History

Arastu Biography in Hindi – ‘एरिस्टोटल’ अरस्तु की जीवनी

Aristotle Biography in Hindi – ‘एरिस्टोटल’ अरस्तु की जीवनी

Arastu Biography in Hindi

Aristotle का जन्म 384 ईसवी पूर्व ग्रीक यूनान में स्टिगिरा नामक स्थान पर हुआ था। अरस्तु के पिता मकदूनिया राज्य के शाही वेध थे। अरस्तु के गुरु फ्लूटो थे जो भी एक महान और प्रसिद्ध दार्शनिक थे और एन्थेन्स में प्लूटो की अकादमी भी थी वही पर अरस्तु ने करीब 20 साल तक शिक्षा ग्रहण की थी। प्लूटो अरस्तु से काफी प्रभावित थे और वो अरस्तु को अकेडमी का मस्तिष्क भी कहते थे।
Arastu Quotes –

गरीबी के कारण ही क्रांति और अपराध का जन्म होता है – अरस्तु

346 ईसवी पूर्व में अरस्तु मकदूनिया के राजा सिकन्दर महान के शिक्षक भी नियुक्त थे। सिकंदर अरस्तु को काफी मानता और सम्मान देता था। अरस्तु ने एक निजी विद्यालय लिसियम की स्थापना भी की थी। सिकंदर की मृत्यु के बाद अरस्तु केलियीस नगर चला गया।

अरस्तु ने अपने जीवनकाल में करीब 400 गर्न्थो की रचना की थी। अरस्तु ने पॉलिटिक्स ग्रन्थ की भी रचना की थी जिसमे तत्कालीन राजनीतिक व्यवस्था का यथार्थ चित्रण है। अरस्तु ने अपने इस ग्रन्थ में एक महत्वपूर्ण विचार रखा था की “राज्य का निर्माण व्यक्ति समूह ने जानबूझकर या सोचविचार नही किया है। राज्य तो एक प्राकृतिक संस्था है। राज्य मनुष्य से पहले है। वही संविधान सबसे अच्छा है जो अधिक स्थायी होता है”।

अरस्तु के अनुसार राज्य में न अधिक पूंजीपति हो और ना ही गरीब अधिक हो, बल्कि मध्यमवर्गीय लोगो का बाहुल्य हो।

Biography of Aristotle In Hindi

अरस्तु किसी भी बात को बिना सोचे और विचारे नही मानते थे। वो घटना को मानने से पहले विचार करते थे।
मानव स्वभाव से जुड़े विचारों पर वह शोध करना पसंद करते थे। मानव विचारों में जैसे आदमी को जब भी समस्या आती है वो किस तरह से इसका सामना करता है और आदमी का दिमाग कैसे कार्य करता है अरस्तु अक्सर टहलते हुए ही प्रवचन देते थे।
Arastu Quotes –

जो सभी का मित्र होता है वो किसी का मित्र नही होता है – अरस्तु

जीव विज्ञान का जनक अरस्तु को कहा जाता है क्यूंकि उन्होंने ने ही सर्वप्रथम जीव जंतुओं के विषयों में विचार व्यक्त किये थे। अरस्तु ने ही जीवो को जन्तु और वनस्पति जगत में बांटा था।
Arastu Quotes –

एक निश्चित बिंदु के बाद पेसो का कोई अर्थ नही रह जाता है।

कोई भी व्यक्ति उस व्यक्ति से प्रेम नही करता जिससे वो डरता है।

अरस्तु का इतिहास

अरस्तु के पिता निकोमेकस एक विद्वान चिकित्सक थे जो मेसेडन साम्राज्य के राजा आमिन्तस द्वितीय Amyntas II   के दरबारी चिकित्सक थे. मेसीडोनिया के राज दरबार के साथ पिता का सम्बन्ध होने के कारण इसका विशेष प्रभाव अरस्तु के जीवन पर पड़ा. यही कारण था कि भले ही उनके पिता निकोमेकस की मृत्यु जल्दी ही हो गई, लेकिन अरस्तु का मेसीडोनिया राजदरबार से सम्बन्ध जीवन पर्यन्त बना रहा.

अरस्तु की माता फीस्टिस के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं मिलती है. हालांकि माना जाता है कि अरस्तु की युवावस्था में ही उनकी मां की मृत्यु हो गई थी.

अरस्तु के पिता की मृत्यु के बाद उनकी देखभाल अरस्तु की बड़ी बहन एरिमनेस्टे के पति प्रोक्जेनस ऑफ एटेरनियस ने की. प्रोक्जेनस ने ही उन्हें 17 वर्ष की आयु में आगे की पढ़ाई के लिए एथेंस भेज दिया, जो उस वक्त उच्च शिक्षा का बड़ा केन्द्र माना जाता था.

एथेंस में अरस्तु की आरंभिक शिक्षा प्लेटो की एकेडमी में आरम्भ हुई. प्लेटो की दृष्टि में वह एकेडमी के सबसे मेधावी छात्र थे. अरस्तु ने 17 साल तक वहां शिक्षा प्राप्त की.

