10TH SST

bihar board class 10th history notes – समाजवाद एवं साम्यवाद

समाजवाद एवं साम्यवाद

bihar board class 10th history notes

class – 10

subject – history

lesson 2 – समाजवाद एवं साम्यवाद

समाजवाद एवं साम्यवाद

अध्याय की मुख्य बातें : – समाजवाद में उत्पादन के सभी साधनों एवं कारखानों पर सरकार का एकाधिकार होता है और उत्पादन निजी लाभ के लिये न होकर पूरे समाज के लिये होता है । पूँजीवाद की भावना के विकास के कारण पूँजीपतियों एवं मिल – मालिकों की मजदूर विरोधी नीतियों के कारण श्रमिकों का जीवन नारकीय बन गया । क्रूर शोषण के बीच उनकी आर्थिक और सामाजिक स्तर निरतर गिरती चली गयी । पूँजीवादी व्यवस्था मजबूत होती जा रही थी । फलस्वरूप मजदूरों की स्थिति और दयनीय होती चली गयी उन्हें संगठन बनाने का भी अधिकार नहीं था । इसी बीच विचारकों और लेखकों के मार्गदर्शन पर एक नई विचारधारा का प्रतिपादन किया गया जिसे समाजवाद का नाम दिया गया । इसके दो चरण थे – मार्क्स से समाजवाद पूर्व समाजवाद और मार्क्स के बाद के समाजवाद । मार्क्स के पूर्व के को यूटोपियन समाजवाद और वाद को वैज्ञानिक समाजवाद कहते हैं । । यूटोपियन समाजवादियों को दृष्टिकोण दे वर्ग संघर्ष के बदले वर्ग समन्वय के हिमायती थे । इनमें सेंट साईमन , चार्ल्स फौरियन , उनके कार्यक्रम की प्रकृति अव्यावहारिक थी । लूईब्लो और रॉयट ओवन प्रमुख थे । कार्ल मार्क्स का जन्म 5 मई 1818 ई 0 को जर्मनी में राइन प्रांत के ट्रियर नगर में एक यहूदी परिवार में हुआ था । मार्क्स ने बीन विश्वविद्यालय से विधि की शिक्षा ग्रहण किया । मार्क्स ने अमिक वर्ग के कष्टों एवं उनकी कार्य की दशाओं पर गहन विचार किया 1848 ई 0 में एक साम्यवादी घोषणा पत्र प्रकाशित किया जिसे आछ गुनिक समाजवाद का जनक कहा जाता है । फिर दास कैपिटल नामक पुस्तक की रचना की जिसे समाजवादियों का बाइबिल कहा जाता  है।
कार्ल ने मजदूरों के बारे में कहा वे अपनी मुक्ति स्वयं ही और अपने प्रयत्नों द्वारा ही प्राप्त कर सकते हैं । है । इस प्रकार कार्ल मार्क्स के नेतृत्व में समाजवादी आंदोलन को अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर एक मजबूत आधार मिलने पर श्रमिकों में विश्वास एवं आशा का संचार हुआ । बीसवीं सदी में रूस के सम्राट जार के एकतंत्रीय और निरंकुश शासन रूस में कृ षकों की दयनीय स्थिति , औद्योगीकरण की नीति और रूसीकरण की नीति के कारण 1917 ई . में क्रांति को जन्म दिया जिसे वोल्शो क्रांति कहते हैं । इस क्रांति के दौरान ही रूस मैं लेनिन का प्रादुर्भाव हुआ । लेनिन ने तीन नारे दिये – भूमि , शांति और रोटी । लेनिन ने जनता और सेना की मदद से तत्कालीन करेन्सकी सरकार की पलट दिया । इस प्रकार रूस की महान नवंबर क्रान्ति हुई ( इसे अक्टूबर क्रांति भी कहते हैं । ) इसने रूस में सत्ता वोल्शेविकों के पास आ गयी और लेनिन उसका अध्यक्ष बना । इस प्रकार लेनिन ने रूस में कार्यक्रम लाने की योजना बनाई । सर्वप्रथम रूस ने जर्मनी से संधि कर ली जिससे वह प्रथम विश्व युद्ध से हट गया । उसके बाद उसने रूस की आंतरिक समस्याओं पर ध्यान दिया । साहसपूर्वक सामना किया । लालसेना का गठन किया । उसके बाद लेनिन भूमि सुधार मामले में किसानों के बीच भूमि का पुनर्वितरण करने लगा । उत्पादन मामले में फैक्ट्री में प्रमिक हड़ताल पर रोक लगा दी । फैक्ट्री के उत्पादों पर भी रोक लगा दी तथा किसानों से अनाज की वसूली होने लगी । परिणामतः 1920-21 में उत्पादन काफी गिर गया और मजदूरों के लगे । विरोध के स्वर भी उठने लगे । फलस्वरूप लेनिन ने अपनी नीति में संशोधन किया इसी का परिणाम था नयी आर्थिक नीति । लेनिन एक कुशल सामाजिक चिंतक और व्यावहारिक राजनीतिज्ञ था । उसने देखा कि हलांकि एक नई नीति की घोषणा से मार्क्सवादी विचारधाराओं से कुछ हद तक समझौता करना पड़ा । लेनिन वास्तव में पिछले अनुभवों सीखकर व्यावहारिक कदम उठाना इस नीति का लक्ष्य था । इसमें विभिन्न स्तरों पर बैंक का खोलना , ट्रेड यूनियन की अनिवार्य सदस्यता समाप्त करना , सीमित तौर पर विदेशी पूँजी आमंत्रित करना , किसानों को व्यावहारिक रूप से जमीन देना , 20 से कम कर्मचारियों वाले उद्योगों को व्यक्तिगत रूप से चलाने की अनुमति प्रमुख थे । इन प्रयासों से औद्योगिक उत्पादन आशातीत वृद्धि हुई । परन्तु 1924 ई 0 में लेनिन की लिये गंभीर संघर्ष चले । इस संघर्ष में स्टालिन की विजय हुई । उसने तानाशाही रूख अख्तयार किया । सभी नेताओं को खत्म कर दिया । राजनीतिक लोकतत्र तथा भाषण और प्रेस की स्वतंत्रता नष्ट कर दी गयी । 1953 में खड़ी हुई । विभिन्न समूहों और नेताओं में सत्ता मृत्यू के बाद उत्तराधिकारी की समस्या आइतिहास की दुनियाँ 11 ई ० में अपनी मृत्यु तक स्टालिन तानाशाह बना रहा । परन्तु दूसरी ओर उसके अथक प्रयास से रूस विश्व का एक शक्तिशाली देश के रूप में उभरा । रूस की क्रान्ति के प्रभाव से विश्व विचारधारा के स्तर पर दो गुटों में विभाजित हो गया ‘ साम्यवादी विश्व एवं पूँजीवादी विश्व । पूँजीवादी विश्व और सोवियत रूस के बीच एक लबे शीतयुद्ध की शुरुआत हुई । इस क्रान्ति से रूस एक शक्तिशाली एवं आर्थिक रूप से विकसित राष्ट्र के रूप में उभरा । साथ ही एशिया और अफ्रीका के देशों में भी उपनिवेश मुक्ति को प्रोत्साहन मिला ।

