History

बुध्द जीवन परिचय एवम जयंती | Buddha Jayanti

सिद्धार्थ गौतम बुध्द जीवन परिचय एवम जयंती | Gautam Buddha History and Jayanti in hindi

बुध्द जीवन परिचय एवम जयंती

दुनिया को अपने विचारो से नया रास्ता दिखाने वाले भगवान गौतम बुद्ध भारत के महान दार्शनिक, वैज्ञानिक, धर्मगुरु, एक महान समाज सुधारक और बौद्ध धर्म के संस्थापक थे. बुद्ध की शादी यशोधरा के साथ हुई. इस शादी से एक बालक का जन्म हुआ था जिसका नाम राहुल रखा था लेकिन विवाह के कुछ समय बाद गौतम बुद्ध ने अपनी पत्नी और बच्चे को त्याग दिया.

वे संसार को जन्म, मरण और दुखों से मुक्ति दिलाने के मार्ग की तलाश व सत्य दिव्य ज्ञान की खोज में रात के समय अपने राजमहल से जंगल की ओर चले गये थे. बहुत सालों की कठोर साधना के बाद बोध गया (बिहार) में बोधी वृक्ष के नीचे उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई और वे सिद्धार्थ गौतम से गौतम बुद्ध बन गये.

सिद्धार्थ गौतम बुध्द जीवन परिचय एवम जयंती | Gautam Buddha History and Jayanti In Hindi

गौतम बुध्द  “बोद्ध धर्म” के प्रवर्तक कहें जाते हैं, इन्होने पालि भाषा में धर्म का प्रचार प्रसार किया, यह पालि भाषा उस वक्त की बोली थी, जिस कारण इन्होने भक्तों के दिल में जल्दी ही जगह बना ली. यह करुणा एवम दया से भरे हुए थे, सत्य एवम अहिंसा को इन्होने जीवन का आधार माना था.

क्रमांक बिंदु गौतम बुध्द  जीवन परिचय
1 जन्म 563 ईस्वी पूर्व
2 मृत्यु 483 ईस्वी पूर्व
3 पूरा नाम सिद्धार्थ गौतम बुध्द 
4 कार्य राजकुमार , बोद्ध धर्म अनुयायी
गौतम बुद्ध

नाम – सिद्धार्थ गौतम बुद्ध
जन्म – 563 ईसा पूर्व लुम्बिनी, नेपाल
मृत्यु – 483 ईसा पूर्व कुशीनगर, भारत
शादी – राजकुमारी यशोधरा
बच्चें – एक पुत्र, राहुल
पिता का नाम – शुद्धोदन (एक राजा और कुशल शासक)
माता का नाम – माया देवी (महारानी)
बौद्ध धर्म की स्थापना – चौथी शताब्दी के दौरान

आज पुरे वर्ल्ड में करीब 190 करोड़ बौद्ध धर्म के अनुयायी हैं और बौद्ध धर्म के अनुयायी लोगो की संख्या विश्व में 25% हैं. एक सर्वे के अनुसार इसमें – चीन, जापान, वियतनाम, थाईलेंड, मंगोलिया, कंबोडिया, भूटान, साउथ कोरिया, hong-kong, सिंगापूर, भारत, मलेशिया, नेपाल, इंडोनेशिया, अमेरिका और श्रीलंका आदि देश आते हैं जिसमे भूटान, श्रीलंका और भारत में बौद्ध धर्म के अनुयायी ज्यादा संख्या में हैं.

