12-history

bihar board 12 class history | मानचित्र संबंधी प्रश्न एवं उत्तर

bihar board 12 class history | मानचित्र संबंधी प्रश्न एवं उत्तर

मानचित्र संबंधी प्रश्न एवं उत्तर
                                            MODEL SET-I
प्रश्न 1. भारत के मानचित्र में तीन प्रमुख कपास उत्पादक राज्यों एवं तीन चाय
उत्पादन राज्यों को रेखांकित करें।
उत्तर-
प्रश्न 2. मानचित्र में दिखाये गये कपास एवं चाय उत्पादक राज्यों के तीन-तीन
स्थलों का भी जिक्र करें जहाँ क्रमशः कपास एवं चाय का उत्पादन होता है।
उत्तर-भारत के प्रमुख तीन कपास उत्पादन राज्यों में महाराष्ट्र (अहमदनगर) पंजाब
और उसको आसपास के जलोढ़ मिट्टी के, राजस्थान के गंगानगर जिला एवं दक्षिण भारत
में कावेरी नदी प्रदेश है।
चाय उत्पादन क्षेत्रों में असम, मेघालय, पं० बंगाल, तामिलनाडु, अरुणाचल प्रदेश प्रमुख
हैं। असम में लखीमपुर, शिवसागर, कामरूप, दरांग, ग्वालपाड़ा प्रमुख उत्पादक क्षेत्र हैं। पं०
बंगाल में जलपाईगुड़ी, कूचबिहार, दार्जलिंग प्रमुख उत्पादक क्षेत्र हैं। मेघालय में शिलांग का
क्षेत्र चाय उत्पादक है।
                                         MODEL SET-II
प्रश्न 1. दिये गये मानचित्र में किन्हीं छः स्थलों को दिखायें।
(i) काशी
(ii) चम्पा
(iii) राजगृह
(iv) उज्जैन
(v) पाण्डिचेरी
(vi) चेन्नई (मद्रास)
(vii) मुंबई (बम्बई)
(viii) पटना
उत्तर-
प्रश्न 2. इन दर्शाये गये स्थलों के बारे में दो-दो पंक्तियाँ भी लिखें।
उत्तर-(i) काशी-छठी शताब्दी ई०पू० का एक प्रमुख महाजनपद था। गंगा के किनारे
स्थित यह एक प्रमुख व्यापारिक तथा धार्मिक केन्द्र था।
(ii) चम्पा-बिहार के भागलपुर जिले में अवस्थित यह नगरी अंग महाजनपद की
राजधानी थी।
(iii) राजगृह-प्राचीन मगध महाजनपद की राजधानी राजगृह थी। यह पाँच पहाड़ियों
से घिरा सुरक्षा दुर्ग था। व्यापारिक दृष्टि से भी महत्वपूर्ण था।
(iv) उज्जैन-प्राचीन काल में यह एक महत्वपूर्ण व्यापारिक केन्द्र था। अवन्ति राज्य
की राजधानी भी था। वर्तमान में मध्यप्रदेश में स्थित है।
(v) पाण्डिचेरी-दक्षिण भारत में समुद्रतट के पास स्थित यह स्थान फ्रांसिसी उपनिवेश
था। महर्षि अरविंद के आश्रम के लिये भी यह स्थान महत्वपूर्ण है।
(vi) चेन्नई (मद्रास)-दक्षिण भारत के राज्य तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई है। समुद्र
के किनारे स्थित इस स्थान पर व्यापारिक तथा सामरिक महत्व था।
(vii) बम्बई-भारत के पश्चिमी तट पर स्थित यह नगर महाराष्ट्र की राजधानी है। भारत
का सबसे बड़ा नगर है। गेटवे ऑफ इण्डिया, फिल्म-नगरी के साथ-साथ वह व्यापारिक दृष्टि
से भारत का एक महत्वपूर्ण स्थान है। एक बड़ा बंदरगाह भी यहाँ है।
(viii) पटना-गंगा तट पर स्थित इस नगर का पुराना नाम पाटलिपुत्र था जो मगध
साम्राज्य की राजधानी भी रहा। संग्रहालय, गोलघर, जैविक उद्यान इस शहर में प्रसिद्ध हैं।
                                        MODEL SET-III
प्रश्न 1. दिये गये मानचित्र में किन्हीं छ: स्थलों को दिखायें।
(i) पाटलिपुत्र
(ii) राजगृह
(iii) वैशाली
(iv) गिरिनार
(v) विजयनगर
(vi) तंजावूर
(vii) दिल्ली
(viii) लखनऊ
(ix) आगरा
(x) झाँसी
उत्तर-
प्रश्न 2. प्र०सं०-4 में मानचित्र में प्रदर्शित छः स्थानों के बारे में पंक्तियों का
विवरण भी दें।
उत्तर-(i) पाटलिपुत्र-गंगा तट पर स्थित यह नगरी मौर्यकाल में भारतीय राजनीति का
केन्द्र रहा। वर्तपान में बिहार की राजधानी पटना के रूप में विद्यमान है।
(ii) राजगृह-प्राचीन मगध साम्राज्य की राजधानी थी। पहाड़ियों से घिरे इस स्थान पर
विश्वप्रसिद्ध शांति स्तूप स्थित है। पास ही नालन्दा विश्वविद्यालय के खण्डर भी हैं।
(iii) वैशाली-विश्व के प्राचीनतम गणतंत्र की स्थापना यहाँ हुई थी। महावीर की
जन्मस्थली थी। मगध शासक अजातशत्रु ने इसे विजित किया था।
(iv) गिरिनार-गुजरात के सौराष्ट्र इलाके के जूनागढ़ में स्थित है। प्राचीनकाल में यहाँ