प्रश्नोत्तर

     वस्तुनिष्ठ प्रश्न :
  1. रूस में कृषक दास प्रथा का अंत कब हुआ ?
2.  ( क ) 1861 ( ख ) 1862
( ग ) 1863 ( घ ) 1864
उत्तर– ( क ) 1861
  2 . रूस में जार का अर्थ क्या होता था ?
( क ) पीने का बर्तन ( ख ) पानी रखने का मिट्टी का पात्र ( ग ) रूस का सामन्त ( घ ) रूस का सम्राट
उत्तर– ( घ ) रूस का सम्राट
   3. कार्ल मार्क्स का जन्म कहाँ हुआ था ?
( क ) इंग्लैण्ड ( ख ) जर्मनी ( ग ) इटली ( घ ) रूस उत्तर– ( ख ) जर्मनी
  4. साम्यवादी शासन का पहला प्रयोग कहाँ हुआ ?
( क ) रूस ( ख ) जापान ( ग ) चीन ( घ ) क्यूबा
उत्तर– ( क ) रूस
   5. यूरोपियन समाजवादी कौन नहीं था ।
( क ) लुई ब्ला ( ख ) सेट साइमन ( ग ) कार्ल मार्क्स ( घ ) रॉबर्ट ओवन
उत्तर– ( ग ) कार्ल मार्क्स
     6. ‘ वार एंड पीस ‘ किसकी रचना है ?
( क ) कार्ल मार्क्स ( ख ) टॉलस्टाय
( ग ) दोस्तोवस्की ( घ ) ऐंजल्स
उत्तर– ( ख ) टॉलस्टाय
7. बोल्शेविक क्रांति कब हुई ?
( क ) फरवरी 1917 ( ख ) नवंबर 1917
( ग ) अप्रैल 1917 ( घ ) 1905
उत्तर– ( ख ) नवंबर 1917
   8 . लाल सेना का गठन किसने किया था ?
( क ) कार्ल मार्क्स ( ख ) स्टालिन ( ग ) ट्रॉटस्की ( घ ) करेंसकी
उत्तर– ( ग ) ट्रॉटस्की
   9. लेनिन की मृत्यु कब हुई ?
( क ) 1921 ( ख ) 1922 ( ग ) 1923 ( घ ) 1924 उत्तर– ( घ ) 1924
     10. देस्टलिटोवस्क की संधि किन देशों के बीच हुई थी ?
( क ) रूस और इटली ( ख ) रूस और फ्रांस
( ग ) रूस और इंग्लैण्ड ( घ ) रूस और जर्मनी
उत्तर– ( घ ) रूस और जर्मनी

रिक्त स्थानों की पूर्ति करें :

1 रूसी क्रांति के समय शासक जार निकोलस था ।
2 बोल्शेविक क्रांति का नेतृत्व लेनिन ने किया था ।
3 . नई आर्थिक नीति 1921 ई 0 मे लागू हुआ था ।
4. राबर्ट ओवन ब्रिटेन का निवासी था ।
5.  वैज्ञानिक सामजवाद का जनक कार्ल मार्क्स को माना जाता है ।

  सुमेलित करें :

1 दास कैपिटल1883 ई ०    ( क ) 1953 ई ०
2 . चेका                            ( ख ) कार्ल मार्क्स
3 नई आर्थिक नीति             ( ग )1853
4 कार्ल मार्क्स की मृत्यु       ( घ ) गुप्त पुलिस संगठन
5 . स्टालिन की मृत्यु          ( ड . ) लेनिन

उत्तर -1 दास कैपिटल             ( ख ) कार्ल मार्क्स
2. चेका                       ( घ ) गुप्त पुलिस संगठन
3. नई आर्थिक नीति       ( ड . ) लेनिन
4. कार्ल मार्क्स की मृत्यु   ( ग ) 1883 ई ०
5. स्टालिन की मृत्यु         ( क ) 1953 ई ०

अति लघु उत्तरीय प्रश्न ( 20 शब्दों में उत्तर दें ) :

1. पूँजीवाद क्या है ?
उत्तर – कल – कारखाने एवं उत्पादन के सामानों का स्वामित्व व्यक्तिगत हाथों में रहना ही पूँजीवाद है । अर्थात् पूँजी का स्रोत व्यक्ति विशेष के हाथों में होता है ।
3 . खूनी रविवार क्या है ?
उत्तर– जनवरी 1905 को रूसी जनता का समूह ‘ रोटी दो ‘ के नारे के साथ सड़क पर प्रदर्शन करने लगी । जार ने उनपर गोलियों की बौछार करवा दी । हजारों की मौत हो गयी । इसलिये इसे खूनी रविवार कहते हैं ।
3. अक्टूबर क्रांति क्या है?
उत्तर – लेनिन के नेतृत्व में रूस में जार के खिलाफ ( करेन्सकी ) तख्तापलट का निश्चय किया गया । पेट्रोगाद के रेलवे स्टेशन , बैंक , डाकघर , टेलीफोन केन्द्र , कचहरी तथा अन्य सरकारी भवनों । पर अधिकार कर लिया गया । करेन्सकी भाग गया । इसे ही अक्टूबर क्रांति कहते हैं ।
4. सर्वहारा वर्ग किसे कहते है ?
उत्तर – रूसी समाज का वैसा वर्ग जिसमें किसान , मजदूर , मेहनतकश जनता एवं गरीब लोग शामिल हों , को सर्वहारा वर्ग कहते हैं ।
5. क्रांति के पूर्व रूसी किसानों की स्थिति कैसी थी ?
उत्तर – क्रांति के पूर्व रूसी किसानों की स्थिति बहुत ही दयनीय थी । खेत छोटे – छोटे और पुरानी ढंग से खेती करते थे ।