अरस्तु के गुरू प्लेटो की मृत्यु 347 ईसा पूर्व में हुई. प्लेटो के कुछ दार्शनिक सिद्धांतों से मतभेदों के चलते अरस्तु ने उनके विद्यालय के प्रमुख की भूमिका स्वीकार नहीं की. बल्कि वह, अपने मित्र माइसिया में  एटेरनियस एवं एसोस के राजा हर्मियास के बुलावे पर उसके दरबार में चले गए.

अरस्तु का  वैवाहिक जीवन Married life of Aristotle

अरस्तु माइसिया में करीब 3 साल तक रहे, जहां उन्होंने राजा हर्मियास की भतीजी पाइथियस से शादी कर ली. पहली पत्नी पाइथियस से उनकी एक बेटी हुई.

335 ईसा पूर्व में जब अरस्तु ने माइसियम खोला, उसी साल उनकी पत्नी पाइथियस की मृत्यु हो गई.  कुछ समय बाद,  अरस्तु को हर्पायलिस नाम की महिला से प्रेम हो गया, जो उनके गृह नगर स्टागिरा की रहने वाली थी. कुछ लोगों का यह भी मत है कि हर्पायलिस एक दासी थी, जो उन्हें मेसेडोनिया दरबार से मिली थी. अरस्तु ने उसे मुक्त कर उससे विवाह किया. हर्पायलिस और अरस्तु की संतानों में से एक पुत्र का नाम उन्होंने अरस्तु के पिता निकोमेकस के नाम पर रखा.

सिकंदर का शिक्षक अरस्तु  Aristotle as Alexander’s Teacher

मेसेडोनिया के राजा फिलिप द्वितीय के एक पुत्र उत्पन्न हुआ जो आगे चल कर सिकन्दर के रूप में विख्यात हुआ. अपने इस पुत्र के जन्म के बाद फिलिप ने अरस्तु को यह पत्र लिखा-

आपको ज्ञात हो कि मुझे एक पुत्र प्राप्त हुआ है. इसके लिये मैं देवताओं को धन्यवाद देता हूं, और वह धन्यवाद विशेष कर इसलिये कि इस बालक का जन्म आपके समय में हुआ है. मुझ आशा है कि आपसे शिक्षा प्राप्त करके वह अपने को राज्य का योग्य उत्तराधिकारी सिद्ध करेगा.

जिस समय फिलिप ने यह पत्र लिखा  उस समय अरस्तु की अवस्था तीस वर्ष भी नहीं हुई थी. किन्तु इस अल्प अवस्था में ही उसकी ख्याति चारों ओर फैल गई थी.

बहरहाल, कुछ ही समय बाद सिकंदर का प्रवेश अरस्तु के विद्यालय में करवा दिया गया.  अरस्तु यानी अरिस्टाटिल के जितने शिष्य थे सब उनके प्रति श्रद्धा भाव रखते थे. अलेकजेन्डर यानी सिकंदर की श्रद्धा भी किसी से कम नहीं थी. अरिस्टाटिल की विद्वता एवं बुद्धिमत्ता का वह प्रशंसक था, किन्तु इसका यह अर्थ नहीं कि गुरु के वाक्य उसके लिये ईश्वर वाक्य थे.
अरस्तु के प्रति सिकंदर की श्रद्धा और स्नेह छात्र  जीवन के बाद भी बहुत दिनों तक बना रहा. उसका कथन था- ‘‘मेरे पिता मेरे जीवनदाता हैं. अरिस्टाटिल से मुझे यह ज्ञान प्राप्त हुआ कि मनुष्योचित जीवन किस प्रकार धारण किया जाता है.’’  जिस समय अरिस्टाटिल जीवन विज्ञान सम्बन्धी अनुसंधान में लगे हुए थे अलेकजेन्डर ने उनकी सेवा मे एक हजार लोग नियुक्त किये थे. उनका काम था पशु, पक्षी और मछलियों के विशिष्ट लक्षणों और आदतों का पर्यवेक्षण करने में अरस्तु की सहायता करना. सिकन्दर उन्हें खुले हाथों से आर्थिक सहायता भी दिया करता था.
जब सिकंदर ने एशिया  के लिए प्रस्थान किया, तब अरस्तु एथेन्स लौट आये. यहां आकर 50 वर्ष की अवस्था में अरस्तु ने एक विद्यालय खोला. विद्यार्थी वहां उस युग के प्रख्यात दार्शनिक के उपदेशों से लाभ उठाने के लिये पहुंचने लगे. वे वहां दर्शन से लेकर काव्य शास्त्र और जीव विज्ञान तक विविध विषयों की शिक्षा प्राप्त करते थे.

