8th hindi

bseb 8th class hindi notes | पीपल

पीपल

image

bseb 8th class hindi notes

वर्ग – 8

विषय – हिंदी

पाठ 14 – पीपल

 पीपल
गोपाल सिंह नेपाली
( प्रकृति चित्रण छायावादी कविता की……………………….. दृष्टियों से उल्लेखनीय है । )

कविता का सारांश –

जंगल का श्रेष्ठ पेड़ पीपल युगों से अचल – अटल होकर स्थित है । उसके ऊपर नीले आकाश और नीचे धरती पर नदी – झील हैं । पीपल चारों ओर जामुन , तमाल , इमली आदि के पेड़ हैं । पानी से निकला हुआ कमल के डंठल पर लाल – लाल कमल खिले हैं । तालाब में तिर – तिर की आवाज करते हुए हंस क्रीड़ा कर रहे हैं । ऊँचे पहाड़ के टीले से धरती पर झरना झर – झर की आवाज कर गिर रही है । वही झरना झरकर पानी का रूप ले लेता है । झरना के पास खड़ा पीपल झरना का कल – कल छल – छल की आवाज सुनते रहता है । पीपल के पत्ते ढल – दल की आवाज करते गिर रहे हैं । गोल – गोल पीपल का पत्ता डोल – डोलकर मानों कुछ कह रहा हो । पक्षियों पेड़ पर आते हैं और फल चुन – चुन कर खाते हैं ।
जब वर्षा ऋतु की फुहार बरसने लगते हैं तो पंक्षियों का गायन आरम्भ हो जाता है । जब – जन शीतल हवा बहती है तब – तब कोमल पल्लव हिल डुलकर सर्सर , मर्मर की मीठी आवाज करने लगते हैं । बुल – बुल भी पल्लव को गाते देख चह – चहाने लगते हैं । नदियाँ बहकर गाती रहती हैं । पीपल के पत्ते रह – रहकर हिलते रहते हैं । पेड़ में जितने ही खोखल हैं सब में पक्षी और गिलहरियों के घर है।
जब शाम होती है । सूरज अस्ताचल की ओर किरणें समेटकर चली जाती हैं सारा संसार सुना दिखाई पड़ने लगती है । औधयाली संध्या को देख पक्षियाँ अपने – अपने घोंसले में आती हैं । लोग सोने लगते हैं । नींद में लोग रात बिता देते हैं । फिर प्रभात होती है । पूर्व दिन की भांति फिर सभी पेड़ – पौधे दिखाई पड़ने लगते हैं । चकोर जहाँ रात रो – रोकर बिताती है वही दिन में मयूर नाचते दिखते हैं । लताएँ एक – दूसरे से आलिंगन कर रही हैं । उनका यह आलिंगन चिर – आलिंगन है । पीपल के पेड़ के नीचे जब पथिक आते हैं तो अनायास उन्हें नींद आने लगती ।

शब्दार्थ –

कानन = जंगल । वसुधा = पृथ्वी । तमाल = एक सदाबहार पेड़ । कटील = एक काँटेदार झाड़ी । मृणाल = कमल की कोमल डंठल । मराल = हंस । पावस = वर्षा । मंजुल = सुन्दर , मनोहर । विह्वल = व्यग्र । विलोक = देखना । निर्झर = झरना । निर्झरिणी = नदी , सरिता । रजनी = रात । वल्लरी = लता । अस्ताचल = सूर्यास्त ।

प्रश्न – अभ्यास

पाठ से

1. पीपल का पेड़ हमारे लिए किस प्रकार उपयोगी है ?

उत्तर – पीपल का पेड़ हमारे लिए सदैव उपयोगी है । वह हमें शीतल छाया प्रदान करती है । पीपल का पेड़ प्राणियों के लिए प्राणवायु ( ऑक्सीजन ) छोड़ता है तथा हमारे द्वारा छोड़ा गया दूषित वायु को ग्रहण करता है ।

2. कैसा वातावरण मिलने पर बुल – बुल गाने लगती है ।

उत्तर – जब वर्षा ऋतु आती है तथा शीतल हवा का झोंका पाकर पत्ते हिलने लगते हैं तो बुलबुल का गाना भी सुनाई पड़ने लगता है ।

3. वन्य प्रान्त के सौंदर्य का वर्णन कीजिए ।

उत्तर – वन्य प्रांत का सौंदर्य दर्शनीय होता है । विविध प्रकार के पेड़ , लताएँ , झरना , झील और नदियों से बना प्रांत की शोभा मनोरम होती है । चिड़ियों का कलरव , मोर का नाचना , हंस की क्रीड़ा ये सभी जंगल की शोभा की बढ़ाते रहते हैं ।

पाठ से आगे

1. निम्नलिखित पंक्तियों का भावार्थ लिखिए ।

( क ) ऊपर विस्तृत नभ नील – नील
          नीचे वसुधा में नदी झील
          जामुन , तमाल , इमली , करील
          जल से ऊपर उठता मृणाल
          फुनगी पर खिलता कमल लाल
भावार्थ – वन प्रदेश में ऊपर नीले – नीले आकाश के नीचे धरती पर कहीं नदी तं , कहीं झील हैं । जामुन आदि विविध प्रकार के पेड़ हैं । झील में लाल – लाल कमल खिले हैं जिस क्न प्रदेश की शोभा मनोरम हो रही है ।

( ख ) हैं खड़े जहाँ पर शाल , बांस
      चौपाये चरते नरम घास
    निर्झर , सरिता के आस – पास
   रजनी भर रो – रोकर चकोर कर देता है रे रोज भोर
  नाचा करते हैं जहाँ मोर । ।
भावार्थ – वन प्रदेश में जहाँ ऊँचे – ऊँचे शाल और बाँस के पेड़ हैं । वहाँ – वहाँ चौपाया जानवर चरते दिखते हैं । वन प्रदेश में नदी और झरने भी हैं । रात में चकोर की आवाज और दिन में मोर का नाच होते रहता है ।

व्याकरण

1. पाठ में आए योजक चिह्न वाले शब्दों को लिखिए ।

उत्तर – युग – युग । नील – नील । बूंद – बूंद । कलकल – छलछल । ढल ढल – ढल – ढल । गोल – गोल । डोल – डोल । जब – जब । चुन – चुनकर । हिल – डुल । लख लख । सुन – सुन । चह – चह । बह – बह । रह – रह । कोटर – कोटर । आस – पास । चिर – आलिंगन ।

2. पर्यायवाची शब्द लिखिए ।

तरु – पेड़ । कानन – जंगल । सरिता – नदी । वसुधा – धरती । वयार — हवा ।

गतिविधि

1. पीपल के वृक्ष का एक चित्र बनाइए , जिस पर विभिन्न प्रकार के पक्षी बैठे हों तथा पूरब दिशा में सूरज निकल रहा हो ।
उत्तर – छात्र स्वयं करें ।

2. ‘ पेड़ों का महत्त्व ‘ – इस विषय पर कक्षा में गोष्ठी का आयोजन कीजिए ।
उत्तर – छात्र स्वयं करें ।

3. वनस्पतियों का प्रयोग विभिन्न रोगों के इलाज हेतु औषधि के रूप में किया जाता है । उन वनस्पतियों की सूची इलाज की जानेवाली बीमारियों के साथ बनाइए , जैसे तुलसी का पत्ता – खाँसी
उत्तर -छात्र स्वयं करें । ।।

 

 

 

Leave a Comment

image
error: Content is protected !!