सिद्धार्थ गौतम बुध्द जीवन परिचय एवम जयंती (Gautam Buddha History and Jayanti In Hindi)

गौतम बुध्द  को सिद्धार्थ गौतम के नाम से भी जाना जाता है, यह शाक्य के राजा शुध्दोधन के पुत्र थे, जिनका जन्म कपिल वस्तु लुम्बिनी नेपाल में हुआ, इनकी माता महामाया देवी का इनके जन्म के सात दिन बाद ही देहांत हो गया, जिसके बाद राजा शुद्धोधन की दूसरी रानी महाप्रजावती ने इनका पालन किया. इनका नाम सिद्धार्थ रखा गया क्यूंकि इनके जन्म के समय ही भविष्यवाणी की गई थी, कि यह एक महान राजा या एक महान धर्म प्रचारक होंगे. सिद्धार्थ का अर्थ ही “सिध्द आत्मा” हैं जिसे सिद्धार्थ गौतम/गौतम बुध्द  ने अपने कर्मो से सिध्द किया.

गौतम बुध्द  मे दया का भाव बहुत अधिक था, इनकी एक कहानी सभी जानते है कि जब इनके सौतेले भाई देवव्रत ने एक पक्षी को अपने बाण से घायल कर दिया था, तब इन्हें बहुत दुःख हुआ और इन्होने उस पक्षी की सेवा कर उसे जीवन दिया. सिद्धार्थ का मन प्रजा पर शासन करने का नहीं था बल्कि वो उनके दुःख को जीते थे और प्रजा की तकलीफों में खो जाते थे. यह सब उनके पिता राजा शुद्धोधन को बिलकुल पसंद नहीं था, इसलिए इन्हें सभी प्रकार के ऐशो आराम दिए गए सुन्दर महल बनाकर दिए गये. सिद्धार्थ का मन इन आडम्बरो से दूर ही था.

सिद्धार्थ ने विश्वामित्र से शिक्षा प्राप्त की इन्हें सभी वेद,उपनिषदों के साथ युद्ध कोशल में भी निपूर्ण बनाया गया. इनका विवाह यशोधरा से हुआ जिससे उन्हें पुत्र राहुल की प्राप्ति हुई. सिद्धार्थ को उनके पिता ने समस्त भोग विलास की चीज़े दी ताकि वह उन सबमे रम जाए, पर एक दिन सिद्धार्थ सैर पर निकले तो उन्हें बुढा दरिद्र बीमार मिला, जिसे देख सिद्धार्थ का मन दुखी हो गया, दूसरी बार उन्हें एक अर्थी दिखी और उसके पीछे कई रोते दुखी लोग देखकर सिद्धार्थ का मन और विचलित हो गया. इस तरह संसार में भरी तकलीफों को देख उनका मन भोग विलास से ऊब गया. एक दिन जब वह सैर पर निकले तब उन्हें एक सन्यासी दिखा जिसके मुख पर संतोष था, जिसकी जिव्हा पर ईश्वर का भक्ति जिसे देख सिद्धार्थ को सुख की अनुभूति हुई और उन्होंने पत्नी यशोधरा और पुत्र राहुल का त्याग कर दिया और भोग विलास को अलविदा कर तपस्वी बनने का निश्चय किया.

सिद्धार्थ नगर छोड़कर चले गये. जगह जगह ज्ञानियों से ज्ञान और तप के मार्ग की महत्ता को जानने का प्रयास किया, आसन लगाना सिखा और साधना शुरु की. उन्होंने भोजन ग्रहण करना बंद कर दिया और कई वर्षो तक इसी तरह जीवन व्यापन किया, इनका शरीर दुर्बल हो गया पर इन्हें कोई संतुष्टि नहीं मिली, एक दिन उन्हें एक भजन सुनकर अहसास हुआ कि अपने शरीर को कष्ट देकर ईश्वर की प्राप्ति नहीं हो सकती और फिर उन्होंने एक नियत तरीके से ध्यान किया. उन्हें इस बात से अहसास हुआ कि अति किसी बात की अच्छी नहीं होती और अपने ईश्वर को याद करने के लिए अपने आप को कष्ट देना अपराध हैं.