लघु उत्तरीय प्रश्न ( 60 शब्दों में उत्तर दें ) : –

1. रूसी क्रांति के किन्ही दो कारणों का वर्णन करें ।
उत्तर
( 1 ) जार की निरंकुशता एवं अयोग्य शासन : – रूसी राजा ( जार ) को ईश्वर का प्रतिनिधि मानता था और उसे आम जनता की सुख – दुःख की कोई चिन्ता नहीं थी । गलत सलाहकारों के कारण जार की स्वेच्छाचारिता बढ़ती गयी और जनता की स्थिति बद से बदतर होती गयी ।
( 2 ) कृषकों की दयनीय स्थिति : – रूस में बहुसंख्यक कृषक ही थे । छोटे – छोटे खेत थे । पुराने ढंग से खेती करते थे । करों के बोझ से दबे पूँजी का पर्याप्त अभाव था । ऐसे में उनके पास क्रांति के अलावा कोई रास्ता नहीं था ।

2 . रूसीकरण की नीति क्रांति हेतु कहाँ तक उत्तरदायी थी ?
उत्तर – क्रांति के अनेक कारणों में रूसीकरण की नीति भी एक प्रमुख कारण था । रूस में विभिन्न सम्प्रदाय एवं भाषा के लोग रहते थे । यहाँ मुख्यतः स्लाव जाति के लोग थे । इसके अलावा फिनलैंड , पोलैंड , जर्मनी यहूदी इत्यादि राष्ट्री के लोग भी रहते थे । ये भिन्न – भिन्न भाषा बोलते थे तथा इनका रस्म – रिवाजे भी अलग – अगल थे । जार – निकोलस द्वितीय ने देश पर रूसीकरण की नीति थोप दी । इसके अनुसार देश के लोगों पर रूसी भाषा शिक्षा प्रति उनका आक्रोश बढ़ता गया ।
3. साम्यवाद एक नई आर्थिक एवं सामाजिक व्यवस्था थी , कैसे ?
4. उत्तर – साम्यवाद निश्चित रूप से एक नई आर्थिक एवं सामाजिक व्यवस्था थी । इसके अनुसार कार्य के अनुसार वेतन । इस व्यवस्था में उत्पादन के सभी साधनों , कारखानों तथा विपणन में मजदूरों ( सरकार ) का एकाधिकार था । ऐसी व्यवस्था में उत्पादन किसी व्यक्ति विशेष के लिये न होकर पूरे वर्ग के लिये था । समाज के भौतिक एव वैचारिक उत्थान के लिये कार्य होते थे । इस प्रकार साम्यवाद ने सामाजिक और आर्थिक क्षेत्र में एक नवीन विचारधारा की शुरुआत की ।इतिहास की दुनियाँ

5 . प्रथम विश्वयुद्ध में रूस की पराजय क्रांति हेतु मार्ग प्रशस्त किया , कैसे ?
उत्तर -1905 ई 0 में ऐतिहासिक युद्ध में जापान ने रुस को बुरी तरह पराजित कर दिया । इसके पूर्व निरंकुश जार विभिन्न मोर्चा पर अपनी विफलता रूसी जनता से छुपाती रही । रास एशिया के छोटे से देश से पराजित हो गया । महानता का भ्रम जाता रहा । फटेहाल थे – मांदे सैनिक जब वापस लौटे तो जनता स्तब्ध रह गयी । फलस्वरूप इस पराजय ने क्रांति का मार्ग प्रशस्त किया ।

दीर्घ उत्तरीय प्रश्न ( 150 शब्दों में उत्तर दें )

