य में जमींदारी की पैतृक उत्तराधिकार एक सामान्य नियम था। जमींदारी को
एक अविभाज्य इकाई भी नहीं माना जाता था, क्योंकि उत्तराधिकारों के दावों की पूर्ति के लिए
उनका विभाजन भी सदा संभव था। जमींदारी को पट्टे पर भी हस्तांतरित किया जा सकता था।
प्रश्न 28. आइने-ए-अकबरी और इरफान हबीब द्वारा की गई व्याख्याओं के आधार
पर मुगलकालीन जमींदारों की सैनिक शक्ति पर एक अनुच्छेद लिखें।
उत्तर-जमींदारों की सैनिक शक्ति का इरफान हबीब द्वारा की गई व्याख्य, आइने-ए-अकबरी
में प्रस्तुत विवरणों पर आधारित है और विश्वसनीय है। जमींदारों द्वारा नियोजित आश्रितों (उलुस) का केंद्र अपनी जाति के लोगों द्वारा निर्मित होता था. और उसकी अनुपूर्ति कृषकों से की जाती थी। हबीब कृषक, शांतिवाद में अपने विश्वास को यह कह कर व्यक्त करते हैं कि कृषक वर्ग
जमींदारों की सेवा करने के उद्देश्य से नहीं वरन उनसे “प्रभावित” होकर उनका सहायोग करते
थे। लेकिन कृषक संस्कृति (peasant culture) का गहन अध्ययन करने वाले डी. एच. ए.
काल्फ (D.H.A. Kalf) तत्कालीन गाँवों और कस्बों में “युद्ध प्रिय पर परंपरा के मूल” के
अस्तित्व पर बल देते हैं। उनका निष्कर्ष है कि “उत्तर भारत का कृषक समाज….” व्यावसायिक
दृष्टि से सभी प्रकार के हथियारों के प्रयोग में कुशल था इसलिए मुगलों की प्रादेशिक सेना में
अनेक जमींदार और कृषक सम्मिलित थे।
प्रश्न 29. अकबरकालीन नफाइल-उल मासिर पर एक ऐतिहासिक ग्रंथ के रूप में
टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-नफाइल-उल मासिर-शायद अकबर के काल पर सबसे पहली ऐतिहासिक किताब
यही है। मीर अलाउद्दौला कजवीनी ने जो एक कवि था, इस किताब की रचना अकबर की
कविता में रुचि को देखकर की। यह किताब कवियों की जीवनी पर आधारित है। इसको 28
अध्यायों में बाँटा गया है। अलग-अलग अध्यायों में अलग-अलग कवियों का उनके “तखल्लुस”
के पहले शब्द के अनुसार जिक्र किया गया है।
इस रचना में 1565-66 से 1574-75 तक के हालात मौजूद हैं। बाबर, हुमायुंँ और अकबर
के समय से उमर और बाबर और दूसरे तैमूरी शाहजादों की औलादों जिक्र उन्होंने “बेतो”
(अध्यायों) में किया है जिनमें कवियों का वर्णन है। बाबर और हुमायूँ के लिए कजवीनी ने
तुज्क-ए-बाबरा और तारीख-ए-रशादा पर पूरा भरोसा किया है और उनसे खूब फायदा उठाया
है। शायद अकबर के काल के इबतिदाई हालात की जानकारी उसे अपने भाई मीर अब्दुल लतीक
से मिली थी क्योंकि वह अकबर के पहले ही साल में ईरान से आकर उसकी मुलाजमत में दाखिल
हो गया था।
इस ग्रंथ में अकबर को शरीयत का शिक्षक और उलमा का सरपरस्त बताने की कोशिश
की गई है। उसकी विजय को इस्लाम फैलाने के जलवे से जोड़ा गया है। लेखक राजा भारमल
को मुतीउलइस्लाम (इस्लाम का वफादार) की पदवी देता है। उसका मत है कि गुजरात की फतह
के पीछे कोई राजनीतिक कारण नहीं था बल्कि अकबर का मतलब वहाँ के अफगान महदीयों को जड़ से खत्म कर देना था।
आगरा और फतेहपुर सिकरी की बहुत सी इमारतों का हाल इस किताब के महत्त्व को और
बहुत देता है। इसमें अकबर के दरबारी गवैयों और शायरदों का हवाला भी मिलता है। उमरा
और “शोरा” कि जिंदगी सामाजिक, मजहबी तथा इल्मी माहौल को प्रकट करती है।
प्रश्न 30. तारीख-ए-अकबरी पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-तारीख-ए-अकबरी: यह नफाइस उलमासिर के ढंग पर लिखी गई अकबर के
दौर से संबंधित एक और किताब है। इसका लेखक आरिफ कंधारी 1545 के बाद बैरम खाँ
की मुलाजमत में दाखिल हुआ और आखिरी समय तक (जनवरी 1561) उसके साथ रहा ।
1574 में वह मक्का-मदीना से लौटा और मुजफ्फर खाँ (जो पहले बैरम खाँ का “दीवान-ए-
ब्यूतात” रहा था) का मुलाजिम हो गया । नवंबर-दिसंबर 1577 में दिल्ली आकर वह शाही कैंप
में शामिल हुआ और मखदूम, लमुलक अब्दुल्ला सुल्तानपुरी के तहत “दीवाने-ए-सआदत” बना
कर पंजाब भेज दिया गया । लगता है कि वह मुल्ला के साथ निभाव न कर सका और उसने
इस्तीफा दे दिया। तारीख-ए-अकबरी, जो उसने पहले ही शुरू कर दी थी, अगस्त 1585 तक खत्म हुई।
कंधारी ने अकबर के सुधारों की चर्चा की है और सराहा है। जमींदारों के प्रति नीति को
लेखक ने अकबर का सबसे बड़ा कारनामा बताया है। वह लिखता है कि हिंदुस्तान में
लगभग-दो-तीन सौ ‘जमींदार हैं जिनको शक्ति के बल पर काबू में लाना असंभव है। शहंँशाह
ने अपनी अकलमंदी से उनको अपने साथ मिला कर अमन और सकून का रास्ता अपना लिया
है। अकबर के सुधारों और उसके काल की इल्मी और समानी गतिविधियों को खोलकर पेश
किया गया है। बैरम खाँ का मुलाजिम होने की वजह से कंधारी ने उसकी तरफदारी करते हुए
पीर मोहम्मद खाँ पर मक्कारी और गद्दारी का आरोप लगाया है। अकबर के करोरी के जरबे
की सराहना करते हुए उसने लिखा है कि इसका मकसद खेती को बढ़ावा देना, “ऐमादारों” के
कपट को रोकना और उनकी और किसानों की जमीनों की सही निशानदेही करना था। दाग प्रथा
के लागू करने, जागीरों के जब्त करने और मनसबदारों को नकदी तनख्वाह बँटवाने से जो तनाव
उत्पन्न हुआ, उसका पूरा ब्यौरा इस लेखक ने पेश किया है।
प्रश्न 31. अलबरूनी द्वारा बताई गई महिलाओं की स्थिति पर प्रकाश डालिये।
उत्तर-अरबी यात्री अलबरूनी की किताब-उल-हिन्द में तत्कालीन (11वीं सदी) भारत की
महिलाओं की दशा का विशद वर्णन है। उनके अनुसार हिन्दू लड़कियों की शादी अल्पायु में ही
हो जाती थी, तलाक की प्रथा नहीं थी जबकि सती प्रथा का प्रचलन था। पुरुष एक से चार पत्नियाँ रख सकते थे। देवदासी तथा वेश्यावृत्ति की प्रथा भी प्रचलित थी। कुल मिलाकर अलबरुनी का विवरण समाज में महिलाओं की कमजोर स्थिति का ही सूचक है।
प्रश्न 32. अकबर के व्यक्तित्व पर टिप्पणी दें।                  [B.M.2009A]
उत्तर-अकबर इतिहास में महान् की उपाधि से विभूषित है और इसकी महानता का मुख्य
कारण है-इसका विराट् व्यक्तित्व। साम्राज्य की सुदृढ़ता, साम्राज्य में शांति स्थापना तथा मानवीय
भावनाओं से उत्प्रेरित अकबर ने न सिर्फ गैर-मुसलमानों को राहत दिया, राजपूतों के साथ वैवाहिक संबंध स्थापित किया बल्कि एक कुशल प्रशासनिक व्यवस्था भी प्रदान किया। धार्मिक सामंजस्य के प्रतीक के रूप में उसका दीन-ए-इलाही प्रशंसनीय है।
प्रश्न 33. तबकात-ए-अकबरी पर एक संक्षिप्त टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-तबकात-ए-अकबरी-इसके लेखक निजामुद्दीन अहमद थे। उनके पिता का नाम
ख्वाजा मोहम्मद मुकीम हरवी था जो बाबर का दीवार-ए-बयूता था। हुमायुं और अकबर के
जमाने में भी उसने अजीम खिदमात अन्जाम दी। निजामुद्दीन एक पढ़ा लिखा और मिलनसार
आदमी था। हर तबके और नजरिए के विद्वानों से उसका ताल्लुक ।। बहुत से हमलों में वह
अकबर के साथ रहा। उसने गुजरात में बख्शी के पद पर काम किया। मालवा और अजमेर में
भी वह ऊँचे ओहदों पर नियुक्त रहा। ऐसे में उसे हालात की व्यक्तिगत जानकारी हासिल करने
में काफी मदद मिली। वह तारीख-ए-अलफी लिखने वाले बोर्ड का सदस्य भी रहा था। वह
एक मशहूर इतिहासकार और समझदार अधिकारी था। 1594 में उसकी मृत्यु हुई।
तबकात-ए-अकबरी-हिंदुस्तान की साधारण तारीख है। यह नौ हिस्सों में विभाजित है।
सलातीन-ए-देहली और मुगलों का हाल पहले दो हिस्सों में दिया गया है। दकन, गुजरात, मालवा,
बंगाल, जौनपूर, सिंध और मुलतान के हालात बाकी हिस्सों में दिए गए हैं।
निजामुद्दीन ने अकबरनामा और आईने अकबरी से पूरा फायदा उठाया है। इसके अलावा
