9th english

9th english book solution | SAINT RAVIDAS

SAINT  RAVIDAS

9th english book solution

class – 9

subject – english

lesson 7 – SAINT  RAVIDAS

SAINT  RAVIDAS
( संत   रविदास )

SabDekho.in

Guru Ravidas is…………………….palace of Chittoor.

Words meaning : hailed =  समान्य किये जाते थे।  Liberator = मुक्ति देने वाला। Revolt=  विद्रोह। Suppressed = दबे – कुचले। Humanity = मानवता । Untouchable = अछूत । Occupation= पेशाब। Bridle=  लगाम। Aristocrat=  कुलिन। Citable=  दुर्ग, किला। Orthodox = रूढ़िवादिता। Untouchability=  छुआ-छूत।  Rigour = कठोरता। In opposition=  विरोध में। Adverse = विपरीत। Circumstances = परिस्थितियाँ। Piety=  धर्मनिष्ठा। Spiritual attainments= प्राप्ति , ज्ञान। Exemplary= आदर्श। Royal house hold =  राजघराना।  Notable = जाने-माने । Monument= स्मारक। Countryard= प्रांगण।

वाक्यार्थ — गुरु रविदास आम लोगों के मुक्तिदाता के रूप में सम्मानपूर्वक याद किए जाते हैं जिन्होंने दबे-कुचले और विशेष सुविधा से वंचित मानवता के विद्रोह का प्रतिनिधित्व किया। वह अछूतों के जाति में से एक मोची थे। उनका परिवारिक पेशा अमीर और कुलीन लोगों के घोड़ों के लिए लगाम बनाना था। उनके जन्म का काल सन् 1376 और सन् 1377 के बीच था। वह रविवार को पैदा हुए थे इसलिए शायद उनका नाम रविदास पड़ा। उन्हें रविदास भी पुकारा जाता है। उस समय छुआ-छूत का कठोरता से पालन किया जाता था। जब रविदास भगवान की पूजा करने लगे तो काशी के पण्डित विरोध में उठ खड़े हुए। किसी प्रकार से, विपरीत परिस्थितियों के बावजूद अपने ईश्वर भक्ति , धर्म गुणों , आदर्श व्यवहार और चरित्र व व्यक्तित्व के बल पर वह न सिर्फ आम लोगों के महान धार्मिक गुरु बन गये, अपितु उनके शिष्यों में कई कुलीन पुरुष और स्त्रियों में से एक राजघराने से संबंधित मीराबाई भी उनकी शिष्या बनीं । रानी झली ने उनसे दीक्षा प्राप्त की। वर्तमान में, चित्तौड़ के महल के प्रांगण में स्थित प्रयाग कुम्भ मंदिर में रविदास की एक मंदिर और उनका स्मारक भी है।

Caparisoned elephants …………….north India.

Words meaning : Caparisoned = अलंकार, समग्री । Expensive= कीमती। Potentate=  महाराजा । Pauper =  दरिद्र । Embodiment =  मूर्तिमता ।  Virtue =  गुण। Wended= घूमा, चला। Sacred = पवित्र। Abode= घर , निवास। Eradicate= मिटाना। Distinctions =  भेद। Ignorance=  उपेक्षा। Prejudices= पक्षपात। Practised=  उद्यम ( कोशिश, मेहनत )।

वाक्यार्थ — सजे – धजे अलंकृत हाथि , वर्दीधारी सैनिकों का दल, राजघराने के सदस्य , कीमती उपहार और कई प्रकार के फल –  सभी एक आकर्षक जुलूस के रूप में बनारस से चित्तौड़ गये। वे चित्तौड़ की रानी झली द्वारा भेजे गये थे। वे वहाँ रहने वाले संत का आदर और सत्कार करने गये थे। यह छोटी झोपड़ी ईश्वर से, संत रविदास का निवास स्थान था, वह संत जिन्होंने समाज को सुधारने और जाति – भेद , उपेक्षा और अन्यायपूर्ण पक्षपात को समाज से मिटाने के लिए सौ वर्षों से ऊपर उपदेश दिया और इस हेतु उद्दम किया। यह चौदहवीं शताब्दी का उत्तरार्द्ध और शताब्दी का पूर्वार्द्ध काल था।

This was a ………………..and Spiritual attainments .