1 . रूसी क्रांति के कारणों की विवेचना करें ।
उत्तर – रूसी क्रांति के कई कारण थे जिनमें से कुछ निम्न थे –
( 1 ) जार की निरंकुशता और अयोग्यता : – इस समय रूस में एक कठोर राजनैतिक संरचना थी । राजा विशेषाधिकार छोड़ने के लिए तैयार नहीं था । जनता की कोई चिन्ता नहीं थी।
( 2 ) कृषकों की दयनीय स्थिति : – रूस में बहुसंख्यक कृषक थे । उनकी स्थिति बहुत देयर्नीय थीं । छोटे – छोटे खेत , पुरानी विधियों से खेती और पूँजी का अभाव । उनके पास क्र.ति के अलावा और कोई रास्ता नहीं था ।
( 3 ) मजदूरों की दयनीय स्थिति : – मजदूरों को दिन – रात काम करना पड़ता था । लेकिन मजदूरी बहुत कम थी । उनके पास कोई राजनैतिक अधिकार न थे । वे हड़ताल भी नहीं कर सकते थे ।
( 4 ) रूसीकरण की नीति : – रूस में अनेक राष्ट्रीयता , सम्प्रदाय , भाषा और संस्कृति के निवासी थे । जार ने सनी पर रूसी भाषा शिक्षा और संस्कृति लादने का प्रयास किया जिससे आक्रोश बढ़ता चला गया ।
( 5 ) औद्योगीकरण की समस्या और विदेशी घटनाओं का प्रभाव : – रूस में कुछ ही क्षेत्रों में महत्त्वपूर्ण उद्योगों का संकर्षण था । राष्ट्रीय पूँजी का अभाव था और रूस की पराजय क्रीमिया और जापान के हाथों भी क्रान्ति के प्रमुख कारणों में से एक थे ।

2. नई आर्थक नीति क्या हैं ?
उत्तर -1921 ई ० में लेनिन ने एक नई आर्थिक नीति की घोषणा की । नई आर्थिक नीति में निम्नांकित प्रमुख बातें थीं-
( i ) किसानों से अनाज लेने के स्थान पर एक निश्चित कर लगाया गया । बचा हुआ अनाज किसान का था ।
( ii ) सिद्धान्त यह था कि जमीन राज्य की है परन्तु व्यावहारिक तौर पर किसानों की थी ।
( iii ) 20 से कम कर्मचारियों वाले उद्योगों को व्यक्तिगत रूप से चलाने का अधिकार मिल गया था ।
( iv ) उद्योगों को विकेन्द्रीकरण किया गया था ।
( v ) विदेशी पूँजी भी सीमित रूप से आमंत्रित किया गया ।
( vi ) व्यक्तिगत संपत्ति और जीवन की बीमा भी राजकीय एजेंसी द्वारा शुरू किया गया ।
( vii ) विभिन्न स्तरों पर बैंक खोले गये
( vii ) ट्रेड यूनियन की अनिवार्य सदस्यता समाप्त कर दी गयी । इस नई आर्थिक नीति के द्वारा लेनिन ने उत्पादन की कमी को नियंत्रित किया ।
3. रूसी क्रांति के प्रभावों की विवेचना करें ।
उत्तर – रूसी क्रांति के प्रभाव :
( i ) इस क्रांति के पश्चात श्रमिक अथवा सर्वहारा वर्ग की सत्ता रूस में स्थापित हो गयी और इसने अन्य क्षेत्रों में भी आन्दोलन को प्रोत्साहन दिया
( ii ) रूसी क्रांति के पश्चात विश्व दो विचारधारा में विभक्त हो गया । साम्यवादी विश्व एवं पूँजीवादी विश्व छ । यूरोप भी पूर्वी यूरोप एवं पश्चिमी यूरोप में विभाजित हो गया ।
( iii ) फिर पूँजीवादी और सोवियत रूस के बीच शीत युद्ध की शुरुआत हुई और
( iv ) रूसी क्रांति के पश्चात आर्थिक आयोजन के रूप में एक नवीन आर्थिक मोडल आया । आगे पूँजीवादी देशों ने भी परिवर्तित रूप में इस मॉडल को अपना लिया । इस प्रकार स्वयं पूंजीवाद के चरित्र में भी परिवर्तन आ गया ।
( v ) इस क्रांति की सफलता ने एशिया और अफ्रीका में उपनिवेश मुक्ति को भी प्रोत्साहन दिया क्योंकि सोवियत रूस की साम्यवादी सरकार ने एशिया और आफ्रीका के देशों में होने वाले राष्ट्रीय आंदोलन को वैचारिक समर्थन प्रदान किया ।