उसने 28 दूसरे ग्रंथों का भी हवाला दिया है, लेकिन उनमें से बहुत से अब उपलब्ध नहीं हैं। बाबर
के हालात ज्यादातार बाबरनामा से लिए गए हैं। उसने अपने पिता की जानकारी से पूरा फायदा उठाया है। हुमायूँ और अकबर के हालात काफी हद तक तारीख-ए-अलफी से लिए गए हैं।
अबुल फजल की चापलूसी और बदायूँनी की घृणा और कट्टरता के बीच निजामुद्दीन ने अपने
लिए एक नया रास्ता बनाया है। वह अकबर के काल का एक समझदार और इंसाफ पसंद
इतिहासकार है।
प्रश्न 34. अबुल फजल कौन था? उस पर टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-अबुल फजल (Abul Fazal)-वह अकबर कालीन महान कवि, निबन्धकार,
इतिहासकार, राजनीतिज्ञ, सेनापति तथा आलोचक था। उसका जन्म 1557 ई. में आगरा के प्रसिद्ध सूफी शेख मुबारक के यहाँ हुआ था। उसने 1574 ई. में अकबर के दरबारियों के रूप में अपना जीवन शुरू किया। उसने कोषाध्यक्ष से लेकर प्रधानमंत्री तक के पद पर कार्य किया। यह भारतीय इतिहास में एक महान इतिहासकार के रूप में प्रसिद्ध है। उसने दो प्रसिद्ध ऐतिहासिक पुस्तकों की रचनाएँ की। वे थीं-‘अकबरनामा’ तथा ‘आइने अकबरी’। ये दोनों ग्रंथ फारसी भाषा में
लिखे गये और अकबर कालीन इतिहास जानने के मूल स्रोत हैं। अकबरनामा अकबर की जीवनी, विजयें शासन प्रबन्ध के साथ-साथ तत्कालीन भारतीय राजनैतिक, सामाजिक, धार्मिक तथा आर्थिक परिस्थितियों को समझने में भी सहायक हैं। उसने ‘पचतंत्र’ का अनुवाद फारसी में किया और उसका नाम ‘अनघरे साहिली’ रखा। उसे अकबर के नौ रत्नों में स्थान प्राप्त था। उसने
अनेक सैनिक अभियानों का नेतृत्व भी किया। वह पर्याप्त समय तक अकबर का प्रधान मंत्री और परामर्शदाता रहा। उसके विचार सूफी सन्तों से मिलते थे। धार्मिक दृष्टि से उसका दृष्टिकोण
बहुत उदार था। कहा जाता है कि उसी ने अकबर को दीन-ए-इलाही नामक धर्म चलाने की
प्रेरणा दी थी। इबादतखाने में वह सूफी मत के लोगों का प्रतिनिधित्व किया करता था। अकबर
के नौ रत्नों में दीन-ए-इलाही को अपनाने वाला वह पहला व्यक्ति था उसे सलीम ने ओरछा नरेश
वीरसिंह बुन्देला के साथ सांठ-गांठ करके मरवा डाला था। कहते हैं कि अबुल फजल की मृत्यु
के शोक में अकबर ने तीन दिनों तक दरबार नहीं किया। अकबर ने भावुक होकर कहा था कि
“अगर सलीम राज्य चाहता था तो वह मेरी हत्या करवा देता लेकिन अबुल फजल को छोड़
देता।” जब तक भारतीय इतिहास में अकबर का नाम रहेगा तब तक अबुल फजल को अवश्य
याद किया जायेगा।
प्रश्न 35. ‘तोहफा-ए-अकबर शाही’ पर एक टिप्पणी लिखिए।
उत्तर-तोहफा-ए-अकबरशाही (Tohafa-i-Akbarshahi)
(i) इस पुस्तक की रचना अब्बास खाँ सरवानी ने मुगल सम्राट अकबर के आदेश पर रची
थी। उसने इस पुस्तक में शेरशाह सूरी की उपलब्धियों को उजागर करने की पूरी कोशिश की
है। उसका स्रोत (लेखक के विवरणानुसार) उसकी स्वयं की स्मरणशक्ति तथा कुछ अफगान
उमरावर्ग के लोग थे। उसने यह पुस्तक अकबर को समर्पित की थी।
(ii) अब्बास खाँ सरवानी अपनी किताब सुल्तान बहलोल लोदी के जिक्र से शुरू करता है।
शुरू का भाग इतना प्रभावशाली नहीं है जितना कि 1538 के बाद का हिस्सा है। चौसा की लड़ाई के मुकाबले में बिलग्राम लड़ाई का जिक्र काफी विस्तार से किया गया है । मुगलों के भागने और शेरशाह द्वारा उनका पीछा करने का विवरण संक्षेप में दे दिया गया है।
(iii) इसमें सिंध पार के इलाके में शेरशाह की शासन प्रणाली का जिक्र विस्तार से किया
गया है। शेरशाह द्वारा माखांड की जीत, कालिंजर का घेरा और उसकी मौत के बारे में अब्बास
खाँ की दी गई सूचना काफी दिलचस्प है। आखिर में शेरशाह की शासन-प्रणाली और उसमें
लाए गए सुधारों की चर्चा की गई है, जो काफी महत्त्वपूर्ण है। यहाँ हमारे लेखक ने वाकयात-ए-मुशताकी से पूरा लाभ उठाया है। तोहफा-ए-अकबरशाही से सारे मुगल और अफगान लेखकों ने फायदा उठाया है जिससे इस स्रोत का महत्त्व स्पष्ट होता है।
प्रश्न 36. मुगल काल में भूमि को मुख्यतः कितने वर्गों में वर्गीकृत किया गया था ?
                                                                                    [B.M.2009A]
उत्तर-मुगल काल में भूमि को उपज तथा कर निर्धारण की दृष्टि से चार भागों में बाँटा
गया था। ये निम्नलिखित थे-
(i) पोलज-इसमें वर्ष में दो फसल होती थी तथा सरकार प्रत्येक वर्ष कर लेती थी।
(ii) परैती-दो-तीन वर्ष खेती के बाद एक वर्ष के लिए छोड़ दिया जाता था।
(iii) छच्छर-इसे तीन-चार वर्ष छोड़ना पड़ता था।
(iv) बंजर-निम्न कोटि की इस भूमि को पाँच वर्षों के लिए छोड़ना पड़ता था।
प्रश्न 37. “अकबर किसानों का हितैषी था।” इस कथन की संक्षिप्त व्याख्या कीजिए।
उत्तर-अकबर द्वारा किसानों के हित के लिए किए गए कार्य (Works done by
Akbar for farmers interest)-अकबर अपने प्रशासन सुधार और लोक कल्याण के लिए
भारतीय इतिहास में प्रसिद्ध है। उसने किसानों के हित के लिए अनेक सुधार किए :
1. उसने कृषि योग्य सारी भूमि को नपवाया और कर निर्धारण पद्धति में अनेक सुधार किए।
2. उसने किसानों को लगान नकद या गल्ले में देने की छूट दी।
3. उसने अपने सभी अधिकारियों को आदेश दे रखे थे कि वे किसानों के साथ अन्याय
न करें और उनसे उतना ही लगान वसूल करें जितना वास्तव में लगान बनता हो । उन अधिकारियों को कर वसूली के बाद किसानों को रसीद भी देने को कहा गया ।
4. अकबर ने आवश्यकता पड़ने पर किसानों को बीज, औजारों, पशुओं आदि की खरीदारी
करने के लिए तकावी ऋण भी दिए।
5. उसने किसानों को उपज में सुधार व अच्छी फसल बोने के लिए प्रोत्साहित किया ।
6. किसानों एवं जीमदारों को भूमि का पैतृक अधिकार प्रदान किया गया। इस स्थाई भूमि
अधिकार ने किसानों को अधिक लगान और मेहनत से भूमि जोतने और सुधारने के लिए प्रोत्साहित किया।
प्रश्न 38. अकबर को “राष्ट्रीय शासक” क्यों कहा जाता है ? [B. Exam.2009,2012(A)]
उत्तर-अकबर इतिहास में महान की उपाधि से विभूषित हैं और उसकी महानता का मुख्य
कारण है-उसका विराट् व्यक्तित्व। साम्राज्य की सुदृढ़ता, साम्राज्य में शांति स्थापना तथा मानवीय
भावनाओं से उत्प्रेरित अकबर ने न सिर्फ गैर मुसलमानों को राहत दिया, राजपूतों के साथ वैवाहिक संबंध स्थापित किया बल्कि एक कुशल प्रशासनिक व्यवस्था भी प्रदान किया। धार्मिक सामंजस्य के प्रतीक के रूप में उसका दीन-ए-इलाही प्रशंसकीय है।
प्रश्न 39. बलबन की उपलब्धियों का मूल्यांकन करें। [B.Exam.2011(A)]]
उत्तर-बलबन इल्तुतमिश के चहलगानी दल का सदस्य था। बलवन ने राजस्व का एक नया
सिद्धान्त प्रतिपादित किया। बलबन ने एक केन्द्रीय सैन्य विभाग की स्थापना की एवं गुप्तचर विभाग का भी संगठन किया। उसने पहली बार मंगोलों से बचाव के लिए सीमान्त क्षेत्रों में दुर्ग का निर्माण करवाया और वहाँ योग्य सेना भूदयक्षों को नियुक्त किया। बलबन कुरान के नियमों को शासन का आधार मानता था। बलबन ने ईश्वर, शासक तथा जनता के बीच त्रिपक्षीय संबंधों को राज्य का आधार बनाने का प्रयत्न किया।
                                             दीर्घ उत्तरीय प्रश्न
                               (Long Answer Type Questions)
प्रश्न 1. विचाराधीन काल में मौद्रिक करोबार की अहमियत की विवेचना उदाहरण
देकर कीजिए।                                                [N.C.E.R.T. T.B.Q.4]
Discuss, with examples, the significance of monetary transactions during the period under consideration.