Words meaning : Darkness = अँधेरा।  Foreign oppression=  विदेशी उत्पीड़न। Humiliation= दमन।  Devastation = विनाश। Dynasty= सल्तनत। Security= सुरक्षा। Morale=  मानसिक या नैतिक अवस्था।  Gloom= अँधकार , विषाद। Revived=  फिर से जीवित किया। Spirit =  आत्मा। Teaching =  उपदेश। Exhortation = उपदेश। Struggle =  संघर्ष। Central = मुख्य, केन्द्रीय। Meaningless = अर्थहीन।  Equal =  समान । Fraternity =  भाईचारा, बन्धुता।

वाक्यार्थ — यह दौर भारत के लिए अँधेरा, विदेशी उत्पीड़न, दमन और विनाश का था। आक्रमणकारियों की सफलता का दौर था — गजनी , गोरी, दास सल्तनत और खिलजी। स्थानीय नागरिकों में सुरक्षा की समझ नहीं था और उनमें नैतिकता बहुत कम थी। उन्होंने लोगों की आत्माओं को पुनर्जीवित और जागृत किया, अपनी सीखों, प्रवचन , उपदेशों और संघर्ष से।
रविदास की मुख्य शिक्षा यह भी कि जो ईश्वर की पूजा करता है। वह ईश्वर का व्यक्ति बन जाता है। उच्च और निम्न जाति अर्थहीन और मूर्खतापूर्ण हैं। उन्होंने निम्न , अछूत और कमजोर और हारे हुए लोगों के बीच स्वाभिमान और इज्जत को जगाया। सभी समान हैं और सिर्फ सार्वभौमिक व्यक्ति ही समानता , बंधुता और आध्यात्मिक गुणों के फलों का उपयोग करता है।

He waged a …………………over six centuries.

Words meaning : waged =  सहास किया। Relentless =  दयाहीन। Casteism=  जातिवाद। Surfered = पीड़ित हुआ। Equality =  समानता। Castigated =  दण्ड दिया। Evils=  बुराइयाँ।  Strove=  प्रयत्न किया।  Classes = वर्गों । Uplift = उठाना। Depressed= दबे-कुचले Sermon= धर्मोपदेश। Preaching= उपदेश, शिक्षा। Greatness = महानता । Worthy = योग्य। Prominent = प्रधान, मुख्य। Ideology= विचारधारा। Relevance=  अनुरूपता। Inspiration=  प्रेरणा। Universal= सार्वभौमिक। Contributed= सहायता किया । Starving =  भूखे। Mankind =  इंसानियत। Mission= लक्ष्य। Assertion=  निश्चित घोषणा। Adore= आराधना  करना, पूजन ।  Centuries= शताब्दियों ।

वाक्यार्थ — उन्होंने जाति और जातिप्रथा के खिलाफ दयाहीन युद्ध छेड़ा । उन्होंने कष्ट सहा पर हार नहीं मानी। उन्होंने अपने धर्मोपदेश और शिक्षाओं से दबे-कुचले वर्गों और पिछड़े वर्गों को उठाने का प्रयत्न किया।
रविदास की महानता इस तथ्य में विदित है कि उनके चालीस दोहे , सिखों के पवित्र धर्मग्रंथ गुरु ग्रंथ साहिब में संकलित हैं। 600 वर्षों के अंतराल के बाद आज भी संत रविदास न सिर्फ अपने अनुयायियों बल्कि एक बड़े जन – समूह के द्वारा आदर किए जाते हैं, पूजे जाते हैं और धार्मिक जगत में अपना प्रधान स्थान रखते हैं।
आज धन – शक्ति और बल – शक्ति का बोलबाला है। रविदास पैसों से सख्त नफरत करते थे ऐसा कहा जाता है कि रविदास को उनके एक भक्त ने ऐसा रसायन दिया था जो किसी भी धातु को सेना में बदल सकता था। रविदास कहा करते थे कि उनकी रसायनविद्दा ‘ राम राम ‘ है और व्यक्ति ही अच्छाई है जो चाहे  उच्च हो या निम्न हो। उन्होंने उस रसायन को कभी छुपा नहीं और उस भक्त को वापस लौटा दिया।
जो कुछ भी उनके शिष्य और भक्तगण इकठ्ठा करते थे, वह उन्हें साधुओं और मंदिरों पर गरीबों और भूखों पर खर्च कर देते थे। वह इंसानियत के लिए जीये और उनका लक्ष्य था कि समाज की अच्छाइयों , उचित बातों और उपदेश से जातिवाद, रूढ़िवादिता और जन- उपेक्षा से मुक्त करा दें। इसमें कोई आश्चर्य नहीं कि आज भी संत रविदास अपना प्रकाश बिखेर रहे हैं, आदर किए व पूजे जा रहे हैं, छह शताब्दियों से भी ज्यादा समय से, देश के करोड़ों लोगों के द्वारा ।