4. कार्ल मार्क्स की जीवनी एवं सिद्धान्तों का वर्णन करें ।

उत्तर – मार्क्स का जन्म 5 मई , 1818 ई 0 को जर्मनी में राइन प्रति के लिए ट्रियर नगर में एक यहूदी परिवार में हुआ था । कार्ल मार्क्स के पिता हेनरिक मार्क्स एक प्रसिद्ध वकील थे । माक्र्स ने बोन विश्वविद्यालय में विधि की शिक्षा ग्रहण की और 1836 में बर्लिन विश्वविद्यालय चले आये जहाँ उनके जीवन को नया मोड़ मिला । 1843 ई 0 में उन्होंने बचपन किया । एंगेल्स के विचारों से प्रभावित होकर माक्स ने श्रमिक वर्ग के कष्टों एवं उनकी कार्य की दशाओं पर गहन विचार किया । 1848 ई 0 में एंगेल्स के विचारों से प्रभावित होकर और उसके साथ मिलकर साम्यवादी घोषणा पत्र प्रकाशित किया जिसे आधुनिक समाजवाद का जनक कहा जाता है । 1887 ई 0 में मार्क्स ने ‘ दास – कैपिटल ‘ नामक पुस्तक की रचना की जिसे ” समाजवादियों का बाइबिल कहा जाता है ।
मार्क्स ने कुछ सिद्धान्त दिये :
( i )द्वंद्वात्मक भौतिकवाद का सिद्धान्त
( ii ) वर्ग संघर्ष का सिद्धान्त
(iii)इतिहास की भौतिकवादी व्याख्या
( iv ) मूल्य एवं अतिरिक्त मूल्य का सिद्धान्त
( v ) . राज्यहीन व वर्गहीन समाज की स्थापना ।
कार्ल मार्क्स ने मजदूरों को कहा कि वे अपनी मुक्ति स्वयं ही और अपने प्रयत्नों द्वारा ही प्राप्त कर सकते हैं । अधिकार के बिना कर्त्तव्य नहीं और कर्तव्य के बिना अधिकार नहीं ।

5. यूरोपियन समाजवादियों के विचारों का वर्णन करें ।

उत्तर – फ्रांसिसी विचारक सेट साइमन प्रथम यूरोपियन समाजवादी था जिसने समाजवादी विचारधारा के विकास में महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई । उनके विचार में राज्य और समाज को इस ढंग से संगठित करना चाहिए कि लोग एक – दूसरे का शोषण करने के बदले मिलजुलकर प्रकृ ति का उपयोग करें तथा समाज के गरीब वर्ग के भौतिक एवं नैतिक उत्थान के लिये कार्य करना चाहिए । साइमन के अनुसार प्रत्येक को उसकी क्षमता के अनुसार तथा प्रत्येक को था । उसके अनुसार श्रमिकों को छोटे नगर अथवा कस्बों में काम करना चाहिये । परन्तु इसकी योजना प्लॉग्स का निर्माण असफल रहा । फ्रांसीसी यूटोपियन चिन्तकों में बुईब्सां ने राजनीति में भाग लिया । उसके सुधार अत्यन्त व्यावहारिक थे । उसके अनुसार आर्थिक सुधारों को प्रभावकारी बनाने के लिये पहले राजनीतिक सुधारों की आवश्यकता है । यूटोपियन चिन्तक बिट्रिश उद्योगपति रावट ओवन के अनुसार संतुष्ट अमिक ही वास्तविक अमिक है । अतः यूटोपियन चिन्तकों ने वर्ग संघर्ष के बदले वर्ग समन्वय पर बल दिया । इन्होंने पूँजी और प्रेम के बीच संबंधों की समस्याओं के निराकरण करने का प्रयास किया । इन चिंतकों का अपना योगदान है ।

वर्ग परिचर्या :
1. आज के संदर्भ में समाजवाद एवं साम्यवाद की आवश्यकता पर वर्ग में चर्चा शिक्षक की उपस्थिति में करें । उत्तर – छात्र शिक्षक की मदद से स्वयं करें ।
2. भारतीय शासन प्रणाली में समाजवाद का प्रभाव पर परिचर्या आयोजित करें ।
3. उत्तर – छात्र शिक्षक की मदद से स्वयं करें .

1 Comment

Leave a Comment

error: Content is protected !!