उत्तर-सोलहवीं और सत्रहवीं शताब्दी में मौद्रिक कारोबार की अहमियत (Significance
of monetary transactions during the sixteenth and seventeeth centuries):
(i) सोलहवीं शताब्दी के प्रारंभ में किसानों को नकदी अथवा जीन्स में भू-राजस्व अदा करने
की छूट दी गई थी। किसानों को नकदी में भू-राजस्व भुगतान की सुविधा के कारण मौद्रिक
कारोबार को भारतीय अवस्था में महत्त्वपूर्ण भूमिका निर्वाह करने का अवसर मिला।
(ii) ग्रामीण शिल्पकार (कुम्हार, लोहार, नाई, बढ़ई, सुनार) ग्रामीण लोगों को विशेष प्रकार
की सेवाएंँ प्रदान करते थे। फसल कटने और पकने पर प्रायः उन्हें फसल का एक हिस्सा दिया
जाता था लेकिन इस व्यवस्था के साथ-साथ किसान और शिल्पकार परस्पर लेन-देन के बारे में
आपसी शर्तें तय करके प्रायः लोगों को नकदी में भुगतान करते थे।
(iii) गाँव में प्राय: स्थानीय छोटे व्यापारी और सराफ पाए जाते थे। प्रायः उन्हें नकदी में
लेन-देन करने का अधिक शौक था। पंचायतें भी अपराधियों पर नकद जुर्माने लगाती थी। आम
परिस्थितियों में शहरों और गाँवों में वस्तुओं और सेवाओं का विनिमय होता था।
(iv) उदाहरण के तौर पर, अठारहवीं सदी के स्रोत बताते हैं कि बंगाल में जमींदार उनकी
सेवाओं के बदले लोहारों, बढ़ई और सुनारों तक को “रोज का भत्ता और खाने के लिए नकदी
देते थे।” इस व्यवस्था को जजमानी कहते थे, हालांकि यह शब्द सोलहवीं व सत्रहवीं सदी में
बहुत इस्तेमाल नहीं होता था। ये सबूत मजेदार हैं क्योंकि इनसे पता चलता है कि गाँव के छोटे
स्तर पर फेर-बदल के रिश्ते कितने पेचीदा थे । ऐसा नहीं है कि नकद अदायगी का चलन बिलकुल ही नदारद था।
(v) सत्रहवीं सदी में फ्रांसीसी यात्री ज्यां बैप्टिस्ट तैवर्नियर को यह बात उल्लेखनीय लगी
कि “भारत में वे गाँव बहुत ही छोटे कहे जाएँगे जिनमें मुद्रा की फेर बदल करने वाले, जिन्हें
सराफ कहते हैं, न हों। एक बैंकर की तरफ सराफ हवाला भुगतान करते हैं (और) अपनी मर्जी
के मुताबिक पैसे के मुकाबले रुपये की कीमत बढ़ा देते हैं और कौड़ियों के मुकाबले पैसे की।”
(vi) मुगलों के केंद्रीय इलाकों में कर की गणना और वसूली भी नकद में की जाती थी।
जो दस्तकार निर्यात के लिए उत्पादन करते थे, उन्हें उनकी मजदूरी या पूर्व भुगतान भी नकद में
ही मिलता था। इसी तरह कपास, रेशम या नील जैसी व्यापारिक फसलें पैदा करने वालों का
भुगतान भी नकदी ही होता था।
(vii) मुगल साम्राज्य एशिया के उन बड़े साम्राज्यों में एक था जो सोलहवीं व सत्रहवीं सदी
में सता और संसाधनों पर अपनी पकड़ मजबूत बनाने में कामयाब रहे। ये साम्राज्य थे-मिंग (चीन
में), सफावी (ईरान में), और ऑटोपन (तुर्की में) । इन साम्राज्यों की राजनीतिक स्थिरता ने चीन
से लेकर भूमध्य सागर तक जमीनी व्यापार का जीवंत जाल बिछाने में मदद की।
(viii) खोजी यात्राओं से, और ‘नयी दुनिया’ के खुलने से यूरोप के साथ एशिया के, खास
कर भारत के, व्यापार में भारी विस्तार हुआ। इस वजह से भारत के समुद्र-पार व्यापार में एक
ओर भौगोलिक विविधता आई तो दूसरी ओर कई नयी वस्तुओं का व्यापार भी शुरू हो गया।
लगातार बढ़ते व्यापार के साथ, भारत से निर्यात होने वाली वस्तुओं का भुगतान करने के लिए
एशिया में भारी मात्रा में चाँदी आई।
(ix) इस चाँदी का एक बड़ा हिस्सा भारत की तरफ खिंच गया। यह भारत के लिए अच्छा
था क्योंकि यहाँ चाँदी के प्राकृतिक संसाधन नहीं थे।
(x) सोलहवीं से अठारहवीं सदी के बीच भारत में धातु मुद्रा-खास कर चाँदी के रुपयों-की
उपलब्धि में अच्छी स्थिरता बनी रही। इसके साथ ही एक तरफ तो अर्थव्यवस्था में मुद्रा संचार
और सिक्कों की ढलाई में अभूतपूर्व विस्तार हुआ, दूसरी तरफ मुगल राज्य को नकदी कर उगाहने में आसानी हुई।
(xi) इटली के एक मुसाफिर जोवान्नी कारेरी, जो लगभगर 1690 ई. में भारत से होकर गुजरा
था,ने इस बात का बड़ा सजीव चित्र पेश किया है कि किस तरह चाँदी तमाम दुनिया से होकर
भारत पहुँचती थी। उसी से हमें यह भी पता चलता है कि सत्रहवीं सदी के भारत में बड़ी अद्भुत
मात्रा में नकद और वस्तुओं का आदान-प्रदान हो रहा था।
प्रश्न 2. उन सबूतों की जाँच कीजिए जो ये सुझाते हैं कि मुगल राजकोषीय व्यवस्था
के लिए भू-राजस्व बहुत महत्त्वपूर्ण था।                      [N.C.ER.T. T.B.Q.5]
Examine the evidence that suggest that land revenue was important for
the Mughal fiscal system.
उत्तर-मुगल राजकोषीय व्यवस्था के लिए भू-राजस्व को महत्त्व (Importance of
Land-revenue for Mughal state treasuary):
(i) जमीन से मिलने वाला राजस्व मुगल साम्राज्य की आर्थिक बुनियाद थी। इस कारण से,
कृषि उत्पादन पर नियंत्रण रखने के लिए और तेजी से फैलते साम्राज्य सारे क्षेत्रों में राजस्व
आकलन व वसूली के लिए यह जरूरी था कि राज्य एक प्रशासनिक तंत्र खड़ा करे ।
(ii) दीवान, जिसके दफ्तर पर पूरे राज्य की वित्तीय व्यवस्था के देख-रेख की जिम्मेदारी थी,
इस तंत्र में शामिल था। इस तरह हिसाब रखने वाले और राजस्व अधिकारी खेती की दुनिया
में दाखिल हुए और कृषि संबंधों को शक्ल देने में एक निर्णायक ताकत के रूप में उभरे ।
(iii) लोगों पर कर का बोझ निर्धारित करने से पहले मुगल राज्य ने जमीन और उस पर
होने वाले उत्पादन के बारे में खास किस्म की सूचनाएँ इकट्ठा करने की कोशिश की। भू-राजस्व
के इंतजामात में दो चरण थे : पहला, कर निर्धारण और दूसरा वास्तविक वसूली।
(iv) जमा निर्धारित रकम थी और हासिल सचमुच वसूली गई रकम । अमील-गुजारा या
राजस्व वसूली करने वाले के कामों की सूची में अकबर ने यह हुक्म दिया कि जहाँ उसे
(अमील-गुजार को) कोशिश करनी चाहिए कि खेतिहार नकद भुगतान करे, वहीं फसलों में
भुगतान का विकल्प भी खुला रहे।
(v) राजस्व निर्धारित करते समय राज्य अपना हिस्सा ज्यादा से ज्यादा रखने की कोशिश
करता था। मगर स्थानीय हालात की वजह से कभी-कभी सचमुच में इतनी वसूली कर पाना संभव नहीं हो पाता था।
(vi) हर प्रांत में जुती हुई जमीन और जोतने लायक जमीन दोनों की नपाई की गई। अकबर
के शासन काल में अबुल फजल ने आइन में ऐसी जमीनों के सभी आँकड़ों को संकलित किया।
उसके बाद के बादशाहों के शासनकाल में भी जमीन की नपाई के प्रयास के प्रयास जारी रहे।
(vii) उदाहरणार्थ 1665 ई. में, औरंगजेब ने अपने राजस्व कर्मचारियों को स्पष्ट निर्देश दिया
कि हर गाँव में खेतिहरों की संख्या का सालाना हिसाब रखा जाए। इसके बावजूद सभी इलाकों की नपाई सफलतापूर्वक नहीं हुई। भारतीय उपमहाद्वीप के कई बड़े हिस्से जंगलों से घिरे हुए थे और इनकी नपाई नहीं हुई।
प्रश्न 3. आपके मुताबिक कृषि समाज में सामाजिक व आर्थिक संबंधों को प्रभावित
करने में जाति किस हद तक एक कारक थी?            [N.C.E.R.T. T.B.Q.6]
To what extent do you think caste was a factor in influencing soical and
economic relations in agrarian society ?