अरस्तु के अंतिम वर्ष Last years of Aristotle

जीवन के अन्तिम वर्षों मे अरस्तु को कितनी ही जटिल समस्याओं का सामना करना पड़ा. सिकंदर के विरोधी एथेन्सवासी सिकंदर का पक्ष लेने के कारण अरस्तु से नाराज हो गये थे. ग्रीस के नगर राज्यों की अपेक्षा अरस्तु सारे देश की अखण्ड रचना को बेहतर समझते थे. उनका विचार था कि अलग-अलग संप्रभु सत्ताधारी राज्यों के नहीं रहने पर जब सारा देश एक हो जायेगा, उस समय संस्कृति एवं ज्ञान-विज्ञान की और अधिक उन्नति होगी. सिकंदर को वह इस एकता के लिए बहुत जरूरी समझता था. अरस्तु के  इस विचार का एथेन्सवासियों ने तीव्र विरोध किया.

इस बीच सिकंदर ने  अरस्तु की एक प्रतिमा नगर के बीचों-बीच स्थापित कर दी. इससे उसके शत्रुओं की संख्या बहुत बढ़ गयी और वे उसके निर्वासन या मृत्यु के लिए षड्यन्त्र  करने लगे.
इसी समय अचानक सिकंदर की मृत्यु हो गयी, सारे एथेन्स के निवासी प्रसन्न हो उठे. मेसेडन का जो राजनीतिक दल शासन कर रहा था उसे परास्त करके एथेन्स की स्वतन्त्रता की घोषणा कर दी गयी.

अरस्तु की मृत्यु Death of Aristotle

सिकंदर की मृत्यु के बाद अरस्तु को लगा कि उनके लिए एथेन्स में रहना ठीक नहीं है. उनके विरुद्ध एक पुरोहित ने नास्तिकता का अभियोग लगाया. अरस्तु पर अभियोग लगाया गया कि वह लोगों को यह शिक्षा देता है कि देवताओं की प्रार्थना और उनके लिए बलिदान व्यर्थ है. अरस्तु को लगने लगा कि यहां रहने से उसकी भी वही दशा होगी जो सुकरात की हुई थी. एथेंस में उस समय प्रचलित कानून के अनुसार अभियुक्त को सजा के बदले निर्वासन को चुनने का अधिकार था. इसलिए उन्होंने सजा से बचने के लिए एथेंस छोड़ देने में ही बुद्धिमानी समझी.

इस तरह अरस्तु एथेन्स छोड़ कर एक द्वीप पर स्थित चैलासिस चले आये. कुछ ही दिनों के बाद वह पेट की गंभीर बीमारी से पीड़ित हो गए और चैलासिस पहुंचने के एक साल में ही उनकी मृत्यु हो गई.

अरस्तु का विश्व को योगदान

अरस्तु को आज भी  एक महान् दार्शनिक एवं मनीषी के रूप में पूरी दुनिया में ख्याति प्राप्त है. आचार -नीति शास्त्र, काव्य शास्त्र, राजनीति एवं अलंकार शास्त्र की केवल उसने शिक्षा ही नहीं दी बल्कि उन पर एक सम्पूर्ण नवीन दृष्टि विकसित की. उनके दर्शन ने मध्य युग के अनेक दार्शनिकों एवं विचारकों को प्रभावित किया.
परस्पर विरोधी विभिन्न दर्शनों  के बीच आज भी अरस्तु की दार्शनिक प्रणाली मान्य समझी जाती है. ईसाई धर्मतत्त्व के भाष्यकारों ने अपनी रचनाओं में उनकी चिन्तन प्रणाली को प्रायः ज्यों का त्यों ग्रहण कर लिया है.उनकी मुख्य कृतियों का विवरण इस प्रकार है.

  • ‘ऑरगेनन’ ग्रन्थ में तर्क शास्त्र के नियमों का निरूपण किया गया है.
  • रेटोनिक ग्रन्थ अलंकार शास्त्र पर  उनकी एक अनुपम कृति है.
  • ‘एथिकस’ और ‘पौलिटिक्स’ -आचार नीतिशास्त्र और राजनीति पर उनके ग्रन्थ हैं. मध्ययुग और आधुनिक काल में समान रूप से इन दो विषयों में उनके सिद्धान्तों ने राजनीतिज्ञों और दार्शनिकों का ध्यान अपनी ओर खींचा.

अरस्तु और प्लेटो के विचारों में अंतर

अपने गुरू प्लेटो के साम्यमूलक गणराज्य के विरूद्ध अरस्तु ने अपना मत व्यक्त किया है. वह व्यक्ति की योग्यता उसकी स्वतंत्रता एवं निजत्व को  अधिक महत्व देता था. प्लेटो ने जिस आदर्श राज्य की कल्पना की थी उसमें सब लोग परस्पर एक समान होंगे. स्त्रियों और बच्चों पर सबका अधिकार होगा. अरिस्टाटिल का कथन था कि इस प्रकार के राज्य में प्रेम में स्थिरता नहीं होगी. किसी वस्तु या व्यक्ति के प्रति वास्तविक प्रेम तभी हो सकता है, जबकि प्रेम करने वाले व्यक्ति में यह भावना हो कि वह वस्तु उसकी अपनी है.

Leave a Comment

error: Content is protected !!