मौर्यों द्वारा सुदर्शन झील का निर्माण कराया गया जिससे शक रूद्रदामन ने मरम्मत करवाया
था।
(v) विजयनगर-तुंगभद्रा के दक्षिण में विजयनगर साम्राज्य 15वीं, 16वीं शताब्दी में
विख्यात रहा। हम्पी से इस काल के स्थापत्य कला के अद्भूत नमूने मिले हैं जिसे विश्व
धरोहर भी घोषित किया गया है।
(vi) तंजावूर-दक्षिण भारत में चोल साम्राज्य की राजधानी रही यहाँ का प्रसिद्ध
राजराजेश्वर का मंदिर द्रविड़ स्थापत्य कला का विशेष नमूना है।
(vii) दिल्ली-मध्य काल में सुल्तानों एवं मुगलों की राजधानी वर्तमान में भारत की
राजधानी है। लाल किला, कुतुबमीनार प्रसिद्ध हैं। यमुना के तट पर अवस्थित है।
(viii) लखनऊ-वर्तमान में उत्तर प्रदेश की राजधानी है। अवध की राजधानी रही।
1857 की क्रांति में बेगम हजरतमहल ने यहाँ से अंग्रेजों से लोहा लिया।
(ix) आगरा-मध्यकाल में भारतीय राजनीति का केन्द्र था। अकबर की राजधानी रही।
ताजमहल विश्वप्रसिद्ध इमारत है।
(x) झाँसी-उत्तरप्रदेश के बुन्देलखंड इलाके में स्थित हैं। 1857 ई० में रानी लक्ष्मीबाई
ने यहाँ से अंग्रेजों के विरुद्ध लोहा लिया।
                                            MODEL SET-IV
प्रश्न 1. दिये गये मानचित्र में सिन्धु सभ्यता के निम्न में से तीन स्थलों को
दिर्शायें-
(i) मोहनजोदड़ो
(ii) हड़प्पा
(iii) कालीबंगा
(iv) लोथल
(v) आलमगीरपुर
उत्तर-
प्रश्न 2. प्रश्न 4 में दर्शाये गये स्थलों के बारे में संक्षिप्त जानकारी भी दें।
उत्तर-(i) मोहनजोदड़ो-पाकिस्तान के सिन्ध प्रांत में स्थित है। यहाँ से विशाल
स्नानागार, नगर नियोजन का अच्छा प्रमाण मिलता है। यह सिन्धु नदी के किनारे है।
(ii) हड़प्पा-वर्तमान में पाकिस्तान के पंजाब प्रांत में है। यह रावी नदी के किनारे बसा
हुआ था। सिन्धु सभ्यता के बड़े नगरों में से एक था।
(iii) कालीबंगा-यह राजस्थान में सरस्वती नदी के किनारे स्थित था। यहाँ से हल
अर्थात् जुताई द्वारा कृषि कार्य के प्रमाण मिलते हैं।
(iv) लोथल-यह गुजरात में स्थित एक व्यापारिक नगर था। यहाँ से गोदी (बन्दरगाह)
के प्रमाण मिलते हैं। संभवत: यहाँ से देश-विदेश जहाजों का आना-जाना होता था।
(v) आलमगीरपुर-वर्तमान उत्तरप्रदेश में आलमगीरपुर स्थित था। वह हड़प्पा सभ्यता
के पूर्वी विस्तार का प्रमाण है। स्पष्ट है कि यह सभ्यता सिन्धु घाटी से बाहर के क्षेत्रों तक
भी फैली हुई थी।
                                         MODELSET-V
प्रश्न 1. रेखा मानचित्र में 1857 के विद्रोह के निम्न में से किन्हीं तीन प्रमुख केन्द्रों
को इंगित करें।                                       [B.Exam.2009 (Arts)]
(क) दिल्ली
(ख) लखनऊ
(ग) आरा
(घ) कानपुर
(ङ) झांँसी
प्रश्न 2. रेखा मानचित्र में इंगित स्थलों के बारे में संक्षिप्त जानकारी भी दीजिए।
                                                                [B. Exam. 2009 (Arts)]
उत्तर-(क) दिल्ली-यमुना तट पर स्थित दिल्ली एक ऐतिहासिक नगरी थी। 1857
में यह विद्रोह का केन्द्र बनी। मुगल सम्राट् बहादुरशाह जफर को विद्रोहियों ने अपना नेता
बनाया। कुतुबमिनार, लालकिला यहाँ के प्रमुख स्थल हैं।
(ख) लखनऊ-वर्तमान में उत्तरप्रदेश राज्य की राजधानी है। 1857 में अंग्रेजों के
विरुद्ध बेगम हजरतमहल के नेतृत्व में यहाँ विद्रोह हुआ।
(ग) आरा-बिहार की राजधानी पटना के समीप बसा एक नगर है। 1857 में यह स्थान
जगदीशपुर के वीर कुँअर सिंह के अंग्रेजों के विरुद्ध हुए आन्दोलन के लिये प्रसिद्ध है।
(घ) कानपुर-उत्तरप्रदेश का यह स्थान चमड़ा, कपड़ा उद्योग के लिये प्रसिद्ध है।
1857 के विद्रोह में यहाँ साहेब के नेतृत्व के अंग्रजों के खिलाफ संघर्ष हुआ था।
(ङ) झांसी-उत्तरप्रदेश का यह स्थान 1857 के आंदोलन का एक प्रमुख केन्द्र था।
रानी लक्ष्मीबाई के नेतृत्व में अंग्रेजों के खिलाफ बड़ी लड़ाई लड़ी गई।
                                               ★★★
                                             The end

Leave a Comment

error: Content is protected !!