उत्तर : कृषि समाज के विभिन्न संबंधों को प्रभावित करने में एक कारक के रूप में
जाति की भूमिका (Role of caste as a factor in argricultural society to effects
different relations) : (1) जाति और जाति जैसे अन्य भेदभावों की वजह से खेतिहार किसान कई तरह के समूहों में बँटे थे। खेतों की जुताई करने वालों में एक बड़ी तादाद ऐसे लोगों की थी जो नीच समझे जाने वाले कामों में लगे थे, या फिर खेतों में मजबूरी करते थे।
(ii) यद्यपि खेती लायक जमीन की कमी नहीं थी, फिर भी कुछ जाति के लोगों को सिर्फ
नीच समझे जाने वाले काम ही दिए जाते थे। इस तरह वे गरीब रहने के लिए मजबूर थे जनगणना
तो उस वक्त नहीं होती थी, पर जो थोड़े बहुत आँकड़े और तथ्य हमारे पास हैं उनसे पता चलता
है कि गाँव की आबादी का बहुत बड़ा हिस्सा ऐसे ही समूहों का था। इनके पास संसाधन सबसे
कम थे और ये जाति व्यवस्था की पाबंदियों से बँधे थे। इनकी हालत कमोबेश वैसी ही थी जैसी
कि आधुनिक भारत में दलितों की।
(iii) दूसरे संप्रदायों में भी ऐसे भेदभाव फैलने लगे थे। मुसलमान समुदायों के हालातखोरान
जैसे ‘नीच’ कामों से जुड़े समूह गाँव को हदों के बाहर ही रह सकते थे; इसी तरह बिहार में
मल्लाहजादाओं (शाब्दिक अर्थ, नाविकों के पुत्र) की तुलना दासों से की जा सकती थी।
(iv) समाज के निचले तबकों में जाति, गरीबी और सामाजिक हैसियत के बीच सीधा रिश्ता
था। ऐसा बीच के समूहों में नहीं था। सत्रहवीं सदी में माड़वाड़ में लिखी गई एक किताब राजपूतों
की चर्चा किसानों के रूप में करती है। इस किताब के मुताबिक जाट भी किसान थे लेकिन जाति
व्यवस्था में उनकी जगह राजपूतों के मुकाबले नीची थी।
(v) सत्रहवीं सदी में राजपूत होने का दावा वृदावन (उत्तर प्रदेश) के इलाके में गौरव समुदाय
ने भी किया, बावजूद इसके कि वे जमीन की जुताई के काम में लगे थे। पशुपालन और बागबानी
में बढ़ते मुनाफे की वजह से अहीर, गुज्जर और माली जैसी जातियाँ सामाजिक सीढ़ी में ऊपर
उठीं। पूर्वी इलाकों में, पशुपालक और मछुआरी जातियाँ, जैसे सदगोप व कैवर्त भी किसानों की
भी सामाजिक स्थिति पाने लगीं।
प्रश्न 4.सोलहवीं और सत्रहवीं सदी में जंगलवासियों की जिंदगी किस तरह बदल गई?
How were the lines of forest dwellers transformed in the sixteenth and
seventeenth centuries?                      [N.C.E.R.T. T.B.Q.7]
उत्तर-(i) सोलहवीं-सत्रहवीं शताब्दी में अखिल भारतीय स्तर पर जंगलों के फैलाव का
औसत निकालना लगभग असंभव है, फिर भी समसामयिक स्रोतों से मिली जानकारी के आधार
पर ये अंदाजा लगाया जा सकता है कि यह औसत करीब-करीब 40 फीसदी था।
(ii) समसामयिक रचनाएँ जंगल में रहने वालों के लिए जगली शब्द का इस्तेमाल करती है।
लेकिन जंगली होने का मतलब सभ्यता का न होना बिलकुल नहीं था, वैसे आजकल इस शब्द
का प्रचलित अर्थ यही है। उन दिनों इस शब्द का इस्तेमाल ऐसे लोगों के लिए होता था जिनका
गुजारा जंगल के उत्पादों, शिकार और स्थानांतरीय खेती से होता था। ये काम मौसम के मुताबिक होते थे।
(iii) उदाहरण के तौर पर भीलों में, बसंत के मौसम में जंगल के उत्पाद इकट्ठा किए जाते,
गर्मियों में मछली पकड़ी जाती, मानसून के महीनों में खेती की जाती, और शरद व जाड़े के महीनों में शिकार किया जाता था। यह सिलसिला लगातार गतिशीलता की बुनियाद पर खड़ा था और इस बुनियाद को मजबूत भी करता था। लगातार एक जगह से दूसरी जगह घूमते रहना इन जंगलों में रहने वाले कबीलों की एक खासियत थी।
(iv) जहाँ तक राज्य का सवाल है, उसके लिए जंगल उलट फेर वाला इलाका था । बदमाशों
को शरण देने वाला अड्डा (मवास)। एक बार फिर हम बाबर की ओर देखते हैं जो कहता
है,कि जंगल एक ऐसा रक्षाकवच था “जिसके पीछे परगना के लोग कड़े विद्रोही हो जाते थे और
कर अदा करने से मुकर जाते थे।”
(v) जंगल में बाहरी ताकतें कई तरह से घुसती थीं, मसलन, राज्य को सेना के लिए हाथियों
की जरूरत होती थी। इसलिए, जंगलवासियों से ली जाने वाली पेशकश में अक्सर हाथी भी
शामिल होते थे।
(vi) मुगल राजनीतिक विचारधारा में गरीबों और अमीरों सहित सबके लिए, न्याय करने का
राज्य के गहरे सरोकार का एक लक्षण था-शिकार अभियान । दरबारी इतिहासकारों की मानें,
तो शिकार अभियान के नाम पर बादशाह अपने विशाल साम्राज्य के कोने-कोने का दौरा करता
था और इस तरह अलग-अलग इलाकों के लोगों की समस्याओं और शिकायतों पर व्यक्तिगत
रूप से गौर करता था।
(vii) दरबारी कलाकारों के चित्रों में शिकार का विषय बार-बार आता था। इन चित्रों में
चित्रकार अक्सर छोटा-सा एक ऐसा दृश्य डाल देते थे जो सद्भावनापूर्ण शासन का संकेत देता था।
(viii) वाणिज्यिक खेती का असर, बाहरी कारक के रूप में, जंगलवासियों की जिंदगी पर
भी पड़ता था। जंगल के उत्पाद-जैसे शहद, मधुमोम और लाक की बहुत माँग थी। लाक
जैसी कुछ वस्तुएँ तो सत्रहवीं सदी में भारत से समुद्र पार होने वाले निर्यात की मुख्य वस्तुएँ थीं।
हाथी भी पकड़े और बेचे जाते थे। व्यापार के तहत वस्तुओं की अदला-बदली भी होती थी।
कुछ कबीले भारत और अफगानिस्तान के बीच होने वाले जमीनी व्यापार में लगे थे, जैसे पंजाब
का लोहानी कबीला। वे पंजाब के गाँवों और शहरों के बीच होने वाले व्यापार में भी
हिस्सेदारी करते थे।
(ix) सामाजिक कारणों से भी जंगलवासियों के जीवन में बदलाव आए। कबीलों के भी
सरदार होते थे, बहुत कुछ ग्रामीण समुदाय के “बड़े आदमियों” की तरह । कई कबीलों के सरदार
जमींदार बन गए, कुछ तो राजा भी हो गये । ऐसे में उन्हें सेना खड़ी करने की जरूरत हुई । उन्होंने अपने ही खानदान के लोगों को सेना में भर्ती किया; या फिर अपने ही भाई-बंधुओं से सैन्य सेवा की मांँग की। सिंध इलाके की कबीलाई सेनाओं में 6000 घुड़सवार और 7000 पैदल सिपाही होते थे। असम में, अहोम राजाओं के अपने पायक होते थे। ये वे लोग थे जिन्हें जमीन के बदले सैनिक सेवा देनी पड़ती थी। अहोम राजाओं ने जंगली हाथी पकड़ने पर अपने एकाधिकार का ऐलान भी कर रखा था।
(x) कबीलाई व्यवस्था से राजतांत्रिक प्रणाली की तरह संक्रमण बहुत पहले ही शुरू हो चुका
था, लेकिन ऐसा लगता है कि सोलहवीं सदी में आकर ही यह प्रक्रिया पूरी तरह विकसित हुई।
इसकी जानकारी हमें उत्तर-पूर्वी इलाकों में कबीलाई राज्यों के बारे में आइन की बातों से मिलती
है। उदाहरण के तौर पर, सोलहवीं-सत्रहवीं सदी में कोच राजाओं ने पड़ोसी कबीलों के साथ एक के बाद एक युद्ध किया और उन पर अपना कब्जा जमा लिया।
(xi) जंगल के इलाकों में नए सांस्कृतिक प्रभावों के विस्तार की भी शुरुआत हुई। कुछ
इतिहासकारों ने तो दरअसल यह भी सुझाया है कि नए बसे इलाकों के खेतिहर समुदायों ने जिस
तरह धीरे-धीरे इस्लाम को अपनाया उसमें सूफी संतों (पीर) ने एक बड़ी भूमिका अदा की थी।
प्रश्न 5. मुगल भारत में जमींदारों की भूमिका की जाँच कीजिए।
Examine the role played by Zamindars in Mughal India.