EXERCISES
A. Let’s  Answer :
Q.1. Describe in your own the procession to Banaras from chifoor.
Ans. A great procession was moving towards Banaras from chifoor with lavish pomp and show . Elephants were equipped with trappings, soldiers were many kinds of furits. The procession was very impressive which reached to the small hut where lived saint of saints Guru Ravindas.
Q.2. Why did the pandits of Kashi oppose Ravidas ?
Ans. The pandits of Kashi opposed Ravidas because belonging to an untouchable caste – cobbler , he began to worship God .
Q.3. How did Ravidas become a great religious Guru? Who were his disciples ?
Ans. Ravidas preached and preached and practised for over hundred years to reform society, to eradicate caste distributions, Ignorance and prejudices. He waged a relentless war against caste and casteism. He teached that men and women are equal. For he received and revamped the spirit of the people , by his teaching and sermon’s , he became a great religious Guru. Among his many disciples were- poetess Mirabai Rani Jhali and many rich and aristocrat persons including of the royal household.
Q.4. what was the teaching of saint Ravidas about untouchable ? Was he satisfied by their condition ?
Ans. Saint Ravidas’s teaching about untouchable was that, he who worship God becomes a man of God. High and low Castes are meaningless and absured. All men and women of the earth are equal and so there is nobody as untouchable. All are equal and there is only universal man enjoying the furits of equality, fraternity and spiritual attainments.
Q.5. Mention the incident from the text which proves that Ravidas did not prefer money ?
Ans. A devotee of Saint Ravidas gave him the alchemy which could change amy metal into gold. But he never touched it and returned it back to him. He said that the alchemy was, ‘ Ram Nam ‘ and the goodness of man high or low.
Q.6. Describe the contributions of Saint Ravidas to the Society.
Ans. Saint Ravidas revived and revamped the spirits of people by his teachings , exhortations and struggles. He brought self- respect and prestige to the humblest , lowliest and the lost the untouchable and the weak ones. He spried the message of equality of men and women. He castigated the evils of untouchability. He worked hard for the upliftment of the depressed classes and the backward sections free from casteism, orthodox and ignorance through godliness and passive assertion and preachings. For his great deeds even today he is adored and worshipped by millions in the country even after more than six centuries.




    B. Let’s Discuss :
  Q.a. Sincerity and commitment have their own rewards.
Ans. Sincerity and commitment are great virtues. Those who are sincere and lives with some positive commitment are loved and respected by all.we have been people in society, transforming into great personalities following the path of sincerity and commitment. Sincerity and commitment towards society made Mohandas karamchaned Gandhi the greated man of the world of his times, who still shines as the same in the heart of millions of people of not only in our country, but also all over the world. Guru Ravidas, Meera, Guru Nanak, Gautam Buddha, Kabir, Eeinstein  and there is a long list of such people in this regard. Thus, it is rightly said that, sincerity a d commitment have their own rewards.
Q.b. Untouchability is a social curse .
Ans. Really, Untouchability is a social course. God didn’t made anybody untouchable. All men and women are God’s child. He loves them all. He didn’t made any distinction between them. Its human who made division among people and announced some people as untouchables. This kind of differentiation divided our our society and help foreign invaders to divide our country . Our country has faced foreign stavery for centuries for such kind of divisions in our society. At least now, our society should beware of such  curse.
C. Let’s Do
a. Do a project work on the social condition in the medieval age.
[Hint: It is a project work.]

Leave a Comment

error: Content is protected !!