गौतम बुद्ध का जन्म का रहस्य  (Gautam Buddha Life Introduction) :

एक दिन वैशाखी पूर्णिमा के दिन जब सिद्धार्थ.गौतम बुध्द  पीपल के वृक्ष के नीचे ध्यान में थे, उस दिन उन्हें एक अनभिज्ञ ज्ञान का अहसास हुआ और उस दिन से उन्हें बुद्ध कहा जाने लगा और उस वृक्ष को बोधिवृक्ष. और उस स्थान को “बोध गया ” कहा जाने लगा.

इस दिन के बाद इन्हें गौतम बुध्द  के नाम से जाना जाने लगा और इन्होने पालि भाषा में बोध्द धर्म का प्रचार प्रसार किया, यह भाषा उस वक्त की प्रजा की भाषा थी, जिस कारण लोगो ने इन्हें जल्दी ही अपना लिया अन्य प्रवर्तक संस्कृत का उपयोग करते थे जिसे समझना आसान नहीं था. इसलिए गौतम बुद्ध को अधिक प्रेम मिला.
बौद्ध धर्म को सभी लोगो ने अपनाया. गौतम बुध्द  जीवन के सरल मार्ग को अपनाने का ज्ञान दिया. बौध्द धर्म सभी जाति प्रथा से बहुत दूर था इसे हर व्यक्ति अपना सकता था, चाहे वह किसी भी जाति का हो या नर हो या नारी. गौतम बुद्ध के अनमोल वचन पढ़ने के लिए क्लिक करें.

हिन्दू धर्म में बुध्द को विष्णु का रूप माना जाने लगा और इन्हें भगवान बुध्द कहा जाने लगा. इस्लाम में भी बौध धर्म की अपनी ही जगह थी. बोध धर्म ने अहिंसा को अपनाने और सभी मानव जाति एवम पशु पक्षी को समानं प्रेम का दर्जा देने को कहा. राजा शुद्धोधन और राहुल दोनों ने बोध्द धर्म को अपनाया.

80 वर्ष की आयु में गौतम बुध्द  अपने निर्वाण की भविष्यवाणी की और समाधी धारण की उनके बाद उनके अनुयायी ने बोध धर्म का प्रचार प्रसार किया और जिसके बाद भारत के आलावा कई देशों ने इसे अपनाया. चीन, थाईलेंड,जापान, कोरिया, मंगोलिया, बर्मा, श्रीलंका जैसे कई देशों ने बोध्द धर्म को अपनाया.

भगवान गौतम बुद्ध की शिक्षा, विवाह और तपस्या :

सिद्धार्थ ने अपनी शिक्षा गुरु विश्वामित्र से पूरी की. उन्होंने वेद और उपनिषद के साथ-साथ युद्ध विद्या की भी शिक्षा प्राप्त की. सिद्धार्थ को बचपन से घुड़सवारी, धनुष – बाण और रथ हांकने वाला एक सारथी में कोई दूसरा मुकाबला नहीं कर सकता था. सिद्धार्थ की शादी मात्र 16 साल की आयु में राजकुमारी यशोधरा के साथ हुई थीं और इस शादी से एक बालक का जन्म हुआ था, जिसका नाम राहुल रखा था लेकिन उनका मन घर और मोह माया की दुनिया में नहीं लगा और वे घर परिवार को त्याग कर जंगल में चले गये थे.

पिता और राजा शुद्दोधन ने सिद्धार्थ के लिये भोग-विलास का भरपूर इंतजाम भी किया था. पिता ने अपने बेटे के लिए 3 ऋतु के हिसाब से 3 महल भी बनाये थें जिसमे नाच-गान औए ऐसो आराम की सारी व्यवस्था मौजूद थी लेकिन ये चीजें सिद्धार्थ को अपनी ओर नहीं खींच सकी. सिद्धार्थ ने अपनी सुंदर पत्नी और सुंदर बालक को छोड़कर वन की ओर चले जाने का निश्चय किया.