                                                                        [N.C.E.R.T. T.B.Q.8]
अथवा, मुगल काल में जमींदारों की स्थिति का वर्णन कीजिए।
Explain the condition of Zamindars during Mughal Period)
                                          [B.Exam. 2010(A),2012(A),2013 (A)]
उत्तर-मुगल भारत में जमींदारों की भूमिका (Role of Zamindars in Mughal
India): (i) कृषि उत्पादन में सीधे हिस्सेदारी नहीं करते थे। ये जमींदार थे जो अपनी जमीन के
मालिक होते थे और जिन्हें ग्रामीण समाज में ऊँची हैसियत की वजह से कुछ खास सामाजिक
और आर्थिक सुविधाएँ मिली हुई थीं । जमींदारों की बढ़ी हुई हैसियत के पीछे एक कारण जाति
था; दूसरा कारण यह था कि वे लोग राज्य को कुछ खास किस्म की सेवाएँ (खिदमत) देते थे।
(ii) जमींदारों की समृद्धि की वजह थी उनकी विस्तृत व्यक्तिगत जमीन । इन्हें मिल्कियत कहते
थे, यानी संपत्ति मिल्कियत जमीन पर जमींदार के निजी इस्तेमाल के लिए खेती होती थी। अक्सर इन जमीनों पर दिहाड़ी के मजदूर या पराधीन मजदूर काम करते थे। जमींदार अपनी मर्जी के मुताबिक इन जमीनों को बेच संकते थे, किसी और के नाम कर सकते थे या उन्हें गिरवी रख सकते थे।
(iii) जमींदारों की ताकत इस बात से भी आती थी कि वे अक्सर राज्य की ओर से कर
वसूल कर सकते थे। इसके बदले उन्हें वित्तीय मुआवजा मिलता था। सैनिक संसाधन उनकी
ताकत का एक और जरिया था। ज्यादातर जमींदारों के पास अपने किले भी थे और अपनी सैनिक टुकड़ियाँ भी जिसमें घुड़सवारों, तोपखाने और पैदल सिपाहियों के जत्थे होते थे।
(iv) इस तरह, अगर हम मुगलकालीन गाँवों में सामाजिक संबंधों की कल्पना एक पिरामिड
के रूप में करें, तो जमींदार इसके संकरे शीर्ष का हिस्सा थे।
(v) अबुल फजल इस ओर इशारा करता है कि “ऊँची जाति” के ब्राह्मण-राजपूत
गठबंधन ने ग्रामीण समाज पर पहले ही अपना ठोस नियंत्रण बना रखा था। इसमें तथाकथित
मध्यम जातियों की भी खासी नुमाइंदगी थी, जैसा कि हमने पहले देखा है, और इसी तरह कई
मुसलमान जमींदारों की भी।
(vi) समसामयिक दस्तावेजों से ऐसा लगता है कि जंग में जीत जमींदार की उत्पत्ति का
संभावित स्रोत रहा होगा। अक्सर, जमींदारी फैलाने का एक तरीका था ताकतवर सैनिक सरदारों
द्वारा कमजोर लोगों को बेदखल करना । मगर इसकी संभावना कम ही है कि किसी जमींदार को
इतने आक्रामक रुख की इजाजत राज्य देता हो जब तक कि एक राज्यादेश (सनद) के जरिये
इसको पुष्टि पहले ही नहीं कर दी गई हो।
(vii) इससे भी महत्त्वपूर्ण थी जमींदारी को पुख्ता करने की धीमी प्रक्रिया। स्रोतों में इसके
दस्तावेज भी शामिल हैं। ये कई तरीके से किया जा सकता था : नयी जमीनों को बसाकर
(जंगल-बारी), अधिकारों के हस्तांतरण के जरिये, राज्य के आदेश से, या फिर खरीद कर।
(viii) यही वे प्रक्रियाएँ थीं जिनके जरिये अपेक्षाकृत “निचली जातियों के लोग भी जमींदारों
के दर्जे में दाखिल हो सकते थे ! क्योंकि इस काल में जमींदारी धड़ल्ले से खरीदी और बेची जाती थी।
(ix) कई कारणों ने मिलकर परिवार या वंश पर आधारित जमींदारियों को पुख्ता होने का
मौका दिया। मसलन, राजपूतों और जाटों ने ऐसी रणनीति अपनाकर उत्तर भारत में जमीन की
बड़ी-बड़ी पट्टियों पर अपना नियंत्रण पुख्ता किया। इसी तरह मध्य और दक्षिण-पश्चिम बंगाल
में किसान-पशुचारियों (जैसे, सदगोप) ने ताकतवर जमींदारियाँ खड़ी कीं।
(x) जमींदारों ने खेती लायक जमीनों को बसाने में अगुआई की और खेतिहरों को खेती के
साजो-सामान व उधार देकर उन्हें वहाँ बसने में भी मदद की। जमींदारी की खरीद-फरोख्त से
गाँवों के मौद्रीकरण की प्रक्रिया में तेजी आई। इसके अलावा, जमींदार अपनी मिल्कियत की जमीनों की फसल भी बेचते थे। ऐसे सबूत हैं जो दिखाते हैं कि जमींदार अक्सर बाजार (हाट) स्थापित करते थे जहाँ किसान भी अपनी फसलें बेचने आते थे।
(xi) यद्यपि इसमें कोई शक नहीं कि जमींदार शोषण करने वाला तबका था, लेकिन किसानों
से उनके रिश्तों में पारस्परिकता, पैतृकवाद और संरक्षण का पुट था। दो पहलू इस बात की पुष्टि
करते हैं। एक तो ये कि भक्ति संतों ने जहाँ बड़ी बेबाकी से जातिगत और दूसरी किस्मों के
अत्याचारों की निंदा की। वहीं उन्होंने जमींदारों को (या फिर, दिलचस्प बात है, साहूकारों को)
किसानों के शोषक या उन पर अत्याचार करने वाले के रूप में नहीं दिखाया। आमतौर पर राज्य
का राजस्व अधिकारी ही उनके गुस्से का निशाना बना । दूसरे, सत्रहवीं सदी में भारी संख्या में
कृषि विद्रोह हुए और उनमें राज्य के खिलाफ जमींदारों को अक्सर किसानों का समर्थन मिला।
प्रश्न 6. पंचायत और गाँव का मुखिया किस तरह से ग्रामीण समाज का नियमन करते
थे? विवेचना कीजिए।                                          [N.C.E.R.T. T.B.Q.9]
Discuss the ways in which panchayats and village headmen regulated
rural society.
उत्तर-ग्रामीण समाज का पंचायत और मुखिया द्वारा निगन (Regulation of Rural
society by Panchayat and head of the village):
(i) पंचायत (Panchayat) : गाँव की पंचायत से बुजुर्गों का जमावाड़ा होता था। आमतौर
पर वे गाँव के महत्त्वपूर्ण लोग हुआ करते थे जिनके पास अपनी संपत्ति के पुश्तैनी अधिकार होते
थे। जिन गाँवों में कई जातियों के लोग रहते थे, वहाँ अक्सर पंचायत में भी विवि ता पाई जाती थी।
(ii) अल्पतंत्र (Aristocracy) : यह एक ऐसा अल्पतंत्र था जिसमें गाँव के अलग-अलग
संप्रदायों और जातियों की नुमाइंदगी होती थी। फिर भी इसकी संभावना कम ही है कि छोटे-मोटे
और ‘नीच’ काम करने वाले खेतिहर मजदूरों के लिए इसमें कोई जगह होती होगी। पंचायत का
फैसला गाँव में सबको मानना पड़ता था।
(iii) मुखिया या मुकद्दम (Head of the Village) : पंचायत का सरदार एक मुखिया होता
था जिसे मुकद्दम या मंडल कहते थे। कुछ स्रोतों से ऐसा लगता है कि मुखिया का चुनाव गाँव
के बुजुर्गों की आम सहमति से होता था और इस चुनाव के बाद उन्हें इसकी मंजूरी जमींदार से
लेनी पड़ती थी।
(iv) कार्यकाल (Tenure): मुखिया अपने ओहदे पर तभी तक बना रहता था जब तक गाँव
के बुजुर्गों को उस पर भरोसा था। ऐसा नहीं होने पर बुजुर्ग उसे बर्खास्त कर सकते थे। गाँव
के आमदनी व खर्चे का हिसाब-किताब अपनी निगरानी में बनवाना मुखिया का मुख्य काम था
और इसमें पंचायत का पटवारी उसकी मदद करता था।
(v) खर्चा (व्यय) (Expenditure) : पंचायत का खर्चा गाँव के उस आम खजाने से
चलता था जिसमें हर व्यक्ति अपना योगदान देता था। इस खजाने से उन कर अधिकारियों की
खातिरदारी का खर्चा भी किया जाता था जो समय-समय पर गाँव का दौरा किया करते थे। दूसरी
ओर, इस कोष का इस्तेमाल बाढ़ जैसी प्राकृतिक विपदाओं से निपटने के लिए भी होता था और
ऐसे सामुदायिक कार्यों के लिए भी जो किसान खुद नहीं कर सकते थे, जैसे कि मिट्टी के
छोटे-मोटे बाँध बनाना या नहर खोदना ।
(vi) कार्य तथा उत्तरदायित्व (Functions and Responsibilities) : पंचायत का एक
बड़ा काम यह तसल्ली करना था कि गाँव में रहने वाले अलग-अलग समुदायों के लोग अपनी
जाति की हदों के अंदर रहें। पूर्वी भारत में सभी शादियाँ मंडल की मौजूदगी में होती थीं। यूँ
कहा जा सकता है कि “जाति की अवहेलना रोकने के लिए” लोगों के आचरण पर नजर रखना
गाँव के मुखिया की जिम्मेदारियों में से एक था।
(vii) आय के स्रोत (Sources of Income) : पंचायतों को जुर्माना लगाने और समुदाय से
निष्कासित करने जैसे ज्यादा गंभीर दंड देने के अधिकार थे। समुदाय से बाहर निकालना एक
कड़ा कदम था जो एक सीमित समय के लिए लागू किया जाता था। इसके तहत दंडित व्यक्ति
को (दिए हुए समय के लिए) गाँव छोड़ना पड़ता था। इस दौरान बह अपनी जाति और पेशे
से हाथ धो बैठता था। ऐसी नीतियों का मकसद जातिगत रिवाजों की अवहेलना रोकना था।
(viii) जातिगत पंचायतें (Castes ‘Panchayats’): ग्राम पंचायत के अलावा गाँव में हर
जाति की अपनी पंचायत होती थी। समाज में ये पंचायतें काफी ताकतवर होती थीं। राजस्थान
में जाति पंचायतें अलग-अलग जातियों के लोगों के बीच दीवानी के झगड़ों का निपटारा करती
थीं। वे जमीन से जुड़े दावेदारियों के झगड़े सुलझाती थीं; यह तय करती थीं कि शादियाँ जातिगत
मानदंडों के मुताबिक हो रही हैं या नहीं, और यह भी कि गाँव के आयोजन में किसको किसके
ऊपर तरजीह दी जाएगी। कर्मकांडीय वर्चस्व किस क्रम में होगा। फौजदारी न्याय को छोड़ दें
तो ज्यादातर मामलों में राज्य जाति पंचायत के फैसलों को मानता था।
(ix) पश्चिम भारत : खासकर राजस्थान और महराष्ट्र जैसे प्रांतों के संकलित दस्तावेजों
में ऐसी कई अर्जियाँ हैं जिनमें पंचायत से “ऊँची” जातियों या राज्य के अधिकारियों के खिलाफ
जबरन कर उगाही या बेगार वसूली की शिकायत की गई है।
(x) आमतौर पर यह अर्जियाँ ग्रामीण समुदाय के सबसे निचले तबके के लोग लगाते थे।
अक्सर सामूहिक तौर पर भी ऐसी अर्जियाँ दी जाती थीं। इनमें किसी जाति या संप्रदाय विशेष
के लोग संभ्रांत समूहों की उन मांगों के खिलाफ अपना विरोध जताते थे जिन्हें वे नैतिक दृष्टि
से अवैध मानते थे। उनमें एक थी बहुत ज्यादा कर की माँग क्योंकि इससे किसानों का दैनिक
गुजारा ही जोखिम में पड़ जाता था, खासकर सूखे या ऐसी दूसरी विपदाओं के दौरान । उनकी
नजरों में जिन्दा रहने के लिए न्यूनतम बुनियादी साधन उनका परंपरागत रिवाजी हक था। वे
समझते थे कि ग्राम पंचायत को इसकी सुनवाई करनी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए
कि राज्य अपना नैतिक फर्ज अदा करे और न्याय करें। “निचली जाति” के किसानों और राज्य
के अधिकारियों या स्थानीय जमींदारों के बीच झगड़ों में पंचायत के फैसले अलग-अलग मामलों
में अलग-अलग हो सकते थे। अत्यधिक कर की माँगों के मामले में पंचायत अक्सर समझौते
का सुझाव देती थी।
(xi) जहाँ समझौते नहीं हो पाते थे, वहाँ किसान विरोध के ज्यादा उग्र रास्ते अपनाते थे, जैसे
कि गाँव छोड़कर भाग जाना । जोतने लायक खाली जमीन अपेक्षाकृत आसानी से उपलब्ध थी,जबकि श्रम को लेकर प्रतियोगिता थी। इस वजह से, गाँव छोड़कर भाग जान खेतिहरों के हाथ में एक बड़ा प्रभावी हथियार था।
प्रश्न 7. अकबर के भूमि सुधार, सम्बन्धी कठिनाइयों और दोषों की व्याख्या कीजिए।
उत्तर-(1) प्रस्तावना (Introduction) : अथवा अकबर द्वारा प्रारम्भ में भू-राजस्व की
वार्षिक अनुमान पद्धति को अपनाना (To Adopt anmual Guess System of Land Revenue in the beginning)-अकबर के सामने सबसे बड़ी समस्या भी भू-राजस्व व्यवस्था से संबंधित थी। शेरशाह ने ऐसी पद्धति का प्रचलन किया था जिसमें कृषि भूमि की पैमाइश की
जाती थी तथापि एक मुख्य दर तालिका (दर) निर्धारित की जाती थी जिसके आधार पर
भिन्न-भिन्न अनाजों की उत्पादकता को ध्यान में रखकर अनुमान के आधार पर लगान तय किया
जाता था। लेकिन कुछ समय बाद अनुभव किया गया कि बाजार भावों को निर्धारित करने में
भी समय लग जाता है जिससे काश्तकारों को बड़ी परेशानी होती है और फिर कीमतों का
निर्धारण शाही दरबारों के आस-पास की कीमतों पर आधारित होता था जो अक्सर ग्रामीण क्षेत्रों
की कीमतों से अधिक होती थी। इससे काश्तकारों को अधिक अंश करके रूप में देना पड़ता
था। अतः हकबर ने वार्षिक अनुमान की पद्धति को कुछ सुधारों सहित फिर से लागू किया ।
कानूनगो जो परम्परागत रूप से जमींदार होते थे, तथा अन्य स्थानीय अफसरों, जो स्थानीय
परिस्थितियों व हालात से परिचित होते थे, को वास्तविक उत्पादन, खेती की स्थिति, स्थानीय
कीमतों आदि की सूचना उपलब्ध कराने का आदेश दिया गया।
कठिनाइयाँ और दोष (Problems and Defects)-
(1) लेकिन ज्यादातर कानूनगों ईमानदार थे तथा वे अक्सर वास्तविक आँकड़ों को छिपा
जाते थे।
(2) वार्षिक राजस्व निर्धारण से किसानों और राज्य को भी बहुत कठिनाई होती थी। गुजरात
से लौटने (1573 ई.) के बाद अकबर ने भू-राजस्व व्यवस्था की ओर व्यक्तिगत रूप से ध्यान
देना आरम्भ किया। पूरे उत्तर भारत में करोड़ी नाम से जाने वाला अमल नामक अधिकारी भर्ती
किए गए। उनमें से प्रत्येक को एक करोड़ ‘दाम’ (2,50,000 रुपए) वसूल करने की जिम्मेदारी
सौपी गई। साथ ही वे कानूनों द्वारा भेजे गए तथ्य (आंकड़ों) की भी जांच करते थे। अकबर
ने शीघ्र ही जाब्ता पद्धति को अपनाया जिसे कुछ लोग टोडर मला की जाब्ता प्रणाली कहते हैं।
प्रश्न 8. मुगल साम्राज्य के विभिन्न प्रकार के जमीदारों के पद, अधिकार और दायित्वों
का विवेचन कीजिए।
उत्तर-मुगल साम्राज्य में विभिन्न प्रकार के जमींदारों के पद, अधिकारी एवं दायित्व