सिद्धार्थ ने वन जाकर कठोर से भी कठोर तपस्या करना शुरू कर दिया. पहले तो सिद्धार्थ ने शुरू में तिल चावल खाकर तपस्या शुरू की लेकिन बाद में तो बिना खान-पान के तपस्या करना शुरू कर दिया. कठोर ताप करने के कारण उनका शरीर सुख गया था तप करते-करते 6 साल हो गये थे. एक दिन सिद्धार्थ वन में तपस्या कर रहे थें कि अचानक कुछ महिलाये किसी नगर से लौट रही थीं वही रास्ते में सिद्धार्थ तप कर रहे थें.

महिलाएं कुछ गीत गा रही थीं उनका एक गीत सिद्धार्थ के कानों में पड़ा था गीत था ” वीणा के तारों को ढीला मत छोड़ दों ” तारों को इतना छोडो भी मत कि वें टूट जायें सिद्धार्थ को कानों में पड़ गयी और वे यह जान गये की नियमित आहार-विहार से योग सिद्ध होता हैं, अति किसी बात की अच्छी नहीं. किसी भी प्राप्ति के लिये माध्यम मार्ग ही ठीक होता हैं, इसके लिये कठोर तपस्या करनी पड़ती हैं.

भगवान गौतम बुद्ध को ज्ञान की प्राप्ति :

वैशाखी पूर्णिमा के दिन सिद्धार्थ वटवृक्ष के नीचे ध्यानपूर्वक अपने ध्यान में बैठे थे. गाँव की एक महिला नाम सुजाता का एक पुत्र हुआ था, उस महिला ने अपने पुत्र के लिये उस वटवृक्ष से एक मन्नत मांगी थीं जो मन्नत उसने मांगी थी वो उसे मिल गयी थी और इसी ख़ुशी को पूरा करने के लिये वह महिला एक सोने के थाल में गाय के दूध की खीर भरकर उस वटवृक्ष के पास पहुंची थीं.

उस महिला ने बड़े आराम से सिद्धार्थ को खीर भेंट की और कहा जैसे मेरी मनोकामना पूरी हुई उसी तरह आपकी भी हो. उसी रात को ध्यान लगाने पर सिद्धार्थ की एक साधना सफल हो गयी थीं, उसे सच्चा बोध हुआ तभी से सिद्धार्थ बुद्ध कहलाए. जिसे पीपल वृक्ष के नीचे सिद्धार्थ को बोध मिला था वह वृक्ष बोधिवृक्ष कहलाया और गया का सीमावर्ती जगह बोधगया कहलाया.

भगवान गौतम बुद्ध का धर्म चक्र और परिवर्तन :

वें 80 वर्ष तक अपने धर्म का संस्कृत के बजाय उस समय की सीधी सरल लोकभाषा पली में प्रचार करते रहें तथा की धर्म लोकप्रियता तेजी से बढ़ने लगी. 4 सप्ताह तक बोधिवृक्ष के नीचे रहकर धर्म के स्वरुप का चिंतन करने के बाद बुद्ध धर्म का उपदेश करने निकल पड़े. पहले उन्होंने 5 मित्रों को अपना अनुयायी बनाया और फिर उन्हें धर्म प्रचार करने के लिये भेज दिया.

पाली सिद्दांत के सूत्र के अनुसार 80 वर्ष की आयु में बुद्ध ने यह घोषणा की. गौतम बुद्ध ने अपना आखिरी भोजन जिसे उन्होंने कुंडा नामक एक लोहार से एक भेंट के रूप में प्राप्त किया था उसे ग्रहण किया, जिसके कारण वे गंभीर रूप से बीमार पड़ गये. गौतम बुद्ध ने अपने शिष्य आनंद को एक निर्दश दिया था कि वह कुंडा को समझाए कि उसने कोई गलती नहीं की हैं, उन्होंने कहा कि यह भोजन महान और अतुलनीय हैं.

गौतम बुद्ध के उपदेश :

भगवान बुद्ध ने लोगो को मध्यम का रास्ता अपनाने का उपदेश दिया. उन्होंने दुःख उसके कारण और निरावरण के लिये अहिंसा पर बहुत जोर दिया. जीवों पर दया करो.. गौतम बुद्ध ने हवन और पशुबलि की जमकर निंदा की हैं. बुद्ध के कुछ उपदेशों के सार इस प्रकार हैं-
* महात्मा बुद्ध ने सनातन धर्म के कुछ संकल्पाओं का प्रचार और प्रसार किया था जैसे – अग्निहोत्र और गायत्री मन्त्र
* ध्यान और अंत-दृष्टी
* मध्य मार्ग का अनुसरण
* चार आर्य सत्य
* अष्टांग रास्तें

प्रमुख कार्य और बौद्ध धर्म :

बौद्ध धर्म में गौतम बुद्ध एक विशेष व्यक्ति हैं बौद्ध धर्म का धर्म अपनी शिक्षाओं में अपनी नीवं रखता हैं. बौद्ध धर्म के 8 गुना पथ का प्रस्ताव रखा हैं. वर्ल्ड के महान धर्मो में से एक बौद्ध धर्म के प्रवर्तक महात्मा गौतम बुद्ध ने देश ही नहीं विदेशों में भी अपना अमिट प्रभाव छोड़ा हैं

* चोट लगने पर दर्द होगा और कष्ट विकल्प हैं.
* हमेशा याद रखे एक गलती दिमाग पर उठाएं वह भारी बोझ के समान हैं.
* आप तक रास्ते पर नहीं चल सकते जब तक आप खुद अपना रास्ता नहीं बना लेते.

गौतम बुद्ध के जीवन के सफल मन्त्र :

* गुस्सा एक हानिकारक हथियार हैं – गुस्सा अपने दुश्मनों की हत्या करने के साथ-साथ आपकी भी हत्या करता हैं जब आप बहुत ज्यादा गुस्से में होते हैं तब आपके शब्द ही आपको धोखा देते हैं.
* आपको कभी अपने गुस्से के लिये सजा नहीं दी जाती बल्कि आपको अपने गुस्से द्वारा ही सजा दी जाती हैं.
* हमारे विचारों द्वारा ही हमारी बढाई की जाती हैं. हम वही बनते हैं जैसा हम सोचते हैं, जब आपका दिमाग साफ रहेगा. तब खुशिया आपके साथ आपकी परछाई बनकर हमेशा साथ रहेगीं.
* जब आपको कोई फूल पसंद आता हैं तो आप उसे तोड़ लेते हो लेकिन जब आप किसी फूल से प्यार करते हो तो आप उसे हर रोज पानी देते हो.
* बूंद-बूंद से पानी का घड़ा भरता है.
* किसी छोटे काम की शुरुआत करना किसी बड़े काम को अंत देने की शुरुआत हैं. यह कोई मायने नहीं रखता की आपने शुरुआत छोटे से की या बड़े से यदि आप उस शुरुआत को अंत तक ले जाते हो तो आप एक दिन वो सबकुछ हासिल कर सकेंगे जो आप चाहोगे.
* जिंदगी एक लंबी यात्रा हैं और आप एक यात्री की तरह हो इसलिये बेहतर होगा की हम जिये और अच्छी तरह से यात्रा करे ना कि भविष्य के बारे में रहकर खुश रहना ही life का असली एन्जॉय हैं. हमें भूतकाल और भविष्य में रहकर चिंतित होने की बजाय वर्तमान में रहकर खुश रहना चाहिए.
* भले ही आप गंदगी से घिरे हो लेकिन बुराई का विरोध करने की आप में शक्ति का भंडार समाहित हैं.

sabdekho

Leave a Comment

error: Content is protected !!