(Posts, Rights and duties of various kinds of Zamindars in Mughal Empire):
(i) प्रथम बार जमीन जोतने वाले (Land Triller for the First Time)-अकबरकालीन
इतिहासकार अबुल फजल तथा अन्य समसामयिक लेखकों की विभिन्न कृत्यों के अध्ययन से यह
भली-भाँति स्पष्ट हो जाता है कि भारत में भूमि पर व्यक्तिगत मिल्कियत की प्रथा बड़ी पुरानी
थी। भूमि की मिल्कियत मुख्यतः उत्तराधिकार के नियमों पर निर्भर थी। लेकिन मुगल काल में
भूमि की मिल्कियत के नये नियम भी बन गये थे । परम्परा के अनुसार किसी भी जमीन का मालिक वह था जो पहली बार उस पर खेती करता था। चूँकि मध्ययुग में काफी बड़ी मात्रा में बंजर भूमि उपलब्ध थी और उत्साही. व्यक्तियों के लिए कठिन नहीं था कि वे एक नया गाँव बसा लें, आस-पास की भूमि परं कृषि आरम्भ करें और जमीन के मालिक बन जाएँ। इसी भूमि को उन्हें किसी भी पट्टे पर देने, उससे लगान वसूल करने आदि के अधिकार थे।
(ii) वंशगत अधिकार प्राप्त जमींदार (Zamindars who got Rights on heritage
basis)-स्वयं की खेती की मिल्कियत के अतिरिक्त अनेक जमींदारों को गाँवों से भू-राजस्व या
लागत प्राप्त करने का वंशगत अधिकार भी था। इसे उसका ‘तल्लुका’ या जमींदारी कहा जाता
था। लगान इकट्ठा करने के लिए जमींदारों को आमतौर पर कुल लगान का पाँच अथवा 10
प्रतिशत अंश प्राप्त होता था और कहीं-कहीं तो उसका अंश पच्चीस प्रतिशत तक था । पर जमींदार अपनी जमींदारी के अन्तर्गत आने वाली सारी जमीन का स्वामी नहीं था। खेती करने वाले लोगों से जमीन उस समय वापस नहीं ली जा सकती थी जब तक वह उसका लगान देते रहें। इस प्रकार जमीन पर जहाँ औपचारिक रूप से स्वामित्व जमींदार का था, लेकिन भूमि का व्यावहारिक स्वामित्व किसान के पास ही रहा । इन दोनों का स्वामित्व वंशगत होता था।
(iii) राजा जमींदार (Ruler Zamindars)-मुगल काल में कुछ ऐसे जमींदार भी थे जिन्हें
विख्यात इतिहासकार डॉ. सतीश चन्द्र ने राजा जमींदार कहा है । वस्तुतः ये जमींदार सामान्य
जमींदार से ऊपर स्तर के होते थे । इन्हें कहीं छोटे और कहीं बड़े इलाकों पर आधिपत्य प्राप्त
था। वे अपने अधीनस्त क्षेत्रों में शासन चलाने के लिए भी किसी सीमा तक आन्तरिक स्वतन्त्रता
का उपयोग करते थे । फारसी लेखकों ने इनके वर्ग को छोटा बताने के लिए इन्हें भी जमींदार
पुकारा है। लेकिन सच्चाई यह है कि इनकी स्थिति जमींदारों से ऊँची थी जिनका काम केवल
लगान उगाहना होता है।
(iv) सेवाओं के बदले जमीन प्राप्त करने वाले जमींदार (Zamindars who obtained
land in lien of their serices) उपर्युक्त तीन प्रकार के अलावा चौथी किस्म के जमींदार
वे होते थे जिन्हें धार्मिक नेताओं और विद्वानों के रूप में भूमि प्राप्त होती थी । वस्तुतः इन्हें मुगल
सरकार विशिष्ट गुणों एवं सेवाओं के लिए भरण-पोषण के लिए पर्याप्त भूमिदान में दे देती थी।
ऐसे भूमि अनुदानों को मुमलों की भाषा में, ‘मिल्क’ या ‘मदद-ए-मआश’ तथा राजस्थान
में ‘शासन’ कहा जाता था । यद्यपि इन अनुदानों की सैद्धान्तिक रूप से प्रत्येक सम्राट द्वारा पुनरावृत्ति होनी होती थी-परन्तु व्यवहार में ये वंशागत ही हो जाते थे । ऐसे अनुदान प्राप्त अनेक लोग सरकारी पदों पर भी नियुक्त होते थे । उदाहरणार्थ-काजी । इस तरह एक श्रेणी के जमींदारों का आधार पर सम्पूर्ण गाँवों तथा शहर दोनों से होता था । लेखक, इतिहासकार, हकीम, इत्यादि
अधिकतर इसी वर्ग में आते थे ।
उपसंहार (Conclusion)-संक्षेप में, जहाँ तक जमींदारों के अधिकारों एवं दायित्वों का
संबंध है यह कहा जा सकता है कि जमींदारों को सैद्धान्तिक रूप से प्रायः भूमि का स्वामित्व
वंशानुगत प्राप्त होता था । इनका यह उत्तरादायित्व था कि वे कृषि का विस्तार एवं सुधार करने
के लिए किसानों को प्रोत्साहित करें । प्राकृतिक विपत्तियों के समय किसानों से दूसरा लगान बड़ी
उदारता से वसूल करें। उन्हें लगान कम करने या माफ करने का भी अधिकार था । जमींदारों
को दूसरा अधिकार सेना रखने का था । प्रायः इनके पास अपनी सशस्त्र सेना होती थी और ये
आमतौर पर किलों तथा गढ़ियों में रहते थे जो शरण स्थल के साथ-साथ इनकी हैसियत का भी
प्रतीक होते थे। जमींदारों की सेना कुल मिलाकर बहुत कड़ी हो जाती थी । आइने-अकबरी के
अनुसार अकबर के राज्य में इनके पास 384,553 हाथी तथा 4260 तोंपे थीं । लेकिन क्योंकि
जमींदार एक जगह नहीं रहते थे, इसलिए सारी सेना को एक समय एक स्थान पर इकट्ठा करना
असम्भव था । इस सेना के कारण ही जमींदार वर्ग काफी शक्तिशाली वर्ग बन गया जो विभिन्न
नामों, जैसे-देशमुख, पाटिल, नायक इत्यादि से जाने जाते थे और देश के प्रत्येक हिस्से में पाये
जाते थे। इसलिए किसी भी केन्द्रीय शासन के लिए उनकी पूर्णतया उपेक्षा करना तथा उनकी शत्रुता मोल लेना आसान नहीं था ।
प्रश्न 9. अकबर की मनसबदारी व्यवस्था की विवेचना कीजिए।
(Discuss the MansabdariSystem of Akbar) [B.Exam. 2009,2013 (A)]
उत्तर-1573 ई० में भारत में मुगल सम्राट् अकबर ने मंगोलों से प्रेरणा लेकर दशमलव पद्धति
के आधार पर मनसबदारी प्रथा को चलाया।
प्रत्येक मनसबदार को दो पद ‘जात’ और ‘सवार’ दिये जाते थे। एक मनसबदार के पास
जितने सैनिक रखने होते थे, वह ‘जात’ का सूचक था। ‘सवार’ से तात्पर्य मनसबदारों को रखने
वाले घुड़सवारों की संख्या से था। जहाँगीर ने खुर्रम (शाहजहाँ) को 10000 और 5000 का
मनसब दिया। अर्थात् शाहजहाँ के पास 10000 सैनिक तथा पाँच हजार घुड़सवार थे। सबसे छोटा मनसब 10 का और बड़ा 60000 तक का था। बड़े मनसब राजकुमारों तथा राजपरिवार के सदस्यों को ही दिये जाते थे। जहाँगीर के काल में मनसबदारी व्यवस्था में दु-अश्वा (सवार पद के दुगने घोड़े), मि-आस्वा (सवाद पद के तिगने घोड़े) प्रणाली लागू हुई। हिन्दू, मुस्लिम दोनों मनसबदार हो सकते थे और इनकी नियुक्ति, पदोन्नति, पदच्युति सम्राट् द्वारा की जाती थी।
प्रश्न 10. दीन-ए-इलाही से आप क्या समझते हैं ? [B.Exam.2012(A)]
उत्तर-अकबर इतिहास में महान् की उपाधि से विभूषित है और इसकी महानता का मुख्य
कारण है, इसका विराट् व्यक्तित्व। साम्राज्य की सुदृढ़ता, साम्राज्य में शांति स्थापना तथा मानवीय
भावनाओं से उत्प्रेरित अकबर ने न सिर्फ गैर-मुसलमानों को राहत दिया, राजपूतों के साथ वैवाहिक संबंध स्थापित किया, बल्कि एक कुशल प्रशासनिक व्यवस्था भी प्रदान किया। धार्मिक सामंजस्य के प्रतीक के रूप में उसका दीन-ए-इलाही प्रशसनीय है।
दीन-ए-इलाही द्वारा अकबर ने सर्व-धर्म-समभाव की भावना को उत्प्रेरित किया।
प्रश्न 11. मुगल शासक अकबर की उपलब्धियों का वर्णन करें। [B.Exam.2010 (A)]
उत्तर-राज्यारोहण के समय अकबर नाममात्र का शासक था। हुमायूँ द्वारा स्थापित साम्राज्य
छिन्न-भिन्न हो चुका था। दिल्ली और आगरा पर हेमू का आधिपत्य था। मुगल राज्य के चारों
ओर स्वतंत्र राज्य थे जो स्वेच्छा से अपना शासन चला रहे थे। उस समय मुगलवंश की स्थिति
नाजुक थी। इतिहासकार एलफिन्सटन के अनुसार, “भारतवर्ष पर शासन करनेवाले अनेक वंशों
में तैमूरलंग का वंश सर्वाधिक निर्बल और आरक्षित आधारवाला था।”
अकबर की विजयों का विवरण निम्न प्रकार है:
दिल्ली, आगरा तथा पंजाब : सबसे पहले अकबर ने दिल्ली के आस-पास के प्रदेशों में
अपनी शक्ति को मजबूत किया। मेवाड़ की ओर से बढ़ते हुए हेमू के पिता का दमन किया एवं
उससे राजकोष छीन लिया। उसने सिकन्दर सूर को मानकोट के दुर्ग में घेर लिया तथा उसको
अपनी अधीनता मानने के लिए मजबूर किया। इससे हिन्दुओं व अफगानों की शक्ति समाप्त हो
गयी।
अजमेर और ग्वालियर : उसने 1559 ई० में अजमेर को बिना लड़े अपने अधिकार में कर
लिया। 1559 ई० में उसने क्याखाँ को ग्वालियर को जीतने के लिए भेजा। क्याखाँ ने शीघ्र ही
ग्वालियर पर अधिकार कर लिया।
जौनपुर और चुनार : 1561 ई० में जब अकबर मालवा में आदम खाँ को दण्ड देने गया
था, स्वर्गीय मुहम्मद आदिलशाह सूर के बेटे शेर खाँ ने एक बड़ी फौज लेकर मुगल राज्य के
प्रान्त जौनपुर पर आक्रमण कर दिया, किन्तु अकबर ने तत्परता से कुमुक भेजी, जिससे वहाँ के
प्रान्तपति खानजमा ने शेर खाँ को परास्त कर दिया। इसके बाद अगस्त, 1561 ई० में आसफ खाँ को चुनारगढ़ की विजय के लिए भेजा गया। चुनारगढ़ को जीतकर मुगल राज्य में मिलाकर साम्राज्य के पूर्वी रक्षक दुर्ग के रूप में परिणत कर दिया गया।
जयपुर : तटवर्ती राज्यों द्वारा पीड़ित जयपुर नरेश, 1562 ई० में, जब सम्राट अकबर, प्रथम
बार अजमेर में शेख मुईउद्दीन चिश्ती की दरगाह पर, यात्रा करने जा रहा था, अकबर की शरण
में आ गया। उसने अपनी पुत्री, जिसके गर्भ से युवराज सलीम ने जन्म लिया, का विवाह स्वेच्छा
से अकबर के साथ कर दिया तथा अपने पुत्र भगवान दास तथा पौत्र मानसिंह को सम्राट की सेवा
में उपस्थित किया। यहाँ पर अकबर ने कूटनीतिज्ञता का परिचय दिया। राजा के साथ उदारता का
व्यवहार किया गया। उसके पुत्र तथा पौत्र को साम्राज्य में उच्च तथा प्रतिष्ठित पद प्रदान करके
उस जाति को, जो उसकी महत्त्वाकांक्षाओं की पूर्ति में बाधक सिद्ध होती, अपना भक्त बनाकर
अपनी साम्राज्यवादी नीति का साधन बना लिया।
मैर्था : अजमेर से 20 कोस की दूरी पर मैर्था का किला था। यहाँ का रक्षक मारवाड़ के
शासक मालदेव का सेनानायक जयमल था। अकबर की अजमेर यात्रा के पीछे राजनीतिक उद्देश्य भी था। अतः 1562 ई० में शरफुद्दीन के नेतृत्व में इस किले पर आक्रमण किया गया। किले पर मुगलों का अधिकार हो गया। यह कहा जाता है कि “किले में अलाउद्दीन खिलजी के अशर्फियों से भरे हुए सौ बड़े-बड़े कलश भी मिले थे।”
जोधपुर तथा बीकानेर : जब अकबर की विजयों के विषय में अन्य राजपूत राजाओं ने सुना,
तो बहुत-से राजपूतों ने उसकी शक्ति से भयभीत होकर आत्मसमर्पण कर दिया। नवम्बर, 1570
ई० में अकबर नागौर गया जहाँ बीकानेर तथा जोधपुर के राजाओं ने उसकी अधीनता स्वीकार
कर ली। इस समय बंगाल के शासक कल्याण मल और जोधपुर का शासक चन्द्रसेन था। जैसलमेर के राजा ने भी बीकानेर और जोधपुर के राजाओं का अनुसरण किया। इस प्रकार राजपूताना के बहुत बड़े भाग पर अकबर का अधिकार हो गया।
प्रश्न 12. अलाउद्दीन खिलजी के प्रशासनिक सुधारों की आलोचनात्मक विवेचना करें।
                                                                                  [B.Exam.2011 (A)]
उत्तर-अलाउद्दीन ने न केवल अपने राज्य का विस्तार किया वरन उसको एक प्रभावशाली
शासनतंत्र भी प्रदान किया। अन्य मध्यकालीन शासकों के समान वह प्रशासनिक तंत्र का शिखर
था। वह सेना का महासेनापति और सर्वोच्च न्यायिक तथा कार्यकारिणी शक्ति था। उसने विशाल
सेना की सहायता से राज्य के सभी स्वेच्छाचारी तत्वों का दमन कर पूर्ण सत्ता अपने हाथों में केन्द्रित कर ली।
उसने पुराने अमीरों का दमन किया और वह उलेमा के आदेशों से स्वतंत्र रहा। इस प्रकार
वे दोनों ही वर्ग जो सत्ता पर नियंत्रण रखते थे, अलाउद्दीन के समय प्रभावशाली नहीं रहे। उसकी
सबसे महत्वपूर्ण विशेषता यह थी कि उसने राजनीति को धर्म से प्रभावित होने नहीं दिया।
उसके मंत्रियों की स्थिति सचिवों और क्लर्कों जैसी थी जो उसकी आज्ञाओं का पालन करते
और प्रशासन के कार्यों को देखते थे। वह अपनी इच्छानुसौर उनकी सलाह लेता था। परंतु उसे
मानने के लिए वह बाध्य नहीं था। प्रान्तों के सूबेदार अथवा मुक्ता भी पहले से अधिक केन्द्रीय
नियंत्रण में थे। सल्तनत में कोई भी स्वयं को सुल्तान का समकक्ष नहीं मान सकता था।
अलाउद्दीन ने अनेक मंत्रियों की नियुक्ति करते हुए भी वास्तविक सत्ता अपने हाथों में रखी।
मंत्री केवल उसे परामर्श देने व दैनिक राज्य-कार्य संभालने के लिए थे। राज्य में केवल चार
महत्वपूर्ण मंत्री ही ऐसे चार स्तम्भ थे- जिनपर प्रशासन रूपी महल आधारित था।
वे थे : (1) दीवाने-वजारत (2) दीवाने-आरिज (3) दीवाने-इंशा (4) दीवाने-रसालत।
दीवाने-वजारत का मुख्य अधिकारी वजीर था। वजीर राजस्व के एकत्रीकरण और प्रान्तीय सरकार के दीवानी पक्ष के प्रशासन में सुल्तान के प्रति उत्तरदायी था। सैनिक पक्ष में वह शाही सेनाओं का नेतृत्व करता था।
वजीर के बाद दूसरा अधिकारी था दीवाने-आरिज या सैन्य मंत्री। सेना की भर्ती करना, वेतन
बाँटना, सेना की साजसज्जा और दक्षता की देखरेख करना, सेना के निरीक्षण की व्यवस्था करना और युद्ध के समय सेनापति के साथ जाना उनका कर्तव्य था।
दीवाने इंशा का प्रमुख कार्य शाही आदेशों और पत्रों का प्रारूप बनाना, प्रांतपति और स्थानीय
पदाधिकारियों से पत्र व्यवहार करना और सरकारी बातों का लेखा जोखा रखना था।
दीवाने-रसालत, पड़ोसी दरबारों को भेजे जाने वाले पत्रों का प्रारूप तैयार करता था और
विदेश जानेवाले तथा विदेशों से आने वाले राजदूतों के साथ सम्पर्क रखता था।
न्याय प्रशासन का महत्वपूर्ण स्रोत सुल्तान था। वह अपील की उच्चतम अदालत था। सुलतान
के बाद सप्र-ए-जहाँ काजी उलकुजात होता था। न्यायपालिका सामान्यतः निष्पक्ष थी और वह
स्वयं अपील सुनता था।
अलाउद्दीन ने पुलिस विभाग और गुप्तचर पद्धति को कुशल और प्रभावशाली बनाया। उसने
पुलिस विभाग को ठोस रूप में संगइित किया। उसका मुख्य अधिकारी कोतवाल होता था।
कोतवाल शांति तथा कानून का रक्षक था। अलाउद्दीन ने स्वयं पुलिस विभाग में सुधार किए, नवीन पदों का सृजन किया और उनपर कुशल व्यक्तियों को नियुक्त किया। मुहतसिब जनसाधारण के आचार का रक्षक तथा देखभाल करने वाला अधिकारी था।
प्रश्न 13. कुतुबुद्दीन ऐबक की उपलब्धियों का वर्णन करें। [B.Exam. 2011 (A)]
उत्तर-1205-06 ई० में मुहम्मद गोरी जब खोखरों को हराकर गजनी वापस लौट रहा था
तो उसने औपचारिक रूप में ऐबक को अपने भारतीय ठिकानों का प्रतिनिधि नियुक्त किया। गोरी
की आकस्मिक मृत्यु के कारण उत्तराधिकारी के संबंध में निर्णय नहीं हो पाया था।
ऐबक औपचारिक रूप से 25 जून 1206 ई० में गद्दी पर बैठा परन्तु उसकी सत्ता को
औपचारिक मान्यता और संभवतः नियुक्ति पद.तीन वर्षों बाद मुइज्जुद्दीन मुहम्मद गोरी के वैध
उत्तराधिकारी, महमूद से प्राप्त हुआ। अत: उन वर्षों में उसे मलिक या सिपाहसलार की पदवी ही
प्राप्त थी।
ऐबक ने अपने शासनकाल में नए प्रदेश जीतने की अपेक्षा जीते हुए प्रदेशों की सुरक्षा की
ओर ध्यान दिया। राज्य की अनिश्चित सीमाओं को निश्चित रूप देना और उसके प्रशासनिक
संगठन पर ध्यान देना वह अधिक उचित समझता था।
1208 से 1210 तक वह स्वतंत्र भारतीय राज्य का औपचारिक अधिकारप्राप्त शासक था।
वह एक कुशल सैनिक था। ऐबक की उपलब्धियाँ एक विजेता की थी किन्तु वह अपने दिल और
दिमाग की विशेषताओं के लिए समकालीन इतिहासकारों द्वारा सराहा भी गया है, न्यायप्रियता और सुरक्षा की भावना उसके राज्य की विशेषता थी। जनता को शांति और समृद्धि देना उसने अपना कर्तव्य समझा। युद्ध की स्थिति खत्म होने के बाद उसने जनता के हितों की रक्षा की और उनको समृद्धि की ओर ध्यान उसकी उदारता के कारण उसे ‘लाख बख्श’ कहा गया। 1210 ई०
में घोड़े से गिरकर ऐबक की मृत्यु हो गई और वह अपने कार्यों को अधूरा छोड़ गया। उसने
कुतुबमीनार का कार्य आरंभ करवाया था।
                                            ★★★

 

 

Leave a Comment

error: Content is protected !!